सनातन धर्म के कर्तव्य :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (6 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन धर्म के कर्तव्य :-- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*आदिकाल से इस धरा धाम सनातन धर्म अपनी दिव्यता एवं स्थिरता के कारण समस्त विश्व में अग्रगण्य एवं पूज्य रहा है | सनातन धर्म की मान्यतायें एवं इसके विधान का पालन करके मनुष्य ने समस्त विश्व में सनातन धर्म की धर्म ध्वजा फहरायी | सनातन के सारे सिद्धांत सनातन धर्म के धर्मग्रंथों में उद्धृत हुए हैं , जिनका पठन पाठन एवं श्रवण करके मनुष्य विवेकवान तो बना ही साथ ही जीवन जीने की कला भी सीखी | सनातन ते सभी धर्मग्रंथों में मानवमात्र के लिए "दस कर्तव्यों" का पालन करने का दिशानिर्देश दिया गया है | ये दस कर्तव्य हैं :- १- संध्यावन्दन , २- व्रत/उद्यापन , ३- तीर्थसेवन , ४- सामूहिक उत्सव , ५- दान , ६- सेवा ७- संस्कार पालन , ८- यज्ञ/हवन आदि , ९- वेदपाठ एवं १०- धर्म प्रचार | हमारे पूर्वजों ने इन्हीं दस सिद्धांतों का अक्षरस: पालन करके ही हमारे देश भारत को विश्वगुरु बनाया था | संध्यावन्दन करके मनुष्य प्रकृति से ऊर्जा प्राप्त करते हुए आंतरिक शक्ति अर्जित करता था | व्रत आदि का पालन करके स्वास्थ्य को व्यवस्थित रखते हुए तीर्थों का भ्रमण समूह में सम्मिलित होकर दान जैसा दिव्य कर्म कर तो करते ही थे साथ ही माता - पिता या किसी भी अक्षम जीव की सेवा करके हमारे पूर्वज अपने संस्कारों का पालन भी करते थे | यज्ञ/हवन आदि से वायु का संसर्ग पाकर दिशायें सुगन्धित होती थीं तो वेदपाठ करने से वेदमंत्रों की ध्वनि से पापों का विनाश होता है | इतना सब कर लेने पर धर्म का प्रचार स्वयं हो जाता था और एक सनातनधर्मी पूज्य माना जाता था |* *आज हम जिस आधुनिक युग में जीवन यापन कर रहे हैं वहां पर न तो संस्कार का कोई पालन करना चाहता है और न ही सनातन धर्म के कर्तव्यों का | दिखाने के लिए तो अनेक सनातन धर्मी धर्मध्वजा को फहराने का कार्य कर रहे है परंतु यदि सत्यता देखी जाए तो कुछ एक को छोड़कर के शेष सभी सिर्फ सनातन धर्म के अगुआ बनने का ढकोसला मात्र कर रहे हैं | आज संध्यावंदन करने वालों की हंसी उड़ाई जाती है तो आज के व्रत / उद्यापन नाना प्रकार के फलाहारों को सेवन करने का माध्यम बन गये हैं | तीर्थों में लोग जाते तो हैं लेकिन तीर्थ सेवन की भावना कम एवं मनोरंजन की भावना अधिक हो गई है | आज के सामूहिक उत्सव भी कम होने लगे हैं | यदि दान की बात की जाय तो दान भी अब वहीं दिया जाता है जहां दानदाता का नाम बड़े बड़े अक्षरों में लिखा जाता है | दिखाने के लिए लोग सेवा कर रहे हैं परंतु इसी समाज में यह भी देखने को मिल रहा है कि अनेकों वृद्ध माता पिता संतानों से उपेक्षित होकर जीवन यापन कर रहे हैं | यज्ञ / हवन भी अब व्यापार बनकर रह गया है | वेद पाठ मात्र कुछ संस्कृत विद्यालयों एवं आश्रमों तक सीमित रह गए हैं वहीं धर्म का प्रचार करने के लिए भी लोग अब धन की इच्छा रखने लगे हैं | आज हमारी स्थिति यह हो गई है कि हम कोई भी कार्य करते हैं तो उसके बदले हम धन या अपने यश की कामना करते हैं , उसके बाद यह शिकायत होती है कि आज तो सनातन धर्म का प्रभाव कम हो रहा है | यदि आज सनातन प्रभाव कम हुआ है तो इसका कारण कौन है इस पर विचार करना बहुत आवश्यक है |* *प्रत्येक सनातनी को स्वयं को टटोलना चाहिए कि क्या वह सनातन धर्म में बताये गये दस कर्तव्यों का पालन कर पा रहा है ? शायद नहीं | सनातन धर्म नहीं बल्कि हम प्रभावहीन हो गये हैं |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 दिसम्बर 2018
*हमारा सनातन धर्म एवं साहित्य इतना व्यापक है कि इसे संसार का स्रोत माना जाता है | संसार की सभी सभ्यतायें , सभी धर्म सनातन से ही निकली हैं ! जिस प्रकार एक परिवार की संतानें क्रोधातिरेक या आपसी मनमुटाव से अलग घर बना लेती हैं ! उसी प्रकार सनातन धर्म में भी कुछ लोग अलग हुए ! उन्होंने अपनी मान्यतायें स्थ
25 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म इतना दिव्य एवं विस्तृत है कि यहाँ मानव जीवन में उपयोगी सभी तत्वों का विशेष ध्यान रखा गया है | सनातन धर्म में अन्य देवी - देवताओं की पूजा के साथ ही प्रकृति पूजन का विशेष ध्यान रखा गया है , इसी विषय में आज हम बात करेंगे २५ दिसंबर अर्थात "तुलसी पूजन दिवस" की | मानव जीवन के लिए तुलसी कितनी उ
24 दिसम्बर 2018
01 जनवरी 2019
*संपूर्ण संसार में मनुष्य अपने दिव्य चरित्र एवं बुद्धि विवेक के अनुसार क्रियाकलाप करने के कारण ही सर्वोच्च प्राणी के रूप में स्थापित हुआ | मनुष्य का पहला धर्म होता है मानवता , और मानवता का निर्माण करती है नैतिकता ! क्योंकि नैतिक शिक्षा की मानव को मानव बनाती है | नैतिक गुणों के बल पर ही मनुष्य वंदनी
01 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*हमारे पूर्वजों ने अनेक साधनाएं करके हम सब के लिए दुर्लभ साधन उपलब्ध कराया है |साधना क्या है यह जान लेना बहुत आवश्यक है | जैसा कि हम जानते हैं की कुछ ऋषियों ने एकांत में बैठकर साधना की तो कुछ ने संसार में ही रहकर की स्वयं को साधक बना लिया | साधना का अर्थ केवल एकांतवास या ध्यान नहीं होता | वह स
06 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x