राजधानी में खरीदा जाता है कूड़े के लिए किराये का बचपन -Street children in Delhi

11 दिसम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (119 बार पढ़ा जा चुका है)

राजधानी में खरीदा जाता है कूड़े के लिए किराये का बचपन -Street children in Delhi

बच्चों का नाम जहाँ आता है वहां बचपने की एक तस्वीर आँखों के सामने आ जाती है, पर बदलते समय के साथ इस बचपन की तस्वीर धुंधली होती जा रही है। रोज़ाना हम सड़कों पर कूड़ा उठाते बच्चों को देखते हैं और उन्हें देखते ही हमारे ज़हन में बाल मजदूरी का ख़्याल आता है, पर मांजरा यहां कुछ और ही है बाल मजदूरी नहीं बल्कि ये कहानी जुड़ी है बंधुआ मजदूरी से। इस कहानी की कई कड़ियाँ हैं। जो एक नहीं बल्कि न जाने कितनी गलियों से गुज़रती है। दिल्ली को भारत का दिल कहा जाता है पर इस दिल में न जाने कितने मासूम रोज़ अपने बचपन को दांव पर लगाते है।



रिपोर्ट्स की माने तो -


  • भारत में हर घंटे 7 बच्चे लापता होते हैं, जिनमें से 3 कभी नहीं मिलते


  • सालभर में यह आंकड़ा लगभग 50 हजार को पार कर जाता है।


  • दिल्ली के हर 5 स्ट्रीट चिल्ड्रेन में एक बच्चा कूड़े के कारोबार में है


  • बिहार, यूपी, पश्चिम बंगाल और असम से सबसे ज्यादा बच्चे दिल्ली लाये जाते है




ये कहानी है उन मासूमों की जिनकी सुबह शुरू होती है कूड़े से और शाम भी ख़त्म होती है कूड़े के ढेर से। दरअसल ये बच्चे परिवार से दूर ठेकेदारों के ज़रिये राजधानी में दाखिल होते हैं। बच्चों को लेकर काम करने वाले संगठनों का इशारा मानव तस्करी की ओर भी है।बता दें इन बच्चों को कई जगहों से इकट्ठा किया जाता है और परिवार से दूर इन्हें कई बच्चों के साथ एक झुंड में किराय के कमरे में रखा जाता है और इन्हें ठेकेदारों के द्वारा महीने के हिसाब से पैसे मिलते हैं और ये पैसे इन्हें इनकी उम्र और इकट्ठे किये जाने वाले रोज़ के कूड़े के अनुसार दिए जाते हैं। ठेकेदारों के पास एक नहीं बल्कि कई बच्चों का समूह होता है किसी ठेकेदार के पास 20− 25 बच्चे होते हैं तो किसी के पास 10−15।


हाथ में बोरी और कूड़े में काम की चीजें तलाशती नजर। ना गंदगी और बदबू से परेशानी और न ही झुलसाते सूरज की फिक्र। ये बच्चे बस अपनी दिहाड़ी पूरी करने और चंद रूपये कमाने का काम कर रहे हैं। जिसके लिए या तो इनके माँ- बाप ने इन्हें ठेकेदारों को इन्हे सौंपा है या फिर इनको कहीं से उठाया गया है। ये बच्चे मजबूरी में बस अपना काम कर रहे हैं और इसके चलते चंद लोग पैसे कमाने की होड़ में इन मासूमों का बचपन कुचल कर अपने आशियाने सजा रहे हैं।




रिपोर्ट के मुताबिक ये ठेकेदार 5 से 13 साल तक की उम्र के बच्चों को बिहार, यूपी, पश्चिम बंगाल और असम से दिल्ली सप्लाई करते हैं। कई बार इस काम के लिए इन बच्चों के गरीब और मजबूर मां−बाप की मंजूरी भी शामिल होती है।तो कई बार ये ज़बरदस्ती इस दलदल में ढकेल दिए जाते हैं। दिल्ली आते ही ये मासूम पैसे कमाने की मशीन बन जाते हैं और बता दें कि इन्हें दिन के हिसाब से दिहाड़ी नहीं मिलती बल्कि कूड़े के वज़न और इनके उम्र के मुताबिक महीने के अंत में पैसे दिए जाते हैं।


कई सर्वों की मानें तो दिल्ली के हर 5 स्ट्रीट चिल्ड्रेन में एक बच्चा कूड़े के कारोबार में है।जिसमें पूर्वी दिल्ली, उत्तर पूर्वी दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली में हालात ज्यादा खराब हैं, जहां हर चार स्ट्रीट चिल्ड्रेन में एक बच्चा इस कारोबार से जुड़ा है।बता दें ऐसे तो दिल्ली में स्ट्रीट चिल्ड्रन की संख्या करीब 51 हजार है और जिसमें से लगभग 10 हज़ार बच्चे कूड़े के कारोबार में शामिल हैं।

राजधानी दिल्ली में कूड़े और कबाड़ का कारोबार करोड़ों का है, जिससे करीब डेढ़ लाख लोगों के परिवार चलते हैं। बच्चों के लिए काम करने वाले बचपन बचाओ सरीखे संगठनों को इसकी खबर तो है ही, लेकिन उनकी मानें तो इस धंधे से मानव तस्करी और दूसरे कई तरह के गिरोह भी जुड़े हैं।




डॉक्टरों की मानें तो गंदगी में रोजी रोटी तलाशते देश के भविष्य का वतर्मान भी खतरे में है। उन्हें खाने-पीने से लेकर ब्लड संक्रमण की बीमारी का भी खतरा रहता है।बच्चों के गुमनाम होते बचपन और देश के भविष्य का यूँ कूड़े के दलदल में धंसना कहीं न कहीं देश की जड़ों को खोखला करता जा रहा है।




अगला लेख: निदा फ़ाज़ली -दिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती In Hindi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 नवम्बर 2018
Hindi poem -Nida Fazliदिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलतीदिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलतीख़ैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलतीकुछ लोग यूँ ही शहर में हमसे भी ख़फा हैंहर एक से अपनी भी तबीयत नहीं मिलतीदेखा था जिसे मैंने कोई और था शायदवो कौन है जिससे तेरी सूरत नहीं मिलतीहँसते हुए चेहरो
27 नवम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
10 NGO’s in delhi गैर-सरकारी संगठन (NGO) न तो सरकार का हिस्सा हैं और न ही पारंपरिक लाभकारी व्यवसाय हैं। NGO उन लोगों के लिए आगे आते हैं जो अपने दुखों को न ही किसी को बता पाते और न ही इसकी मदद के लिए कोई खड़ा होता है।आजकल भागदौड़ भरी दुनिया में लोगों के दुःख दर्द देखन
07 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में फुटपाथ पर एक अलग ही दुनिया बसती है।जिसमें अधिकतर बसेरा बच्चों का हैं।ये बच्चे न जाने रोज़ कितने समस्याओं से झुझते हैं जिसमें नशे की लत, अभद्र व्यवहार और हिंसा का शिकार तो जैसे
12 दिसम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
सभी भारतवासियों को संविधान दिवस (26 नवम्बर) की हार्दिक बधाई । भारत गणराज्य का संविधान 26 नवम्बर 1949 को बनकर तैयार हुआ था। संविधान सभा के निर्मात्री समिति के अध्यक्ष डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी ने भारत के महान संविधान को 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में 26 नवम्बर 1949 को पूरा कर राष्ट्र को समर्पित किया। गणतंत्र
27 नवम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
चुनाव शुरू होते ही हर पार्टी अपने नए नए पैंतरे अपनाना शुरू कर देती है। बता दें कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों कई मंदिरों में दर्शन करते हुए दिख जाते हैं।और इतना ही नहीं राहुल गाँधी ने खुद को जनेऊधारी हिंदू और शिवभक्त तक बताया है। लेकिन उनके इस बयानों और उनके उठाये क़दमों ने विर
03 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
न्यायपालिका प्रजातंत्र के चार स्तम्भों में से एक है। न्यायपालिका ही वो जगह है जहाँ हर किसी को इंसाफ मिलता है और अपने हक़ मिलते है। आज उसी न्यायपालिका में अपने हक़ की लड़ाई हमेशा लड़ती आ रहीं ट्रांसजेंडर स्वाति बरूआ न्याय की कुर्सी पर बैठ के न्याय करेंगी।बता दें कि 26 वर्षीय स्वाति अब असम की पहली और देश
12 दिसम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
फिल्म 2.0 ने इन दिनों बॉक्स-ऑफिस पर धमाल मचाया हुआ है। इस फिल्म में एक बहुत ही ख़ास मुद्दे मोबाइल टावर से निकलने वाले रे‌डिएशन से पक्षियों को होने वाले नुकसान को उठाया गया। मोबाईल टावर से निकलने वाले रेडिएशियन पर की शोध हुए है और कई बहस भी हुई हैं और इस बात से बिलकुल इ
03 दिसम्बर 2018
29 नवम्बर 2018
प्रियंका चौपड़ा और निक जोनस की शादी को महज़ दो दिन बाकी है। दोनों शादी इसी साल 2018 जोधपुर में शादी के बंधन में बंधने जा रहे हैं। प्रियंका और निक अपनी शादी को लेकर लगातार सोशल मीडिया पर सुर्ख़ियों में हैं। लेकिन क्या आप जानते है कि प्रियंका से पहले निक किन किन एक्ट्रेस को डेट कर चुके हैं।तो ये हैं वो ह
29 नवम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
द्वितीय विश्व युद्ध की घटना पूरे विश्व के लिए एक बहुत ही भयानक घटना थी। छः साल चलने वाले इस युद्ध में लाखों लोग मारे गए। कई ऐसे लोग होते हैं जिन्हें इतिहास जानने में तो दिलचस्पी होती है पर इतिहास पढ़ने में नहीं। मगर इतिहास के इन्हीं पन्नों को तस्वीरों की मदद से उनके स
30 नवम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
पूरा विश्व कई अजब- गजब कहानियों का संग्रह है।यहां हर चीज़ अपनी ही अलग कहानी बयां करते है। विश्व में न जाने ऐसी कितनी ही अजीबों- गरीब जगह हैं जिनकी खुद की ही एक अलग कहानी है। ऐसे ही कुछ भूतिया जगह के बारे में हम आपको बताने जा रहे है जो एक समय में बेहद ख़ूबसूरत हुआ करती थीं पर आज वहां परिंदा भी देखने को
30 नवम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
Hindi poem -Nida Fazliकभी बादल, कभी कश्ती, कभी गर्दाब लगेकभी बादल, कभी कश्ती, कभी गर्दाब लगेवो बदन जब भी सजे कोई नया ख्वाब लगेएक चुप चाप सी लड़की, न कहानी न ग़ज़लयाद जो आये
27 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x