सनातन धर्म :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (84 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन धर्म :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर आदिकाल से मानव जीवन बहुत ही दिव्य एवं विस्तृत रहा है | मनुष्य अपने जीवन काल में अनेक प्रकार के क्रियाकलापों से हो करके जीवन यात्रा पूरी करता है | यहाँ मनुष्य के कर्मों के द्वारा समाज में उसकी श्रेणी निर्धारित हो जाती है | यह निर्धारण समाज में तभी हो पाता है जब मनुष्य के कर्म समाज के अनुकूल एवं सदाचरण वाले हों | परमात्मा ने मनुष्य को इस धरा धाम पर अनेक प्रकार के फल , शाक एवं अन्न उदर भरण के लिए प्रकट कर दिए हैं , अनेकों प्रकार के मनुष्य ऐसे भी जो इन प्राकृतिक आहारों के विपरीत जाकर के आहार स्वयं के लिए चुनते हैं | ऐसे व्यक्तियों को समाज घृणित दृष्टि से देखता था और उसे समाज से बहिष्कृत कर दिया जाता था | पूर्वकाल की सामाजिक व्यवस्था थी कि समाज के विपरीत होने पर दंड स्वरूप उस व्यक्ति को सामाजिक क्रियाकलाप से बहिष्कृत करके दंड दिया जाता था | विद्वानों की विशिष्ट पहचान होती थी | वे संयम एवं अपने सारे क्रियाकलाप वैदिक एवं सामाजिक रीत के अनुसार किया करते थे जिससे समाज को उचित मार्गदर्शन तो मिलता ही था साथ ही उनका स्वास्थ्य चिरकाल तक उनका साथ देता था | मनुष्य सत्य बोलने के साथ ही सदाचरण भी करते थे , ऐसा करके वे समाज में सम्मानित एवं पूज्य माने जाते थे | हमारे देश में सनातन धर्म को मानने वाले चाहे वह उच्च पद पर रहे हो या फिर निम्न स्तरीय जीवन यापन करने वाले परंतु उनकी मान्यताएं दिव्य रही है | यही कारण रहा है कि अनेक भ्रांतियां होने के बाद भी सनातन धर्म सर्वोच्चता को प्राप्त कर पाया | जहां सकारात्मकता होती है वही नकारात्मकता भी होती है इसी प्रकार सनातन धर्म में भी कुछ इस प्रकार के मनुष्य हुए जिन्होंने अपने क्रियाकलापों के द्वारा सनातन के सिद्धांतों के विपरीत जाकर के आचरण किये और समाज द्वारा अपमानित भी किये गये |* *आज जहां चारों ओर से सनातन धर्म पर ही कुठाराघात करने का प्रयास किया जा रहा है वहीं इसको मानने वाले भी अपने कर्म इसके विपरीत करने से स्वयं को नहीं रोक पा रहे हैं | समाज में उच्च पदों पर आसीन ऐसी कई महान हस्तियां है जिनको सनातन धर्म का पुरोधा माना जाता है परंतु उनके क्रियाकलाप सनातन के बिल्कुल विपरीत देखे जा सकते हैं | आज जो कुछ भी हो रहा है इसमें कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए क्योंकि इसका वर्णन तो पूर्वकाल में ही परमपूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी ने कर दिया था | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बाबा जी के उस प्रसंग पर ध्यानाकर्षण कराना चाहूंगा जहां उन्होंने स्पष्ट लिख दिया था कि :- कलियुग में जो बड़ी-बड़ी डींग मारने वाला होगा वहीं पंडित कहा जाएगा | दूसरे का धन हरण करने वाले बुद्धिमान और झूठ बोलने वाला ही गुणवान कहा जाएगा | सनातन धर्म के उच्च पदों पर आसीन होकर के आज भक्ष्य - अभक्ष्य सब कुछ खा लेने वाले ही सिद्ध कहे जाएंगे | यह वर्णन गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने मानस में किया है | आज वही देखने को मिल रहा है | स्वयं को आचार्य , राजर्षि , महर्षि एवं ब्रह्मर्षि तक कहलवाने वाले लोग आज अपने पद के विपरीत क्रियाकलाप कर रहे हैं | इसे कलियुग का प्रभाव बना जाय या फिर सनातन का पराभव | आज यदि चारों ओर से सनातन धर्म पर कुठाराघात हो रहा है इसका कारण कोई दूसरा नहीं बल्कि सनातन धर्म के अनुयायी ही कहे जा सकते हैं , क्योंकि उनके आचरण उनके क्रियाकलाप सनातन धर्म के अनुसार न हो कर के उसके विपरीत जा रहे हैं |* *सनातन धर्म आदिकाल से दिव्य रहा है और दिव्य रहेगा | कुछ तथाकथित लोगों के कारण इसकी दिव्यता को कहीं से भी कोई क्षति नहीं हो सकती , क्योंकि सनातन सत्य है और सत्य कभी पराजित नहीं होता |*

अगला लेख: सनातन हिन्दू :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से संपूर्ण विश्व में भारत अपने ज्ञान विज्ञान के कारण सर्वश्रेष्ठ माना जाता रहा है | हमारे देश में मानव जीवन संबंधित अनेकानेक ग्रंथ महापुरुषों के द्वारा लिखे गए इन ग्रंथों को लिखने में उन महापुरुषों की विद्वता के दर्शन होते हैं | जिस प्रकार एक धन संपन्न व्यक्ति को धनवान कहा जाता है उसी प्रकार
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*संपूर्ण विश्व में अपनी संस्कृति हम सभ्यता के लिए हमारे देश भारत नें सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया था | हम ऐसे देश के निवासी है जिसकी संस्कृति एवं सभ्यता का अनुगमन करके संपूर्ण विश्व आगे बढ़ा | यहां पर पिता को यदि सर्वोच्च देवता माना जाता था तो माता के कदमों में स्वर्ग देखा जाता था | यह वह देश है जहां
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में तपस्या का बहुत बड़ा महत्व बताया गया है | किसी भी अभीष्ट को प्राप्त करने के लिए उसका लक्ष्य करके तपस्या करने का वर्णन पुराणों में जगह जगह पर प्राप्त होता है | तपस्या करके हमारे पूर्वजों ने मनचाहे वरदान प्राप्त किए हैं | तपस्या का वह महत्व है , तपस्या के बल पर ब्रह्माजी सृजन , विष्णु ज
18 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
क्रिसमस के मौके पर हर घर में छोटे से लेकर बड़े क्रिसमस ट्री को बेहद आकर्षक ढंग से सजाया जाता है। गिफ़्ट, लाइट और मोमबत्तियों से सजा क्रिसमस ट्री बेहद सुंदर दिखता है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा क्रिसमस ट्री को सजाने की शुरुआत कैसे हुई और इसे क्यों सजाया जाता है? zoom ऐसा माना
24 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
अगर आप वैष्णो देवी जाना चाहते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। IRCTC वैष्णो देवी की यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए खास पैकेज लेकर आया है। इस पैकेज के तहत यात्रियों को ट्रैवेलिंग से लेकर खाने-पीना से लेकर ठहरने तक की सुविधाए मिलेंगी।जानिए पैकेज के बारें में डिटेल्स : इस इकोनॉमी पैकेज में स्लीपर क्लास
21 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*मनुष्य अपने जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप करता रहता है , जिसमें से कुछ सकारात्मक होते हैं तो कुछ नकारात्मक | जैसे मनुष्य के क्रियाकलाप होते हैं वैसा ही उसको फल प्राप्त होता है | इन्हीं क्रियाकलापों में छल कपट आदि आते हैं | छल कपट करने वाला ऐसा कृत्य करते समय स्वयं को बहुत बुद्धिमान एवं शेष स
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
सनातन धर्म में मानव जीवन को दिव्य बनाने के लिए सोलह संस्कारों की व्यवस्था हमारे महापुरुषों के द्वारा बनाई गई थी | मनुष्य के जन्म लेने के पहले से प्रारंभ होकर की यह संस्कार मनुष्य की मृत्यु पर पूर्ण होते हैं | मनुष्य जीवन का सोलहवां संस्कार , "अंतिम संस्कार" कहा गया है | मनुष्य की मृत देह को पंच तत्व
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*इस संसार में मनुष्य अपने जीवनकाल में कुछ कर पाये या न कर पाए परंतु एक काम करने का प्रयास अवश्य करता है , वह है दूसरों की नकल करना | नकल करने मनुष्य ने महारत हासिल की है | परंतु कभी कभी मनुष्य दूसरों की नकल करके भी वह सफलता नहीं प्राप्त कर पाता जैसी दूसरों ने प्राप्त कर रखी है , क्योंकि नकल करने के
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में ब्रह्मा विष्णु महेश के साथ 33 करोड़ देवी - देवताओं की मान्यताएं हैं | साथ ही समय-समय पर अनेकों रूप धारण करके परम पिता परमात्मा अवतार लेते रहे हैं जिनको भगवान की संज्ञा दी गई है | भगवान किसे कहा जा सकता है इस पर हमारे शास्त्रों में मार्गदर्शन करते हुए लिखा है :-- ऐश्वर्यस्य समग्रस्य ध
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर जन्म लेकरके मनुष्य का लक्ष्य रहा है भगवान को प्राप्त करना | आदिकाल से मनुष्य इसका प्रयास भी करता रहा है | परंतु अनेकों लोग ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने भगवान का दर्शन पाने के लिए अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत कर दिया परंतु उनको भगवान के दर्शन नहीं हुए | वहीं कुछ लोगों ने क्षण भर में भगवान का द
18 दिसम्बर 2018
20 दिसम्बर 2018
ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों की मनमानी के किस्से तो आपने सुने ही होंगे. ग्राहकों को लुभाने के लिए ये कंपनियां न जाने क्या-क्या हथकंडे अपनाती हैं. इनकी मनमानी इस कदर बढ़ गई है कि ये कुछ भी बेचने को तैयार हैं, चाहे उससे किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस ही क्यों न पहुंचे.Source: rack
20 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*संपूर्ण विश्व में यदि कहीं पुण्य भूमि है तो वह हमारा देश भारत है , जहां आध्यात्मिकता अपने उच्च शिखर को प्राप्त करती है | आदिकाल से ही इस देश में धर्म संस्थापकों ने समय-समय पर जन्म या अवतार लेकर के संपूर्ण संसार को सत्य की , आध्यात्मिकता की एवं सनातनता की पवित्र धारा से बारंबार स्नान कराया है | हम
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*संपूर्ण विश्व में भारत देश को महान एवं विश्वगुरु माना जाता था | विश्व में अकेला ऐसा देश भारत है जिसे देवभूमि कह कर पुकारा जाता है | भारत यदि विश्वगुरु बना था तो यहां के महापुरुषों के कृत्यों एवं उनकी संस्कृति के आधार पर | भारत की संस्कृति संपूर्ण विश्व में एक उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत करती रही है |
18 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x