राजस्थान चुनाव: 5 कारण जो भाजपा की हार पर मोहर लगाते हैं -

11 दिसम्बर 2018   |  रेखा यादव   (63 बार पढ़ा जा चुका है)

राजस्थान चुनाव: 5 कारण जो भाजपा की हार पर मोहर लगाते हैं -

विधानसभा चुनाव के नतीजे जिस तरह से आ रहे हैं उन्हें देखकर लगता है कि राजस्थान में भाजपा की सरकार बनना अब मुश्किल है और वसुंधरा राजे के दोबारा मुख्यमंत्री बनने की उम्मीदें तो बेहद कम हो गई हैं. कांग्रेस और भाजपा के बीच का ये मुकाबला राजस्थान में बदलकर वसुंधरा खेमा और सचिन पायलट और अशोक गहलोत के खेमें में तब्दील हो गया था. पर ऐसा क्यों? राजस्थान में चुनाव हारने के पीछे कई कारण हैं जो भाजपा को इस राज्य में कमजोर पार्टी बनाते हैं.

5 कारण जो कांग्रेस की जीत की ओर इशारा करते हैं-


1. सत्ता विरोधी लहर-

भाजपा को राजस्थान में सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ा. वसुंधरा राजे के प्रति लोगों का गुस्सा बहुत ज्यादा था और यही कारण है कि कांग्रेस को फायदा मिला. यहां भी किसानों और बेरोजगारों ने भाजपा को बेहद बुरे दौर में लाकर खड़ा कर दिया.

राजस्थान, कांग्रेस, सचिन पायलट, वसुंधरा राजे, भाजपा, अशोक सिंह गहलोत

कांग्रेस को राजस्थान में सबसे ज्यादा फायदा सत्ता विरोधी लहर का ही मिला है


2. बड़े चेहरों का फायदा-

कांग्रेस के पास राजस्थान में बहुत बेहतर लीडर्स मौजूद हैं. वहीं भाजपा की तरफ से ऐसा कोई बड़ा लीडर वसुंधरा के अलावा खड़ा नहीं किया जा सका. राजस्थान उन कुछ राज्यों में से एक है जहां अभी भी कांग्रेस के पास लोकप्रिय लीडर्स मौजूद हैं. अशोक सिंह गहलोत पहले भी मुख्य मंत्री रह चुके हैं, सचिन पायलट खुद एक यूनियन मिनिस्टर रह चुके हैं और साथ ही साथ उनके पास विरासत की राजनीति का भी फायदा है क्योंकि वो राजेश और रमा पायलट के बेटे हैं. ऐसे में कांग्रेस को राजस्थान में फायदा मिलना ही था.


3. स्थानीय इलाकों में कांग्रेस की बढ़ती लोकप्रियता-

जैसे ही सचिन पायलट कांग्रेस के राज्य चीफ बने वैसे ही वो अपने काम पर लग गए और धीरे-धीरे कांग्रेस की नींव मजबूत करने में लग गए. उनके कड़े परिश्रम का नतीजा है कि कांग्रेस को जनवरी बाय-पोल में ही दिख गया था.


4. जाति समीकरण-

कांग्रेस को एक बड़ा फायदा इस बात का भी मिला है कि राजपूत भाजपा से नाराज चल रहे थे. कांग्रेस ने राजपूतों की नव्ज को पकड़ लिया था और उसी समय अन्य जातियों को भी कांग्रेस अपनी तरफ करने में सफल रही थी. उदाहरण के तौर पर सचिन पायलट को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित नहीं किया गया ताकि जाट नाराज न हो जाएं क्योंकि पायलट गुज्जर हैं.


5. अंदरूनी लड़ाई पर लगाम लगाई-

अशोक सिंह गहतोल और सचिन पायलट दोनों ही बड़े लीडर्स हैं और उनके बीच की लड़ाई जगजाहिर है. पर इस इलेक्शन के लिए दोनों ने ही अपने मतभेदों को किनारे कर दिया और एक होकर चुनाव लड़े. राहुल गांधी की रैलियों में अशोक सिंह गहतोल और सचिन पायलट भी एक साथ दिखते थे.


पर भाजपा की हार के क्या कारण हैं?

जिस तरह कांग्रेस की जीत के कुछ अहम कारण हैं उसी तरह भाजपा की हार के भी कुछ खास कारण हैं.


1. किसानों की आत्महत्या और बेरोजगारी-

जैसा की पहले भी कहा गया है भाजपा की हार के पीछे किसानों की आत्महत्या और बेरोजगारी का बहुत गहरा नाता है. जहां सरकार ने कर्ज माफी का तो फैसला लिया, लेकिन इसके लिए कड़ी जांच और शर्तें भी रख दीं. वसुंधरा राजे के खजाने में असल में सारे वादों को पूरा करने के लिए पैसा नहीं था और बढ़ती बेरोजगारी भी सरकार कम करने में कामियाब नहीं रही.


2. वसुंधरा राजे के प्रति गुस्सा-

सत्ता विरोधी लहर की असली वजह वसुंधरा राजे थीं. यहां तक कि खुद भाजपा के विधायक और कार्यकर्ता भी उन्हें घमंडी और वक्त पर उपलब्ध न होने वाली रानी कहते थे. सिर्फ कुछ खास लोगों की ही वसुंधरा सुना करती थीं. इसी के साथ, उनपर भ्रष्टाचार के भी आरोप लगे हैं. उनके खिलाफ नारे भी ऐसे ही लगते आ रहे हैं कि , 'मोदी तुझसे बैर नहीं, रानी तेरी खैर नहीं.'


3. सब्सीडी की छतरी ने सबको बारिश से नहीं बचाया-

एक और अहम कारण राजस्थान में हार का ये रहा है कि वसुंधरा सरकार की सब्सिडी स्कीम में कई लोग हिस्सा नहीं थे. फर्जी लाभकर्ताओं को हटाने के कारण जो अभियान चलाया गया था उसमें कई वैध लाभकर्ता भी अपनी पेंशन, राशन और दवाओं आदि की सब्सिडी और पैसा पाने से वंछित रह गए थे. इसके अलावा, कई को इसीलिए सब्सिडी नहीं मिली थी क्योंकि Point of Sale (PoS) मशीने उनका फिंगरप्रिंट लेने में नाकाम हो गई थीं.


4. जाति और आरक्षण की जंग-

राजपूत जो भाजपा के सबसे अहम वोटर थे वो पद्मावत की रिलीज के कारण पीछे हो गए थे. इसी के साथ, राजपूत लीडर गजेंद्र शेखावत का भाजपा चीफ न बन पाना और गैंगस्टर आनंदपाल सिंह का एनकाउंटर ही राजपूतों को भाजपा के विरुद्ध ले गया. गुज्जर जो शुरू से ही भाजपा के साथ थे उन्हें उनका 5% कोटा नहीं दिया गया जिसका वादा किया गया था.


5. आरएसएस से वसुंधरा राजे का रिश्ता-

वसुंधरा राजे का रिश्ता न तो संघ परिवार के साथ अच्छा था और न ही भाजपा के आलाकमान से. इसके कारण आरएसएस और खुद भाजपा की तरफ से वसुंधरा राजे के लिए जमीन तैयार करने में समय लगाया गया और इसका फायदा मिला कांग्रेस को.

https://www.ichowk.in/politics/rajasthan-assembly-election-results-reasons-why-bjp-lost-its-ground-in-the-state/story/1/13311.html?fbclid=IwAR0XlGQsA-VqpeUWjd5P9XdXvInqABjTparUVaf6SIKtWRD5IgncoNUBLbQ

अगला लेख: Power Arena - Martin Garrix India Tour, Delhi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 दिसम्बर 2018
पांच राज्यों के चुनावों के नतीजे लगभग आ चुके हैं. यहां राजस्थान में कांग्रेस को 100, बीजेपी को 74 और अन्यों को 25 सीटें मिली हैं. वहीं छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को 66, बीजेपी को 18 और अन्यों को 7 सीटे मिली हैं. तेलंगाना में टीएसआर को सबसे ज्यादा 87, कांग्रेस 21, अन्यों को 10 और बीजेपी को 1 सीट मिली है.
11 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी आज बेहद खुश है.आखिर खुश हो भी क्यों न, उनकी पार्टी ने इतना जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए भाजपा को मात दे दिया है. राजस्थान ,छत्तीसगढ़ में प्रचंड बहुमत के अलावे कांग्रेस मध्यप्रदेश में भी भाजपा को कांटे की टक्कर दे रही है. वो भी उस दिन जिस दिन कांग्रेस के राष्ट्री
11 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के परिणाम 11 दिसंबर को आ गए थे, इन पांचों राज्यों में से तीन हिंदी भाषी राज्यों में कांग्रेस ने बीजेपी को बुरी तरह से हराकर अपनी सरकार बनाई है।Third party image referenceगौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों से एक बड़ा वादा किया थ
21 दिसम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
डॉ० राजेंद्र प्रसाद को ऐसे ही नहीं देशरत्न का उपाधि मिला। बल्कि 3 दिसम्बर 1884 को बिहार के जिरादेई नामक स्थान में जन्म लिए डॉ० राजेंद्र प्रसाद आजाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे। और 28 फ़रवरी 1963 (उम्र 78) को उनका देहांत हुआ था। उनको आज पूरा देश सलाम करता है।उनकी रोचक कहान
03 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
पांच राज्यों के चुनावों के नतीजे लगभग आ चुके हैं. यहां राजस्थान में कांग्रेस को 100, बीजेपी को 74 और अन्यों को 25 सीटें मिली हैं. वहीं छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को 66, बीजेपी को 18 और अन्यों को 7 सीटे मिली हैं. तेलंगाना में टीएसआर को सबसे ज्यादा 87, कांग्रेस 21, अन्यों को 10 और बीजेपी को 1 सीट मिली है.
11 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने राष्ट्रपति भवन में मौजूद शानदार मुगल गार्डन का नाम बदलकर डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद उद्यान करने की मांग की है| इसके लिए हिंदू महासभा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम मोदी को लेटर लिखा है। हिंदू महासभा का कहना है कि देश भर में अलग-अलग जगहों पर मु
12 दिसम्बर 2018
10 दिसम्बर 2018
कहते हैं अगर नाक की लड़ाई ना हो तो एक भाई के लिए उसका भाई ही सबसे बड़ा मददगार होता है। मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी को ही देख लीजिए। दोनों भाई हैं। सगे भाई। धीरूभाई अंबानी के स्वर्ग सिधारते ही रिश्तों में दूरियां आ गई थी, और दोनों मन से बहुत दूर हो गए।फिर मोबाइल फोन के जिस
10 दिसम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी के नि-धन से पूरा देश शोक में डूबा है। अटल जी को शुक्रवार को अंतिम बिदाई दे दी गई, लेकिन लोगोंं के दिलोंं में वो हमेशा राज करेंगे। अटल के जाने से भारतीय राजनीति का एक अध्याय पूरी तरह से खत्म हो गया। अटल बिहारी को शब्दों में पिरो पाना संभव नही
27 नवम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी आज बेहद खुश है.आखिर खुश हो भी क्यों न, उनकी पार्टी ने इतना जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए भाजपा को मात दे दिया है. राजस्थान ,छत्तीसगढ़ में प्रचंड बहुमत के अलावे कांग्रेस मध्यप्रदेश में भी भाजपा को कांटे की टक्कर दे रही है. वो भी उस दिन जिस दिन कांग्रेस के राष्ट्री
11 दिसम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के कारण कई ग्राहकों को एकमुश्त राशि चुकाने में परेशानी आ रही है। इसके मद्देनजर सरकार ने गैर सब्सिडी सिलेंडर की कीमत चुकाने के बाद सब्सिडी की राशि खाते में जमा कराने की व्यवस्था में बदलाव करने का फैसला किया है। अब उपभोक्ता को सब्सिडी की कीमत में ही
28 नवम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना जारी है। यहां सभी 119 विधानसभा सीटों के रुझान आ गए हैं। रुझानों के मुताबिक यहां टीआरएस को बहुमत मिल गया है। टीआरएस ने 90 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है। इस बार 119 सीटों पर 1821 उम्मीदवार अपनी किस्मत अजमा रहे हैं। बता दें कि रूझानों मे
11 दिसम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
कैंसर, एक ऐसी बीमारी, जिसके नाम से रूह कांप जाती है। आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज में कैंसर विभाग में तैनात हैं डॉ.सुरभि गुप्ता। एक ओर जहां सरकारी कर्मचारी अपनी नौकरी जल्द से जल्द खत्म करके घर जाना चाहते हैं। वहीं दूसरी ओर डॉ.सुरभि मित्तल अपने मरीजों के लिए हर समय तैयार रहती हैं।कैंसर के सैकड़ों मरीजों
29 नवम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना जारी है। यहां सभी 119 विधानसभा सीटों के रुझान आ गए हैं। रुझानों के मुताबिक यहां टीआरएस को बहुमत मिल गया है। टीआरएस ने 90 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है। इस बार 119 सीटों पर 1821 उम्मीदवार अपनी किस्मत अजमा रहे हैं। बता दें कि रूझानों मे
11 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
हाल ही में पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में भाजपा को करारी शिकस्त मिली। इन चुनावों में भाजपा की ऐसी बुरी पराजय होगी इस बात का अंदाज़ा शायद ही किसी ने लगाया हो। खुद विपक्षी खेमा भी अपनी जीत को लेकर इतना आश्वस्त नहीं था। इन नतीजों से कहीं न कहीं अब भाजपा को साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों का डर
19 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
5 राज्यों में बीजेपी को मिली हार से सोशल मीडिया की आबोहवा भी बदली नजर आ रही है। उम्मीद अनुसार परिणाम न मिलने पर बीजेपी के नेता तो हताश हैं ही, पार्टी के समर्थकों भी हैरान परेशान हैं। जिस सोशल मीडिया पर कल राहुल गांधी और कांग्रेस का मजाक बनाया जाता था। वहां आज कांग्रेस की
12 दिसम्बर 2018
14 दिसम्बर 2018
बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो कि अपने आपको स्लिम और फिट दिखाने की चाह में कई तरह के तरीकों को अपनाते हैं, जैसे कि डाइटिंग, दवाइयां, जिम में घंटों कसरत करना आदि। अक्सर ही हम इस बात को भी नजरअंदाज कर देते हैं कि जो हम कोशिश कर रहे हैं क्या वह हमारे शरीर को फिट बनाने की बजाए नुकसान तो नहीं दे रही। बहुत स
14 दिसम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
यदि आपके घर मे की बुजुर्ग है और उनकी उम्र 60 वर्ष की है तो वोह इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। कम से कम बुजुर्ग की उम्र 60 वर्ष होनी चाहिए।ऐसे में आप अपने नजदीकी एल आई सी ऑफिस में जाकर वय वंदना योजना के लिए फार्म भर सकते हैं, जिसके तहत 60 वर्ष से ऊपर के सभी बुजुर्ग इस योजना
30 नवम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ दिनो पहले जी-20 सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए अर्जेंटीना दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने फीफा अध्यक्ष जियानी इनफेंटिनो से भी मुलाकात की थी, जिन्होंने मोदी को एक फुटबॉल जर्सी भेंट की थी। इस जर्सी पर नरेंद्र मोदी का नाम लिखा था, साथ ह
11 दिसम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
देश के पांच राज्यों में 7 दिसंबर को विधानसभा चुनाव संपन्न हुए थे और मंगलवार 11 दिसंबर को इन चुनावों के परिणाम सामने आए थे। परिणाम में पता चला कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पांच में से किसी एक राज्य का चुनाव भी जीत न सकी उल्टा कांग्रेस ने भाजपा द्वारा शासित तीन राज्यों में
13 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x