नववर्ष :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

01 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (35 बार पढ़ा जा चुका है)

नववर्ष :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*जब से सृष्टि का सृजन हुआ तब से लेकर आज तक सनातन धर्म के छांव तले सृष्टि चलायमान हुई | परिवर्तन सृष्टि का नियम है | जो कल था वह आज नहीं है जो आज है वह कल नहीं रहेगा , दिन बदलते जाते हैं और एक दिन ऐसा भी आता है जिसे मनुष्य वर्ष का पहला दिन मानकर नववर्ष मनाने में लग जाता है | विचारणीय विषय है कि हम सनातन धर्मी "नववर्ष" कब मनायें ? आदिकाल से इस धरा धाम पर सनातन धर्म का अस्तित्व रहा है | सनातन धर्मावलंबी चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को नव वर्ष मनाते हैं | क्योंकि इस दिन ही सृष्टि का सृजन हुआ और यह सृष्टि का पहला दिन माना जाता है | इसके साथ ही जैसे-जैसे इस धरा धाम पर अन्य धर्मों का उद्भव हुआ उसी प्रकार सबके "नववर्ष" भी अलग अलग हो गये | कलियुग में सनातन धर्म के मानने वाले विक्रम संवतसर को अपना सम्वत मानते हुए इसके प्रारम्भ पर ही नववर्ष मनाते हैं | अन्य नववर्ष भी मनाये जाते हैं | जैसे सम्राट कनिष्क ने शक संवत प्रारंभ किया | बौद्ध धर्म के मानने वाले बुद्ध पूर्णिमा अर्थात १७ अप्रैल को "नववर्ष" मनाते हैं | ईसाई संवत्सर १ जनवरी से प्रारंभ माना जाता है | जबकि प्राचीनकाल में ईसाई सम्वत भी चैत्र माह (अप्रैल माह) से प्रारंभ होता था परंतु सनातन विरोधियों ने इसे जनवरी से कर दिया , जबकि ईसाइयों के एक अन्य पंथ द्वारा आज भी चैत्र माह में ईसाई संवत्सर का प्रारंभ माना जाता है | उसी प्रकार मोहर्रम माह से पहले दिन से मुस्लिम समुदाय का "नववर्ष" , दीपावली के अगले दिन से जैन धर्म का "नववर्ष" तो होली के दूसरे दिन सिख समुदाय अपना नववर्ष मनाता है | इस प्रकार विभिन्न धर्मावलंबी अपने अपने मतानुसार नव वर्ष मनाते हैं | अब विचार कीजिए कि हम कौन हैं और अपना "नववर्ष" कब मनायें ??* *आज इस प्रकार संपूर्ण विश्व में ईसाई नववर्ष की धूम मची हुयी है उसे देख कर ही लगता है कि हम शायद अपना धर्म एवं अपना कर्म सब कुछ भूलते जा रहे हैं | चाहे वह सनातन धर्म हो , बौद्ध धर्म हो , इस्लाम धर्म हो या अन्य कोई धर्म , सभी मिलकर जिस प्रकार ईसाई नववर्ष की शुभकामनाओं का आदान प्रदान कर रहे हैं उससे तो यही लगता है अंग्रेजों द्वारा दिया गया पराधीनता का यह पर्व हमारे मनोमस्तिष्क पर बैठ चुका है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सभी सनातन धर्मियों से पूछना चाहता हूं कि जिस प्रकार सनातन के धार्मिक त्योहारों होली एवं दीपावली पर प्रदूषण के नाम पर अनेकों प्रतिबंध लगाने की आवाजें उठती है क्या ३१ दिसंबर को भी कहीं से कोई आवाज उठी | कल ३१ दिसम्बर की रात को जिस प्रकार पटाखे दागे गये एवं जश्न मनाया गया क्या उससे प्रदूषण नहीं हो रहा है ?? यह देख कर सभी सनातन धर्मियों को यह समझ जाना चाहिए कि पटाखों एवं रंग - अबीरों से प्रदूषण मात्र सनातन धर्म के पर्व / त्यौहारों में फैलता है अन्यथा नहीं | यदि यही हाल हमारा रहा तो निश्चित है कि हमारे आने वाली संताने यह भूल जायेंगी कि हम कौन हैं ? और हमारे पर्व क्या है ?? चैत्र मास में मनाए जाने वाले नववर्ष संवत्सर को जानने वाला कोई नहीं होगा | क्योंकि जब हम स्वयं ईसाई नववर्ष मनाने में व्यस्त हैं तो हमारी आने वाली पीढ़ियों कौन बताएगा कि हमारा नववर्ष जनवरी नहीं अपितु चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को होता है | मेरे कथन पर विचार करने की आवश्यकता है | हमें समझ जाना चाहिए कि हम तो सब के धर्मों को मानने वाले हैं परन्तु क्या हमारे पर्व एवं त्योहारों को भी मानने वाला कोई इस संसार में है ? नहीं मिलेगा कोई भी , क्योंकि हम स्वयं उनको भूलते जा रहे हैं ! यदि आज हमारे पर्व / त्यौहारों की चमक कान्तिहीन हो रही है तो उसका कारण हम स्वयं हैं |* *सबका अपना-अपना नववर्ष है सभी लोग प्रेम के अपने अपने मतानुसार इसको मनायें परंतु कम से कम हम तो यह ध्यान रखें कि हम क्या हैं ? और हमारा नववर्ष कब है ??*

अगला लेख: सनातन हिन्दू :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में ब्रह्मा विष्णु महेश के साथ 33 करोड़ देवी - देवताओं की मान्यताएं हैं | साथ ही समय-समय पर अनेकों रूप धारण करके परम पिता परमात्मा अवतार लेते रहे हैं जिनको भगवान की संज्ञा दी गई है | भगवान किसे कहा जा सकता है इस पर हमारे शास्त्रों में मार्गदर्शन करते हुए लिखा है :-- ऐश्वर्यस्य समग्रस्य ध
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*आदिकाल में जब सृष्टि का प्रादुर्भाव हुआ तो इस संपूर्ण धरा धाम पर सनातन धर्म एवं सनातन धर्म के मानने वाले लोगों के अतिरिक्त न तो कोई धर्म था और न ही कोई पंथ | सनातन धर्म ने ही संपूर्ण सृष्टि को आगे बढ़ने का मार्ग दिखाया | संसार के समस्त ज्ञान इसी दिव्य सनातन धर्म से प्रसारित हुये | सृष्टि के साथ ही
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से संपूर्ण विश्व में भारत अपने ज्ञान विज्ञान के कारण सर्वश्रेष्ठ माना जाता रहा है | हमारे देश में मानव जीवन संबंधित अनेकानेक ग्रंथ महापुरुषों के द्वारा लिखे गए इन ग्रंथों को लिखने में उन महापुरुषों की विद्वता के दर्शन होते हैं | जिस प्रकार एक धन संपन्न व्यक्ति को धनवान कहा जाता है उसी प्रकार
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य एक सुंदर एवं व्यवस्थित जीवन जीने की कामना करता है | इसके साथ ही प्रत्येक मनुष्य अपनी मृत्यु के बाद स्वर्ग जाने की इच्छा भी रखता है | मृत्यु होने के बाद जीव कहां जाता है ? उसकी क्या गति होती है ? इसका वर्णन हम धर्मग्रंथों में ही पढ़ सकते हैं | इन धर्म ग्
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर जन्म लेकरके मनुष्य का लक्ष्य रहा है भगवान को प्राप्त करना | आदिकाल से मनुष्य इसका प्रयास भी करता रहा है | परंतु अनेकों लोग ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने भगवान का दर्शन पाने के लिए अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत कर दिया परंतु उनको भगवान के दर्शन नहीं हुए | वहीं कुछ लोगों ने क्षण भर में भगवान का द
18 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x