संध्या विधान :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (106 बार पढ़ा जा चुका है)

संध्या विधान :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा द्वारा बनाई हुई सृष्टि आदिकाल से गतिशील रही है | गति में निरंतरता बनाए रखने के लिए इस संसार की प्रत्येक वस्तु कहीं न कहीं से नवीन शक्तियां प्राप्त करती रहती है | इस संसार में चाहे सजीव वस्तु हो या निर्जीव सबको अपनी गतिशीलता बनाए रखने के लिए आहार की आवश्यकता होती है | किसी भी जीव को अपनी गतिशीलता बनाए रखने के लिए यदि समय-समय पर भोजन पानी की आवश्यकता होती है तो प्रत्येक जीव की भीतर स्थित आत्मा को भी समय-समय पर आहार की आवश्यकता होती है | आत्मा जो कि अजर अमर है | वह इस सृष्टि में सबसे अधिक गतिशील मानी गई है तो ऐसे में आत्मा को सबसे अधिक आहार की आवश्यकता मानी जाती है | विचारणीय विषय यह है कि आत्मा का आहार क्या है ?? तो जहां तक मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जान पाया हूं कि आत्मा को स्वाध्याय , सत्संग , आत्मचिंतन , उपासना एवं साधना आदि के द्वारा आहार प्राप्त होता है | इस प्रकार आहार पाकर के आत्मा चेतन , क्रियाशील रहते हुए बलवान बनती है | इस संसार में जो भी मनुष्य इन आहारों से अपनी आत्मा को वंचित रखते हुए सांसारिक माया जाल में फंसाए रखते हैं उनकी आत्मा भूखी हो करके निश्तेज , निर्बल और मूर्छित अवस्था में पड़ी रहती है | इसीलिए हमारे महर्षियों ने आत्म साधना को प्रत्येक व्यक्ति के लिए आवश्यक मानते हुए इसे नित्यकर्म में सम्मिलित करने का प्रयास किया है | जिस प्रकार आत्मा को आहार प्राप्ति के लिए इन दिव्य उपायों की आवश्यकता है उसी प्रकार कुत्सित विचारों का विसर्जन भी महत्वपूर्ण होता है | आत्मा को चेतन एवं बलवान बनाने की पद्धति को साधना कहते हैं | यह साधना प्रत्येक जीव के आत्मिक विकारों को नष्ट करते हुए उसे दिव्य बनाती है | नित्यकर्म में सम्मिलित इसी आत्म साधना को हमारे पूर्वजों ने तीन भागों में विभक्त करते हुए संध्या का नाम दिया है | त्रिकाल संध्या प्रत्येक मनुष्य के लिए आवश्यक है क्योंकि इससे मनुष्य कुछ समय के लिए ध्यानस्थ हो करके आत्म साधना कर सकता है |* *आज के व्यस्ततम जीवन में सत्संग साधना करना सबके लिए शायद संभव नहीं है | जिस प्रकार पूर्व समय में मनुष्य दिन भर सत्संग -;कथा आदि में बैठ करके कुछ समय भगवान की आराधना करने का प्रयास करता था , उसके विपरीत आज प्रत्येक मनुष्य अपने आप में व्यस्त हैं | ऐसे में सबके लिए संभव नहीं है कि वह सत्संग कथाओं को समय दे पाए | इन्हीं तथ्यों को ध्यान में रखते हुए हमारे महर्षियों ने मनुष्य के लिए त्रिकाल संध्या का विधान रखा है | प्रातः काल , मध्यान्ह एवं सायंकाल को तीनों समय संध्या करके मनुष्य अपनी आत्मा को तेजवान एवं बलवान बना सकता है | परंतु आज समाज में बिरले मनुष्य ही तीनों समय की संध्या करते मिलेंगे , क्योंकि आज किसी के पास समय ही नहीं है | यदि कोई त्रिकाल संध्या करता भी है तो आज का अधिक पढ़ा लिखा समाज उसे ढोंगी एवं महापंडित की संज्ञा दे देता है , परंतु मनुष्य को ऐसे लोगों का ध्यान न दे करके अपने कार्य में लगे रहना चाहिए , क्योंकि ऐसा करके आप अपनी आत्मा को भोजन करा रहे हैं | जैसा कि मैंने बताया कि जैसे हमारे शरीर को भोजन की आवश्यकता होती है उसी प्रकार आत्मा को भी भोजन की आवश्यकता होती है , और आत्मा का भोजन त्रिकाल संध्या के माध्यम से , स्वाध्याय के माध्यम से , सत्संग के माध्यम से ही प्राप्त हो सकता है | संध्या का विधान देखने में तो बहुत कठिन है परंतु जिस प्रकार मनुष्य को भोजन करने के लिए पहले अन्न को पकाना पड़ता है उसी प्रकार आत्मा को भोजन कराने के लिए कुछ तो कार्य करना ही पड़ेगा | इसलिए मनुष्य को संध्या अवश्य करनी चाहिए |* *संध्या ना करने वाला मनुष्य निस्तेज हो जाता है , क्योंकि जब उसकी आत्मा निस्तेज हो जाएगी तो सर्वगुण संपन्न होने के बाद भी मनुष्य में तेज नहीं हो सकता |*

अगला लेख: हम कौन ????? आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि का सृजन करने वाले अखिलनियंता , अखिल ब्रम्हांड नायक , पारब्रह्म परमेश्वर , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसे कृपालु / दयालु परमात्मा को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | वेदों में कहा गया है :- "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" | वही ब्रह्म जहां जैसी आवश्यकता पड़त
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर आने के बाद मनुष्य का लक्ष्य होता है परमात्मा को प्राप्त करना | परमात्मा को प्राप्त करने के लिए कई साधन बताए गए हैं , परंतु सबसे सरल साधन है भगवान की भक्ति करना | भगवान की भक्ति करने के भी कई भेद बताये गये हैं | वैसे तो भगवान की भक्ति सभी करते हैं परंतु गीता में योगेश्वर श्रीकृष्ण भक्त
05 दिसम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
आज हम आपके लिए लेकर आया हैं कुछ दमदार लाइनें, जिन्हें पढ़ने के बाद आपके अंदर की आग भड़क उठेगी आपका हौसला बुलंद हो जाएगा और आप कुछ भी करने के लिए तैयार होंगे ये लाइनें आपके मोटिवेशन को दुगना कर देंगी। इसीलिए दोस्तों एक बार पूरी लाइनें जरूर पढ़िएगा:-1. रख हौंसला वो मंजर भी
03 दिसम्बर 2018
25 नवम्बर 2018
*आदिकाल से ही यह संपूर्ण सृष्टि दो भागों में बटी हुई है :- सकारात्मक एवं नकारात्मक | वैदिक काल में सकारात्मक शक्तियों को देवतुल्य एवं नकारात्मक शक्तियों को असुर की संज्ञा दी गयी | देवतुल्य उसी को माना गया है जो जीवमात्र का कल्याण करने हेतु सकारात्मक कार्य करें | मनुष्य एवं समाज का कल्याण जिस में नि
25 नवम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
ऐसी बहुत सी ऐतिहासिक चीजें हैं जो आज भी इस जमीन में दफन है और हमें हमारी पुरानी सभ्यता और उनसे जुड़े किस्से-कहानियों की याद दिलाती है।अक्सर पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई के दौरान मिली चीजों को देखकर हमारे होश उड़ जाते हैं। छत्तीसगढ़ में भी कुछ ऐसा ही हुआ यहां के सिरपुर में हुई खुदाई से पुरातत्व विशेषज
27 नवम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य अपने परिवार के संस्कारों के अनुसार अपना जीवन यापन करने का विचार करता है | प्रत्येक माता पिता की यही इच्छा होती है कि हमारी संतान किसी योग्य बन करके समाज में स्थापित हो | जिस प्रकार परिवार के संस्कार होते हैं , शिक्षा होती है उसी प्रकार नवजात शिशु का सं
08 दिसम्बर 2018
26 नवम्बर 2018
सभी ग्रहों में शनि ग्रह को सबसे पापी ग्रह के रूप में जाना जाता है यदि किसी व्यक्ति की राशि में शनि ग्रह बुरी स्थिति में हो तो व्यक्ति को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता है ज्योतिष में भी शनि ग्रह को बुरा ग्रह माना गया है अपनी राशि में शनि के बुरे प्रभाव को दूर करने क
26 नवम्बर 2018
24 नवम्बर 2018
जब इस देश पर औरंगजेब का शासन था तब वह कश्मीरी पंडितों तथा हिंदुओ पर बहुत अत्याचार कर रहा था उनका धर्म संकट में था वह उन्हें जबरन मुसलमान बना रहा था उसके जुलम से तंग आकर यह सभी लोग सिखों के नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी के पास सहायता के लिए पहुंचे तब उन्होंने इनसे कहा आप सभी लोग घबराए नहीं
24 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर भक्त और भगवान का पावन नाता आदिकाल से बनता चला आया है | अपने आराध्य को रिझाने के लिए भक्त जहां भजन कीर्तन एवं जब तथा आराधना करते रहे हैं वहीं ऐसे भी भक्तों की संख्या कम नहीं रही है जो भगवान की भक्ति में मगन होकर के नृत्य भी करते रहे हैं | भगवान को रिझाने की अनेक साधनों में एक साधन भगवा
05 दिसम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
*संसार के सभी देशों में महान बना भारत देश | भारत को महान एवं विश्वगुरु बनाने में यहाँ के विद्वानों का विशेष योगदान रहा | अपने ज्ञान - विज्ञान का प्रसार करके यहाँ के विद्वानों ने श्रेष्ठता प्राप्त की थी | विद्वता प्राप्त कर लेना बहुत आसान नहीं तो कठिन भी नहीं है | कठिन है अपनी विद्वता को बनाये रखना ,
29 नवम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मानव का सृजन करते हुए सबसे पहले ब्रह्मा जी ने अपने अंश से जब मनुष्य बनाया तो वह ब्राह्मण कहलाया | अपने सत्कर्मों के कारण ब्राह्मण सदैव से पूज्यनीय रहा है | वेदमंत्रों के ज्ञान से तपश्चर्या करके आत्मिक एवं आध्यात्मिक बल प्राप्त कर ब्राह्मण आकाशमार्ग में तो विचरण करता ही था बल्
05 दिसम्बर 2018
20 दिसम्बर 2018
हम आपके लिए 11 बहुत ही खूबसूरत तस्वीरें लेकर आए हैं। आज की तस्वीरों पर आपको गर्व जरूर होगा। क्योंकि ये तस्वीरें हिंदू मुस्लिम एकता का प्रतीक है। भारत में सैकड़ों धर्म मौजूद है। यहां पर हिंदू और मुस्लिम दो मुख्य धर्म है। इन दोनों धर्मो को मानने वाले करोड़ों लोग इस देश में रहते हैं दोनों ही समुदाय के
20 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*ईश्वर ने मनुष्य को इस संसार में सारी सुख सुविधाएं प्रदान कर रखी है | कोई भी ऐसी सुविधा नहीं बची है जो ईश्वर ने मनुष्य को न दी हो | सब कुछ इस धरा धाम पर विद्यमान है आवश्यकता है कर्म करने की | इतना सब कुछ देने के बाद भी मनुष्य आज तक संतुष्ट नहीं हो पाया | मानव जीवन में सदैव कुछ ना कुछ अपूर्ण ही रहा ह
11 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x