अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

01 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (44 बार पढ़ा जा चुका है)

अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से मनुष्यों का सम्मान या उनका अपमान उनके कर्मों के आधार पर ही होता रहा है | मनुष्य की वाणी , उसका व्यवहार एवं उसका आचरण ही उसके जीवन को दिव्य या पतित बनाता रहा है | मनुष्य बहुत बड़ा विद्वान बन जाय परंतु उसकी वाणी में कोमलता न हो , उसकी भाषा मर्यादित न हो एवं उसके कर्म समाज के विपरीत हों तो उसे विद्वान नहीं कहा जा सकता है | त्रेताकाल में लंकाधिपति रावण से अधिक विद्वान कोई नहीं था | त्रेता की ही बात नहीं आज तक रावण जैसा त्रिकालदर्शी एवं विद्वान कोई नहीं हुआ और न होग, ऐसा विद्वानों का मानना है | इतना विद्वान होने के बाद भी रावण ाे आचरण , उसकी वाणी एवं उसका व्यवहार विद्वता के बिल्कुल विपरीत रहा | यही कारण है कि जहां हमारे देश भारत में विद्वानों की पूजा होती रही है वहीं रावण जैसे विद्वान को घृणित दृष्टि से देखा जाता है | क्योंकि उसका कर्म घृणित था | रावण ने अपने समक्ष सदैव दूसरों को तिनके के समान माना था | अपने अहंकार एवं अपने दुष्कर्म के कारण रावण जैसा विद्वान भी अपने संपूर्ण कुल के साथ विनाश को प्राप्त हुआ | कहने का तात्पर्य है विद्वता जब अपने मूलधर्म (विनय) का त्याग कर देती है तो वह है विद्वता अपने ही विनाश का कारण बनने लगती है , यह अकाट्य सत्य है | और भी अनेक उदाहरण हमारे इतिहास में देखने को मिल जाते हैं | यह सत्य है कि विद्योत्तमा जैसी विदुषी महिला भी अपने अहंकार के कारण ही कालिदास जैसे महामूर्ख के साथ विवाहित हो जाती है | विद्या सदैव विनय प्रदान करती है , परंतु यही विद्या जब मनुष्य को अधिक मिल जाती है तो वह विनयशील न हो करके अहंकारी हो जाता है और यही अहंकार उसके पतन का कारण बन जाता है |* *आज के युग में विद्वानों की कमी नहीं है , एक से बढ़कर एक विद्वान आज भी हमारे भारतवर्ष में विद्यमान हैं जो अपनी विद्वता के बल पर हमारे समाज का मार्गदर्शन कर रहे हैं | परंतु इन्हीं विद्वानों में कुछ विद्वान ऐसे भी हैं जो "एको$हं द्वितीयो नास्ति"की भावना से ग्रसित हो कर के रावण की तरह अपने समक्ष से सब को तिनके की समान ही मानते हैं | ऐसे विद्वान विद्वान तो होते हैं परंतु उनमें विनयशीलता बिल्कुल नहीं दिखाई पड़ती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे सभी विद्वानों के विषय में इतना ही कहना चाहूंगा कि :- यह सभी विद्वान उसी तरह जिसका वर्णन अपने रामचरितमानस में गोस्वामी तुलसीदास जी ने किया है | स्वयं के नाम के आगे बड़े-बड़े पदनाम लगाने वाले यह तथाकथित विद्वान मात्र किसी भी समाज में दूसरों की विद्वता की परीक्षा ले करके स्वयं को श्रेष्ठ साबित करना चाहते हैं , जो कि इनकी मूर्खता के अतिरिक्त और कुछ नहीं कहा जा सकता है | क्योंकि जो विद्वान होता है वह विनयी होता है , परंतु ऐसे तथाकथित विद्वान अहंकार से ग्रसित हो कर के अपने समस्त क्रियाकलाप संपादित करते हैं | इन विद्वानों को लगता है कि जो ज्ञान हमें है वह संसार में किसी को नहीं है | शायद ये विद्वान यह नहीं जानते हैं कि मनुष्य जीवन भर अपूर्ण ही रहता है पूर्ण मात्र परमात्मा है , इसके अतिरिक्त कोई नहीं | अंत में ऐसे सभी विद्वानों को प्रणाम करते हुए यही कहना चाहूंगा कि आप महान है परंतु अपने द्वारा पोषित किए जा रहे हंकार का थोड़ा शमन करें अन्यथा पतित होने में समय नहीं लगेगा |* *अहंकार मनुष्य में क्रोध उत्पन्न करता है और क्रोधी मनुष्य अंधा हो जाता है ! उसे कब कहां क्या बोलना है और कैसे कार्य करने हैं इसका विवेक नहीं रह जाता है |*

अगला लेख: सनातन हिन्दू :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 दिसम्बर 2018
*इस सृष्टि में परमात्मा की अनुपम कृति मनुष्य कहीं गयी है | इससे सुंदर शायद कोई रचना परमात्मा ने नहीं किया | सभी प्राणियों में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ इसलिए है क्योंकि ईश्वर ने उसको सोचने समझने की शक्ति दी है , और हमारे महापुरुषों ने स्थान - स्थान पर मनुष्य को सचेत करते हुए पहले मनन करने फिर क्रियान्वयन
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर जन्म लेकरके मनुष्य का लक्ष्य रहा है भगवान को प्राप्त करना | आदिकाल से मनुष्य इसका प्रयास भी करता रहा है | परंतु अनेकों लोग ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने भगवान का दर्शन पाने के लिए अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत कर दिया परंतु उनको भगवान के दर्शन नहीं हुए | वहीं कुछ लोगों ने क्षण भर में भगवान का द
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*मनुष्य अपने जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप करता रहता है , जिसमें से कुछ सकारात्मक होते हैं तो कुछ नकारात्मक | जैसे मनुष्य के क्रियाकलाप होते हैं वैसा ही उसको फल प्राप्त होता है | इन्हीं क्रियाकलापों में छल कपट आदि आते हैं | छल कपट करने वाला ऐसा कृत्य करते समय स्वयं को बहुत बुद्धिमान एवं शेष स
21 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*संपूर्ण विश्व में अपनी संस्कृति हम सभ्यता के लिए हमारे देश भारत नें सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया था | हम ऐसे देश के निवासी है जिसकी संस्कृति एवं सभ्यता का अनुगमन करके संपूर्ण विश्व आगे बढ़ा | यहां पर पिता को यदि सर्वोच्च देवता माना जाता था तो माता के कदमों में स्वर्ग देखा जाता था | यह वह देश है जहां
21 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य एक सुंदर एवं व्यवस्थित जीवन जीने की कामना करता है | इसके साथ ही प्रत्येक मनुष्य अपनी मृत्यु के बाद स्वर्ग जाने की इच्छा भी रखता है | मृत्यु होने के बाद जीव कहां जाता है ? उसकी क्या गति होती है ? इसका वर्णन हम धर्मग्रंथों में ही पढ़ सकते हैं | इन धर्म ग्
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में तपस्या का बहुत बड़ा महत्व बताया गया है | किसी भी अभीष्ट को प्राप्त करने के लिए उसका लक्ष्य करके तपस्या करने का वर्णन पुराणों में जगह जगह पर प्राप्त होता है | तपस्या करके हमारे पूर्वजों ने मनचाहे वरदान प्राप्त किए हैं | तपस्या का वह महत्व है , तपस्या के बल पर ब्रह्माजी सृजन , विष्णु ज
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से संपूर्ण विश्व में भारत अपने ज्ञान विज्ञान के कारण सर्वश्रेष्ठ माना जाता रहा है | हमारे देश में मानव जीवन संबंधित अनेकानेक ग्रंथ महापुरुषों के द्वारा लिखे गए इन ग्रंथों को लिखने में उन महापुरुषों की विद्वता के दर्शन होते हैं | जिस प्रकार एक धन संपन्न व्यक्ति को धनवान कहा जाता है उसी प्रकार
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*संपूर्ण विश्व में भारत देश को महान एवं विश्वगुरु माना जाता था | विश्व में अकेला ऐसा देश भारत है जिसे देवभूमि कह कर पुकारा जाता है | भारत यदि विश्वगुरु बना था तो यहां के महापुरुषों के कृत्यों एवं उनकी संस्कृति के आधार पर | भारत की संस्कृति संपूर्ण विश्व में एक उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत करती रही है |
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*आदिकाल में जब सृष्टि का प्रादुर्भाव हुआ तो इस संपूर्ण धरा धाम पर सनातन धर्म एवं सनातन धर्म के मानने वाले लोगों के अतिरिक्त न तो कोई धर्म था और न ही कोई पंथ | सनातन धर्म ने ही संपूर्ण सृष्टि को आगे बढ़ने का मार्ग दिखाया | संसार के समस्त ज्ञान इसी दिव्य सनातन धर्म से प्रसारित हुये | सृष्टि के साथ ही
21 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x