धीरूभाई के बिज़नस का तरीका, जिसमें अरब के शेख को हिंदुस्तान की मिट्टी बेच दी

28 दिसम्बर 2018   |  अभय शंकर   (195 बार पढ़ा जा चुका है)

धीरूभाई के बिज़नस का तरीका, जिसमें अरब के शेख को हिंदुस्तान की मिट्टी बेच दी

हमारे देश में लोग कहते हैं कि रिलायंस देश के उद्योगों का वो बुलबुला है जिसमें फूटकर छा जाने की कूवत है. मैं कहता हूं कि मैं वो बुलबुला हूं जो फूट चुका है.

-धीरूभाई अंबानी ने एक प्रेस कांफ्रेंस में मुस्कुराते हुए कहा था

कई लोगों ने इसे धीरूभाई का एरोगेंस कहा था. आलोचकों ने कहा कि ये ज्यादा दिन नहीं चलने वाला. शक्की लोगों ने कहा कि बस ये बर्बाद होने वाला है. पर 2018 में रिलायंस देश का सबसे बड़ा उद्योग घराना है. इस देश के उद्योग के लिए अंबानी का नाम एक होप का नाम है. इस नाम के आते ही तमाम संशय, विवाद, आरोप सामने आ जाते हैं. पर एक तथ्य ये भी है कि सब कुछ होते हुए अपनी क्षमता को साबित करने का अंदाज भी यहां से आता है.

60 के दशक में धीरूभाई ने 15 हजार रुपयों से रिलायंस कामर्शियल कॉर्पोरेशन शुरू किया. ये इनका पहला बड़ा वेंचर था. 1967 में 15 लाख रुपयों से रिलायंस टेक्सटाइल्स शुरू किया. रिलायंस के पास इन्वेस्टर बहुत ज्यादा हैं. सबसे ज्यादा डिविडेंड पे करने वाली कंपनियों में है रिलायंस. देश में हर फर्स्ट चीज रिलायंस के हाथ में आती है. ये आरोप भी बन जाता है. पर ये तथ्य है कि किसी के इन्वेस्ट करने के लिए रिलायंस सबसे अच्छी कंपनियों में से एक है.

जीप खरीदने की तमन्ना थी, कंपनी खड़ी कर ली

dhirubhai 1

धीरूभाई 28 दिसंबर 1932 को गुजरात के जूनागढ़ में पैदा हुए थे. वही शहर जो एक समय हिंदुस्तान से अलग ही रहना चाहता था. हाईस्कूल करने तक यही तमन्ना थी कि जीप या कार हो जाए पास में. इसीलिए शायद इसके आगे पढ़े ही नहीं. लगा होगा कि ज्यादा पढ़ने से यही सोचते रह जाएंगे. बाद में अदन चले गये. एक कंपनी में क्लर्क बनकर. फ्रेंच फर्म थी जो शेल ऑयल के साथ काम करती थी. धीरूभाई को रिटेल मार्केटिंग में डाल दिया गया. एरिट्रिया, जिबौती, सोमालीलैंड, केन्या और यूगांडा तक का काम देखते थे. धीरूभाई इसके बारे में कहते थे-‘मजा आता था.’

धीरूभाई ने खुद कहा है कि वहीं पर उनको एंटरप्रेन्योरशिप का कीड़ा काट गया. बंबई चले आए. भात बाजार में ऑफिस खोल लिया. अदन में कॉन्टैक्ट बनाये ही थे. जिंजर, कार्डेमम, टर्मरिक और मसाले एक्सपोर्ट करने लगे. पर एक मजेदार चीज भी भेजते थे. सऊदी अरब का एक शेख अपने यहां गुलाब गार्डेन बनवाना चाहता था. उसे मिट्टी चाहिए थी. और धीरूभाई किसी को ना नहीं कहते थे.

पान खाते हुए और चाय पीते हुए धीरूभाई ने बंबई के यार्न उद्योग पर कब्जा जमा लिया. इनको पक्का गुजराती बनिया कहा जाता था. अनिल अंबानी याद करते हैं कि परिवार बंबई की एक खोली में रहते थे. एक कमरे में. दोनों भाई उन्हीं गलियों में खेलते थे. 1967 में जब धीरूभाई ने कंपनी खोली तो उनके पास उतने पैसे नहीं थे. तो उन्होंने वीरेन शाह की मदद मांगी थी. वीरेन की मुकंद आयरन एंड स्टील कंपनी थी. पर शाह ने मना कर दिया था. उनको लगा कि ये प्रोजेक्ट नहीं चलेगा.

कहानी बनी कि धीरूभाई जिस चीज को छू दें, सोना हो जाये, पर काला करने के भी आरोप लगे

dhirubhai family

पर धीरूभाई को इस तरह की चीजों से खेलने की आदत थी. पैसा जुटा. कंपनी लगी. 1977 में रिलायंस पब्लिक लिमिटेड कंपनी बनी. शेयर पब्लिक के लिए खुले तो डर इतना था कि इन्वेस्टर ही हाथ नहीं लगा रहे थे इसमें. उनके मित्र डी एन श्राफ अपने जानकारों को समझा रहे थे कि लाख रुपये का शेयर खरीद लो यारों. पर किसी ने नहीं खरीदा.

कुछ लोग ऐसे भी थे जो मानते थे कि धीरूभाई जिस चीज को छू देते हैं, सोना हो जाता है. तो काम चल पड़ा. रेयॉन और नायलॉन इंपोर्ट और एक्सपोर्ट होने लगा. देश में कहीं बनता नहीं था. तो प्रॉफिट बहुत होता था. पर इसी में आरोप लगा था कि धीरूभाई कानून तोड़ते हैं. ब्लैक मार्केटिंग करते हैं. धीरूभाई ने मीटिंग बुलाई और पूछा- “You accuse me of black marketing, but which one of you has not slept with me?” लोगों के पास इसका जवाब नहीं था. क्योंकि सबने धीरूभाई के साथ बिजनेस किया था.

आरोप लगते रहे कि धीरूभाई के पास कुछ तो है जिसकी मदद से वो हर लाइसेंस निकलवा लेते हैं. अपने राइवल्स को ऊपर नहीं उठने देते. पर धीरूभाई का क्लियर था कि कोई भी ऐसा दिखा दो जिसने मुझसे ज्यादा ईमानदारी से काम किया हो. 1982 में रिलायंस पॉलीएस्टर यार्न बनाने वाला था. डाई मिथाइल टेरीथैलेट से. राइवल कंपनी ओर्के सिल्क मिल्स भी पॉलीएस्टर चिप्स से यार्न बनाने वाली थी. पर उसी साल सरकार ने चिप्स पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी थी. ओर्के को समस्या हो गई.

इसका जवाब दिया धीरूभाई ने, सच तो यही है कि यूं ही कोई बड़ा नहीं हो जाता

dhiru family 1

नवंबर 1982 में रिलायंस पॉलीएस्टर यार्न बनाने लगा. अब यार्न इंपोर्ट कराने पर टैक्स बढ़ गया. तो अंबानी को फायदा मिल गया. बेचने में. वैसे केस बहुत ज्यादा हुए हैं. अंबानी ने इसकी सफाई भी दी. पर ये बहुत कुछ क्लियर नहीं कर पाए. उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी और आर के धवन से नजदीकी होने का मुझे फायदा तो नहीं मिलेगा. एक लोअर लेवल का अफसर भी कोई प्रोजेक्ट रोक सकता है. कोई कुछ नहीं कर पाएगा. पर इसके साथ ही एक चीज और हुई थी. 1980 में लोकसभा चुनाव के बाद धीरूभाई ने पार्टी की थी. इसमें इंदिरा गांधी भी आई थीं. एक और खबर लीक हुई थी. कि एक जॉइंट सेक्रेटरी को धवन का फोन आया कि अंबानी का लाइसेंस रुका क्यों हुआ है. कुछ देर बाद दुबारा फोन आया.

अंबानी कहते थे- आपको अपना आइडिया सरकार को बेचना पड़ता है. फिर दिखाना पड़ता है कि कंपनी का प्लान देश हित में है. सरकार जब कहती है कि पैसा नहीं है तो हम कहते हैं कि ठीक है हम फाइनेंस कर देते हैं. अंबानी के एक दोस्त ने एक बार कहा था- कोई भी गरीब आदमी अगर पैसा जल्दी बनाये तो जो सीढ़ी यूज करता है वो क्लीन तो नहीं ही होती है. पर अगर कोई ये सोचता है कि धीरूभाई ने सिर्फ यही कर के पैसा बनाया है तो गलत सोचता है. सच तो ये है कि धीरूभाई ने जो तरीके इस्तेमाल किये वो बाकी बिजनेसमैन नहीं कर पाये. पीछे रह गये.

धीरूभाई अंबानी की सैकड़ों कहानियां हैं. ये देखने वाले पर निर्भर करता है कि वो क्या चुनता है. हर कहानी की तरह इसमें सच-झूठ, सही-गलत, देर-सबेर सब कुछ है.

(ये स्टोरी इंडिया टुडे के एक पुराने अंक से ली गई है)


धीरूभाई के बिज़नस का तरीका, जिसमें अरब के शेख को हिंदुस्तान की मिट्टी बेच दी

अगला लेख: मकर संक्रांति के दिन ये एक गलती भूलकर भी न करें, वरना शुरू हो जायेगा बुरा समय



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 दिसम्बर 2018
बोधगया में है 2650 साल पुराना यह बोधिवृक्ष। बोधिमंदिर सहित इस वृक्ष की सुरक्षा में बिहार मिलिट्री पुलिस की चार बटालियन (करीब 360 जवान) तैनात हैं।इसकी टहनियां इतनी विशाल हैं कि इसे लोहे के 12 पिलर के सहारे खड़ा किया गया है। संभवत: यह देश का अकेला वृक्ष है, जिसके दर्शन के लिए हर साल 5 लाख से ज्यादा श्र
27 दिसम्बर 2018
07 जनवरी 2019
यूपी की दबंग आईएएस (IAS) अधिकारी बी. चंद्रकला हमेशा अपने तीखे तेवर, अधिकारियों को सबके सामने फटकारने और बयानों को लेकर सुर्खियों में बनी रहती हैं. जो भी गलत काम करते हैं चाहे वो ठेकेदार हो या पुलिस कर्मी सभी को जेल भिजवाने की धमकी देकर कई बार मीडिया के सामने हीरो बनी बी. चंद्रकला यूपी के कई जिलों मे
07 जनवरी 2019
29 दिसम्बर 2018
निहित स्वार्थ वाले लोग किसी विश्वास को बनाने या कायम रखने के लिए एक ऐसा आवरण बनाते हैं, जिससे आप महसूस करते हैं कि किसी खास खास वस्तु या सेवा से आपके जीवन में रोचक परिवर्तन आ सकता है। मार्केटर्स हर साल आपको यह समझाने के लिए अरबों डॉलर खर्च करते हैं कि आप उनके इंडस्ट्री का
29 दिसम्बर 2018
28 दिसम्बर 2018
क्रिसमस के दिन बच्चों को सांता क्लॉज से गिफ़्ट की उम्मीद रहती है और इसी उम्मीद के साथ वो क्रिसमस ट्री से अपनी विश पूरी होने की दुआ मांगते हैं, मगर अमेरिका में तो एक शख्स को बिना मांगे ही क्रिसमस के दिन ऐसा शानदार तोहफ़ा मिला, जिसके बारे में उसने सपने में भी नहीं सोचा होगा।ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर
28 दिसम्बर 2018
07 जनवरी 2019
तीन राज्यों से करारी हार के बाद भाजपा के कर्ता-धर्ता और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए हर कदम फूंक-फूंककर रख रहे है. लोकसभा 2019 चुनाव को मद्देनजर रखते हुए मोदी सरकार ने प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए नये साल का तोहफा दिया है. सरकार ने प्राइवेट नौकरी वाले कर्मचारियों
07 जनवरी 2019
24 दिसम्बर 2018
आजकल शादियों का सीजन चल रहा है। और किसी भी शादी में छोटी-मोटी भूल-चूक, नाराज़गी होना तो आम बात है। लेकिन जब इन छोटे छोटे बातों का लोग मुद्दा बना देते हैं तो शादी के रंग में भंग पड़ते देर नहीं लगती। जिसके चलते कभी कभी नौबत शादी टूटने तक भी आ जाती है। आपने शादी टूटने के कई कि
24 दिसम्बर 2018
27 दिसम्बर 2018
बोधगया में है 2650 साल पुराना यह बोधिवृक्ष। बोधिमंदिर सहित इस वृक्ष की सुरक्षा में बिहार मिलिट्री पुलिस की चार बटालियन (करीब 360 जवान) तैनात हैं।इसकी टहनियां इतनी विशाल हैं कि इसे लोहे के 12 पिलर के सहारे खड़ा किया गया है। संभवत: यह देश का अकेला वृक्ष है, जिसके दर्शन के लिए हर साल 5 लाख से ज्यादा श्र
27 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
8 नवंबर 2016 की नोटबंदी के बाद नोटों की दुनिया में क्रांति आ गई. कुछ बंद हो गए, कुछ नए आ गए, बाकियों का नाक-नक्शा बदल गया. पुराने वाले हज़ार-पांच सौ लापता हो गए. दो हज़ार और दो सौ के नए नोट दिखने लगे. जो बचे थे उनके साथ दिवाली खेली गई. आई मीन जैसे दिवाली पर घर को नया रंग-र
26 दिसम्बर 2018
07 जनवरी 2019
भारतीय समाज में सिंगल मदर होकर बच्चों की परवरिश करना आसान नहीं होता है, लेकिन हमारे सामने कई ऐसे उदाहरण हैं, जिससे यह साबित होता है कि इरादे मजबूत होंगे तो कायदे भी बदल जाएंगे। जी हां, अभिनेत्री अमृता ने अपने बच्चों की परवरिश अकेले की है और यही वजह है कि सारा अली खान अपनी कामयाबी का श्रेय अपनी मम्मी
07 जनवरी 2019
21 दिसम्बर 2018
Third party image referenceदोस्तों आप तो अपने हाथों के ऊँगली में यह निशान अक्सर देखते है। यह निशान किसीके हाथों में ज्यादा होता होता है और वही किसीके की हाथों में कम होता है। लेकिन जो भी हो क्या अापने कभी यह निशान आखिर क्यों आपके उंगलियों पर दिखते है यह अपने कभी सोचा है है ? आज हम इसी विषय पर बात कर
21 दिसम्बर 2018
27 दिसम्बर 2018
सलमान के बारे में बॉलीवुड में एक बात कही जाती है कि वो बड़े ही मासूम इंसान हैं...वह काम को दिल से करते हैं या फिर करते ही नहीं हैं लेकिन इस बात में भी कोई दो राह नहीं है कि सलमान का दिल बार बार टूटा है। संगीता बिजलानी, सोमी अली, ऐश्वर्या राय, केटरीना कैफ, जरीन खान, स्नेहा उल्लाल, ये सब नाम सलमान खान
27 दिसम्बर 2018
16 दिसम्बर 2018
स्मार्टफोन की लत पूरी दुनिया के लिए समस्या बन गया है. हर कोई इस से छुटकारा पाने में लगा हुआ है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि फोन छोड़ने पर आपको लाखों रुपये भी मिल सकते हैं. जी हां ये सच है विटामिन वाटर नाम की कंपनी एक साल के लिए फोन छोड़ने वालों को 1 लाख डॉलर दे रही है.
16 दिसम्बर 2018
04 जनवरी 2019
आज के समय पर एक तरफ सरकार ना जाने कितनी तरह की योजनाएं ला रही हैं, बेटी बचाओ से लेकर के सुकन्या धन योजना ना जाने कितनी तरह की योजनाएं सरकार लेकर आ रही हैं जिससे लोगों के दिमाग में इतने सालों से चली आ रही रूढ़ीवादी समाज के एक बड़े वर्ग में आज भी बेटे को अहमियत देना जारी है।
04 जनवरी 2019
03 जनवरी 2019
आपको बता दें कि मुंबई से लौटने के बाद दीपक मीडिया से रू-ब-रू हुए। उनके गांव में दीपक का शानदार स्वागत किया गया। दीपक ने कहा कि शो में मैंने बिहारीपन को पहचान दी। यह मेरे लिए सबसे बड़ी बात है। दीपक ने कहा कि बिग-बॉस शो में 13 प्रतिभागियों के साथ उसके अच्छे संबंध रहे। सभी उसे भाई की तरह प्यार करते थे।
03 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
मोदी सरकार जबसे केंद्र में आई है तब से उसका एक ही प्रयास है कि ऐसी योजनाएं चलाई जाएं जिससे आर्थिक रूप से अत्यधिक कमजोर वर्गों को सहायता मिले और वह लोग भी समाज में बराबर का योगदान दे पाए।इस संबंध में सरकार ने कई योजनाओं, स्कीम्स को लॉन्च किया है और लोगों तक पहुंचने का प्रयास किया है। और यह भी मैसेज भ
27 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
Guest Post क्या है ?Guest Post करना क्यों ज़रूरी हैं ?Guest Post करने के फ़ायदे Guest Post करते समय किन-किन बातों का ध्यान दें ?शब्दनगरी पर Guest Post करें यदि आप एक हिंदी ब्लॉगर (Hindi Bloggar) हैं तो आपका यह जानना ज़रूरी है कि Guest Post क्या है ? ये करना क्यों ज़रूरी ह
26 दिसम्बर 2018
31 दिसम्बर 2018
2019 की शुरुआत होने जा रही है और हर किसी के दिमाग में बस यही चल रहा होगा कि कैसा होगा ये नया साल।व्यक्ति के जीवन में राशियों का बड़ा महत्व माना गया है राशियों के आधार पर किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है व्यक्ति को आने वाले समय में किन किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा इन स
31 दिसम्बर 2018
28 दिसम्बर 2018
दैनिक भास्कर पटना उत्सव सेलेब्रिटी टॉक शो में पहुंचे शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) बोले हम दिल्ली वाले भी पटना वालों की तरह ही हैं। जैसे ही उन्होंने डॉन फिल्म का डायलॉग ’11 मुल्कों की पुलिस…’ बोला, तो पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। अपने संघर्ष के बारे में बताते
28 दिसम्बर 2018
04 जनवरी 2019
बीजेपी के वरिष्ठ नेता और विधायक प्रदीप पुरोहित ने कहा कि पीएम मोदी ओडिशा के पुरी से लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं, बीजेपी विधायक ने कहा कि कोई भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ओडिशा से चुनाव लड़ने की संभावना को खारिज नहीं कर सकता है, इस बात की 90 फीसदी संभावना है कि नरेन्द्र
04 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
हिन्दू धर्म के शास्त्रों के अनुसार किसी भी व्यक्ति के नाम का पहला अक्षर उसके व्यक्तित्व और व्यवहार से जुड़ी कईं बातों से हमे रूबरू करवाता है. हर नाम का पहला अक्षर उस व्यक्ति के बारे में हमे अच्छी और बुरी दोनों बातें बताता है. आज हम बात करने जा रहे हैं “S” अक्षर से शुरू होने वाले नाम वले व्यक्तियों की
07 जनवरी 2019
31 दिसम्बर 2018
वर्तमान समय में किसी भी इंसान को समझ पाना काफी कठिन है किस के मन में क्या है और कब कौन आपको धोखा दे दे इस बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता इसलिए व्यक्ति को अपनी तरफ से ही बचने की कोशिश करनी चाहिए आप सभी लोग आचार्य चाणक्य जी को तो जानते ही हैं इन्होंने “चाणक्य नीति” नामक ए
31 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
कंगाना रनौत की आगामी फिल्म ‘माणिकर्णिका’ 2019 की चर्चित फिल्मों में से एक होने का अनुमान लगाया जा रहाहै। मंगलवार को जारी आधिकारिक ट्रेलर ने लोगों की अपेक्षाओं को बढ़ा दिया है, हालांकि फिल्म 25 जनवरी, 2019 को रिलीज होने वाली है। 3 मिनट 19 सेकेंड में कंगना रनौत, भव्य अवतार
18 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
जहां प्रिया प्रकाश वारियर अपनी मुस्कान और कातिलाना निगाहों से हर युवा दिल की धड़कन बनी हुई हैं और देखते ही देखते महज कुछ दिनों में देश-दुनियाभर में छा गईं हैं, अब इसी कड़ी में एक और भारतीय इन्टरनेट पर छाया हुआ है। जहाँ अमूमन इन्टरनेट सेंसेशन बॉलीवुड की हसीनाएं, क्रिकेटरर्स, कॉमेडियंस होते हैं, वहीं यह
24 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
17 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x