सूर्य का मकर राशि में गोचर

14 जनवरी 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (84 बार पढ़ा जा चुका है)

सूर्य का मकर राशि में गोचर

सूर्य का मकर राशि में संक्रमण 2019

पौष शुक्ल अष्टमी, सोमवार 14 जनवरी 2019 को सायं सात बजकर बावन मिनट के लगभग उत्तराषाढ़ नक्षत्र में रहते हुए राहू केतु के मध्य बव करण और सिद्ध योग में भगवान भास्कर मित्र ग्रह गुरु की धनु राशि से निकलकर शत्रु गृह शनि की मकर राशि में संचार करेंगे | जिसे “मकर संक्रान्ति” के नाम से जाना जाता है | पुण्यकाल मंगलवार 15 जनवरी को सूर्योदय के समय सवा सात बजे से होगा | इसी दिन सूर्य का उत्तरायण गमन आरम्भ हो जाता है | सभी को सूर्यदेव के उत्तरायण प्रस्थान की हार्दिक शुभकामनाएँ | भगवान सूर्य बुधवार 13 फरवरी 2019 तक मकर राशि में निवास करके आगे कुम्भ राशि में प्रस्थान करेंगे | जैसा कि हम सभी जानते हैं, सूर्य समस्त चराचर में प्रकाश, ऊर्जा तथा प्राणों का संचार करने वाला आत्मतत्व है – प्राण तत्व है – शक्ति है | साथ ही, वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य पिता तथा पूर्वजों का भी प्रतिनिधित्व करता है | मकर राशि में भ्रमण करते हुए सूर्यदेव क्रमशः उत्तराषाढ़, श्रवण और धनिष्ठा नक्षत्रों पर विचरण करेंगे | उत्तराषाढ़ राजसी प्रवृत्ति का ऊर्ध्वमुखी ध्रुव अर्थात स्थिर नक्षत्र है तथा इसकी नाड़ी कफ है | श्रवण की नाड़ी भी कफ है और यह भी राजसी प्रवृत्ति का ऊर्ध्वमुखी किन्तु चर नक्षत्र है | धनिष्ठा ऊर्ध्वमुखी नक्षत्र है किन्तु इसकी नाड़ी पित्त है तथा यह तामसी प्रवृत्ति का और चर नक्षत्र है |

यों देखा जाए तो सूर्य की अपनी राशि सिंह है और मेष राशि में सूर्य अपनी उच्च राशि में होता है | अब इस दृष्टि से यदि देखें तो मकर राशिगत सूर्य अपनी उच्च राशि से दशम भाव में तथा अपनी राशि सिंह से छठे भाव में गोचर करता है | माना मकर राशि का अधिपति ग्रह शनि सूर्य का शत्रु ग्रह है, किन्तु सूर्य भी दुर्बल ग्रह तो है नहीं | साथ ही मकर और कुम्भ राशियाँ सूर्य के अपने पुत्र शनि की राशियाँ हैं | अतः सूर्य का यह गोचर जातक को किसी भी विपरीत परिस्थिति से लड़कर आगे बढ़ने में सहायता ही करेगा | जातक के जीवन में इस समय समस्याएँ आ सकती हैं किन्तु अपने बुद्धिबल से तथा अपने पिता की सहायता से वह इन समस्याओं से मुक्ति भी प्राप्त करने में सक्षम हो सकता है | तो, इन्हीं समस्त बातों को ध्यान में रखते हुए आइये जानने का प्रयास करते हैं कि मकर राशि में भ्रमण करते हुए सूर्य के विभिन्न राशियों के जातकों के लिए क्या सम्भावित परिणाम हो सकते हैं :-

मेष : मेष राशि के लिए सूर्य पंचमेश होकर दशम भाव में गोचर कर रहा है | दशम भाव व्यवसाय का / नौकरी का भाव होता है | पंचमेश का दशम भाव में गोचर निश्चित रूप से इस भाव को बली बना रहा है | आपके कार्य में प्रगति के साथ साथ सामाजिक स्तर पर भी आपके सम्मान में वृद्धि की सम्भावना है | क्योंकि दशम भाव पंचम से छठा भाव हो जाता है इसलिए सम्भव है कार्यक्षेत्र में आपको किसी प्रकार के विरोध अथवा नकारात्मकता का भी सामना करना पड़ जाए | 24 जनवरी के बाद से स्थितियों में सुधार की सम्भावना है | आपकी बुद्धि और दृढ़ इच्छाशक्ति आपको विरोधियों को परास्त करने में सहायक होंगे और आप स्वयं अपने लिए आगे बढ़ने का मार्ग निकाल सकेंगे | प्रातः सूर्य को अर्घ्य समर्पित करना आपके हित में रहेगा |

वृषभ : आपका चतुर्थेश होकर सूर्य आपके नवम भाव में गोचर कर रहा है | आपके लिए यह गोचर अधिक अनुकूल प्रतीत होता है | आपको अपना लक्ष्य अधिक निकट प्रतीत होगा और आपमें उस तक पहुँचने का उत्साह भी बढ़ेगा | पिता का स्वास्थ्य चिन्ता का विषय हो सकता है | किसी भी महत्त्वपूर्ण विषय में निर्णय लेने से पूर्व उसके हर पक्ष पर भली भाँति निर्णय करेंगे तो सही दिशा में आगे बढ़ सकते हैं | यदि कहीं आपका पैसा अटका हुआ है और आप उसे भूल गए हैं तो अचानक ही आपको उस धन की प्राप्ति हो सकती है | आप कोई नई प्रॉपर्टी भी ख़रीद सकते हैं |

मिथुन : आपके लिए सूर्य का मकर राशि में संचार बहुत अनुकूल नहीं प्रतीत होता | पित्त सम्बन्धी अथवा जोड़ों में दर्द या ज्वर आदि की समस्याएँ हो सकती हैं | जो कुछ भी करें भली भाँति सोच विचार कर करें | कुछ छिपे हुए विरोधी इस अवधि में मुखर हो सकते हैं जिनके कारण समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है | छोटे भाई बहनों के साथ किसी विवाद में भी फँस सकते हैं | सन्तान के साथ व्यर्थ की बहस हो सकती है | किन्तु सन्तान की शिक्षा के विषय में कोई शुभ समाचार आपको प्राप्त हो सकता है | पिता का स्वास्थ्य चिन्ता का विषय हो सकता है |

कर्क : आपके लिए सूर्य द्वितीयेश होकर सप्तम भाव में गोचर कर रहा है जो दूसरे भाव से छठा भाव हो जाता है | अर्थात अपने से छठे भाव में गोचर कर रहा है | आपके स्वभाव में चिडचिडापन आ सकता है | आपके तथा आपके जीवन साथी के सम्बन्धों में किसी प्रकार का अहम् आड़े आ सकता है | पार्टनरशिप में कार्य कर रहे हैं तो वहाँ भी आपके अपने चिडचिडेपन के कारण किसी प्रकार की बहस हो सकती है | आपके जीवन साथी अथवा परिवार में किसी बुज़ुर्ग का स्वास्थ्य चिन्ता का विषय हो सकता है | किन्तु इसके साथ साथ आपके व्यवसाय में प्रगति की भी सम्भावनाएँ हैं | सम्भव है कोई नया प्रोजेक्ट भी आपको प्राप्त हो जाए | राजनीति में हैं तो आपको कोई पदभार भी सौंपा जा सकता है |

सिंह : आपकी लग्न का स्वामी होकर सूर्य छठे भाव में गोचर कर रहा है | स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ हो सकती हैं | अतः यदि हल्का सा भी बुख़ार अथवा सरदर्द आदि हो तो तुरन्त डॉक्टर से परामर्श लें | आपके स्वभाव में कुछ अधिक तेज़ी आ सकती है | साथ ही व्यावसायिक रूप से अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए आप पहले से कहीं अधिक प्रयत्नशील हो सकते हैं जिस कारण से अपना कार्य समय पूर्ण कर पाने में भी सफल हो सकते हैं | कोई कोर्ट केस भी चिन्ता का विषय हो सकता है | स्पोर्ट्स में हैं तो सावधानीपूर्वक खेलें अन्यथा किसी दुर्घटना के भी शिकार होने की सम्भावना है |

कन्या : आपका द्वादशेश आपके पंचम भाव में गोचर कर रहा है | कार्य तथा शिक्षा की दृष्टि से यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | उच्च शिक्षा के लिए अथवा किसी अन्य कार्य के लिए आप कहीं विदेश के लिए भी प्रस्थान कर सकते हैं अथवा उसके लिए तैयारी कर सकते हैं | ऐसा करना आपके हित में रहेगा तथा नवीन प्रोजेक्ट्स भी आपको प्राप्त हो सकते हैं | नौकरी में हैं तो अपने अधिकारियों के साथ आपके सम्बन्धों में घनिष्ठता आ सकती है | सन्तान की शिक्षा में समस्या आ सकती है | यदि सन्तान विदेश में कहीं है तो घर भी वापस आ सकती है जो उसके हित में होगा |

तुला : एकादशेश होकर सूर्य आपके चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है | व्यावसायिक दृष्टि से यह गोचर आपके अनुकूल प्रतीत होता है | हाँ आपके स्वभाव में चिडचिडापन बढ़ सकता है जिसके कारण पारिवारिक और व्यावसायिक स्तरों पर कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है | अतः अपने स्वभाव में परिवर्तन लाने के लिए प्राणायाम तथा ध्यान आदि का सहारा लें तो अच्छा रहेगा | अपने किसी अधिकारी के विरोध का सामना करना पड़ सकता है | घर को रेनोवेट करा सकते हैं |

वृश्चिक : आपका दशमेश आपके तृतीय भाव में गोचर कर रहा है | आपके आत्मविश्वास में वृद्धि का समय प्रतीत होता है | साथ ही कार्य स्थल में साथियों के साथ अथवा छोटे भाई बहनों के साथ व्यर्थ की बहस भी हो सकती है जो मानसिक तनाव का कारण बन सकती है | आपके किसी कार्य के पूर्ण होने की भी सम्भावना इस अवधि में की जा सकती है | आप कोई नया कार्य भी आरम्भ कर सकते हैं जो आपके लिए आर्थिक दृष्टि से लाभदायक सिद्ध हो सकता है |

धनु : नवमेश होकर सूर्य आपके द्वितीय भाव में गोचर कर रहा है | यद्यपि यह नवम भाव से छठा भाव बनता है, किन्तु फिर भी धनु राशि के लिए सूर्य का ये गोचर आर्थिक रूप से अनुकूल प्रतीत होता है | किसी सरकारी तन्त्र से भी आर्थिक लाभ की सम्भावना है | यदि सरकारी नौकरी में हैं तो पदोन्नति की भी सम्भावना को जा सकती है | अपना व्यवहार दूसरों के साथ उचित रखेंगे तो सम्बन्धों में कड़वाहट से बच सकते हैं | आँखों में किसी प्रकार की समस्या हो सकती है | डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें |

मकर : अष्टमेश होकर सूर्य आपकी लग्न में गोचर कर रहा है | आपको हल्के ज्वर, पित्त अथवा सरदर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है | यदि आपने अपने व्यवहार को सही नहीं रखा तो सम्बन्धों में कटुता का भी सामना करना पड़ सकता है | आपके अपने अहम् के कारण जीवन साथी के साथ सम्बन्धों में कड़वाहट आ सकती है | आपका कोई पुराना रहस्य भी इस अवधि में सामने आ सकता है जो आपके हित में नहीं होगा |

कुम्भ : सप्तमेश का द्वादश भाव में गोचर हो रहा है | सम्भव है आपको इस पूरी अवधि में लम्बी यात्राएँ करनी पड़ जाएँ | सम्भव है जीवन साथी के साथ विदेश यात्रा की योजना आप बना लें जो न केवल आपके लिए आमोद प्रमोद का साधन होगी बल्कि वापस लौटने पर आप स्वयं में एक नवीन स्फूर्ति का भी अनुभव करेंगे | पार्टनरशिप में कोई कार्य कर रहे हैं तो उस पार्टनरशिप के टूटने की सम्भावना है | यदि कोई प्रेमप्रसंग चल रहा है तो उसमें भी अलगाव हो सकता है | जीवन साथी का स्वास्थ्य चिन्ता का विषय हो सकता है |

मीन : सूर्य का मकर राशि में गोचर आपके उत्साह में तथा कार्यक्षमता में वृद्धि का सूचक है जिसके कारण आपके कार्य में प्रगति तथा आपके यश में वृद्धि की सम्भावना है और अर्थलाभ की भी सम्भावना है | यह गोचर आपको अन्तर्मुखी भी बना सकता है तथा स्वार्थी भी | आपकी भेंट किसी ऐसे व्यक्ति से हो सकती है जो बहुत अधिक प्रभावशाली होगा और भविष्य में उसके द्वारा आपको लाभ भी हो सकता है | आपके विरोधी शान्त होंगे और यदि कोई कोर्ट केस चल रहा है तो उसमें भी अनुकूल परिणाम की आशा की जा सकती है | ज्वर अथवा सरदर्द सम्बन्धी समस्याओं से आप परेशान हो सकते हैं |

जैसा कि ऊपर लिखा, मकर राशि में भ्रमण करते हुए भगवान भास्कर निरन्तर ऊर्ध्वमुखी नक्षत्रों के प्रभाव में रहेंगे, और लगभग 25 दिन कफ प्रकृति के नक्षत्रों के प्रभाव में रहेंगे | इसका सामान्य अर्थ यह होता है कि जन साधारण में कफ की प्रधानता रह सकती है तथा अधिकाँश लोग प्रगति के पथ पर अग्रसर रह सकते हैं | वैसे भी सूर्य का उत्तरायण प्रस्थान वैदिक ज्योतिष की दृष्टि से बहुत उत्तम माना जाता है | अतः सूर्य या किसी भी अन्य ग्रह के किसी विशिष्ट राशि में संचार के क्या फल हो सकते हैं इसका विस्तृत अध्ययन तो एक Astrologer व्यक्ति विशेष की कुण्डली समग्र अध्ययन करने के बाद ही बता सकता है | यहाँ तो केवल सामान्य परिणामों के विषय में ही लिखा जा सकता है |

अन्त में, सभी आदित्यगण हम सबके हृदयों से अज्ञान का अन्धकार दूर कर ज्ञान का प्रकाश प्रसारित करें, हम सबके विचारों में सकारात्मकता का संचार करें और हमारी रचनाधर्मिता में वृद्धि करते हुए हम सबको सुखी, स्वस्थ तथा ऊर्ध्वमुखी अर्थात प्रगतिशील बनाए रखें...

ॐ घृणिः सूर्य आदित्य नमः ॐ

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/01/14/sun-transit-in-capricorn/

अगला लेख: मकर संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएँ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जनवरी 2019
अर्द्ध कुम्भ प्रयागराज 2019चौदह जनवरी से मकरसंक्रान्ति के स्नान के साथ ही प्रयागराज में अर्द्धकुम्भ मेला आरम्भ होने जा रहाहै | जो चार मार्च को सम्पन्न होगा | कुम्भ मेला हर बारह वर्ष में आता है यह तोसभी जानते हैं | कुम्भ के आयोजन में नवग्रहों में से सूर्य, चन्द्र, गुरु और शनि की भूमिका महत्वपूर्ण मान
12 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
21 से 27 जनवरी 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
21 जनवरी 2019
02 जनवरी 2019
प्रदोष व्रत 2019कर्पूगौरंकरुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम् |सदा वसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानी सहितन्नमामि ||कल यानी गुरूवार तीन जनवरी को वर्ष 2019 का प्रथम प्रदोषव्रत होगा | सबसे पहले तो आइये जानते हैं कि प्रदोष व्रत होता क्या है |प्रत्येकमाह के शुक्ल और कृष्ण दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष क
02 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
14 से 20 जनवरी 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
13 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
रा
राग : शुभ्रा समूचे विश्व में मनाए जानेवाले भिन्न भिन्न त्योहार मानव की उत्सव मनाने की सहज प्रवृत्ति से जुड़े हैं और मौसम से, प्रकृति से इनका एक अटूट रिश्ता है। गणेशोत्सव के आख़िरी दिन गणेशजी को विदा देते समय , और कृष्ण जन्माष्टमी के दिन कृष्ण का स्वागत करते समय ब
13 जनवरी 2019
01 जनवरी 2019
शुक्र का वृश्चिक राशि में गोचर सर्वप्रथम सभी को नववर्ष 2019 कीहार्दिक शुभकामनाएँ | आज मंगलवार एक जनवरी को प्रातः नौ बजकर पचास मिनट पर बुध कागोचर धनु राशि में हुआ है, और आज ही रात्रि आठबजकर तैतालीस मिनट के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथ
01 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
सूर्यके उत्तरायण गमन के पर्व मकर संक्रान्ति की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…इसशुभावसर पर प्रस्तुत है महाभारत के वनपर्व अध्याय तीन से उद्धृत सूर्यअष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम्… धौम्यउवाचसूर्योSर्यमा भगस्त्वष्टा पूषार्क: सविता रवि: |गभस्तिमानज: कालो मृत्युर्धाता प्रभाकर: ||पृथिव्यापश्च तेजश्च खं वायुश्च परायणम
15 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
24 जनवरी 2019
31 दिसम्बर 2018
2019 की शुरुआत होने जा रही है और हर किसी के दिमाग में बस यही चल रहा होगा कि कैसा होगा ये नया साल।व्यक्ति के जीवन में राशियों का बड़ा महत्व माना गया है राशियों के आधार पर किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है व्यक्ति को आने वाले समय में किन किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा इन स
31 दिसम्बर 2018
04 जनवरी 2019
व्यक्ति के जीवन में सुख और दुख ग्रहों की चाल पर निर्भर करता है हर व्यक्ति के जीवन में रोजाना किसी ना किसी प्रकार के बदलाव देखने को मिलते हैं ज्योतिष के जानकारों का ऐसा मानना है कि ग्रहों में बदलाव होने की वजह से संयोग बनते हैं जिसकी वजह से सभी 12 राशियां प्रभावित होती है आज हम आपको ऐसी भाग्यशाली राश
04 जनवरी 2019
01 जनवरी 2019
शुक्र का वृश्चिक राशि में गोचर सर्वप्रथम सभी को नववर्ष 2019 कीहार्दिक शुभकामनाएँ | आज मंगलवार एक जनवरी को प्रातः नौ बजकर पचास मिनट पर बुध कागोचर धनु राशि में हुआ है, और आज ही रात्रि आठबजकर तैतालीस मिनट के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथ
01 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
बुधका मकर में गोचररविवार 20 जनवरी को रात्रि नौ बजकरसात मिनट के लगभग पौष शुक्ल पूर्णिमा को विष्टि करण और विषकुम्भ योग में बुध कागोचर मकर राशि में हो चुका है | बुध इस समय उत्तराषाढ़ नक्षत्र पर है तथा अस्त है |यहाँ से 26 जनवरी को बुध श्रवण नक्षत्र और तीन फरवरी को धनिष्ठा नक्षत्र पर भ्रमणकरता हुआ सात फरव
24 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
22 जनवरी 2019
27 जनवरी 2019
ना
नव रसो की खान,आशा है, अभिलाषा है त्यागमयी ममतामयी जीवन की परिभाषा है श्रद्धासमर्पण दृश्यविहीन सी माया की परछाई ईश्वर की भरपाई करने तू जगत में आई बहुतेरे रूप तेरे बहुकार्यो में पारंगत तू शाश्वत अनुराग से भरी दुआये लुटाती तू बिना जताएअंतर्मन को पढ, चिन्ता भय मुक्त करती सौभाग्यवती भव मे हाथ उठे, सदैव आ
27 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
संक्रान्ति 2019 और मकर संक्रान्तिॐ घृणि: सूर्य आदित्य नम: ॐआज रात्रि सातबजकर पावन मिनट के लगभग भगवान भास्कर गुरुदेव की धनु राशि से निकल कर महाराज शनिकी मकर राशि में गमन करेंगे और इसके साथ उत्तर दिशा की ओर उनका प्रस्थान आरम्भ होजाएगा | और कल यानी 15 जनवरी – मकर संक्रान्ति को सूर्य के मकर राशि में संक
14 जनवरी 2019
01 जनवरी 2019
शुक्र का वृश्चिक राशि में गोचर सर्वप्रथम सभी को नववर्ष 2019 कीहार्दिक शुभकामनाएँ | आज मंगलवार एक जनवरी को प्रातः नौ बजकर पचास मिनट पर बुध कागोचर धनु राशि में हुआ है, और आज ही रात्रि आठबजकर तैतालीस मिनट के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथ
01 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
सूर्यके उत्तरायण गमन के पर्व मकर संक्रान्ति की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…इसशुभावसर पर प्रस्तुत है महाभारत के वनपर्व अध्याय तीन से उद्धृत सूर्यअष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम्… धौम्यउवाचसूर्योSर्यमा भगस्त्वष्टा पूषार्क: सविता रवि: |गभस्तिमानज: कालो मृत्युर्धाता प्रभाकर: ||पृथिव्यापश्च तेजश्च खं वायुश्च परायणम
15 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x