न दैन्यं न पलायनम्

25 दिसम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (27 बार पढ़ा जा चुका है)

न दैन्यं न पलायनम् - शब्द (shabd.in)

ओजस्वी और संवेदनशील कवि, महान राजनीतिज्ञ श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्मदिवस पर उभिन की दो रचनाओं के साथ समर्पित हैं श्रद्धा सुमन – इस महान युग पुरुष को…

न दैन्यं न पलायनम्

कर्तव्य के पुनीत पथ को हमने स्वेद से सींचा है,
कभी-कभी अपने अश्रु और
प्राणों का अर्ध्य भी दिया है |
किंतु, अपनी ध्येय-यात्रा में
हम कभी रुके नहीं हैं
किसी चुनौती के सम्मुख
हम कभी झुके नहीं हैं |
आज, जब कि राष्ट्र-जीवन की
समस्त निधियाँ, दाँव पर लगी हैं,
और,
एक घनीभूत अंधेरा
हमारे जीवन के सारे आलोक को
निगल लेना चाहता है;
हमें ध्येय के लिए
जीने, जूझने और
आवश्यकता पड़ने पर
मरने के संकल्प को दोहराना है
|
आग्नेय परीक्षा की इस घड़ी में
आइए, अर्जुन की तरह उद्घोष करें :
‘‘न दैन्यं न पलायनम्।’’

भारत ज़मीन का टुकड़ा नहीं

भारत जमीन का टुकड़ा नहीं,
जीता जागता राष्ट्रपुरुष है
|
हिमालय मस्तक है, कश्मीर किरीट है,
पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं
|
पूर्वी और पश्चिमी घाट दो विशाल जंघायें हैं
|
कन्याकुमारी इसके चरण हैं, सागर इसके पग पखारता है
|
यह चन्दन की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है,
यह तर्पण की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है
|
इसका कंकर-कंकर शंकर है,
इसका बिन्दु-बिन्दु गंगाजल है
|
हम जियेंगे तो इसके लिये
मरेंगे तो इसके लिये
|

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 दिसम्बर 2018
17 से 23 दिसम्बर तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधा
15 दिसम्बर 2018
08 जनवरी 2019
"
मापनी-1222 1222 1222 1222, समान्त- आर का स्वर, पदांत- हो जाना"गीतिका"अभी है आँधियों की ऋतु रुको बाहार हो जानाघुमाओ मत हवाओं को अजी किरदार हो जानावहाँ देखों गिरे हैं ढ़ेर पर ले पर कई पंछीउठाओ तो तनिक उनको सनम खुद्दार हो जाना।।कवायत से बने है जो महल अब जा उन्हें देखोभिगाकर कौन रह पाया नजर इकरार हो जाना
08 जनवरी 2019
02 जनवरी 2019
प्रदोष व्रत 2019कर्पूगौरंकरुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम् |सदा वसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानी सहितन्नमामि ||कल यानी गुरूवार तीन जनवरी को वर्ष 2019 का प्रथम प्रदोषव्रत होगा | सबसे पहले तो आइये जानते हैं कि प्रदोष व्रत होता क्या है |प्रत्येकमाह के शुक्ल और कृष्ण दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष क
02 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x