सनातन की दिव्यता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

18 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (86 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन की दिव्यता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा की बनाई हुई यह महान सृष्टि इतनी रहस्यात्मक किससे जानने और समझने मनुष्य का पूरा जीवन व्यतीत हो जाता है , परंतु वह सृष्टि के समस्त रहस्य को जान नहीं पाता है | ठीक उसी प्रकार इस धरा धाम पर मनुष्य का जीवन भी रहस्यों से भरा हुआ है | मानव के रहस्य को आज तक मानव भी नहीं समझ पाया है | इन रहस्यों को समझाने का कार्य हमारे सनातन धर्म ने किया | जहां हमारे वेद सृष्टि के रहस्य को समझाने का प्रयास करते हैं वही हमारे अन्य धर्मग्रंथ मानव जीवन के रहस्यों को सुलझाने में सहायक सिद्ध हुये हैं | हमारे ऋषियों द्वारा अनेक ग्रंथ ऐसे लिखे गए जिसमें मनुष्य को जीवन के रहस्यों को समझाते हुए जीवन जीने की कला सिखाई गई है | सनातन धर्म तो इतना व्यापक है कि जहां संसार में मनुष्य की मृत्यु के बाद सब कुछ खत्म मान लिया जाता है वहीं सनातन धर्म मनुष्य की मृत्यु के बाद व्यतीत होने वाले रहस्यों को भी समझाया गया है | हमारे धर्म में मनुष्य जीवन के बाद जीव की क्या स्थिति होती है यदि यह समझना हो तो मनुष्य को गरुण पुराण का पाठ कर लेना चाहिए | इसके अतिरिक्त यदि आध्यात्मिक ज्ञान चाहिए तो मनुष्य को भगवान श्याम सुंदर कन्हैया के मुखारविंद से उद्धृत हुई श्रीमद्भगवतगीता का पाठ कर लेना चाहिए | कहने का तात्पर्य यह है कि सनातन धर्म ने जीवन के रहस्यों के साथ ही मृत्यु के बाद जीव के रहस्यों का भी प्रतिपादन किया है |* *आज दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि हम अपने धर्म ग्रंथों का अध्ययन करके अन्य ग्रंथों की ओर देख रहे हैं , जहां हमको कुछ तो प्राप्त हो सकता है परंतु सब कुछ कदापि नहीं | हमारे धर्म ग्रंथों पर आज विदेशों में अनुसंधान चल रहा है नए-नए ज्ञान विदेशी वैज्ञानिक एवं चिंतक प्राप्त कर रहे हैं परंतु जहां से इन धर्म ग्रंथों का प्रचलन बढ़ा है , जहां से इनकी उत्पत्ति हुई है वह देश भारत आज इन धर्म ग्रंथों से विमुख सा होता दिखाई पड़ रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह कह सकता हूं कि आज "गीताजयंती" तो संपूर्ण भारत में धूमधाम से मनाई जा रही है परंतु गीता क्या है ?? यह अधिकांश लोग शायद ना जानते होंगे ! क्योंकि उन्होंने कभी जानने का प्रयास ही नहीं किया | आज के ही दिन कुरुक्षेत्र के महा समर में योगेश्वर श्रीकृष्ण ने मोहान्ध परमवीर अर्जुन को दिव्य गीता का ज्ञान दिया था | ऐसा ज्ञान जो कि मानव को मानव बनाने में अद्भुत कहा जा सकता है | आज हम गीता के ज्ञान का उपदेश तो करते हैं परंतु उसे अपने जीवन में उतारने का प्रयास करते हुए नहीं दिख रहे हैं | आज अन्य देश की सरकारें अपने विद्यालयों में गीता का पाठ अनिवार्य कर रही हैं लेकिन हमारे देश भारत में गीता विद्यालयों में पढ़ाई जाने पर सांप्रदायिकता का रंग दे दिया जाता है | यह हमारे संपूर्ण देश का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा | गीता का एक-एक शब्द भगवान श्री कृष्ण का वचन है इसे जीवन में उतारने पर यह जीवन के साथ - साथ जीवन के बाद भी अर्थात मृत्यु के बाद भी जीव को सुखद फल देने वाला है |* *पाश्चात्य संस्कृति की चकाचौंध में जिस प्रकार हम अपने धर्म ग्रंथों एवं अपनी मान्यताओं से विमुख हो रहे हैं यह भविष्य के लिए सुखद नहीं कहा जा सकता | आईये अपनी संस्कृति की ओर लौट चलें |*

अगला लेख: अहिंसा परमो धर्म: :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 दिसम्बर 2018
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्
05 दिसम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य अपने परिवार के संस्कारों के अनुसार अपना जीवन यापन करने का विचार करता है | प्रत्येक माता पिता की यही इच्छा होती है कि हमारी संतान किसी योग्य बन करके समाज में स्थापित हो | जिस प्रकार परिवार के संस्कार होते हैं , शिक्षा होती है उसी प्रकार नवजात शिशु का सं
08 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि का सृजन करने वाले अखिलनियंता , अखिल ब्रम्हांड नायक , पारब्रह्म परमेश्वर , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसे कृपालु / दयालु परमात्मा को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | वेदों में कहा गया है :- "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" | वही ब्रह्म जहां जैसी आवश्यकता पड़त
05 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*आदिकाल में जब सृष्टि का प्रादुर्भाव हुआ तो इस संपूर्ण धरा धाम पर सनातन धर्म एवं सनातन धर्म के मानने वाले लोगों के अतिरिक्त न तो कोई धर्म था और न ही कोई पंथ | सनातन धर्म ने ही संपूर्ण सृष्टि को आगे बढ़ने का मार्ग दिखाया | संसार के समस्त ज्ञान इसी दिव्य सनातन धर्म से प्रसारित हुये | सृष्टि के साथ ही
21 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर भक्त और भगवान का पावन नाता आदिकाल से बनता चला आया है | अपने आराध्य को रिझाने के लिए भक्त जहां भजन कीर्तन एवं जब तथा आराधना करते रहे हैं वहीं ऐसे भी भक्तों की संख्या कम नहीं रही है जो भगवान की भक्ति में मगन होकर के नृत्य भी करते रहे हैं | भगवान को रिझाने की अनेक साधनों में एक साधन भगवा
05 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*अखिलनियंता , अखिल ब्रह्मांड नायक परमपिता परमेश्वर द्वारा रचित सृष्टि का विस्तार अनंत है | इस अनंत विस्तार के संतुलन को बनाए रखने के लिए परमात्मा ने मनुष्य को यह दायित्व सौंपा है | परमात्मा ने मनुष्य को जितना दे दिया है उतना अन्य प्राणी को नहीं दिया है | चाहे वह मानवीय शरीर की अतुलनीय शारीरिक संरचन
11 दिसम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*श्रृष्टि का विस्तार करने के लिए ब्रह्मा जी ने कई बार सृष्टि की परंतु सृष्टि गतिमान ना हो सकी , तब भगवान शिव के संकेत से उन्होंने मनु - शतरूपा का जोड़ा उत्पन्न करके मैथुनी सृष्टि को महत्व दिया , और मनुष्य इस संसार में आया | श्रृष्टि को विस्तारित करने के लिए प्रत्येक मनुष्य को पुत्र की आवश्यकता पड़ी
08 दिसम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*परमात्मा द्वारा बनाई हुई सृष्टि आदिकाल से गतिशील रही है | गति में निरंतरता बनाए रखने के लिए इस संसार की प्रत्येक वस्तु कहीं न कहीं से नवीन शक्तियां प्राप्त करती रहती है | इस संसार में चाहे सजीव वस्तु हो या निर्जीव सबको अपनी गतिशीलता बनाए रखने के लिए आहार की आवश्यकता होती है | किसी भी जीव को अपनी गत
08 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
क्रिसमस के मौके पर हर घर में छोटे से लेकर बड़े क्रिसमस ट्री को बेहद आकर्षक ढंग से सजाया जाता है। गिफ़्ट, लाइट और मोमबत्तियों से सजा क्रिसमस ट्री बेहद सुंदर दिखता है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा क्रिसमस ट्री को सजाने की शुरुआत कैसे हुई और इसे क्यों सजाया जाता है? zoomऐसा माना जाता है मशहूर संत बोनिफेस जब
24 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मानव का सृजन करते हुए सबसे पहले ब्रह्मा जी ने अपने अंश से जब मनुष्य बनाया तो वह ब्राह्मण कहलाया | अपने सत्कर्मों के कारण ब्राह्मण सदैव से पूज्यनीय रहा है | वेदमंत्रों के ज्ञान से तपश्चर्या करके आत्मिक एवं आध्यात्मिक बल प्राप्त कर ब्राह्मण आकाशमार्ग में तो विचरण करता ही था बल्
05 दिसम्बर 2018
05 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर भक्त और भगवान का पावन नाता आदिकाल से बनता चला आया है | अपने आराध्य को रिझाने के लिए भक्त जहां भजन कीर्तन एवं जब तथा आराधना करते रहे हैं वहीं ऐसे भी भक्तों की संख्या कम नहीं रही है जो भगवान की भक्ति में मगन होकर के नृत्य भी करते रहे हैं | भगवान को रिझाने की अनेक साधनों में एक साधन भगवा
05 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*ईश्वर ने मनुष्य को इस संसार में सारी सुख सुविधाएं प्रदान कर रखी है | कोई भी ऐसी सुविधा नहीं बची है जो ईश्वर ने मनुष्य को न दी हो | सब कुछ इस धरा धाम पर विद्यमान है आवश्यकता है कर्म करने की | इतना सब कुछ देने के बाद भी मनुष्य आज तक संतुष्ट नहीं हो पाया | मानव जीवन में सदैव कुछ ना कुछ अपूर्ण ही रहा ह
11 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*योनियों भ्रमण करने के बाद जीव को इन योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि प्राप्त होती है | मनुष्य जन्म लेने के बाद जीव की पहचान उसके नाम से होती है | मानव जीवन में नाम का बड़ा प्रभाव होता है | आदिकाल में पौराणिक आदर्शों के नाम पर अपने बच्चों का नाम रखने की प्रथा रही है | हमारे पूर्वजों का ऐसा मानना थ
11 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x