शर्म करो || एक भारतीय || दुसरो के नजर में उत्तर भारतीय |

18 दिसम्बर 2018   |  राहुल ओझा   (71 बार पढ़ा जा चुका है)

कभी महाराष्ट्र से आंध्र से कभी आसाम से और अब मध्य प्रदेश से हमें गरियाया गया...


बधाई हो बढ़िया हैं बहुत बढ़िया हैं |

अच्छा लगा बिल्कुल इसी के पात्र हैं हम.. हमको तो शर्म आ गया की मुझे गरिया गया बाहरी कहा गया सही हैं, पर इन यूपी बिहार क नेत वन के कब शर्म आएगा.

अगर आपको उम्मीद हैं की इनको शर्म आएगा तो नहीं आएगा क्यूंकि कौनो मोदिया क भक्त हैं, कउनो राहुलवा क पिद्दी हैं तो कउनो मुलयम और ललुवा के यादव हैं. इनको नहीं आएगा शर्म.. अरे जौना प्रदेश से ८ गो प्रधानमंत्री हुए उसको आजादी क ७० साल बाद भी दूसरे जगह जा क काम करना पड़ता हैं , ता इन ८वो प्रधानमंत्री क रहना और न रहना गोबर था | अरे यूपी बिहार आ झरखंड को मिलके ८० + ४० + १२ यानि १३२ सीट हैं जो क बहुमत का आधा हैं | अरे मैं कहता ओ पीडिओ, भक्तो, जाती और धर्म में बटे हुए इस देश क नाजायज अव्लादो शर्म करो अगर तुम १३२ एक साथ संसद में बोलोगे तो कौन सा मई का लाल इन्वेस्टमेंट रोक देंगे. तुम सब क सब थेथर हो हम तुमको वोट करते हैं अपनी रक्चा और सम्मान क लिए पर तुम हमें गालिया सुनवाते हो. तुम हमें बहार जाने पर मजबूर करते हो अरे अपना रोटी सेकना बंद करो. और कभी तो शर्म करो और कभी तो शर्म करो. जय हिन्द |

अगला लेख: राहुल गाँधी के फैसले से नाराज़ सचिन पायलट, अब ये होंगे राजस्थान के नए CM



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x