"लघुकथा, अब कितनी बार बाँटोगे"

02 दिसम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (107 बार पढ़ा जा चुका है)

लघुकथा "अब कितनी बार बाँटोगे"


अब कितनी बार बाँटोगे यही कहकर सुनयना ने सदा के लिए अपनी बोझिल आँख को बंद कर लिया। आपसी झगड़े फसाद जो बंटवारे को लेकर हल्ला कर रहे थे कुछ दिनों के लिए ही सही रुक गए। सुनयना के जीवन का यह चौथा बंटवारा था जिसको वह किसी भी कीमत पर देखना नहीं चाहती थी। सबने एक सुर से यही कहा कि दादी किसी भी बंटवारे से बहुत दुखी हो जाती थीं। जब वह व्याह कर आयी तो इस परिवार का पहला बंटवारा अजिया ससुर का हुआ था जो इन्हें अच्छा तो न लगा पर कर ही क्या सकती थी। कुछ एक साल ही बीता कि इनके ससुर जो दो भाई थे अलग-बिलग हो गए, लोग बताते हैं कि चार दिनों तक इन्होंने खाना नहीं खाया था और निश्चय कर लिया कि अपने पति को उनके भाइयों से अलग नहीं होने देंगी। मिशाल भी कायम किया सुनयना ने बहुत कुछ सहन करके परिवार को एकजुट रखा पर समय के परिवर्तन पर किसका बस चला है टूट गईं जब परिवार तीसरी बार बँटकर बिखर रहा था। न वह शान रही न मर्यादा सब कुछ मिट्टी में मिलते अपनी उन्हीं आँखों से देखती रही जिसकी सुंदरता से बशीभूत होकर उनके पिता जी ने सुनयना नाम रखा था।

उम्र जब पचासी पार कर गई तो उनके खुद के बच्चों ने कलह शुरू कर दिया। सुनयना ने बहुत समझाया कि मेरे मरने के बाद ही अब तुम लोग अपने मन की करना, मेरे जीते जी चौथा बँटवारा संभव नहीं है। दश वर्ष कसमकश में निकला और उनके तीनो लड़के अपने बाल-बच्चों को लेकर शहर पकड़ लिए पर पुस्तैनी जमीन का मोह लिए सुनयना ने घर को अपने कमजोर हाथों से अकेले पकड़े रखा कि गर्मी की छुट्टी में सबका आना हुआ और बँटवारे की मंशा बलवती हो गई और श्राद्ध कर्म करके पूर्ण भी हो गई। सुनयना के एक नाती ने याद दिलाया कि दादी के तस्वीर के नीचे लिखवा दो न पापा, कि "अब कितनी बार बाँटोगे"।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: "पद" कोयल कुहके पिय आजाओ, साजन तुम बिन कारी रैना,डाल पात बन छाओ।।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 नवम्बर 2018
"
आधार छंद - सरसी (अर्द्ध सम मात्रिक) शिल्प विधान सरसी छंद- चौपाई + दोहे का सम चरण मिलकर बनता है। मात्रिक भार- 16, 11 = 27 चौपाई के आरम्भ में द्विकल+त्रिकल +त्रिकल वर्जित है। अंत में गुरु /वाचिक अनिवार्य। दोहे के सम चरणान्त में 21 अनिवार्य है"गीत" लहराती फसलें खेतों की, झूमें गाँव किसानबरगद पीपल खलिहा
22 नवम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
"
"मुक्तक" हार-जीत के द्वंद में, लड़ते रहे अनेक।किसे मिली जयमाल यह, सबने खोया नेक।बर्छी भाला फेंक दो, विषधर हुई उड़ान-महँगे खर्च सता रहे, छोड़ो युद्ध विवेक।।-1हार-जीत किसको फली, ऊसर हुई जमीन।युग बीता विश्वास का, साथी हुआ मशीन।बटन सटन है साथ में, लगा न देना हाथ-यंत्र- यंत्र में तार है, जुड़ मत जान नगीन।।-2
15 दिसम्बर 2018
04 दिसम्बर 2018
"
वज़्न--212 212 212 212 अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— लुभाते (आते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल"छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहेझूठ के सामने सच छुपाते रहे जान लेते हक़ीकत अगर वक्त कीसच कहुँ रूठ जाते ऋतु रिझाते रहे।।ये सहज तो न था खेलना आग सेप्यास को आब जी भर प
04 दिसम्बर 2018
01 दिसम्बर 2018
छंद - द्विगुणित पदपादाकुलक चौपाई (राधेश्यामी) गीत, शिल्प विधान मात्रा भार - 16 , 16 = 32 आरम्भ में गुरु और अंत में 2 गुरु "राधेश्यामी गीत" अब मान और सम्मान बेच, मानव बन रहा निराला है।हर मुख पर खिलती गाली है, मन मोर हुआ मतवाला है।।किससे कहना किसको कहना, मानो यह गंदा नाला है।सुनने वाली भल जनता है, कह
01 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x