जिसका नाम हिन्दुस्तान है…

11 जनवरी 2019   |  इन्दर भोले नाथ   (63 बार पढ़ा जा चुका है)

हर तरफ है, मचा कोहराम,
है बिखरा, टुकड़ों मे आवाम,

है कहीं,नेताओं की मनमानी,
सत्ता को समझे पुस्तानी…

जिसे चुना, खुद को बचाने को,
है वो तैयार, हमें मिटाने को…

लड़ता रहा,जो सत्य के लिए,
उसका कोई ज़िक्र नहीं…
खुदा ढूंढते पत्थरों मे,
इंसानों का कोई फ़िक्र नहीं…

जहाँ हर साल गोदामों मे,
अनाज यूँही सड़ जाते हैं…
वहीं आज भी कई किसान,
किसी दिन भूखा सो जाते हैं…

है आज भी जहाँ ग़रीबी,
गुलाम अमीरों के…
फिर भी हर साल हम,
गणतंत्र दिवस मनाते हैं…

जहाँ अँग्रेज़ी हुई फैसन,
मिटा हिन्दी का नामों-निशान है…
उस देश के हम वासी हैं,
जिसका नाम हिन्दुस्तान है…

—————————————

Acct-इंदर भोले नाथ…
२६/०१/२०१६

अगला लेख: हे कान्हा....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जनवरी 2019
उन गुज़रे हुए पलों से,इक लम्हा तो चुरा लूँ…इन खामोश निगाहों मे,कुछ सपने तो सज़ा लूँ…अरसा गुजर गये हैं,लबों को मुस्काराए हुए…सालों बीत गये “.ज़िंदगी”,तेरा दीदार किये हुए…खो गया है जो बचपन,उसे पास तो बुला लूँ…उन गुज़रे हुए पलों से,इक लम्हा तो चुरा लूँ…जी रहे हैं,हम मगर,जिंदगी
18 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
क्यूँ उदास हुआ खुद से है तूँ कहीं भटका हुआ सा है,न जाने किन ख्यालों मे हर-पल उलझा हूआ सा है,बता ऐ-दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या हैखोया-खोया सा रहता है अपनी ही दुनिया मे,गुज़री हुई यादों मे वहीं ठहरा हुआ सा है,बता ऐ-दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या हैशीशा-ए-ख्वाब तो टूटा नहीं तेरे हा
18 जनवरी 2019
17 जनवरी 2019
हे
हे कान्हा...अश्रु तरस रहें, निस दिन आँखों से बरस रहें,कब से आस लगाए बैठे हैं, एक दरश दिखाने आ जाते...बरसों से प्यासी नैनों की, प्यास बुझाने आ जाते...बृंदावन की गलियों मे, फिर रास रचाने आ जाते...राधा को दिल मे रख कर के, गोपियों संग रास रचा जाते...कहे दुखियारी मीरा तोह से,
17 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x