ब्राह्मणत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (68 बार पढ़ा जा चुका है)

ब्राह्मणत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि के प्रारम्भ में मानव का सृजन करते हुए सबसे पहले ब्रह्मा जी ने अपने अंश से जब मनुष्य बनाया तो वह ब्राह्मण कहलाया | अपने सत्कर्मों के कारण ब्राह्मण सदैव से पूज्यनीय रहा है | वेदमंत्रों के ज्ञान से तपश्चर्या करके आत्मिक एवं आध्यात्मिक बल प्राप्त कर ब्राह्मण आकाशमार्ग में तो विचरण करता ही था बल्कि वह समुद्रों की तलहटी तक की यात्रा करके नये - नये ज्ञान अर्जित करके मात्र का कल्याण करता है | वेद - वेदांग , शास्त्र , उपनिषदों का अध्ययन कराके व शिष्यों को ज्ञान वितरित करके ब्राह्मण ने सम्मान प्राप्त किया | ब्राह्मण मानव - समाज में सर्वोपरि माने जाते थे। देवता तक इनका मुँह ताकते थे और तीनों लोक में ब्राह्मणों की धाक जमी थी | समस्त संसार में ब्राह्मण का आदर होता था और देश-विदेशों में ये गुरु मान कर पूजे जाते थे | ब्राह्मण का कार्य था अन्धकार में प्रकाश करना , सोते हुओं को जगाना , प्राणहीनों में जीवन डाल देना आदि | यह ब्राह्मण ही थे जे बिगड़ों को बना देते थे, गिरे हुओं को उठाते थे, भूले हुओं को राह पर लाते थे | किसी भी धूर्त या चालाक व्यक्ति का आत्मबल इतना प्रबल नहीं था कि किसी सच्चरित्र सदाचारी ब्राह्मण के समक्ष खड़ा हो जाय | छोटे बड़े सभी लोग ब्राह्मण की कृपा-कटाक्ष के लिए लालायित रहते थे | अपनी इसी महत्ता के कारण ब्राह्मण इस पृथ्वी का देवता कहा गया है |* *आज ब्राह्मण यदि अपमान सहन कर रहा है तो उसका कारण कहीं न कहीं से स्वयं ब्राह्मण ही है | आज ब्राह्मण कुल में जन्म लेकर ब्राह्मणोचित कर्म का त्याग कर देने के बाद भी सम्मान की आशा रखना मूर्खता के अतिरिक्त क्या कहा जा सकता है | ऐसा नहीं है कि सभी ब्राह्मण आज कर्महीन हो गये हैं परंतु जिस प्रकार एक मछली पूरे तालाब को गंदा कर देने का कार्य करती है उसी प्रकार कुछ तथाकथित पथभ्रष्ट ब्राह्मण आज आमिषभोगी एवं मदिरापायी होकर ब्राह्मण समाज को अपमानित कर रहे हैं | जिस ब्राह्मण को पृथ्वी का देवता कहा गया है वहीं कुछ ब्राह्मण आज मनुष्य कहे जाने के योग्य भी नहीं रह गये हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज की युवा पीढी को देख रहा हूँ जो ब्राह्मण की पहचान के चिन्ह "शिखा" - "जनेऊ" एवं तिलक - मुद्रा से दूर तो हो ही रहे हैं साथ ही अपने ज्ञान के मुख्य स्रोत वेद - पुराणों से भी दूरी बना रहे हैं | इन्हीं तथाकथित लोगों के कारण ब्राह्मणत्व को स्वयं में बचाये हुए ब्राह्मणोचित कर्म कर रहे बचे हुए कुछ ब्राह्मणों का सम्मान भी दाँव पर है | जो अपने ब्राह्मणत्व को बचाये हुए हैं उनका आज भी सम्मान है | मनुष्य का जन्म बड़े भाग्य से मिलता है , वह भी ब्राह्मणकुल में जन्म लेना परम सौभाग्य है | इस सौभाग्य को बनाये रखने की आवश्यकता है |* *अपना सम्मान बनाना या मिटा देना स्वयं मनुष्य के हाथ में होता है | यदि आपके कर्म अच्छे हैं तो आपका सम्मान अवश्य होगा |*

अगला लेख: हम कौन ????? आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 दिसम्बर 2018
*श्रृष्टि का विस्तार करने के लिए ब्रह्मा जी ने कई बार सृष्टि की परंतु सृष्टि गतिमान ना हो सकी , तब भगवान शिव के संकेत से उन्होंने मनु - शतरूपा का जोड़ा उत्पन्न करके मैथुनी सृष्टि को महत्व दिया , और मनुष्य इस संसार में आया | श्रृष्टि को विस्तारित करने के लिए प्रत्येक मनुष्य को पुत्र की आवश्यकता पड़ी
08 दिसम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य रिश्तों के जाल में फंस जाता है , या यूँ कहिए कि इन्हीं रिश्तों के सहारे मनुष्य का जीवन व्यतीत होता है | वैसे तो जीवन में सभी रिश्ते महत्त्वपूर्ण होते हैं परंतु भाई - भाई का रिश्ता सबसे अनमोल कहा गया है | भाई तो संसार में किसी को भी बनाया जा सकता है परंतु एक माँ
22 नवम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
*आदिकाल से ही यह संपूर्ण सृष्टि दो भागों में बटी हुई है :- सकारात्मक एवं नकारात्मक | वैदिक काल में सकारात्मक शक्तियों को देवतुल्य एवं नकारात्मक शक्तियों को असुर की संज्ञा दी गयी | देवतुल्य उसी को माना गया है जो जीवमात्र का कल्याण करने हेतु सकारात्मक कार्य करें | मनुष्य एवं समाज का कल्याण जिस में नि
25 नवम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*श्रृष्टि का विस्तार करने के लिए ब्रह्मा जी ने कई बार सृष्टि की परंतु सृष्टि गतिमान ना हो सकी , तब भगवान शिव के संकेत से उन्होंने मनु - शतरूपा का जोड़ा उत्पन्न करके मैथुनी सृष्टि को महत्व दिया , और मनुष्य इस संसार में आया | श्रृष्टि को विस्तारित करने के लिए प्रत्येक मनुष्य को पुत्र की आवश्यकता पड़ी
08 दिसम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई सृष्टि में ऐसा कुछ भी नहीं है जो न विद्यमान हो | यहाँ सुख है तो दुख भी है , गुण है तो अवगुण भी है , प्रकाश है तो अंधकार भी है | कहने का तात्पर्य यह है कि सब कुछ इस सृष्टि में है और प्रत्येक मनुष्य इसका अनुभव भी अपने जीवन में करता रहता है | यहाँ यह मनुष्य के ऊपर निर्भर करता है कि वह क्
21 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्
05 दिसम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में परमात्मा ने बड़े - बड़े पहाड़ , विशाल वृक्ष की रचना तो की ही साथ ही इस सृष्टि के सर्वोत्तम प्राणी (मनुष्य) को सृजित किया | मनुष्य ने अपना विकास करके तरह - तरह के निर्माण किये | विशाल अट्टालिकायें आज नगरों की शोभा बढा रही हैं | इन सब निर्माणों का अस्तित्व टिका है उसकी नींव पर ! यदि
22 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से इस धराधाम पर ब्राह्मण पूज्यनीय रहा है | सृष्टि संचालन ब्राह्मणों का महत्वपूर्ण योगदान रहा वेदों को पढ़ कर दो उसके माध्यम से ज्ञानार्जन कर मानव मात्र का कल्याण कैसे हो ब्राह्मण सदैव यही विचार किया करता था | अपने इसी स्वतंत्र विचार के कारण ब्राह्मण पृथ्वी की धुरी कहा गया | ब्राह्मण कभी भी इ
05 दिसम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में परमात्मा ने बड़े - बड़े पहाड़ , विशाल वृक्ष की रचना तो की ही साथ ही इस सृष्टि के सर्वोत्तम प्राणी (मनुष्य) को सृजित किया | मनुष्य ने अपना विकास करके तरह - तरह के निर्माण किये | विशाल अट्टालिकायें आज नगरों की शोभा बढा रही हैं | इन सब निर्माणों का अस्तित्व टिका है उसकी नींव पर ! यदि
22 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में अनेकों देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है , इसके अतिरिक्त यक्ष , किन्नर , गंधर्व आदि सनातन धर्म की ही एक शाखा हैं | इन देवी - देवताओं में किस को श्रेष्ठ माना जाए इसको विचार करके मनुष्य कभी-कभी भ्रम में पड़ जाता है | जबकि सत्य यह है कि किसी भी देवी - देवता को मानने के पहले प्रत्येक
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से इस धराधाम पर ब्राह्मण पूज्यनीय रहा है | सृष्टि संचालन ब्राह्मणों का महत्वपूर्ण योगदान रहा वेदों को पढ़ कर दो उसके माध्यम से ज्ञानार्जन कर मानव मात्र का कल्याण कैसे हो ब्राह्मण सदैव यही विचार किया करता था | अपने इसी स्वतंत्र विचार के कारण ब्राह्मण पृथ्वी की धुरी कहा गया | ब्राह्मण कभी भी इ
05 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*योनियों भ्रमण करने के बाद जीव को इन योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि प्राप्त होती है | मनुष्य जन्म लेने के बाद जीव की पहचान उसके नाम से होती है | मानव जीवन में नाम का बड़ा प्रभाव होता है | आदिकाल में पौराणिक आदर्शों के नाम पर अपने बच्चों का नाम रखने की प्रथा रही है | हमारे पूर्वजों का ऐसा मानना थ
11 दिसम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म में आदिकाल से पूजा - पाठ , कथा - सत्संग आदि का मानव जीवन में बड़ा महत्व रहा है | जहां पूजा पाठ करके मनुष्य आध्यात्मिक शक्ति अर्जित करता था , कुछ क्षणों के लिए भगवान का ध्यान लगा कर के उसे परम शांति का अनुभव होता था , वहीं कथाओं को सुनकर के उसके मन में तरह-तरह की जिज्ञासा उत्पन्न होती थी
21 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x