2018 क्रिसमस डे निबंध -Christmas day essay in hindi

19 दिसम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (79 बार पढ़ा जा चुका है)

2018 क्रिसमस डे निबंध -Christmas day essay in hindi

क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा त्यौहार है । जैसे हिन्दू समुदाय के लिए दीपावली, मुस्लिम समुदाय के लिए ईद और सिख समुदाय के लिए लोहड़ी का त्यौहार होता है ठीक उसी तरह क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण त्यौहार होता है। क्रिसमस हर साल 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है। लगभग 2000 वर्ष पूर्व 25 दिसंबर के दिन संत ईसा मसीह का जन्म हुआ था। ईसा मसीह को ईश्वर का सबसे प्रिय पुत्र माना जाता है। इसलिए ये दिन ईसाई समुदाय के लोगों के लिए बहुत बड़ा और महत्वपूर्ण होता है। आम भाषा में इस दिन को बड़ा दिन भी कहा जाता है। ईसा मसीह ने मानव समुदाय को प्रेम और भाईचारे का सन्देश दिया था। ईसा मसीह को ईसाई समुदाय का जन्मदाता माना जाता है।


Christmas day jesus christ


क्रिसमस का ये त्यौहार पूरी दुनिया में बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है। साथ ही विश्व के जिन देशों में ईसाई धर्मानुयायी रहते हैं, वे क्रिसमस के इस त्यौहार को बहुत उत्साह से मनाते हैं । धर्मानुयायी इस दिन चर्च में जाते हैं और विशेष प्रार्थना करते हैं। इस दिन ईसाई समुदाय के लोग अपने प्यारे यीशु को याद करते हैं और उनके जन्मदिन को मनाते हैं। इस दिन का भी किस्सा याद कर के ख़ुशी से ईसाई समुदाय इस त्यौहार को मनाते हैं। हुआ यूँ था कि ईसा द्वारा दिए जा रहे प्रेम और भाईचारे का सन्देश के कारण उनको सूली पर लटका दिया गया था जिसके बाद उनके सभी अनुयायी शोक में डूब गए थे लेकिन उस वक्त जो हुआ वो किसी चमत्कार से काम नहीं था। सूली पर लटके यीशु फिर से जी उठे थे। इस चमत्कार के पीछे जन-कल्याण की भावना थी। और तभी से यीशु को ईश्वर का तोहफा और उनका सबसे प्रिय पुत्र माना जाने लगा।तभी से इस दिन को क्रिसमस के त्यौहार के रुप में ईसाई समुदाय के द्वारा बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है।


Christmas tree


बता दें कि ईसा मसीह को यीशु, जीसस क्राइस्ट आदि अनेक नामों से भी जाना जाता है । यीशु के चमत्कार एवं उपदेशों की कथाएँ बाइबिल में वर्णित हैं । यीशु ईश्वर का अवतार नहीं थे बल्कि एक महापुरुष थे जिन्होंने लोगों को आपस में प्रेम सहित, मिल-जुलकर रहने की शिक्षा दी। ईसा का कहना कहा था कि सभी मनुष्य एक ही ईश्वर की संतान हैं, अत : किसी को पीड़ा न दो। आज सारा संसार उन्हें आदर की दृष्टि से देखता है ।


क्रिसमस को खुशियों का त्यौहार कहा जाता है। ईसाई समुदाय के लोग इस त्यौहार की तैयारी कई दिन पहले से शुरू कर देते हैं। क्रिसमस पर घर की साफ-सफाई होती है तथा घर सुसज्जित किए जाते हैं । घर में नए फर्नीचर खरीदे जाते हैं । क्रिसमस के दिन पहनने के लिए नए वस्त्र तैयार किए जाते हैं । दुकानों में केक और मिठाइयों के आर्डर दिए जाते हैं । घर में अतिथियों के आवागमन का सिलसिला आरंभ हो जाता है । बाज़ारों में भी इसकी खूब रौनक देखने को मिलती है।भले ही दिसंबर में कड़ाके की ठंड पड़ती है परंतु लोगों का उत्साह देखते ही बनता है ।


Santa claus christmas day special


साथ ही क्रिसमस पर बच्चों में भी एक अलग ही उत्साह होता है बच्चे अपने प्यारे सांताक्लाँज को बहुत याद करते हैं । लंबे बाल, सफेद दाढ़ी और लाल रंग की वस्त्र, हाथ में गिफ्ट से भरा झोला लिए बूढ़े बाबा का बच्चों को बहुत बेसब्री से इंतज़ार रहता है। बच्चों के इस उत्साह को बढ़ाने के लिए जगह जगह पर कई सांताक्लॉज क्रिसमस पर जरूर आते हैं और बच्चों को टार्फियाँ, गुब्बारे, मिठाइयाँ, कपड़े, जूते आदि कई उपहार देते हैं । कई लोग इस दिन सांताक्लॉज बन जाते हैं और बच्चों में कुछ-न-कुछ बाँटते हैं ।


इस तरह क्रिसमस का त्योहार लोगों को सबके साथ मिल-जुलकर रहने का संदेश देता है । ईसा मसीह कहते थे-दीन-दुखियों की सेवा संसार का सबसे बड़ा धर्म है । इसलिए जितना हो सके, दूसरों की मदद करो । देखा जाए तो यही संसार के अन्य सभी धर्मों का सार है । क्रिसमस के अवसर पर लोगों को ईसा मसीह के उपदेशों पर चलने का संकल्प लेना चाहिए । क्रिसमस के त्यौहार के बाद से ही नई साल यानी न्यू ईयर की भी तैयारियां शुरु कर देते हैं।दिसंबर का ये महीना क्रिसमस के त्यौहार और नई साल आने की खुशियां लेकर आता है।





अगला लेख: फेरों के बाद सिंदूरदान की रस्म के लिए दुल्हन ने किया इंकार ,वजह जान रह जायेंगे दंग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 दिसम्बर 2018
ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों की मनमानी के किस्से तो आपने सुने ही होंगे. ग्राहकों को लुभाने के लिए ये कंपनियां न जाने क्या-क्या हथकंडे अपनाती हैं. इनकी मनमानी इस कदर बढ़ गई है कि ये कुछ भी बेचने को तैयार हैं, चाहे उससे किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस ही क्यों न पहुंचे.Source: rack
20 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
न्यायपालिका प्रजातंत्र के चार स्तम्भों में से एक है। न्यायपालिका ही वो जगह है जहाँ हर किसी को इंसाफ मिलता है और अपने हक़ मिलते है। आज उसी न्यायपालिका में अपने हक़ की लड़ाई हमेशा लड़ती आ रहीं ट्रांसजेंडर स्वाति बरूआ न्याय की कुर्सी पर बैठ के न्याय करेंगी।बता दें कि 26 वर्षीय स्वाति अब असम की पहली और देश
12 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हालत जहां खस्ता है, वहीं कांग्रेस की चांदी हो गई है। हिंदी बेल्ट के तीन राज्यों छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने बीजेपी का कमल नहीं खिलने दिया है। वहीं तेलंगाना में सत्तारूढ़ TRS ने धमाकेदार वापसी की है, तो मिजोरम में मिजो नेशनल फ
12 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
Guest Post क्या है ?Guest Post करना क्यों ज़रूरी हैं ?Guest Post करने के फ़ायदे Guest Post करते समय किन-किन बातों का ध्यान दें ?शब्दनगरी पर Guest Post करें यदि आप एक हिंदी ब्लॉगर (Hindi Bloggar) हैं तो आपका यह जानना ज़रूरी है कि Guest Post क्या है ? ये करना क्यों ज़रूरी ह
26 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
आजकल शादियों का सीजन चल रहा है। और किसी भी शादी में छोटी-मोटी भूल-चूक, नाराज़गी होना तो आम बात है। लेकिन जब इन छोटे छोटे बातों का लोग मुद्दा बना देते हैं तो शादी के रंग में भंग पड़ते देर नहीं लगती। जिसके चलते कभी कभी नौबत शादी टूटने तक भी आ जाती है। आपने शादी टूटने के कई कि
24 दिसम्बर 2018
25 दिसम्बर 2018
मध्य प्रदेश में सियासत का रंग बदले हुए हम सब ने देखा है पिछले 15 सालों से मध्य प्रदेश के तख़्त पर बैठी भारतीय जनता पार्टी को अपना तख़्त छोड़ना पड़ा और इसी के साथ कांग्रेस का वनवास ख़त्म हो गया। वहीँ सत्ता बदलने के बाद जहां लोगों में आशा की नई उम्मीद जाएगी है तो कांग्रेस पर भी बड़ी ज़िम्मेदारी भी आन पढ़ी है।
25 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
महज़ 500 रूपये से अपने सफर की शुरुआत करने वाले धीरूभाई अंबानी कैसे 75000 करोड़ के मालिक बन गए। ये कोई जादू नहीं बल्कि कड़ी मेहनत और धैर्य का नतीज़ा है। अंबानी परिवार का नाम दुनियाभर में बड़े उद्योगपतियों में शुमार होता है। अपनी मेहनत से उन्होंने दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। देश - विदेश में आज ह
11 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*आदिकाल में जब सृष्टि का प्रादुर्भाव हुआ तो इस संपूर्ण धरा धाम पर सनातन धर्म एवं सनातन धर्म के मानने वाले लोगों के अतिरिक्त न तो कोई धर्म था और न ही कोई पंथ | सनातन धर्म ने ही संपूर्ण सृष्टि को आगे बढ़ने का मार्ग दिखाया | संसार के समस्त ज्ञान इसी दिव्य सनातन धर्म से प्रसारित हुये | सृष्टि के साथ ही
21 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x