केजरीवाल सरकार ने ऐसा कर दिया कि दो घंटे से ज़्यादा बिजली जाएगी, तो कंपनी आपको हर्जाना देगी

20 दिसम्बर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (36 बार पढ़ा जा चुका है)

केजरीवाल सरकार ने ऐसा कर दिया कि दो घंटे से ज़्यादा बिजली जाएगी, तो कंपनी आपको हर्जाना देगी - शब्द (shabd.in)

साल 2011 से पहले यूपी में बिजली कटौती की हालत बहुत ज्यादा खराब थी. गांवों को छोड़ दीजिए यूपी के बड़े शहरों में भी जबरदस्त कटौती होती थी. आठ से 10 घंटे तक बिजली नहीं मिल पाती थी. लोगों को पता भी नहीं चल पाता था कि लाइट क्यों नहीं आ रही है. बिजली कंपनियां मनमानी किया करती थीं. मगर कोई सुनने वाला नहीं था. फिर यूपी इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमीशन (यूपीईआरसी) ने बिजली कंपनियों की नकेल कसनी शुरू की. फॉर्मूला अपनाया हर्जाने का. तय किया कि चार घंटे से ज्यादा बिजली कटौती होने पर कंज्यूमर्स को क्लेम दिलाया जाएगा. इसका असर ये हुआ कि आज यूपी में पावर कट काफी कम हो गया है.

अब दिल्ली भी यूपी की राह पर है. सूबे में दिल्ली इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमीशन (डीईआरसी) ने बिजली काटने पर हर्जाना तय कर दिया है. दिल्ली में बिना बताए बिजली काटे जाने पर बिजली कंपनियों को हर घंटे 50 रुपए का क्लेम लोगों को देना होगा. अघोषित बिजली कटौती 2 घंटे से ज्यादा होने पर 100 रुपए से प्रति घंटे के हिसाब से हर्जाना देना पड़ेगा. पूर्व घोषित होने के बाद भी12 घंटे से ज्यादा की कटौती होती है, तो भी कंपनियों को 50 रुपए घंटे के हिसाब से क्लेम भुगतना पड़ेगा. फिक्स हर्जाना न चुकाने की दशा में अगर उपभोक्ता क्लेम करेगा, तो कंपनियों पर हर्जाने की रकम 5,000 रुपए तक हो सकती है.

दिल्ली में बिजली के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को लगातार घेरता रहा है. सांकेतिक फोटो.
दिल्ली में बिजली के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को लगातार घेरता रहा है. सांकेतिक फोटो.

बिजली कटौती पर हर्जाना पाने के लिए उपभोक्ताओँ को दावा नहीं करना होगा. कंपनी बिजली के बिल में हर्जाने की रकम को एडजस्ट करेगी. कंपनियों को 90 दिनों के अंदर क्लेम के पैसे देने होंगे. मीटर जलने की स्थिति में कंपनी को 3 घंटे में बिजली सप्लाई चालू करने होगी. नहीं तो 50 रुपए घंटे के हिसाब से हर्जाना देना पड़ेगा.

क्या है हालत?

अभी दिल्ली के कई इलाकों में घंटों बिजली नहीं मिल पाती है. लोगों को बिजली न आने की वजह भी पता नहीं चल पाती है. बिजली सप्लाई करने वाली कंपनियां अपने हिसाब से काम करती हैं. कंज्यूमर शिकायत करते रहते हैं, मगर कोई सुनने वाला होता. इसकी वजह से विरोधी दल दिल्ली सरकार को लगातार घेरते रहे हैं. दिल्ली के विभिन्न क्षेत्रों में धरना-प्रदर्शन भी होते रहे हैं. इस वजह से दिल्ली सरकार पर सुधार के लिए ठोस कदम उठाने के लिए बहुत दबाव था. इसी के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने ये सुधार आगे बढ़ाए.

कहां करें शिकायत?

दिल्ली में ये पॉलिसी 18 दिसंबर से लागू की गई है. इस पॉलिसी के तहत उस एरिया में पॉवर कट की पूरी डिटेल बिल में देनी होगी. उपभोक्ता के संतुष्ट न होने की दशा में वो सीजीआरएफ में कर सकता है. बिजली कंपनियों को सिर्फ एक घंटे के भीतर पावर कट की समस्या को निपटाना होगा. उपभोक्ता इसकी शिकायत बिजली कंपनियों की वेबसाइट पर, कॉल सेंटर या एसएमएस करके कर सकते हैं. सभी उपभोक्ताओं के मोबाइल नंबर बिजली कंपनियों के पास रजिस्टर्ड हो चुके हैं. उसके जरिए कंपनियां उपभोक्ता की डिटेल निकाल लेंगी. जिस इलाके में बिजली कटौती होगी वहां के सभी उपभोक्ताओं को हर्जाना मिलेगा. लाइन ब्रेकडाउन, डिस्ट्रीब्यूशन, ट्रांसफार्मर फेल होना, वोल्टेज वैरिएशन और दूसरे फॉल्ट होने की दशा में उपभोक्ता क्लेम पा सकते हैं. कई जगह डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम को अपग्रेड किया जाना है. कटौती के हिसाब से हर्जाने का भुगतान होगा.


https://www.thelallantop.com/bherant/if-power-cut-more-than-2-hours-derc-will-impose-the-fine-on-companies/

केजरीवाल सरकार ने ऐसा कर दिया कि दो घंटे से ज़्यादा बिजली जाएगी, तो कंपनी आपको हर्जाना देगी - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: एक साल तक मोबाइल न इस्तेमाल करने वालों को ये कंपनी देगी 71 लाख रुपये, आप भी कर सकते हैं अप्लाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 दिसम्बर 2018
स्मार्टफोन की लत पूरी दुनिया के लिए समस्या बन गया है. हर कोई इस से छुटकारा पाने में लगा हुआ है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि फोन छोड़ने पर आपको लाखों रुपये भी मिल सकते हैं. जी हां ये सच है विटामिन वाटर नाम की कंपनी एक साल के लिए फोन छोड़ने वालों को 1 लाख डॉलर दे रही है.
16 दिसम्बर 2018
20 दिसम्बर 2018
ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों की मनमानी के किस्से तो आपने सुने ही होंगे. ग्राहकों को लुभाने के लिए ये कंपनियां न जाने क्या-क्या हथकंडे अपनाती हैं. इनकी मनमानी इस कदर बढ़ गई है कि ये कुछ भी बेचने को तैयार हैं, चाहे उससे किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस ही क्यों न पहुंचे.Source: rack
20 दिसम्बर 2018
16 दिसम्बर 2018
जैसा कि आप सभी लोग जान रहे हैं कि आजकल शादियों का माहौल बड़े जोरों शोरों से चल रहा है आम लोग ही नहीं बल्कि यहां तक कि बॉलीवुड इंडस्ट्री में भी शादियां बड़ी धूमधाम से हो रही है आजकल बॉलीवुड की मशहूर हस्तियों की महंगी शादियां काफी सुर्खियों में छाई हुई है वैसे देखा जाए तो ब
16 दिसम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
देश के पांच राज्यों में 7 दिसंबर को विधानसभा चुनाव संपन्न हुए थे और मंगलवार 11 दिसंबर को इन चुनावों के परिणाम सामने आए थे। परिणाम में पता चला कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पांच में से किसी एक राज्य का चुनाव भी जीत न सकी उल्टा कांग्रेस ने भाजपा द्वारा शासित तीन राज्यों में
13 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
क्रिसमस के मौके पर हर घर में छोटे से लेकर बड़े क्रिसमस ट्री को बेहद आकर्षक ढंग से सजाया जाता है। गिफ़्ट, लाइट और मोमबत्तियों से सजा क्रिसमस ट्री बेहद सुंदर दिखता है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा क्रिसमस ट्री को सजाने की शुरुआत कैसे हुई और इसे क्यों सजाया जाता है? zoom ऐसा माना
24 दिसम्बर 2018
13 दिसम्बर 2018
आज का विषय पूरे भारत में चुनाव के रिजल्ट के बाद लागू हुए 3 नए नियम भारत का हर नागरिक जरूर पढ़ें है अगर आप भी एक भारतीय नागरिक या तो आपको यह खबर आखिर तक जरूर पढ़नी चाहिए. क्योंकि चुनाव के रिजल्ट के बाद ऐसे 3 नए नियम देशभर में लागू हो चुके हैं. जिसके बारे में हर भारतीय नागरिक को पता रहना चाहिए क्योंकि
13 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
10 NGO’s in delhi गैर-सरकारी संगठन (NGO) न तो सरकार का हिस्सा हैं और न ही पारंपरिक लाभकारी व्यवसाय हैं। NGO उन लोगों के लिए आगे आते हैं जो अपने दुखों को न ही किसी को बता पाते और न ही इसकी मदद के लिए कोई खड़ा होता है।आजकल भागदौड़ भरी दुनिया में लोगों के दुःख दर्द देखन
07 दिसम्बर 2018
17 दिसम्बर 2018
विधानसभा चुनावों में जीत के बाद अब कांग्रेस बड़ी ही जोर शोर से अपने मुख्यमंत्री पद के दावेदारों को पद की शपथ दिलाने की तैयारी में जुटे हुए हैं। बता दें कि भोपाल में कमलनाथ की ताजपोशी की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। कल सुबह यानी 18 दिसंबर को कमलनाथ जम्बूरी मैदान में मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री के
17 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x