दिल्ली में बच्चों की रगों में खून नहीं बल्कि दौड़ता है नशा, हर तीन में से एक बच्चा नशे का शिकार - Children drug addiction

12 दिसम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (13 बार पढ़ा जा चुका है)

दिल्ली में बच्चों की रगों में खून नहीं बल्कि दौड़ता है नशा, हर तीन में से एक बच्चा नशे का शिकार - Children drug addiction  - शब्द (shabd.in)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में फुटपाथ पर एक अलग ही दुनिया बसती है।जिसमें अधिकतर बसेरा बच्चों का हैं।ये बच्चे न जाने रोज़ कितने समस्याओं से झुझते हैं जिसमें नशे की लत, अभद्र व्यवहार और हिंसा का शिकार तो जैसे आम सी बात हो गई है। कह सकते हैं कि इन बच्चों ने ये मान लिया है कि यही इनकी ज़िंदगी की सच्चाई है।अपना पेट भरने और नशे की लत को पुराण करने के लिए ये मजबूरीवश कूड़े का काम, चोरी-चकारी इत्यादि भी करते हैं। इन बच्चों की ज़िंदगी बस नशे और कूड़े के इर्द-गिर्द ही घूमती है।


हाल ही में हुए एक शोध से पता चला कि दिल्ली में रहने वाले इन बच्चों में से हर तीन में से एक बच्चा नशे का शिकार है, इसमें तंबाकू, शराब, अफ़ीम, ड्रग्स जैसे बड़े नशे तक शामिल हैं। ये आँकड़े बड़े ही हैरान करने वाले हैं। बता दें कि सड़क पर रहने वाले बच्चों में से लगभग 35% बच्चे नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं। शोध के मुकाबिक जिनके कारण बड़े ही चौंकाने वाले हैं। 29 फ़ीसदी बच्चे दोस्तों के दबाव में, 19 फ़ीसदी क्यूरोसिटी के चलते, 9 फ़ीसदी ज़िंदगी के दवाब में, 6.2 फ़ीसदी ख़राब मौसम के कारण, 2 फ़ीसदी परिवार को भूलने के लिए और 6 फ़ीसदी बच्चे अपनी भूख मिटाने के लिए नशे का इस्तेमाल करते हैं।


National survey on drug use and health



बच्चों के नशे की लत का कारण


बता दें कि नशे की लत के शिकार हुए इन बच्चों में लगभग सभी की उम्र 7 से 18 वर्ष है। इसके साथ ही नशे में इन बच्चों के पड़ने का एक और बड़ा कारण है कि नशा करने वाले बच्चों में लगभग 86 फ़ीसदी बच्चों के पेरेंट्स भी नशे की लत के शिकार हैं। तो ये कहना गलत नहीं होगा कि कहीं न कहीं इनके माता-पिता भी एक कारण हैं इन बच्चों के नशे की लत में पड़ने का। नशे के चलते इन बच्चों का बचपन तो ख़राब हो ही रहा है पर साथ ही ये कई जानलेवा बीमारियों की चपेट में भी आ रहे हैं जिसमें एचआईवी जैसी बड़ी बीमारियां भी शामिल हैं।


child drug addiction in india



संख्या के लिहाज़ से देखा जाये तो सबसे ज्यादा बच्चे तंबाकू (21,770 बच्चे) का नशा करते हैं। उसके बाद शराब (9,450 बच्चे), इनहेलेंट(7,910 बच्चे), भांग(5,600 बच्चे), हेरोइन(840 बच्चे), अफ़ीम(420 बच्चे) का नशा करते हैं।


नशे की वजह से इन बच्चों को कई समस्याओं एक्सीडेंट, ड्रग्स लेते समय हुई इंजरीज, मानसिक तनाव, खुद को चोट पहुँचाना जैसी जटिल समस्याओं का सामना करना पड़ता है।इन बच्चों में से 80 फ़ीसदी बच्चों का कहना हैं कि ये नशे की जकड़ में ऐसे जकड़े हैं कि यहाँ से निकलना इनके बस में नहीं है और ये चाह कर भी अब नशे की इस दुनिया से निकल नहीं पाते ।


children using drugs in delhi


आपको बता दें कि दिल्ली नशे के शिकार बच्चों का हब है। इसमें नॉर्थवेस्ट दिल्ली के 24 फ़ीसदी, सेंट्रल दिल्ली में 21 फ़ीसदी, और साऊथ दिल्ली में 16 फ़ीसदी नशे के शिकार बच्चे हैं। ये बच्चे पार्क, धार्मिक स्थलों, रेलवे स्टेशनों, खाली सड़कों, बस स्टेण्डों इत्यादि पर सबसे अधिक नशा करते हुए पाए जाते हैं।

अगला लेख: निदा फ़ाज़ली -दिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती In Hindi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 नवम्बर 2018
द्वितीय विश्व युद्ध की घटना पूरे विश्व के लिए एक बहुत ही भयानक घटना थी। छः साल चलने वाले इस युद्ध में लाखों लोग मारे गए। कई ऐसे लोग होते हैं जिन्हें इतिहास जानने में तो दिलचस्पी होती है पर इतिहास पढ़ने में नहीं। मगर इतिहास के इन्हीं पन्नों को तस्वीरों की मदद से उनके स
30 नवम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
३ दिसंबर यानि आज भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद की 131 वीं जयंती है। राजेंद्र प्रसाद एक प्रमुख व्यक्तित्व जिसने हमारे राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम में बहुत योगदान दिया, राजेंद्र प्रसाद पहले राष्ट्रपति थे जिन्होंने स्वतंत्र भारत के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली और 12 वर्षों तक राज्य का सबस
03 दिसम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
Hindi poem -Nida Fazliनयी-नयी आँखें नयी-नयी आँखें हों तो हर मंज़र अच्छा लगता हैकुछ दिन शहर में घूमे लेकिन, अब घर अच्छा लगता है ।मिलने-जुलनेवालों में तो सारे अपने जैसे हैंजिससे अब तक मिले नहीं वो अक्सर अच्छा लगता है ।मेरे आँगन में आये या तेरे सर पर चोट लगेसन्नाटों में बोलनेवाला पत्थर अच्छा लगता है ।च
27 नवम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
10 NGO’s in delhi गैर-सरकारी संगठन (NGO) न तो सरकार का हिस्सा हैं और न ही पारंपरिक लाभकारी व्यवसाय हैं। NGO उन लोगों के लिए आगे आते हैं जो अपने दुखों को न ही किसी को बता पाते और न ही इसकी मदद के लिए कोई खड़ा होता है।आजकल भागदौड़ भरी दुनिया में लोगों के दुःख दर्द देखन
07 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
बरौनी से नई दिल्ली जाने के क्रम में 12553 वैशाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस गुरुवार को पहले देवरिया फिर बैतालपुर स्टेशन के समीप एसी-फ़र्स्ट समेत 5 बोगियों को ट्रैक पर ही दौड़ती छोड़ कर 10 किमी आगे निकल गई। पीछे छूटी ये बोगियां ट्रैक पर काफी दूरी के बाद रुक गईं। दो बार हुई इस घटन
21 दिसम्बर 2018
20 दिसम्बर 2018
साल 2011 से पहले यूपी में बिजली कटौती की हालत बहुत ज्यादा खराब थी. गांवों को छोड़ दीजिए यूपी के बड़े शहरों में भी जबरदस्त कटौती होती थी. आठ से 10 घंटे तक बिजली नहीं मिल पाती थी. लोगों को पता भी नहीं चल पाता था कि लाइट क्यों नहीं आ रही है. बिजली कंपनियां मनमानी किया करती थ
20 दिसम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
पूरा विश्व कई अजब- गजब कहानियों का संग्रह है।यहां हर चीज़ अपनी ही अलग कहानी बयां करते है। विश्व में न जाने ऐसी कितनी ही अजीबों- गरीब जगह हैं जिनकी खुद की ही एक अलग कहानी है। ऐसे ही कुछ भूतिया जगह के बारे में हम आपको बताने जा रहे है जो एक समय में बेहद ख़ूबसूरत हुआ करती थीं पर आज वहां परिंदा भी देखने को
30 नवम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
महज़ 500 रूपये से अपने सफर की शुरुआत करने वाले धीरूभाई अंबानी कैसे 75000 करोड़ के मालिक बन गए। ये कोई जादू नहीं बल्कि कड़ी मेहनत और धैर्य का नतीज़ा है। अंबानी परिवार का नाम दुनियाभर में बड़े उद्योगपतियों में शुमार होता है। अपनी मेहनत से उन्होंने दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। देश - विदेश में आज ह
11 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
बच्चों का नाम जहाँ आता है वहां बचपने की एक तस्वीर आँखों के सामने आ जाती है, पर बदलते समय के साथ इस बचपन की तस्वीर धुंधली होती जा रही है। रोज़ाना हम सड़कों पर कूड़ा उठाते बच्चों को देखते हैं और उन्हें देखते ही हमारे ज़हन में बाल मजदूरी का ख़्याल आता है, पर मांजरा यहां कुछ औ
11 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
नवज्योति इंडिया फाउंडेशन (Navjyoti India Foundation) एक गैर-लाभकारी संगठन है। जिसकी शुरुआत 1988 में प्रथम महिला आईपीएस (IPS) डॉ. किरण बेदी और दिल्ली पुलिस के 16 पुलिस अधिकारियों की टीम के द्वारा भारत में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध, निरक्षरता, भेद-भाव, जैसी समाज में फ़ैली विकृतियों को एक जुट होकर साम
21 दिसम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
फिल्म 2.0 ने इन दिनों बॉक्स-ऑफिस पर धमाल मचाया हुआ है। इस फिल्म में एक बहुत ही ख़ास मुद्दे मोबाइल टावर से निकलने वाले रे‌डिएशन से पक्षियों को होने वाले नुकसान को उठाया गया। मोबाईल टावर से निकलने वाले रेडिएशियन पर की शोध हुए है और कई बहस भी हुई हैं और इस बात से बिलकुल इ
03 दिसम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
सभी भारतवासियों को संविधान दिवस (26 नवम्बर) की हार्दिक बधाई । भारत गणराज्य का संविधान 26 नवम्बर 1949 को बनकर तैयार हुआ था। संविधान सभा के निर्मात्री समिति के अध्यक्ष डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी ने भारत के महान संविधान को 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में 26 नवम्बर 1949 को पूरा कर राष्ट्र को समर्पित किया। गणतंत्र
27 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x