साधना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

06 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (41 बार पढ़ा जा चुका है)

साधना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे पूर्वजों ने अनेक साधनाएं करके हम सब के लिए दुर्लभ साधन उपलब्ध कराया है |साधना क्या है यह जान लेना बहुत आवश्यक है | जैसा कि हम जानते हैं की कुछ ऋषियों ने एकांत में बैठकर साधना की तो कुछ ने संसार में ही रहकर की स्वयं को साधक बना लिया | साधना का अर्थ केवल एकांतवास या ध्यान नहीं होता | वह साधना का एक पक्ष है, लेकिन साधना का यह भी अर्थ होता है कि हम अपने मन में संतोष और शांति के भाव को चौबीस घंटे बनाये रखें रखें | आप ध्यान करते हो तो अधिक-से-अधिक एक घंटे के लिए करोगे , उसमें भी श्वास का ध्यान करोगे, मंत्र जप करोगे, इष्ट पर ध्यान लगाओगे या कुछ स्तोत्रपाठ कर लोगे. इसके अतिरिक्त और क्या कर लोगे‍? ज्यादा-से-ज्यादा किसी अच्छे भाव की अनुभूति हो सकती है | लेकिन वह क्षणिक होगी | उसके बाद फिर क्या‍? हमने ध्यान एक घंटे किया, पर ग्यारह घंटे जब हम संसार में रहते हैं, तो क्या संसार में रह कर भी हम अपने मानसिक संतोष, प्रतिभा और शांति को बनाये रख सकते हैं ? साधना का अर्थ यह नहीं है कि बुराई को छोडो, भलाई को पकड़ो | बल्कि साधना का अर्थ है कि बुराई में से भी सत्य की तरफ उठो, भलाई में से भी सत्य की तरफ उठो | बुराई और भलाई में मत चुनो, दोनों से अनुभव का निचोड़ ले लो और दोनों से प्रौढ़ बनो | दोनों से तुम्हारी समझ गहरी हो, तुम्हारा हृदय विस्तीर्ण हो | दोनों के बीच से तुम अपनी नाव को, अपनी नदी को बहाओ कि वह सागर तक पहुंच सके | पाप और पुण्य तुम्हारे किनारे बन जाएं | साधना का सीधा अर्थ है स्वयं को नियंत्रित करना | योग की भाषा में इंद्रियों को अपने अधीन करने का नाम साधना है | इसे हम स्वयं पर नियंत्रण करके अपने मन अनुसार फल प्राप्त करने का मार्ग भी कह सकते हैं | यही सच्ची साधना है |* *आज अनेक लोग साधना करते हैं | अपने घर में बैठकर या किसी मंदिर में बैठकर एक घंटे , दो घंटे भगवान का ध्यान एवं माला जप एवं स्तोत्र आदि का पाठ करते रहते हैं | परंतु उस एक घंटे के बाद वह पूरी तरह संसार के कार्यों में रत हो जाते हैं | संसार के कार्यों में रत जाना ही मनुष्यता है | क्योंकि संसार में रहकर सांसारिकत् से नहीं बचा जा सकता है | परंतु साधक को सदैव सकारात्मक होना चाहिए अन्यथा साधना का फल विपरीत मिलने लगता है , और वह मात्र दिखावा बनकर रह जाती है | आज लोग दिखाने के लिए तो साधना करने बैठते हैं परंतु जब वह समाज में पहुंचते हैं तो झूठ , प्रपंच , छल अपना करके समाज में उच्च स्थान प्राप्त करने का प्रयास करते हैं | समाज में उच्च स्थान मनुष्य को उसके कर्मों से मिलते हैं न कि स्वयं के बनाने से | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जहां तक जानता हूं असली साधक एक विद्यार्थी होता है जो विद्यालय के समय में तो पढ़ता ही है और उसके बाद जब वह घर पहुंचता है तो विद्यालय से मिले कार्यों को करने बैठ जाता है | कहने का तात्पर्य है कि साधना काल में जो मन में विचार उठ रहे हैं उसको बनाए रखना या बारंबार उसका अभ्यास करना ही साधना कही जा सकती है | यह सभी जानते हैं कि ऐसे विद्यार्थी जो विद्यालय तो जाते हैं और यथासमय विद्यालय में रहते भी परंतु न तो वह विद्यालय में ही मन लगाकर पढ़ते हैं और न घर आकर के विद्यालय में बताए गए कार्यों का अभ्यास ही करते हैं , उनका क्या परिणाम होता है यह किसी से छुपा नहीं है | सकारात्मक बन करके उसमें निरंतरता बनाये रखते हुये घर , परिवार एवं समाज में सकारात्मक कार्य करना ही सच्ची साधना है |* *साधना करने के लिए न तो जंगल में जाना है और न ही पहाड़ों पर | अपने घर में रहकर के भी साधना की जा सकती है ऐसा हमारे महापुरुषों ने किया भी है |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 दिसम्बर 2018
*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है | मनुष्य और समाज की तुलना शरीर और उसके अंगों से की जा सकती है जैसे शरीर एवं अंग दोनों परस्पर पूरक है, एक के बिना दूसरे का स्थायित्व सम्भव नहीं है | आपसी सहयोग आवश्यक है | मनुष्य की समाज के प्रति एक जिम्मेदारी है जिसके बिना समाज सुव्यवस्थित नहीं बन सकता है | जिस प्रकार मन
23 दिसम्बर 2018
01 जनवरी 2019
*संपूर्ण संसार में मनुष्य अपने दिव्य चरित्र एवं बुद्धि विवेक के अनुसार क्रियाकलाप करने के कारण ही सर्वोच्च प्राणी के रूप में स्थापित हुआ | मनुष्य का पहला धर्म होता है मानवता , और मानवता का निर्माण करती है नैतिकता ! क्योंकि नैतिक शिक्षा की मानव को मानव बनाती है | नैतिक गुणों के बल पर ही मनुष्य वंदनी
01 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
*मानव जीवन में इन तीन बातों का होना अनिवार्य हैः-- सत्संग, भगवद् भजन और परोपकार | इन तीनों में भी सत्संग की बड़ी भारी महिमा है | सत्संग का अर्थ है, सत् वस्तु का ज्ञान | परमात्मा की प्राप्ति और प्रभु के प्रति प्रेम उत्पन्न करने तथा बढ़ाने के लिए सत्पुरूषों को श्रद्धा एवं प्रेम से सुनना एवं बीच - बी
27 दिसम्बर 2018
06 जनवरी 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परमपिता परमात्मा ने एक से अनेक होने की कामना करके भिन्न - भिन्न योनियों का सृजन करके उनमें जीव का आरोपण किया | जड़ - चेतन जितनी भी सृष्टि इस धराधाम पर दिखाई पड़ती है सब उसी कृपालु परमात्मा के अंश से उत्पन्न हुई | कहने का तात्पर्य यह है कि सभी जीवों के साथ ही जड़ पदार्थों में भी
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*पूर्वकाल में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसमें मनुष्य के संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी | संस्कार ही मनुष्य को पूर्ण करते हुए पात्रता प्रदान करते हैं और संस्कृति समाज को पूर्ण करती है | संस्कारों से मनुष्य के आचरण कार्य करते हैं | किसी भी मनुष्य के चरित्र निर्माण में धर्म , संस्कार और संस्कृति
06 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x