छोटा सा गांव, बड़ें ख्वाब आज बन गई एक आईपीएस आधिकारी

11 जनवरी 2019   |  रितिका चटर्जी   (42 बार पढ़ा जा चुका है)

छोटा सा गांव, बड़ें ख्वाब आज बन गई एक आईपीएस आधिकारी - शब्द (shabd.in)

न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: जीवन में सफल होने के लिए सिर्फ कुछ बातें जरूरी होती हैं जो हैं लगन और जज्बा। अगर आपके मन में ये दोनों चीजें हैं और जीवन में सफल होने के लिए कुछ करने की चाह है तो आप कभी भी असफल नहीं होएंगे। आपकी मेहनत और लगन के बलबूते आप अपने सभी सपनों को पूरा कर सकते हैं।

आपने अक्सर फिल्मों में देखा होगा कि कैसे कोई बच्चा एक छोटे से गांव और घर से निकलकर एक बड़ा पुलिस अफसर बन जाता है और देश की सेवा करता है, लेकिन हम आपको बता दें कि ऐसा सिर्फ फिल्मों में ही नहीं होता है बल्कि असल जिंदगी में भी कई लोगो के साथ ये होता है और इसके पीछे होता है उनका दृढ़ विश्वास और मेहनत। आज हम आपको एक ऐसी ही एक लड़की के बारे में बताएंगे जो एक छोटे से गांव से निकलकर आईपीएस अफसर बन गई।

हिमाचल के ऊना के ठठ्ठल गांव में जन्मी शालिनी अग्निहोत्री का जन्म 14 जनवरी 1989 में हुआ था। बचपन से ही शालिनी ने देश की सेवा करने का सपना देखा था और आज उसको पूरा कर दिखाया है। बता दें कि शालिनी आज एक आईपीएस अधिकारी बन गई हैं। ना सिर्फ आईपीएस अधिकारी बल्कि शालिनी की आईपीएस की सर्वेश्रेष्ठ ट्रेनी की खिताब भी अपने नाम कर लिया है। शालिनी अपने बैच की सर्वश्रेष्ठ आलराउंडर ट्रेनी चनी गई हैं जिसके लिए उनको प्रधानमंत्री के प्रतिष्ठित बेटन और गृह मंत्री की सर्वश्रेष्ठ रिवाल्वर देकर उनको सम्मानित किया गया है।

बता दें कि शालिनी के पिता एचआरटीसी बबस में कंडक्टर हैं और उनकी मां हाउसवाइफ हैं। शालिनी की बचपन की पढ़ाई धर्मशाला के डीएवी से हुई जिसके बाद उन्होंने हिमांचल प्रदेश एग्रीकल्चर यूनीवर्सिटी से अपना ग्रेजुएशन कम्पलीट किया। जिसके बाद शालिनी UPSC की पढ़ाई करने लगी। शालिनी को पता था कि ये एग्जाम काफी कठिन होता हैं और इसको निकालने के लिए लोग ना जाने कितने साल लगा देते हैं। लेकिन शालिनी ने अपनी पूरी मेहनत और लगन के साथ पढा़ई की बल्कि इस परीक्षा को पास कर दिखाया। शालिनी इस परीक्षा की तैयारी कर रही हैं इस बात का पता उनके घर वालों को भी नहीं था।

शालिनी ने साल 2011 में परीक्षा दी और रिटन क्वालिफाई करने के बाद साल 2012 में इंटरव्यू दिया जो क्लियर हो गया और ऑल इंडिया लेवल पर शालिनी ने 285वीं रैंक हासिल की। दिसंबर 2012 में ही शालिनी हैदराबाद अपनी ट्रेनिंग के लिए चली गई, बता दें कि शालिनी अपने बैच की टॉपर रही थीं। इस वक्त शालिनी की पोस्टिंग कुल्लू है और वहां पर वो सुपरिटेडेंट ऑफ पुलिस की सेवा दे रही हैं।

शलिनी ने बताया कि उनकी इस सफलता का पूरा श्रेय उनके घरवालों को जाता है, उनके माता-पिता ने हमेशा उनका सपोर्ट किया और कभी किसी तरह की रोक-टोक नहीं की, इसलिए आज वो इस मुकाम पर पहुंच पाई हैं। शालिनी ने बताया कि आज जब वो किसी केस को सॉल्व कर लेती हैं और मुजरिम को सजा मिलती हैं तो उन्हें बेहद खुशी मिलती है।

छोटा सा गांव, बड़ें ख्वाब आज बन गई एक आईपीएस आधिकारी

https://www.newstrend.news/204516/shalini-agnihotri-ips-officer-story/?fbclid=IwAR3-nhlsRg3gKk1tSsNEj_ebNcpzhDHL8b-00nkqsnxpLk8ZzRUz6vR6dUs

छोटा सा गांव, बड़ें ख्वाब आज बन गई एक आईपीएस आधिकारी - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: कुंभ मेले के लिए काम करना चाहते हैं तो अप्लाई करें, मिलेंगे 50000 रुपए प्रति माह



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 दिसम्बर 2018
बॉलीवुड के दबंग सलमान खान यारों के यार हैं लेकिन अगर जब कोई उनसे पंगा लेता है तो वो उनसे दुश्मनी भी बखूबी निभाते हैं. सलमान जिसके ऊपर मेहरबान हो जाते हैं तो उनकी जिंदगी बना देते हैं और जब किसी से दुश्मनी होती है तो उसका करियर बिगाड़ भी सकते हैं. उन्होंने बहुत से सितारों क
27 दिसम्बर 2018
25 दिसम्बर 2018
SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।यदि आप भी एक अच्छे SEO लेख लेखक बनना चाहते हैं और अपने आर्
25 दिसम्बर 2018
08 जनवरी 2019
IPS अफसर डीसी सागर अपनी फिटनेस को लेकर पूरे डिपार्टमेंट के लिए मिसाल बने हुए हैं। डीसी सागर मध्य प्रदेश के नक्सली इलाके बालाघाट रेंज के IG पद पर तैनात रहने के बाद वे अभी ADGP ( टेक्निकल सर्विसेस) पुलिस मुख्यालय हैं। बता दें कि डीसी सागर पुलिस डिपार्टमेंट में सबसे फिट अफसर में आते हैं। उनका मानना है
08 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
भारत में लड़कियों के जन्म के समय घरवालों को बहुत चिंता हो जाती है इसके लिए वो लड़की पैदा करने में घबराते हैं. इसकी सबसे बड़ी वजह होती है दहेज, जिसे इकट्ठा करने में मिडिल क्लास फैमिली को बहुत परेशानी होती है लेकिन जो बहुत गरीब होते हैं उन्हें बेटी की शादी में बहुत ज्यादा स
08 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
साल 2014 में जब लोकसभा चुनाव हुए और पूर्ण बहुमत से नरेंद्र मोदी ने भाजपा की जीत दर्ज की तो हर किसी को नरेंद्र मोदी से ढेर सारी उम्मीदें हो गईं. इन उम्मीदों को मोदी सरकार ने एक के बाद एक पूरा करने की कोशिश की लेकिन फिर भी लोगों को उनसे और भी उम्मीदें हैं. इन बातों को ध्यान
10 जनवरी 2019
31 दिसम्बर 2018
2019 की शुरुआत होने जा रही है और हर किसी के दिमाग में बस यही चल रहा होगा कि कैसा होगा ये नया साल।व्यक्ति के जीवन में राशियों का बड़ा महत्व माना गया है राशियों के आधार पर किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है व्यक्ति को आने वाले समय में किन किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा इन स
31 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
मध्य प्रदेश में सत्ता परिवर्तन हो चुकी है, सरकार बदलते ही प्रदेश में खाद की किल्लत हो गई है, कर्ज से राहत पाने वाले किसान अब खाद की कमी की समस्या से जूझ रहे हैं। दरअसल नई सरकार का कहना है कि केन्द्र सरका र ने प्रदेश में खाद की सप्लाई कम कर दी है, जिसकी वजह से ऐसे हालात पैदा हुए हैं, मुख्यमंत्री कमलन
21 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
Guest Post क्या है ?Guest Post करना क्यों ज़रूरी हैं ?Guest Post करने के फ़ायदे Guest Post करते समय किन-किन बातों का ध्यान दें ?शब्दनगरी पर Guest Post करें यदि आप एक हिंदी ब्लॉगर (Hindi Bloggar) हैं तो आपका यह जानना ज़रूरी है कि Guest Post क्या है ? ये करना क्यों ज़रूरी ह
26 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
यूनेस्को द्वारा नालंदा यूनिवर्सिटी को वर्ल्ड हेरिटेज साइट का दर्ज़ा दिया गया ।'नालंदा' नाम की उत्पत्ति 3 संस्कृत शब्दों के संयोजन से हुई: "ना", "आलम" और "दा", जिसका अर्थ है 'ज्ञान के उपहार को ना रोकना'।नालंदा यूनिवर्सिटी दुनिया की सबसे प्राचीन रेज़िडेंशियल यूनिवर्सिट
26 दिसम्बर 2018
31 दिसम्बर 2018
क्या आपके मन में भी कभी ये ख्याल आता है कि आखिर क्यों हर साल न्यू ईयर पर कैलेंडर की तारीखों में बदलाव होता रहता है।आखिर क्यों हर साल त्योहारों से लेकर जन्मदिन तक की सारी तारीखें बदल जाती हैं।अगर आपके मन को भी इन सवालों ने परेशान कर रखा है तो आइए जानते हैं न्यू ईयर मनाने की शुरुआत सबसे पहले कब और कैस
31 दिसम्बर 2018
08 जनवरी 2019
मां को भगवान का दूसरा रूप माना जाता है ..कहते हैं धरती पर भगवान हर जगह, हर समय नही रह सकते इसलिए मां को बना दिया। अक्सर ये देखा जाता है कि जब भी बच्चे पर बात बन आती है तो मां उसकी रक्षा के लिए सबकुछ कर गुजर जाती है। इंसान तो इंसान, जानवरों में भी मां की ममता कम नही होती..
08 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 दिसम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x