कैसे मिलें भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (56 बार पढ़ा जा चुका है)

कैसे मिलें भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर आने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है परमात्मा को प्राप्त करना | परमात्मा को प्राप्त करने के लिए कई साधन बताए गए हैं , परंतु सबसे सरल साधन है भगवान की भक्ति करना | भगवान की भक्ति करने के भी कई भेद बताये गये हैं | वैसे तो भगवान की भक्ति सभी करते हैं परंतु गीता में योगेश्वर श्रीकृष्ण भक्त के चार लक्षण बताये हैं :- "चतुर्विधा भजन्ते मां जना: सुकृतिनोऽर्जुन ! आर्तो जिज्ञासुरर्थार्थी ज्ञानी च भरतर्षभ !! अर्थात :-भगवान कहते हैं कि हे अर्जुन! आर्त, जिज्ञासु, अर्थार्थी और ज्ञानी- ये चार प्रकार के भक्त मेरा भजन किया करते हैं | इनमें से सबसे निम्न श्रेणी का भक्त अर्थार्थी है | उससे श्रेष्ठ आर्त, आर्त से श्रेष्ठ जिज्ञासु, और जिज्ञासु से भी श्रेष्ठ ज्ञानी है | यह चार प्रकार के भक्त अपनी - अपनी श्रद्धा एवं आवश्यकता के अनुसार भगवान का भजन करके उनको प्राप्त करने का प्रयास करते हैं | जैसा कि हमारे पुराणों में कथाएं पढ़ने को मिलती है कि भगवान मूढ व्यक्ति को शीघ्रता से प्राप्त हो जाते हैं परंतु ज्ञानी उनको पाने के लिए अनेक साधन करता है फिर भी उनके दर्शन नहीं प्राप्त कर पाता | इसका कारण यही है कि जब मनुष्य मूढ होता है तो उसे कुछ भी ज्ञान नहीं होता है वह सिर्फ भगवान को जानता है और उन्हीं से अपना नेह लगाता है , और ज्ञानी व्यक्ति क्योंकि भगवान को प्राप्त करने की अनेक साधन जानता है तो उन्हीं साधनों में वह भटका रहता है कि कौन सा साधन करूँ तो भगवान को प्राप्त कर पाऊँ | यही करने में उसका जीवन व्यतीत हो जाता है और उसको भगवान नहीं प्राप्त हो पाते |* *आज के युग में कोई भी मूर्ख नहीं है | आज मनुष्य ने स्वयं के विकास के लिए विज्ञान धर्म एवं अध्यात्म आदि क्षेत्रों में प्रगति की है , इस प्रगति के कारण उसने अनेकों विधान प्राप्त किये , इन्हीं विधानों का प्रयोग करके मनुष्य विद्वान बना | परंतु आज एक चीज अवश्य देखने को मिलती है की पूर्व काल के विद्वानों की अपेक्षा आज के विद्वान स्वयं को विद्वान मानते हैं | और जब व्यक्ति स्वयं को कुछ मानने लगता है तो उसे कुछ भी नहीं प्राप्त होता है | भगवान को वही प्राप्त कर सकता है जो स्वयं को कुछ न समझे | परंतु मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह कह सकता हूं कि आज स्वयं को कुछ न समझने वाला संसार में शायद ही कोई मिले | यही कारण है कि आज भगवान को प्राप्त करना एक सपना बनकर रह गया है | आज देखने को मिल रहा है किंचित मात्र भी विद्वता आ जाने के बाद मनुष्य में अहंकार प्रकट हो जाता है | और जिस में किंचित भी अहंकार है वह कभी भगवान को नहीं प्राप्त कर सकता है ! क्योंकि भगवान का भोजन ही अहंकार है | यह सार्वभौमिक सत्य है कि अहंकारी व्यक्ति भगवान के आस पास भी नहीं पहुंच सकता है | भगवान या तो महामूर्ख को मिलते हैं या फिर परम ज्ञानी को बीच के मनुष्य अपनी मोह माया काम क्रोध मद लोभ आदि विकारों में भ्रमित होकर भगवान को प्राप्त करने का दिखावा मात्र करते हैं और अपने कर्मों के फलस्वरूप उनको कुछ भी नहीं कर पाता |* *भगवान को प्राप्त करने के लिए स्वयं के मैं को नष्ट करना पड़ता है | जिसे आज का मनुष्य नहीं कर पा रहा है |*

अगला लेख: हम कौन ????? आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 नवम्बर 2018
*संसार के सभी देशों में महान बना भारत देश | भारत को महान एवं विश्वगुरु बनाने में यहाँ के विद्वानों का विशेष योगदान रहा | अपने ज्ञान - विज्ञान का प्रसार करके यहाँ के विद्वानों ने श्रेष्ठता प्राप्त की थी | विद्वता प्राप्त कर लेना बहुत आसान नहीं तो कठिन भी नहीं है | कठिन है अपनी विद्वता को बनाये रखना ,
29 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्
05 दिसम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में प्रत्येक मनुष्य की आयु सौ वर्ष निर्धारित करते हुए चार आश्रमों की व्यवस्था बनाई गयी है | ये चार आश्रम हैं :- गृहस्थाश्रम , ब्रह्मचर्यआश्रम , वानप्रस्थ एवं संयास आश्रम | संयास आश्रम की आयु वैसे तो ७५ से १०० वर्ष के बीच की आयु को कहा गया है परंतु यह पूर्वकाल के लिए था जब मनुष्य की सैकड़
08 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि का सृजन करने वाले अखिलनियंता , अखिल ब्रम्हांड नायक , पारब्रह्म परमेश्वर , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसे कृपालु / दयालु परमात्मा को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | वेदों में कहा गया है :- "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" | वही ब्रह्म जहां जैसी आवश्यकता पड़त
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से इस धराधाम पर ब्राह्मण पूज्यनीय रहा है | सृष्टि संचालन ब्राह्मणों का महत्वपूर्ण योगदान रहा वेदों को पढ़ कर दो उसके माध्यम से ज्ञानार्जन कर मानव मात्र का कल्याण कैसे हो ब्राह्मण सदैव यही विचार किया करता था | अपने इसी स्वतंत्र विचार के कारण ब्राह्मण पृथ्वी की धुरी कहा गया | ब्राह्मण कभी भी इ
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में अनेकों देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है , इसके अतिरिक्त यक्ष , किन्नर , गंधर्व आदि सनातन धर्म की ही एक शाखा हैं | इन देवी - देवताओं में किस को श्रेष्ठ माना जाए इसको विचार करके मनुष्य कभी-कभी भ्रम में पड़ जाता है | जबकि सत्य यह है कि किसी भी देवी - देवता को मानने के पहले प्रत्येक
05 दिसम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई सृष्टि में ऐसा कुछ भी नहीं है जो न विद्यमान हो | यहाँ सुख है तो दुख भी है , गुण है तो अवगुण भी है , प्रकाश है तो अंधकार भी है | कहने का तात्पर्य यह है कि सब कुछ इस सृष्टि में है और प्रत्येक मनुष्य इसका अनुभव भी अपने जीवन में करता रहता है | यहाँ यह मनुष्य के ऊपर निर्भर करता है कि वह क्
21 नवम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*श्रृष्टि का विस्तार करने के लिए ब्रह्मा जी ने कई बार सृष्टि की परंतु सृष्टि गतिमान ना हो सकी , तब भगवान शिव के संकेत से उन्होंने मनु - शतरूपा का जोड़ा उत्पन्न करके मैथुनी सृष्टि को महत्व दिया , और मनुष्य इस संसार में आया | श्रृष्टि को विस्तारित करने के लिए प्रत्येक मनुष्य को पुत्र की आवश्यकता पड़ी
08 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x