गोपाल खंडेलवाल : वो चल नहीं सकता लेकिन वो देश चला रहा है…

10 जनवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (13 बार पढ़ा जा चुका है)

गोपाल खंडेलवाल : वो चल नहीं सकता लेकिन वो देश चला रहा है… - शब्द (shabd.in)

एक शख्स जो खुद दो कदम नहीं चल सकता है लेकिन जिसने देश को हज़ारों कदम आगे बढ़ा दिया है। अपनी शारीरिक विकलांगता से हज़ारों लोगों की मानसिक विकलांगता को कुचलता ये शख्स आज उन लोगों के लिए मिसाल पेश कर रहा है जिन्होनें ज़िंदगी के आगे घुटने टेक दिए हैं ... आइए सुनते हैं उसकी कहानी उसकी ज़ुबानी…


गोपाल खंडेलवाल

मेरा नाम गोपाल खंडेलवाल है. 1969 में मेरा जन्म हुआ था और 1996 तक मैं चला हूँ. तब मेरी उम्र 27 साल थी. साइंस का स्टूडेंट था, घर परिवार सब ठीक था. आगरा के एक मेडिकल कॉलेज में मेरा चयन हो गया था. काउंसलिंग से होकर आ रहा था, साथ में कुछ और दोस्त भी थे. मैं गाड़ी चला रहा था और लखनऊ के आसपास मेरा एक्सीडेंट हो गया. मेरे निचले हिस्से ने काम करना बंद कर दिया. दो साल अस्पताल में भटकता रहा. फिर मैं बनारस से मिर्जापुर आ गया. सब मेरा साथ छोड़ चुके थे. बस मेरे एक दोस्त थे अमित दत्ता जिन्होंने मेरी हमेशा मदद की. यहां उनकी एक ज़मीन थी तो मेरे लिए एक कमरा बना दिया, वहीं रहता हूँ.


परेशानी यह थी कि दिन भर क्या करूं. मिर्ज़ापुर नक्सली क्षेत्र है. आज भी यहां मुसहर जाति है जिनके बच्चे मेरे सामने चूहे पकड़कर खाते थे. मैंने उन्हें ऐसा करने से रोका. उन्हें बुलाया, समझाया और उन्हें पढ़ाने लगा. धीरे धीरे ये बच्चू स्कूल भी जाने लगे. फेसबुक पर मैंने अपने दोस्तों से मदद मांगी. अब नोवल शिक्षा संस्थान के तहत 60-70 बच्चों को मैं पढ़ाता हूँ. 1999 से मैंने पढ़ाना शुरू किया था, आज 20 साल हो गए हैं मुझे बच्चों को पढ़ाते हुए. पहले लोगों को यकीन ही नहीं था कि एक दिव्यांग कैसे बच्चों को पढ़ाएगा. लेकिन धीरे धीरे बच्चे जब पढ़ने लगे तो लोगों का भरोसा कायम हुआ.


3-4 साल के बच्चे मेरे पास आने लगते हैं. इंटर तक मैं उन्हें पढ़ाता हूँ और एक पैसा नहीं लेता हूँ. पहले तो यहां जातिवाद बहुत था इसलिए मुझे शुरूआत में बहुत दिक्कत होती थी. छोटी जाति के लोगों को पढ़ाता था तो बड़ी जाति के लोग नाराज़ हो जाते थे. मैंने उन्हें बहुत समझाया. सबको पढ़ाना बहुत ज़रूरी था. मैंने समझाया जातिवाद कुछ नहीं होता. इस चक्कर में फंसेंगे तो पढ़ाई कैसे हो पाएगी. धीरे धीरे लोग मानने लगे. अब तो ऐसा है कि मुसहर से लेकर चमार के बच्चे और ठाकुर के बच्चे सब एक साथ पढ़ते हैं. शुरूआत में बहुत धमकियां मिलती थी, लेकिन मेरे दोस्त अमित मेरी बहुत मदद कर देते थे. फिर मेरी इस पहल की चर्चा मिर्ज़ापुर से बाहर भी होने लगी. अब तो मुझे मुंबई भी बुलाया गया जहां विवेक ओबरॉय और अनुष्का शर्मा जैसी हस्तियों ने मुझे बुलाकर बहुत इज्जत दी है.


दिन भर बच्चों को पढ़ाता हूँ, फिर शाम के बाद अकेले हो जाता हूँ. परिवार को बहुत याद करता हूँ. चाहता हूँ मेरा भी एक परिवार होता. मेरे कुछ मित्र हैं जो मेरी मदद कर देते हैं. कोई खाने का इंतज़ाम कर देता है, कोई दवाई का खर्चा वहन कर लेता है. इस बीच मेरे माता-पिता का निधन हो चुका था. भाईयों ने साथ छोड़ दिया. लोगों को लगा यह खत्म हो गया है, वो मेरी मौत का इंतज़ार करते रहे. लेकिन मुझे जीना था, मैं जी गया.


अगला लेख: 2019 में इन राशियों पर मेहरबान होंगे भोलेनाथ, सालभर होगी पैसों की बरसात



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 दिसम्बर 2018
Guest Post क्या है ?Guest Post करना क्यों ज़रूरी हैं ?Guest Post करने के फ़ायदे Guest Post करते समय किन-किन बातों का ध्यान दें ?शब्दनगरी पर Guest Post करें यदि आप एक हिंदी ब्लॉगर (Hindi Bloggar) हैं तो आपका यह जानना ज़रूरी है कि Guest Post क्या है ? ये करना क्यों ज़रूरी ह
26 दिसम्बर 2018
31 दिसम्बर 2018
2019 की शुरुआत होने जा रही है और हर किसी के दिमाग में बस यही चल रहा होगा कि कैसा होगा ये नया साल।व्यक्ति के जीवन में राशियों का बड़ा महत्व माना गया है राशियों के आधार पर किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है व्यक्ति को आने वाले समय में किन किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा इन स
31 दिसम्बर 2018
03 जनवरी 2019
जाने रामचरितमानस चौपाई के बारे में:रामायण का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। रामायण की किताब लगभग हर हिंदू घर में मिलती है। रामायण में हर एक किरदारों का अपना एक अलग महत्व है। रामायण के बारे में ज़्यादातर लोगों को टीवी, सीरियल या राम-लीला देखकर ही जानकारी मिली है। बहुत लोग किताब पढ़कर भी रामायण में निपु
03 जनवरी 2019
25 दिसम्बर 2018
SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।यदि आप भी एक अच्छे SEO लेख लेखक बनना चाहते हैं और अपने आर्
25 दिसम्बर 2018
04 जनवरी 2019
2019 लोकसभा चुनावों को लेकर सारी पार्टियां अपने जीत की जद्दोज़हद में लग गए हैं। इस बार पूरा विपक्ष एक होता दिख रहा है वहीं मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। लेकिन एक कहावत है कि जंगल में एक ही शेर होता है और भाजपा इस वाक्य को सही साबित करने में लगी हुई है। इसी के चलते अभी बाकि पार्टियां
04 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब से सत्ता संभाली है तभी से उन्होंने देश को कई सारी योजनाओं से लाभांवित किया है। देश की महिलाओं से लेकर बेटियों तक सभी उनकी किसी ना किसी योजना से लाभांवित हुए हैं और इसके लिए लोगों का प्यार भी उनको भरपूर मिला है। लेकिन हाल ही में उनकी एक योजना की तारीफ दिग्गज टेक
21 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
प्रिय मित्रों/पाठकों, विघ्नविनाशक सिद्घिविनायक भगवान गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है। गणेश जी जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरह मुड़ी होती है, वे सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं। कहते हैं कि सिद्धि विनायक की महिमा अपरंपार है, वे भक
10 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
साल 2018 अब चंद दिनों का मेहमान है लोग बेसब्री से 2019 का इंतज़ार कर रहे हैं। लेकिन 2018 में पीछे मुड़कर देखें तो भारत ने इस साल कई ऐसी उपलब्धियाँ हासिल की जिससे हर भारतीय का सर गर्व से ऊँचा हो गया। नोटबंदी और GST लागू होने के बावज़ूद भारत की इकॉनमी विश्व की सबसे तेज़ गति से बढ़ती इकॉनमी है। इसके साथ ही
27 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x