बातें कुछ अनकही सी...........: एक कविता मेरे नाम

23 दिसम्बर 2018   |  युगेश कुमार   (27 बार पढ़ा जा चुका है)

बातें कुछ अनकही सी...........: एक कविता मेरे नाम - शब्द (shabd.in)

बात तब की है

जब मैं धरती पर अवतरित हुआ

चौकिए मत

हमारा नाम ही ऐसा रखा गया

युगेश अर्थात युग का ईश्वर

अब family ने रख दी

हमने seriously ले ली

खुद को बाल कृष्ण समझ बैठे

खूब मस्ती की

पर गोवर्धन उठा नहीं पाए

पर पिताजी ने बेंत बराबर उठा ली

और कृष्ण को कंस समझ

गज़ब धोया

मतलब सीधा-साधा धोखा

नाम युगेश रख दिया

इज्जत जरा भी नहीं की

फिर हमने कहीं पढ़ा

नाम में क्या रखा है

इस बात ने और पिताजी की डाँट ने

हमारा concept ठीक कर दिया

तब से हम धरती पर

साधारण मनुष्य की तरह

विचरण कर रहे हैं।

©युगेश


बातें कुछ अनकही सी...........: एक कविता मेरे नाम

https://yugeshkumar05.blogspot.com/2018/12/blog-post.html

बातें कुछ अनकही सी...........: एक कविता मेरे नाम - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: बातें कुछ अनकही सी...........: शनाख़्त मोहब्बत की



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x