वचन ,विचार एवं व्यवहार :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

13 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (67 बार पढ़ा जा चुका है)

वचन ,विचार एवं व्यवहार :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरती पर इतने प्राणी है कि उनकी गिनती कर पाना संभव नहीं है | इन प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य माना जाता है | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी इसलिए माना जाता है क्योंकि उसमें जो विशेषतायें हैं वह अन्य प्राणियों में नहीं पायी जाती हैं | वैसे तो ईश्वर ने मनुष्य में विशेषताओं का भण्डार भर दिया है , परंतु इनमें भी तीन मुख्य विशेषतायें मनुष्य को सर्वप्रिय बनाते हुए समाज में स्थापित करती हैं | मनुष्य की तीन मुख्य विशेषतायें हैं :- विचार , वचन एवं व्यवहार | विचार करने की जो क्षमता मनुष्य मनुष्य में है वह किसी दूसरे प्राणी में नहीं है | वचन की जो शक्ति मनुष्य को ईश्वर ने दी है वह किसी भी प्राणी में देखने को नहीं मिलतीं | व्यवहार करने का जो गुण मनुष्य में है वह शायद ही किसी प्राणी में हो | ये तीन विशेषतायें ही मनुष्य को सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ बनाता है | विचार (चिंतन) मनुष्य की विशेष विशेषता है जिसके बल पर मनुष्य ने बहुत विकास किये है और करता चला जा रहा है | संसार की आधुनिकता एवं इसका बदला हुआ मनुष्य के चिंतन का ही परिणाम है | वचन में इतनी शक्ति है कि मनुष्य अपनी वाचनशक्ति से आज राज्य कर रहा है , वहीं मनुष्य का व्यवहार ही मनुष्य को मनुष्य बनाता है | अपने इन तीनों विशेष गुणों का सकारात्मक प्रयोग करके मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बनकर स्थापित हुआ |* *आज हम वैदिकयुग से वैज्ञानिक युग में जीवन यापन कर रहे हैं | आज संसार में विकास तो नित्य हो रहा है परंतु उतना ही विनाश भी हो रहा है | चारों ओर त्राहि - त्राहि मची हुई है , एक अन्जाना भय चहुँओर व्याप्त है ! इसका कारण यह है कि आज मनुष्य नकारात्मकता का शिरार हो रहा है | आज यदि चारों ओर भय व्याप्त है तो उसका मुख्य कारण भी मनुष्य यही तीनों विशेष गुण :- वचन , विचार एवं व्यवहार ही हैं जो कि नकारात्मक हो गये हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज यदि देश व समाज की बात करने के पहले समाज की प्रथम ईकाई परिवार की बात करूँ तो वहाँ भी विघटन के मुख्य कारक मनुष्य के यही तीनों गुण ही दिखाई पड़ते हैं | मनुष्य अपने वचन , विचार एवं व्यवहार पर अंकुश नहीं लगा पा रहा है जिसके कारण परिवार विखण्डित हो रहे हैं | मनुष्य को किसी समाज कब क्या बोलना चाहिए इसका विचार करके ही मनुष्य सकारात्मक व्यवहार करे तो शायद यह स्थिति न बने | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा दोष यह है कि वह आज स्वयं को सबसे बड़ा बुद्धिमान एवं शेष सभी को मूर्ख समझने लगा है | प्राचीनकाल में गुरुकुल में शिष्यों को परिमार्जित करके इन गुणों से ओतप्रोत किया जाता था , परंतु आज की शिक्षाव्यवस्था में यह व्यवस्था ही समाप्त हो गयी है जिसका परिणाम है आज का समाज एवं सामाजिकता |* *आज मनुष्य वचन , विचार एवं व्यवहार की गम्भीरता का त्याग करता चला जा रहा है ! यही कारण है कि छोटी - छोटी बात पर रिश्तों में दरार आ रही है | इस पर विचार करना होगा |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर जन्म लेकर के मनुष्य जन्म से लेकर मृत्यु तक आने को क्रियाकलाप संपादित करता रहता है एवं अपने क्रियाकलापों के द्वारा समाज में स्थापित होता है | कभी-कभी ऐसा होता है कि मनुष्य जन्म लेने के तुरंत बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता है और कभी कभी युवावस्था में उसकी मृत्यु हो जाती है | ऐसी स्
07 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया है | इनमें जलचर , थलचर एवं नभचर तीन श्रेणियाँ मुख्य हैं | इन तीनों श्रेणियों में भी सर्वश्रेष्ठ योनि मानव योनि कही गई है | मनुष्य जीवन सृष्टि की सर्वोपरि कलाकृति है , ऐसी सर्वांगपूर्ण रचना किसी और प्राणी की नहीं है | यह असाधारण उपहार हमको मिला
09 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
वक़्त का विप्लव सड़क पर प्रसव राजधानी में पथरीला ज़मीर कराहती बेघर नारी झेलती जनवरी की ठण्ड और प्रसव-पीर प्रसवोपराँत जच्चा-बच्चा 18 घँटे तड़पे सड़क पर ज़माने से लड़ने पहुँचाये गये अस्पताल के बिस्तर परहालात प्रतिकूल फिर भी नहीं टूटी साँसेंकरतीं वक़्त से दो-दो हाथ जिजीविषा की फाँसें जब एनजीओ उठाते हैं दीन
16 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*हमारे पूर्वजों ने अनेक साधनाएं करके हम सब के लिए दुर्लभ साधन उपलब्ध कराया है |साधना क्या है यह जान लेना बहुत आवश्यक है | जैसा कि हम जानते हैं की कुछ ऋषियों ने एकांत में बैठकर साधना की तो कुछ ने संसार में ही रहकर की स्वयं को साधक बना लिया | साधना का अर्थ केवल एकांतवास या ध्यान नहीं होता | वह स
06 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*भारत एक कृषि प्रधान देश है | यहां समय-समय पर त्यौहार एवं पर्व मनाए जाते रहे हैं | यह सभी पर्व एवं त्योहार कृषि एवं ऋतुओं पर विशेष रूप से आधारित होते थे | इन त्योहारों में परंपरा के साथ साथ आस्था भी जुड़ी होती थी | हमारे त्योहार हमारी संस्कृति का दर्पण होते थे , जो कि समाज में आपसी मेल मिलाप का आधार
22 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया है | इनमें जलचर , थलचर एवं नभचर तीन श्रेणियाँ मुख्य हैं | इन तीनों श्रेणियों में भी सर्वश्रेष्ठ योनि मानव योनि कही गई है | मनुष्य जीवन सृष्टि की सर्वोपरि कलाकृति है , ऐसी सर्वांगपूर्ण रचना किसी और प्राणी की नहीं है | यह असाधारण उपहार हमको मिला
09 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
01 जनवरी 2019
*संपूर्ण संसार में मनुष्य अपने दिव्य चरित्र एवं बुद्धि विवेक के अनुसार क्रियाकलाप करने के कारण ही सर्वोच्च प्राणी के रूप में स्थापित हुआ | मनुष्य का पहला धर्म होता है मानवता , और मानवता का निर्माण करती है नैतिकता ! क्योंकि नैतिक शिक्षा की मानव को मानव बनाती है | नैतिक गुणों के बल पर ही मनुष्य वंदनी
01 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य समय-समय पर सुख - दुख , प्रसन्नता एवं कष्ट का अनुभव करता रहता है | संसार में कई प्रकार के कष्टों से मनुष्य घिरा हुआ है परंतु मुख्यतः दो प्रकार के कष्ट होते हैं एक शारीरिक कष्ट और दूसरा मानसिक कष्ट | शारीरिक कष्ट से मनुष्य यदि ग्रसित है तो वह औषधि ले करके अपना कष्ट मिटा सकता है पर
22 जनवरी 2019
30 दिसम्बर 2018
*इस धराधाम पर आदिकाल से मानव जीवन बहुत ही दिव्य एवं विस्तृत रहा है | मनुष्य अपने जीवन काल में अनेक प्रकार के क्रियाकलापों से हो करके जीवन यात्रा पूरी करता है | यहाँ मनुष्य के कर्मों के द्वारा समाज में उसकी श्रेणी निर्धारित हो जाती है | यह निर्धारण समाज में तभी हो पाता है जब मनुष्य के कर्म समाज के अन
30 दिसम्बर 2018
09 जनवरी 2019
*सनातन धर्म में यह बताया जाता है कि सृष्टि की रचना करने वाले परम पिता परमात्मा जिन्हें ईश्वर कहा जाता है वे सृष्टि के कण-कण में व्याप्त हैं | कोई भी ऐसा स्थान नहीं है जहां परमात्मा की उपस्थिति न हो | उस परमात्मा का कोई स्वरूप नहीं है | गोस्वामी तुलसीदास जी अपने मानस में लिखते हैं :-- "बिनु पग चलइ सु
09 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x