द्वितीय विश्व युद्ध की दर्दनाक दास्ताँ को बयां करतीं हैं ये 15 दुर्लभ तस्वीरें

30 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (95 बार पढ़ा जा चुका है)

द्वितीय विश्व युद्ध की दर्दनाक दास्ताँ को बयां करतीं हैं ये 15 दुर्लभ तस्वीरें

द्वितीय विश्व युद्ध की घटना पूरे विश्व के लिए एक बहुत ही भयानक घटना थी। छः साल चलने वाले इस युद्ध में लाखों लोग मारे गए। कई ऐसे लोग होते हैं जिन्हें इतिहास जानने में तो दिलचस्पी होती है पर इतिहास पढ़ने में नहीं। मगर इतिहास के इन्हीं पन्नों को तस्वीरों की मदद से उनके सामने पेश किया जाए, तो वो आसानी से उन्हें समझते हैं।तो आज हम आपको इतिहास के सबसे भयंकर युद्ध द्वितीय विश्व युद्ध की कहानी तस्वीरों के माध्यम से सुनने जा रहें है



द्वितीय विश्वयुद्ध में 5-7 करोड़ लोगों की जानें गईं।इसमें असैनिक नागरिकों का नरसंहार किया गया। जिसके लिए होलोकॉस्ट और परमाणु हथियारों का भी इस्तेमाल किया गया।



6 सालों तक चले इस युद्ध में लड़ने वाले सैनिकों को ये भी नहीं पता था कि उन्हें किस वक्त और कितना आराम मिल पाएगा। इसलिए जब भी उन्हें समय मिलता वह आराम कर लेते।




द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत 1 सितंबर 1939 को हुई थी। यह तस्वीर उन्हीं शुरुआती दिनों की है। जब विभिन्न देशों की सेना ट्रक और जहाज आदि के माध्यम से युद्ध के लिए जा रही थी।



युद्ध के दौरान देश को भारी नुकासान हुआ। युद्ध के बाद की ये तस्वीर लंदन की है। जिसमें बच्चे बैठकर देख रहे हैं कि किस प्रकार देश को दोबारा से पहले जैसा बनाने के लिए काम किया जा रहा है।



युद्ध के बाद कहीं जश्न मन रहा है तो कहीं मातम। करोड़ों की संख्या में सैनिकों की मौत के बाद के इस नजारे से युद्ध की भयानकता का अहसास होता है।



युद्ध का अंत 2 सितंबर 1945 को हुआ। ये तस्वीर है लंदन की, जहां युद्ध के खत्म होने के जश्न में लाखों की संख्या में लोग एकत्रित हुए थे।



दुनिया में हर जगह केवल और केवल दहशत का माहौल था। ये तस्वीर है यूक्रेन की, जिसमें आप देख सकते हैं युद्ध के खतरनाक मंजर को।



एलसीटी 7074, यह वो आखिरी समुद्री जहाज है जो द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान लैंड हुआ था।



एक सैनिक युद्ध में लड़ लड़के थक गया लेकिन देशों के तानाशाह नहीं थके.. उन्हें तो अपनी जीत से प्यार था।



इटली ने इस युद्ध में 10 जून 1940 को हिस्सा लिया।



अमेरिका इस युद्ध में 8 सितंबर, 1941 को सम्मिलित हुआ। उस समय वहां के राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी रुजवेल्टई थे।



माना जाता है कि द्वितीय विश्वयुद्ध में जर्मनी की पराजय रूस के कारण हुई थी।



अमेरिका ने जापान पर एटम बम का इस्तेमाल 6 जून 1945 को किया। अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा और नागासाकी शहरों पर एटम बम गिराया गया।


द्वितीय विश्व युद्ध में मित्रराष्ट्रों के द्वारा पराजित होने वाला अंतिम देश जापान था।



ये तस्वीर विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद की है। इस तस्वीर में अपनी जान बचाने में कामियाब हुए ये सैनिक अपनी गर्लफ्रेंड से साथ वक्त बिता रहे हैं।

अगला लेख: सैफ की लाडली कर रहीं हैं इस बॉलीवुड अभिनेता को डेट



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasउनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलतीहमको ही खासकर नहीं मिलती शायरी को नज़र नहीं मिलतीमुझको तू ही अगर नहीं मिलती रूह मे, दिल में, जिस्म में, दुनियाढूंढता हूँ मगर
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Aaj ka itihas वर्ष/साल प्रमुख घटनाएं1165 पोप एलेक्जेंडर तृतीय निर्वासन के बाद रोम वापस लौटे।1744 ब्रिटिश प्रधानमंत्री जान कार्टरे ने इस्तीफा दिया।1848 अमेरिका के वोस्टन में महिला मेडिकल शैक्षणिक सोसाइटी का गठन।1857 कोलिन कैंपबेल ने लखनऊ में सिपाही विद्
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
बॉलीवुड में हर हस्ती की अपनी एक अलग पहचान है और ये बड़ी हस्तियां अपनी हिफाज़त के लिए बॉडीगार्ड रखती है। सभी बॉलीवुड स्टार्स के बॉडीगार्ड है, लेकिन इन सब में हर समय सबसे ज़्यादा चर्चा में कोई होता है तो वो है बॉलीवुड के भाईजान यानि सलमान खान के बॉडीगार्ड शेरा। शेरा कोई मामूली बॉडीगार्ड नहीं है, बल्क
21 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
फैज़ अहमद फैज़ (Faiz Ahmad Faiz) उर्दू भाषा के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक थे। फैज़ की शायरी (Shayri) को न केवल उर्दू बल्कि हिंदी (Hindi) भाषी लोग भी बहुत पसंद करते है| गर मुझे इस का यक़ीं हो मेरे हमदम मेरे दोस्त, फैज़ अहमद फैज़ की सर्वा
20 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
आजकल बॉलीवुड में स्टार किड्स की बहार छायी हुई हैं। बहुत सारे स्टार किड्स पर्दे पर अपने दमदार डेब्यू के लिए तैयार है। सैफ की लाडली सारा अली खान अपनी दो फिल्मों के साथ पर्दे पर धमाल मचाने के लिए तैयार हैं। आपको बता दें पहले इस बात को लेकर कन्फ्यूजन थी की सारा की पहली फिल्म केदारनाथ होगी या फिर सिंबा,
21 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
इतिहास की बात की जाये तो पूरे देश के इतिहास को यदि तराजू के एक तरफ रख दें और केवल मेवाड़ के ही इतिहास को दूसरी ओर रख दें, तो भी मेवाड़ का पलड़ा हमेशा भारी ही रहेगा | कभी गुलामी स्वीकार न करने वाले शूरवीर महाराणा प्रताप ने इतने संघर्षों के बाद अकबर को मेवाड़ से खदेड़ने पर मजबूर कर दिया था |न जाने मेव
21 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
Aaj ka itihas - Today History in Hindi - 22 November वर्ष/साल प्रमुख घटनाएं 2008 भारती क्रिकेट टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने अपना पद छोड़ने की धमकी दी। हिन्दी के प्रख्यात कवि कुंवर नारायण
21 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
Aaj ka itihas - Today History in Hindi - 22 November वर्ष/साल प्रमुख घटनाएं 2008 भारती क्रिकेट टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने अपना पद छोड़ने की धमकी दी। हिन्दी के प्रख्यात कवि कुंवर नारायण
21 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x