इस मंदिर को कहते हैं नरक का दरवाजा, इसमें जाने वाला कभी लौटकर नहीं आया वापस

29 नवम्बर 2018   |  रेखा यादव   (139 बार पढ़ा जा चुका है)

इस मंदिर को कहते हैं नरक का दरवाजा, इसमें जाने वाला कभी लौटकर नहीं आया वापस

आपने आजतक कई तरह के मंदिरों और उनके रहस्यों के बारे में सुना होगा लेकिन आज हम जिस मंदिर के बारे में आपको बताने जा रहे हैं उसको लेकर कहा जाता है कि यहां नरक का दरवाजा है जिसके पास जाने से इंसान वापस फिर कभी नहीं लौटता है। हालांकि खोजकर्ताओं ने वहां हो रही मौतों के पीछे की वजह को खोज निकलाने का दावा किया है।



दरअसल, दक्षिणी तुर्की के हीरापोलिस शहर में एक बेहद प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर को नरक का दरवाजा नाम दिया गया है, क्योंकि पिछले कई सालों से यहां लगातार रहस्यमयी मौतें हो रही हैं। दरअसल इस मंदिर के संपर्क में आते ही पशु-पक्षी तक मर जाते थे। कहा जाता था कि उनकी मौत यूनानी देवता की जहरीली सांसों की वजह से हो रही है।


अजीबोगरीब घटनाओं की वजह से लोग इस मंदिर को नरक का दरवाजा कहने लगे। यहां तक कि ग्रीक, रोमन काल में भी मंदिर के आसपास जाने वाले लोगों का सिर कलम कर दिया जाता था। मौत के डर की वजह से ही उस समय भी लोग यहां जाने से डरते थे। वैज्ञानिकों की खोज के बाद यहां हो रही मौतों के पीछे की गुत्थी सुलझा ली गई है। उनका कहना था कि इसके पीछे मंदिर के नीचे से लगातार रिसकर बाहर निकल रही कार्बन डाई ऑक्साइड गैस है।



इस जगह को लेकर जर्मनी के डुइसबर्ग-एसेन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हार्डी पफांज का कहना है कि यहां हुए अध्ययन से यहां अत्यधिक मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड होने का पता चला है। उनका कहना है कि ऐसा हो सकता है कि ये गुफा ऐसी जगह पर हो, जहां पृथ्वी की परत के नीचे से जहरीले गैसें निकल रही हों।

अध्यन के मुताबिक इस प्लूटो मंदिर के नीचे बनी गुफा में कार्बन डाई ऑक्साइड बहुत बड़ी मात्रा में पाई गई है। ये वहां 91 प्रतिशत तक मौजूद है। आश्चर्यजनक रूप से वहां से निकल रही भाप की वजह से ही वहां आने वाले कीड़े-मकोड़े और पशु-पक्षी मारे जाते हैं। ग्रीक भूशास्त्री स्ट्राबो भी इस जगह को जानलेवा मानते हैं। उनका कहना है कि ये जगह पूरी तरह से वाष्प से भरी होने की वजह से काफी धुंधली और घनी है कि यहां जमीन भी मुश्किल से दिखाई देती है।

इटली के एक पुरातत्ववेत्ता फ्रांसेस्को डी-एंड्रिया का कहना है कि खुदाई के दौरान गुफा के जानलेवा हालात हम साफ देख सकते हैं। यहां कार्बन डाई ऑक्साइड के धुएं की वजह से सैकड़ों पक्षी मारे गए, क्योंकि उन्होंने इसके करीब आने की कोशिश की थी। एंड्रिया का दावा है कि उन्होंने यहां आने वाले लोगों को छोटे-छोटे पक्षी दिए जाते हैं, ताकि वे गुफा के घातक प्रभावों का असर टेस्ट कर सकें।


https://www.amarujala.com/photo-gallery/bizarre-news/weird-stories/gate-to-hell-pluto-s-gate-roman-pamukkale-gate-to-underworld-found-in-turkey?fbclid=IwAR1iA_WjuCKTDP2Iukm5Ue78wptE_sH17dmv6760_w_sACFRwakvornxcpE

अगला लेख: 20वीं सदी की शुरुआत में कैसा दिखता था भारत, यही बता रहीं उस ज़माने की ये 20 दुर्लभ तस्वीरें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 दिसम्बर 2018
बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो कि अपने आपको स्लिम और फिट दिखाने की चाह में कई तरह के तरीकों को अपनाते हैं, जैसे कि डाइटिंग, दवाइयां, जिम में घंटों कसरत करना आदि। अक्सर ही हम इस बात को भी नजरअंदाज कर देते हैं कि जो हम कोशिश कर रहे हैं क्या वह हमारे शरीर को फिट बनाने की बजाए नुकसान तो नहीं दे रही। बहुत स
14 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
आज हम आपके लिए कुछ ऐसी तस्वीरें लेकर आए हैं, जिन्हें देखने के बाद आप समझ जाएंगे कि इंसान के पास कार हो ना हो बाइक जरूर होनी चाहिए।इन्होंने बाइक में जितना सामान लाद रखा है इतना तो कार में भी नहीं आएगा।Third party image referenceयह महाशय उनसे भी एक कदम आगे निकल गए।Third party image referenceवाह क्या ब
11 दिसम्बर 2018
14 दिसम्बर 2018
कहते हैं शादी 7 जन्मों का रिश्ता होता है। रिश्ता पक्का होने के बाद से लड़के और लड़की के बीच नजदीकियों के बढ़ने का सिलसिला तेज होता है। जोकि पड़ाव दर पड़ाव दो जिस्म एक जान की दहलीज तक पहुंच जाता है। जब प्यार परवान चढ़ता है तो लड़का और लड़की एक दूसरे को प्यार भरे नामों से पुकारना शुरू करते हैं। कोई बा
14 दिसम्बर 2018
16 नवम्बर 2018
रक्तचाप का सामान्य न होकर निम्न स्तर पर होना निम्न रक्तचाप है। रक्तचाप का सामान्य ना होना, स्वास्थ्य के लिए हमेशा नुकसानदायक ही होता है। यह ज्यादातर शरीर में कमजोरी के कारण होता है और इस बीमारी में बताए गए नाम के अनुसार रक्तचाप सामान्य रक्तचाप की सीमा से भी कम हो जाता है।
16 नवम्बर 2018
10 दिसम्बर 2018
पटना, जेएनएन। जिन फूलों से मंडप सजना था, उनसे स्निग्धा की रविवार को अर्थी सजी। शनिवार को उसके तिलक की रस्म हुई थी। रविवार को मंडप था और सोमवार को शादी होनी थी। मंडप और घर को सजाने के लिए फूल मंगाए गये थे। शव शास्त्रीनगर थाने के पटेलनगर इलाके के स्नेही पथ स्थित उसके घर चंद्र विला लाया गया।शव को अंतिम
10 दिसम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
उद्योगपति मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी की दो दिवसीय प्री-वेडिंग सेरेमनी शनिवार को शुरू होगी। इसमें शामिल होने के लिए देश-विदेश से मेहमान उदयपुर आ रहे हैं। उदयपुर के डबोक एयरपोर्ट पर शुक्रवार सुबह से देर रात तक करीब 90 फ्लाइट्स पहुंचीं। इनमें से 50 चार्टर्ड और 40 नियमित
08 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
19 नवम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x