शादी के लिए आए फूलों से सजी स्निग्धा की अर्थी काश पापा ने मान ली होती बात

10 दिसम्बर 2018   |  रेखा यादव   (283 बार पढ़ा जा चुका है)

शादी के लिए आए फूलों से सजी 'स्निग्धा' की अर्थी, काश! पापा ने मान ली होती बात...


पटना, जेएनएन। जिन फूलों से मंडप सजना था, उनसे स्निग्धा की रविवार को अर्थी सजी। शनिवार को उसके तिलक की रस्म हुई थी। रविवार को मंडप था और सोमवार को शादी होनी थी। मंडप और घर को सजाने के लिए फूल मंगाए गये थे। शव शास्त्रीनगर थाने के पटेलनगर इलाके के स्नेही पथ स्थित उसके घर चंद्र विला लाया गया।

शव को अंतिम यात्रा पर ले जाया जाने लगा तो उसी फूल से उसकी अर्थी को सजाया गया जिससे मंडप सजाया जाने वाला था। जैसे ही फूलों से सजी स्निग्धा की अर्थी घर से निकली मोहल्ले वालों की आंखों से आंसू बहने लगे। घर के लोग और रिश्तेदार फफकने लगे।

तिलक की रात जमकर किया था डांस

स्निग्धा ने शनिवार को तिलक समारोह पर खूब डांस किया था। नाते-रिश्तेदारों के साथ हंसी-ठिठोली भी की थी। इतना ही नहीं, उसने सहेलियों और परिवार की महिलाओं के साथ बैठकर दोनों हाथों में मेहंदी भी रचवाई थी। उसके व्यवहार में किसी तरह का बदलाव नजर नहीं आया।

घर वालों को बताई थी अपनी पसंद

डॉ. स्निग्धा सिलीगुड़ी से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करने के बाद कोलकाता में एमएस कर रही थी। सूत्रों की मानें तो सिलीगुड़ी में आइआइटियन लड़के से उसकी दोस्ती हो गई थी। दोनों एक-दूसरे को पसंद करते थे और शादी करना चाहते थे, परंतु लड़के के दूसरी बिरादरी से होने के कारण घर वाले राजी नहीं थे।

परिवार वालों ने स्निग्धा की शादी किशनगंज के डीएम महेन्द्र कुमार से तय कर दी थी। सुधांशु दरभंगा से रिटायर हुए थे। इसके पहले वे शाहाबाद के डीआइजी थे। इनके बड़े दामाद धर्मेंद्र कुमार भी आइएएस हैं। वह मुजफ्फरपुर के डीएम रह चुके हैं।

मॉर्निंग वाक के बहाने निकल रही थी घर से

पिछले तीन-चार दिनों से स्निग्धा मॉर्निंग वाक और जिम जाने की बात कहकर घर से गाड़ी लेकर ड्राइवर के साथ निकलती थी। परंतु वह दोनों में से किसी जगह पर नहीं जाती थी। पूछताछ के दौरान वह विभिन्न इलाकों में घूम-घूमकर ऊंची इमारतों को देखती थी। इसके बाद अंदर जाती थी, फिर बाहर चली आती। हालांकि उसने कभी स्निग्धा से कभी कुछ नहीं पूछा और ना ही घरवालों को इस बारे में कुछ बताया।

आखिरी बार ड्राइवर से हुई थी बात

स्निग्धा के मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली गई। उससे पता चला कि उसने आखिर बार ड्राइवर कृष्णा यादव से बात की थी। पूछताछ के दौरान कृष्णा ने बताया कि उन्होंने कॉल कर बुलाया था। उसके आने के बाद स्निग्धा गाड़ी पर बैठकर चली गई।

जांच के लिए भेजा गया सामान

अपार्टमेंट की छत से बरामद स्निग्धा की एक जोड़ी चप्पल, मोबाइल, चश्मे, स्टूल और कुर्सी को फोरेंसिक जांच के लिए एफएसएल के लैब में भेजा गया। उसपर से पुलिस फिंगर प्रिंट एकत्र करेगी, जिससे पता पाएगा कि घटनास्थल पर स्निग्धा के साथ कोई और व्यक्ति था या नहीं? कार से बरामद दवाइयां और पेन ड्राइव भी एफएसएल की टीम साथ लेकर गई है। शव को पोस्टमॉर्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया गया।

चार दिन पूर्व खरीदी थी स्टूल

स्निग्धा ने चार दिन पहले बाजार से स्टूल खरीदी थी। पूछने पर उसने घरवालों को बताया कि स्नान करने के वक्त बैठने के लिए वह स्टूल लेकर आई है। परिजनों की मानें तो उन्हें स्निग्धा के दिमाग में चल रही उथल-पुथल के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि वह जान देने के लिए स्टूल खरीदकर लाई है।

एसएसपी मनु महाराज ने कहा-

मामले की छानबीन की जा रही है। अपार्टमेंट के गार्ड और कार के चालक से पूछताछ की जा रही है। एफएसएल की टीम भी जांच कर रही है। प्रारंभिक जांच में सुसाइड का मामला सामने आ रहा है।

- मनु महाराज, एसएसपी

https://www.ucnews.in/news/%E0%A4%B6%E0%A4%BE%E0%A4%A6%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%B2%E0%A4%BF%E0%A4%8F-%E0%A4%86%E0%A4%8F-%E0%A4%AB%E0%A5%82%E0%A4%B2%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%B8%E0%A4%9C%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%97%E0%A5%8D%E0%A4%A7%E0%A4%BE-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%85%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%B6-%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%AA%E0%A4%BE-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%B2%E0%A5%80-%E0%A4%B9%E0%A5%8B%E0%A4%A4%E0%A5%80-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%A4/181118597172807.html

अगला लेख: मात्र 2490 रु. में घूम आइए मां वैष्णो देवी के मंदिर..जाना-आना,खाना-रहना सब मात्र 2490 रुपए में



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 दिसम्बर 2018
जब सुहाना खान की ‘पूल’ और ‘हॉलिडे’ वाली ‘हॉट’ तस्वीरें नहीं वायरल हो रही थीं, तब भी वो ख़बरों में थीं. शाहरुख खान की बेटी जो हैं. स्टार्स के बच्चे हमेशा ख़बरों में रहते हैं क्योंकि वो स्टार्स के बच्चे हैं. मगर असल में तो हैं वो बच्चे ही और स्कूल भी जाते हैं. मगर उनके स्कूल
21 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
श्रीलाल शुक्ल की बेस्टसेलर ‘राग दरबारी’ में एक वन लाइनर है –जैसे कि सत्य के होते हैं, इस ट्रक के भी कई पहलू थे.वो याद है न आपको युधिष्ठिर का कहना –अश्वत्थामा मारा गया, किन्तु हाथी.तो बस सोशल मीडिया में तेज़ी से वायरल हो रही इस हैडिंग (भारतीय मुद्रा पर होगी पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी की तस्वीर) में भी
19 दिसम्बर 2018
06 दिसम्बर 2018
भारतीय रेलवे ने रेल यात्रियों के लिए एक अच्‍छी खबर लेकर आई है। अब ट्रेन छूट जाने के डर से बिना टिकट लिए ट्रेन मे
06 दिसम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
सोनपुर मेले का नाम आते ही बाजार और खरीदार ध्यान में आते हैं पर मेले को जानने वाले पुराने लोग इसेे अलग अंदाज में देखते हैं। मेले में विधायक अनंत सिंह जैसे लोग सिर्फ अपने जानवर और शान ओ शौकत दिखाने आते हैं। बात करते हैं समस्तीपुर के मुखिया डोमन राय की। इनके पास 6 घोड़े हैं ज
29 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x