श्रेष्ठता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (66 बार पढ़ा जा चुका है)

श्रेष्ठता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि का सृजन करने वाले अखिलनियंता , अखिल ब्रम्हांड नायक , पारब्रह्म परमेश्वर , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसे कृपालु / दयालु परमात्मा को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | वेदों में कहा गया है :- "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" | वही ब्रह्म जहां जैसी आवश्यकता पड़ती है वहां उस प्रकार का स्वरूप धारण करके इस जगत का कल्याण मात्र करता है | ऐसे परमात्मा को हजार हाथ वाला , हजार मुख वाला एवं कुछ ना करते हुए भी सभी कर्म करने वाला बताया गया है | जब परमात्मा को सृष्टि संचालन की इच्छा हुई तो उसने आवश्यकता के अनुसार ब्रह्मा , विष्णु , रूद्र , इंद्र आदि अनेकों रूप धारण करके इस सृष्टि के संचालन में अपना योगदान दिया | जिस प्रकार किसी भी राष्ट्र का राष्ट्रपति सर्वोच्च होता है एवं सर्वाधिकार उसी के पास होता है उसी प्रकार अनेकों देवी देवता होते हुए भी सर्वोच्च सत्ता उस पारब्रह्म परमेश्वर की ही मानी जाती है | ऐसे में यदि हमारे मन में यह विचार आता है कि देवताओं में श्रेष्ठ कौन है ? तो यह हमारी अज्ञानता का प्रतीक है | पौराणिक कथा के अनुसार त्रिदेव में भगवान श्री नारायण को श्रेष्ठ माना गया है , क्योंकि वे सृष्ट के पालनकर्ता है | यह सार्वभौमिक सत्य है कि सृजन एवं संहार करने वाले से पालन करने वाला सर्वश्रेष्ठ होता है | परंतु कभी भी मन में यह विचार नहीं होना चाहिए कि कौन श्रेष्ठ है ? और कौन लघु | ऐसा करके हम परमात्मा के दोषी बनते हैं |* *आज अनेकों लोगों के मस्तिष्क में एक प्रश्न उठता है कि ब्रह्मा , विष्णु , रूद्र आदि देवताओं में सर्वश्रेष्ठ कौन है ? राम , कृष्ण , दुर्गा , काली आदि देवी - देवताओं में भेद करने वालों को मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही बताना चाहूंगा कि सभी देवी - देवताओं अपने अपने स्थान पर महत्वपूर्ण स्थान है | इसमें कभी भेद नहीं करना चाहिए , क्योंकि एक तरफ हमारे धर्मग्रंथ कहते हैं कि भक्त और भगवान में कोई अंतर नहीं होता है , दूसरी तरफ हम भगवान के अवतारों में अंतर करना चाहते हैं | विचार कीजिए जब भगवान और भक्त में अंतर नहीं है तो भगवान के अवतारों में भला अंतर कैसे हो सकता है | जैसे एक शिक्षक पीएचडी करके पीएचडी के छात्रों को उच्च शिक्षा देता है परंतु वही शिक्षक जब प्राइमरी के बच्चों को बढ़ाता है तो उनको वर्णमाला का ज्ञान कराता हुआ दिखाई पड़ता है | ऐसे में विचार करना कि इस शिक्षक को कुछ आता ही नहीं है , या यह तो प्राइमरी के बच्चों को पढ़ा रहा है यह मूर्खता के अतिरिक्त क्या कहा जा सकता है ? शिक्षक को जहां जैसी आवश्यकता पड़ती है उस प्रकार का ज्ञान बाँट़ता है | ठीक उसी प्रकार वह परमात्मा भी जहां जैसी आवश्यकता पड़ती है वैसा स्वरूप धारण करके प्रकट होता है | मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम स्वयं घोषणा की है कि मुझ में और भगवान शिव में भेद करने वाला मुझे कभी प्राप्त नहीं कर सकता | ब्रह्मा , विष्णु , रुद्र तीनों एक ही शक्ति हैं इन तीनों में भेद बुद्धि दर्शाने वाले पाप के भागी तो बनते ही हैं साथ ही उनकी उपासना पद्धति हुई दिग्भ्रमित हो जाती है |* *परमात्मा के सभी स्वरूप एक ही हैं इनमें कभी भेद नहीं करना चाहिए | जैसी जिसकी आवश्यकता हो वैसा स्वीकार करके ईश्वर आराधना करनी चाहिए |*

अगला लेख: हम कौन ????? आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 नवम्बर 2018
भगवान गणेश के भक्तों के लिए उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में स्थित पाताल भुवनेश्वर गुफा आस्था का अद्भुत केंद्र है। यह गुफा पहाड़ी के करीब 90 फीट अंदर है। यह उत्तराखंड के कुमाऊं में अल्मोड़ा से शेराघाट होते हुए 160 किमी। की दूरी तय करके पहाड़ी के बीच बसे गंगोलीहाट कस्बे में है। पा
30 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में अनेकों देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है , इसके अतिरिक्त यक्ष , किन्नर , गंधर्व आदि सनातन धर्म की ही एक शाखा हैं | इन देवी - देवताओं में किस को श्रेष्ठ माना जाए इसको विचार करके मनुष्य कभी-कभी भ्रम में पड़ जाता है | जबकि सत्य यह है कि किसी भी देवी - देवता को मानने के पहले प्रत्येक
05 दिसम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
ऐसी बहुत सी ऐतिहासिक चीजें हैं जो आज भी इस जमीन में दफन है और हमें हमारी पुरानी सभ्यता और उनसे जुड़े किस्से-कहानियों की याद दिलाती है।अक्सर पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई के दौरान मिली चीजों को देखकर हमारे होश उड़ जाते हैं। छत्तीसगढ़ में भी कुछ ऐसा ही हुआ यहां के सिरपुर में हुई खुदाई से पुरातत्व विशेषज
27 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य रिश्तों के जाल में फंस जाता है , या यूँ कहिए कि इन्हीं रिश्तों के सहारे मनुष्य का जीवन व्यतीत होता है | वैसे तो जीवन में सभी रिश्ते महत्त्वपूर्ण होते हैं परंतु भाई - भाई का रिश्ता सबसे अनमोल कहा गया है | भाई तो संसार में किसी को भी बनाया जा सकता है परंतु एक माँ
22 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्
05 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा त्यौहार है । जैसे हिन्दू समुदाय के लिए दीपावली, मुस्लिम समुदाय के लिए ईद और सिख समुदाय के लिए लोहड़ी का त्यौहार होता है ठीक उसी तरह क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण त्यौहार होता है। क्रिसमस हर साल 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता
19 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*परमात्मा की बनाई हुई यह महान सृष्टि इतनी रहस्यात्मक किससे जानने और समझने मनुष्य का पूरा जीवन व्यतीत हो जाता है , परंतु वह सृष्टि के समस्त रहस्य को जान नहीं पाता है | ठीक उसी प्रकार इस धरा धाम पर मनुष्य का जीवन भी रहस्यों से भरा हुआ है | मानव के रहस्य को आज तक मानव भी नहीं समझ पाया है | इन रहस्यों क
18 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मानव का सृजन करते हुए सबसे पहले ब्रह्मा जी ने अपने अंश से जब मनुष्य बनाया तो वह ब्राह्मण कहलाया | अपने सत्कर्मों के कारण ब्राह्मण सदैव से पूज्यनीय रहा है | वेदमंत्रों के ज्ञान से तपश्चर्या करके आत्मिक एवं आध्यात्मिक बल प्राप्त कर ब्राह्मण आकाशमार्ग में तो विचरण करता ही था बल्
05 दिसम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म में आदिकाल से पूजा - पाठ , कथा - सत्संग आदि का मानव जीवन में बड़ा महत्व रहा है | जहां पूजा पाठ करके मनुष्य आध्यात्मिक शक्ति अर्जित करता था , कुछ क्षणों के लिए भगवान का ध्यान लगा कर के उसे परम शांति का अनुभव होता था , वहीं कथाओं को सुनकर के उसके मन में तरह-तरह की जिज्ञासा उत्पन्न होती थी
21 नवम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*परमात्मा द्वारा बनाई हुई सृष्टि आदिकाल से गतिशील रही है | गति में निरंतरता बनाए रखने के लिए इस संसार की प्रत्येक वस्तु कहीं न कहीं से नवीन शक्तियां प्राप्त करती रहती है | इस संसार में चाहे सजीव वस्तु हो या निर्जीव सबको अपनी गतिशीलता बनाए रखने के लिए आहार की आवश्यकता होती है | किसी भी जीव को अपनी गत
08 दिसम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
*आदिकाल से ही यह संपूर्ण सृष्टि दो भागों में बटी हुई है :- सकारात्मक एवं नकारात्मक | वैदिक काल में सकारात्मक शक्तियों को देवतुल्य एवं नकारात्मक शक्तियों को असुर की संज्ञा दी गयी | देवतुल्य उसी को माना गया है जो जीवमात्र का कल्याण करने हेतु सकारात्मक कार्य करें | मनुष्य एवं समाज का कल्याण जिस में नि
25 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर भक्त और भगवान का पावन नाता आदिकाल से बनता चला आया है | अपने आराध्य को रिझाने के लिए भक्त जहां भजन कीर्तन एवं जब तथा आराधना करते रहे हैं वहीं ऐसे भी भक्तों की संख्या कम नहीं रही है जो भगवान की भक्ति में मगन होकर के नृत्य भी करते रहे हैं | भगवान को रिझाने की अनेक साधनों में एक साधन भगवा
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से इस धराधाम पर ब्राह्मण पूज्यनीय रहा है | सृष्टि संचालन ब्राह्मणों का महत्वपूर्ण योगदान रहा वेदों को पढ़ कर दो उसके माध्यम से ज्ञानार्जन कर मानव मात्र का कल्याण कैसे हो ब्राह्मण सदैव यही विचार किया करता था | अपने इसी स्वतंत्र विचार के कारण ब्राह्मण पृथ्वी की धुरी कहा गया | ब्राह्मण कभी भी इ
05 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x