गोद में बच्चा लेकर रिक्शा चलाती है यह मां,इसके जज्बे के आगे पुरुषों की हिम्मत भी जवाब दे जाएगी

17 दिसम्बर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (61 बार पढ़ा जा चुका है)

गोद में बच्चा लेकर रिक्शा चलाती है यह मां,इसके जज्बे के आगे पुरुषों की हिम्मत भी जवाब दे जाएगी - शब्द (shabd.in)

मां. एक ऐसा शब्द है जो दिल को बेहद सुकून देता है। घर संभालने के लिए मां दिन-रात एक कर देती है। 24 घंटे ड्यूटी होती है इनकी। सुबह उठकर खाना बनाना, काम पर जाना, घर की छोटी सी छोटी बातों का ख्याल रखना..ऐसा सिर्फ मां ही कर सकती है। मां के जज्बे के आगे तो पुरुषों की हिम्मत भी जवाब दे जाती है। आज हम आपको एक ऐसी मां की तस्वीर दिखा रहे हैं जिसने पुरुषों को भी सलाम ठोंकने पर मजबूर कर दिया है। ये तस्वीर है एक ऐसी मां की जो दो वक्त की रोटी परिवार को खिला सके इसके लिए वह अपने बच्चे को गोद में लेकर दिन-रात रिक्शा चलाती है।


इंसान पेट भरने के लिए क्या नहीं करता है। कोई पत्थर तोड़ता है, कोई खेती करता है। हर कोई खून-पसीना बहाकर दो वक्त की रोटी कमाता है। लगभग हर कोई अपना पेट भरने के लिए ही करता है। ऐसा ही कुछ अनोखा त्रिपुरा के अगरतला की सड़कों में रोजाना देखने को मिला। यहां सोमा चक्रवर्ती के जज्बे के आगे तो पुरुषों की हिमम्त भी जवाब दे जाएगी। जी हां- यह महिला अपनी गोद में अपने बच्चे को टांग करके रिक्शा चलाती है।


इलाके में सोमा को हर कोई जानता है। अगर आप यहां किसी से सोमा के बारे में पूछेंगे तो लोग सिर्फ यही कहेंगे – वो बहुत पुरुषार्थ वाली महिला है। वह अपने बच्चे को गोद में लेकर पूरे शहर में रिक्शा चलाने का काम करती है। यह काम बिल्कुल भी आसान नहीं है, लेकिन सोमा ने इसे इतनी आसानी से किया कि अब यह काम बेहद आसान लगता है। सोमा काम के दौरान अपने बच्चे का भी पूरा ध्यान रखती है। इसके लिए वह दूध और पानी की बोतल के साथ खाने का भी सामान साथ रखती है।


सोमा के 5 बच्चे हैं। जब सोमा काम पर जाती है तो उसके साथ उसका सबसे छोटा बेटा होता है। सोमा के बाकी2 बड़े बच्चों दूसरों के घर पर होते हैं और उनके घरों में रोजाना का काम करते हैं। बाकी 2 बच्चों को सोमा अनाथालय में चोड़ आई है। सोमा का कहना है कि अगर आपके अंदर आपके बच्चों को पालने की हैसियत नहीं है तो आपको उन्हें अनाथालय में छोड़ देना चाहिए। वहां उनकी अच्छी परवरिश होगी।

गोद में बच्चा लेकर रिक्शा चलाती है यह मां,इसके जज्बे के आगे पुरुषों की हिम्मत भी जवाब दे जाएगी

गोद में बच्चा लेकर रिक्शा चलाती है यह मां,इसके जज्बे के आगे पुरुषों की हिम्मत भी जवाब दे जाएगी - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: कभी सोचा है आखिर क्योंं सजाया जाता है क्रिसमस ट्री?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 दिसम्बर 2018
फ्रांसीसी माइकल दि नास्त्रेदमस ने आने वाले कई सालों के लिए भविष्यवाणियां कर दी थीं. पूरी दुनिया में लोग नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों पर यकीन करते हैं. इसकी वजह ये है कि उनकी भविष्यवाणियां पहले भी सच साबित हो चुकी हैं.नास्त्रेदमस ने 2019 के लिए जो भविष्यवाणियां की हैं, उसमें मानवता के लिए अच्छी खबर न
20 दिसम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
मुकेश अंबानी और नीता अंबानी की सुपुत्री ईशा अंबानी परिणय सूत्र में बंध गई हैं. आनंद पिरामल के साथ उनकी शादी उनके घर एंटीलिया में संपन्न हुई. बाराती, वर वधू को ढेर सारा आशीर्वाद देने पहुंचे. क्या बॉलीवुड जगत, क्या राजनीति गलियारा या फिर बिजनेस टायकून या स्पोर्ट्स के चहेते चेहरे हर कोई अंबानी की दुल्ह
13 दिसम्बर 2018
14 दिसम्बर 2018
भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने मैनेजमेंट ट्रेनी पोस्ट की वैकेंसी भरने के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है। कंपनी इस पोस्ट पर 300 ट्रेनी मैनेजमेंट (टेलिकॉम ऑपरेटर्स) को अपॉइन्ट करेगी। जो लोग इन पोस्ट पर आवेदन करने चाहते हैं उन्हें 26 जनवरी, 2019 तक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना हो
14 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
क्रिसमस के मौके पर हर घर में छोटे से लेकर बड़े क्रिसमस ट्री को बेहद आकर्षक ढंग से सजाया जाता है। गिफ़्ट, लाइट और मोमबत्तियों से सजा क्रिसमस ट्री बेहद सुंदर दिखता है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा क्रिसमस ट्री को सजाने की शुरुआत कैसे हुई और इसे क्यों सजाया जाता है? zoom ऐसा माना
24 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x