नवज्योति इंडिया फाउंडेशन “एक कदम आत्मनिर्भरता की ओर” - NAVJYOTI INDIA FOUNDATION NGO IN DELHI

21 दिसम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (25 बार पढ़ा जा चुका है)

नवज्योति इंडिया फाउंडेशन “एक कदम आत्मनिर्भरता की ओर” - NAVJYOTI INDIA FOUNDATION NGO IN DELHI - शब्द (shabd.in)

नवज्योति इंडिया फाउंडेशन (Navjyoti India Foundation) एक गैर-लाभकारी संगठन है। जिसकी शुरुआत 1988 में प्रथम महिला आईपीएस (IPS) डॉ. किरण बेदी और दिल्ली पुलिस के 16 पुलिस अधिकारियों की टीम के द्वारा भारत में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध, निरक्षरता, भेद-भाव, जैसी समाज में फ़ैली विकृतियों को एक जुट होकर सामना करने और इनको दूर करने का एक प्रयास है।



नवज्योति इंडिया का मुख्य उद्देश्य समाज में फैली विकृतियों का एक जुट होकर सामना करने के लिए लोगों को जाग्रत है। नवज्योति इंडिया फाउंडेशन सामाजिक-आर्थिक असमानताओं को चुनौती देने और आत्मनिर्भरता के लक्ष्य की ओर समाज के कमजोर वर्गों को सक्षम करने के लिए कार्यरत है।

अपराध, रोकथाम और समावेशी सामाजिक-आर्थिक विकास के एक अंतिम उद्देश्य के साथ निरक्षरता, अज्ञानता, लिंग भेदभाव और नशीली दवाओं की लत की बुराई के लिए बच्चों, युवाओं, महिलाओं और लोगों की शक्ति को संगठित करके इन बुराइयों को समाज से दूर करना ही नवज्योति इंडिया फाउंडेशन का एक मात्र लक्ष्य है।

ये भी पढ़ें : दिल्ली के ये 10 NGO’s जो हर रोज़ बदल रहे हैं लाखों ज़िंदगियाँ



“Navjyoti India Foundation - Towords self-reliance” न केवल एक NGO है बल्कि यह एक प्रयास है खुद को कमज़ोर समझने वालों को आत्मनिर्भर बनान का।

आज हम ऐसे ही एक कमज़ोर वर्ग के बच्चे की कहानी आपसे साझा करने वाले हैं, जिसने नवज्योति इंडिया की सहायता से खुद को आत्मनिर्भर बनाया और अब वह अपने जैसे कई बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने और उन्हें नई ज़िंदगी की दिशा देने की कोशिश कर रहे है।

रिज़वान

14 वर्ष का रिज़वान आज एक आत्मनिर्भर बच्चा है। जो खुद तो पढ़ता ही है पर वो अपने जैसे कई बच्चों को पढ़ाता है और उन्हें पढ़ाई का महत्त्व समझता है। रिज़वान के माता-पिता दोनों ही मज़दूर वर्ग के हैं और दोनों मज़दूरी कर के अपने परिवार का जीवनयापन कर रहे हैं। रिज़वान अपने चार भाइयों और दो बहनों के साथ रहते हैं। रिज़वान भी उन अंधियारी गलियों में ज़िंदगी गुज़ार रहा था जहाँ न तो शिक्षा का प्रकाश था और न ही उसके टैलेंट की कद्र। लेकिन जिस दिन वह नवज्योति इंडिया फाउंडेशन से जुड़ा तो मानों उसकी ज़िंदगी बदल सी गई। आइये जानते हैं रिज़वान से ही नवज्योति इंडिया फाउंडेशन के साथ उसके सफ़र के बारे में -

“नवज्योति इंडिया फाउंडेशन ” के साथ रिज़वान का सफ़र रिज़वान की ज़ुबानी

मेरा नाम रिज़वान है और मेरी उम्र 14 साल है। मैं कक्षा नौ का छात्र हूँ। मेरे पिता का नाम ईशा मोहम्मद और माता का नाम खुसबूदा हैं। मेरे माता पिता दोनों ही मज़दूर हैं और मज़दूरी करके ही हमारे परिवार का पालन-पोषण करते हैं। मैं अपने चार भाइयों और दो बहनों के साथ रहता हूँ। मुझे किताबें पढ़ना और कार्टून देखना बेहद पसंद है। मुझे पढ़ना बेहद पसंद था लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण मुझे अपने टैलेंट दिखने और पढ़ने की सुलभ सुविधाएँ नहीं मिली। फिर मेरी मुलाक़ात नवज्योति इंडिया से हुई। नवज्योति से जुड़ने के बाद मानों मेरी पुरानी ज़िंदगी अब नई सी हो गई थी। उस वक़्त में कक्षा दो में पढ़ता था और तभी से में नवज्योति के साथ जुड़ा हुआ हूँ।


नवज्योति ने मुझे शिक्षा की अहमियत बताई और साथ ही जीवन में आत्मनिर्भरता का महत्त्व भी समझाया। आज मैं जो भी हूँ और मैंने जितना सीखा है सब नवज्योति इंडिया फाउंडेशन की वजह से ही सीखा। मैं नवज्योति रेमेडियल एजुकेशन प्रोजेक्ट में एक सक्रिय और नियमित छात्र हूँ। साथ ही मैं नवज्योति बाल गुरुुकुल से जुड़ा हुआ हूँ और नवज्योति के नेतत्व में ही मैं आज 25 छात्रों को पढ़ा रहा हूँ। नवज्योति की वजह से ही आज मैं आत्मनिर्भर बन पाया हूँ। मैं जो वर्तमान में शिक्षा के क्षेत्र में जी रहा हूँ उसकी मैंने बचपन में कभी कल्पना भी नहीं की थी।


ये भी पढ़ें: ज़िंदगी पिंजरे में बंद पंछी की तरह थी “लाइट दे लिट्रेसी” ने हमें उड़ना सिखाया -Light de Literacy NGO IN DELHI

नवज्योति रेमेडियल एजुकेशन प्रोग्राम मॉडल ने मुझे मेरे अकादमिक में दृढ़ नींव बनाने में बहुत मदद की जिसकी वजह से मेरी प्रतिभा निखर के सामने आयी और मैं हर दिन अपनी प्रतिभा को एक नई दिशा दे रहा हूँ। NGO से जुड़ने के बाद मैंने कई ऐसे सफलताएं हासिल की जिसकी मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी।साथ ही मैंने कई कार्यक्रमों में अपनी भागीदारी भी सुनिश्चित की है और कक्षा उपस्थिति में पहला पुरस्कार भी जीता।एक समय ऐसा था जब मैं किसी के बात करने में भी डरता था पर नवज्योति से जुड़ने के बाद शिक्षा के क्षेत्र से साथ साथ मेरे आत्मविश्वास में भी वृद्धि हुई और आज मैं किसी के भी सामने अपना पक्ष रखने से नहीं कतराता।


नवज्योति इंडिया का मुख्य उद्देश्य समाज में फैली विकृतियों का एक जुट होकर सामना करने के लिए लोगों को जाग्रत है। नवज्योति इंडिया फाउंडेशन सामाजिक-आर्थिक असमानताओं को चुनौती देने और आत्मनिर्भरता के लक्ष्य की ओर समाज के कमजोर वर्गों को सक्षम करने के लिए कार्यरत है।

अपराध, रोकथाम और समावेशी सामाजिक-आर्थिक विकास के एक अंतिम उद्देश्य के साथ निरक्षरता, अज्ञानता, लिंग भेदभाव और नशीली दवाओं की लत की बुराई के लिए बच्चों, युवाओं, महिलाओं और लोगों की शक्ति को संगठित करके इन बुराइयों को समाज से दूर करना ही नवज्योति इंडिया फाउंडेशन का एक मात्र लक्ष्य है।


अगला लेख: Beginner Guide: जानें क्या है ब्लॉगिंग और इससे कैसे करें कमाई - What is Blogging in Hindi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 दिसम्बर 2018
10 NGO’s in delhi गैर-सरकारी संगठन (NGO) न तो सरकार का हिस्सा हैं और न ही पारंपरिक लाभकारी व्यवसाय हैं। NGO उन लोगों के लिए आगे आते हैं जो अपने दुखों को न ही किसी को बता पाते और न ही इसकी मदद के लिए कोई खड़ा होता है।आजकल भागदौड़ भरी दुनिया में लोगों के दुःख दर्द देखन
07 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
Saikripa-Home for Homeless“साईंकृपा ( SaiKripa) - Saikripa-Home for Homeless दिल्ली एनसीआर में स्थित एक NGO (गैर-सरकारी संगठन ) है, जो कि वंचित बच्चों को पढ़ाने और उन्हें जीवन को नई दिशा देने का कार्य करता है।” बच्चे मानव जाति का भविष्य हैं। “Saikripa-Home for Homeles
19 दिसम्बर 2018
12 दिसम्बर 2018
न्यायपालिका प्रजातंत्र के चार स्तम्भों में से एक है। न्यायपालिका ही वो जगह है जहाँ हर किसी को इंसाफ मिलता है और अपने हक़ मिलते है। आज उसी न्यायपालिका में अपने हक़ की लड़ाई हमेशा लड़ती आ रहीं ट्रांसजेंडर स्वाति बरूआ न्याय की कुर्सी पर बैठ के न्याय करेंगी।बता दें कि 26 वर्षीय स्वाति अब असम की पहली और देश
12 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
क्या आप जानते हैं ब्लॉग (Blog) क्या होता है ?ब्लॉगिंग (Blogging) कैसे करते हैं ?ब्लॉगिंग के कितने प्लेटफार्म होते हैं?ब्लॉग से पैसे कैसे कमायें ?हर हिंदी ब्लॉगर (Hindi Blogger) के मन में ये सवाल आते है। पर क्या आप इन सवालों के जवाब जानते हैं, अगर नहीं तो इस आर्टिकल को
24 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
अपने हिंदी ब्लॉग (Hindi blog) और वेबसाइट (website) के ट्रैफिक को कैसे बढ़ायें ? यह 9 टिप्स आपके ब्लॉग के ट्रैफिक को न केवल बढ़ाएगा बल्कि गूगल पेज रैंक पर ऊपर भी लाएगा। आजकल हर हिंदी लेखक हिंदी ब्लॉगिंग (Hindi blogging) का इस्तेमाल कर रहा
21 दिसम्बर 2018
03 जनवरी 2019
खाब फाउंडेशन एक ऐसी गैर सरकारी संस्था है जिसका उद्देश्य मानसिक रोगियों की मदद करना और उनको उस रोग से बाहर निकालना है। खाब फाउंडेशन एक ऐसी गैर सरकारी संस्था है जिसका उद्देश्य मानसिक रोगियों की मदद करना और उनको उस रोग से बाहर निकालना है।मानसिक रोग जिसका नाम सुनते ही लो
03 जनवरी 2019
12 दिसम्बर 2018
पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हालत जहां खस्ता है, वहीं कांग्रेस की चांदी हो गई है। हिंदी बेल्ट के तीन राज्यों छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने बीजेपी का कमल नहीं खिलने दिया है। वहीं तेलंगाना में सत्तारूढ़ TRS ने धमाकेदार वापसी की है, तो मिजोरम में मिजो नेशनल फ
12 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
आजकल शादियों का सीजन चल रहा है। और किसी भी शादी में छोटी-मोटी भूल-चूक, नाराज़गी होना तो आम बात है। लेकिन जब इन छोटे छोटे बातों का लोग मुद्दा बना देते हैं तो शादी के रंग में भंग पड़ते देर नहीं लगती। जिसके चलते कभी कभी नौबत शादी टूटने तक भी आ जाती है। आपने शादी टूटने के कई कि
24 दिसम्बर 2018
07 दिसम्बर 2018
10 NGO’s in delhi गैर-सरकारी संगठन (NGO) न तो सरकार का हिस्सा हैं और न ही पारंपरिक लाभकारी व्यवसाय हैं। NGO उन लोगों के लिए आगे आते हैं जो अपने दुखों को न ही किसी को बता पाते और न ही इसकी मदद के लिए कोई खड़ा होता है।आजकल भागदौड़ भरी दुनिया में लोगों के दुःख दर्द देखन
07 दिसम्बर 2018
19 दिसम्बर 2018
क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा त्यौहार है । जैसे हिन्दू समुदाय के लिए दीपावली, मुस्लिम समुदाय के लिए ईद और सिख समुदाय के लिए लोहड़ी का त्यौहार होता है ठीक उसी तरह क्रिसमस ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण त्यौहार होता है। क्रिसमस हर साल 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता
19 दिसम्बर 2018
25 दिसम्बर 2018
SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।यदि आप भी एक अच्छे SEO लेख लेखक बनना चाहते हैं और अपने आर्
25 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
इंसान नहीं इंसान का काम बोलता है ये लाइन अपने कई बार सुनी होगी। आज ऐसे ही एक महिला IAS की कहानी हम आपको बताने जा रहे हैं जिसने इस वाक्य को सही ठहरा दिया।देहरादून में पली-बढ़ी IAS अफसर आरती डोगरा अपने काम के ज़रिये सुर्खियों में बनी रहती हैं। ये ही नहीं इन्होंने ऐसे ऐसे काम किये हैं की खुद प्रधानमंत्री
26 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x