मकर संक्रान्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

15 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (66 बार पढ़ा जा चुका है)

मकर संक्रान्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारतीय मनीषियों ने मानवमात्र के जीवन में उमंग , उल्लास एवं उत्साह का अनवरत संचार बनाये रखने के लिए समय समय पर पर्वों एवं त्यौहारों का सृजन किया है | विभिन्न त्यौहारों के मध्य "मकर संक्रान्ति" के साथ मानव मात्र की अनुभूतियां गहराई से जुड़ी हैं | "मकर संक्रान्ति" सम्पूर्ण सृष्टि में जीवन का संचार करने वाले भगवान सूर्य की उपासना के साथ ही यह जन आस्था व लोकरुचि का पर्व है | जैसे हम दिन को सकारात्मक व दिन को नकारात्मक मानते हैं वैसे ही देवताओं की रात्रि को दक्षिणायन व दिन को उत्तरायण कहा गया है | जब भगवान सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो देवताओं का दिन अर्थात उत्तरायण प्रारम्भ होता है और पृथ्वी पर लोकमंगल के शुभकार्य प्रारम्भ हो जाते हैं | वैज्ञानिक तथ्यों को देखा जाय तो भी "मकर संक्रांति" का महत्वपूर्ण स्थान है | वैज्ञानिकों के अनुसार जब सूर्य उत्तरायण में जाता है तो वह अपने ताप से शीत के प्रकोप को शान्त करता है | "मकर संक्रान्ति" की शुभता का एक उदाहरण हमें महाभारत से प्राप्त होता है | इच्छामृत्यु का वरदान प्राप्त किये पितामह भीष्म दक्षिणायन में शरशैय्या पर गिरे | परंतु उन्होंने तब तक मृत्यु की इच्छा नहीं की जब तक सूर्य उत्तरायण में नहीं आये , अर्थात "मकर संक्रान्ति" के बाद ही उन्होंने अपने प्राण त्यागे | ऐसी मान्यता है कि उत्तरायण में इस शरीर का त्याग होने पर जीव को सद्गति प्राप्त होती है | अत: जीवन में मकर संक्रान्ति का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है |* *आज के ही दिन "नाथ सम्प्रदाय" के गुरु गोरखनाथ ने योगियों की विशाल सेना का सामना योगियों की विशाल सेना के साथ किया था | समयाभाव में चावल दाल सब्जी आदि एक ही पात्र में बनाकर योगियों ने भोजन किया और एक नया व्यंजन तैयार हो गया जिसे "खिचड़ी" का नाम दिया गया | "मकर संक्रान्ति" के दिन पहली बार "खिचड़ी" बनने के कारण आज के दिन उत्तर - प्रदेश व बिहार में यह पर्व "खिचड़ी" के रूप में मनाया जाता है | "खिचड़ी" का अर्थ यही हुआ कि जहाँ विभिन्न वस्तुयें मिलकर एक हो जायं वह है "खिचड़ी | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहूँगा कि जिस प्रकार खिचड़ी में अनेक सामग्रियाँ मिलकर एक हो जाती हैं उसी प्रकार अनेक संस्कृतियाँ मिलकर हमारे विशाल देश का निर्माण करती हैं | "मकर संक्रान्ति" का पर्व भारतवर्ष के सभी प्रान्तों में अलग-अलग नाम व भाँति-भाँति के रीति-रिवाजों द्वारा भक्ति एवं उत्साह के साथ धूमधाम से मनाया जाता है | छत्तीसगढ़, गोआ, ओड़ीसा, हरियाणा, बिहार, झारखण्ड, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, राजस्थान, सिक्किम, उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड, पश्चिम बंगाल, और जम्मू आदि में इसे "मकर संक्रान्ति" तो तमिलनाडु में ताइ पोंगल व उझवर तिरुनल के रूप में मनाया जाता है | गुजरात एवं उत्तराखण्ड में इसे "उत्तरायणी" तो हरियाणा, हिमाचल प्रदेश व पंजाब में "माघी" असम में "भोगाली बिहु" , कश्मीर घाटी में शिशुर सेंक्रात , उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार में "खिचड़ी" , पश्चिम बंगाल में "पौष संक्रान्ति" तथा कर्नाटक में "मकर संक्रमण" के रूप में हर्षौ़ल्लास से मनाया जाता है |* *"मकर संक्रान्ति" की सुबह स्नान दान का विशेष महत्व है | दान करने के बाद "खिचड़ी" बनाकर खाना शुभ माना गया है |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 जनवरी 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परमपिता परमात्मा ने एक से अनेक होने की कामना करके भिन्न - भिन्न योनियों का सृजन करके उनमें जीव का आरोपण किया | जड़ - चेतन जितनी भी सृष्टि इस धराधाम पर दिखाई पड़ती है सब उसी कृपालु परमात्मा के अंश से उत्पन्न हुई | कहने का तात्पर्य यह है कि सभी जीवों के साथ ही जड़ पदार्थों में भी
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*हमारे पूर्वजों ने अनेक साधनाएं करके हम सब के लिए दुर्लभ साधन उपलब्ध कराया है |साधना क्या है यह जान लेना बहुत आवश्यक है | जैसा कि हम जानते हैं की कुछ ऋषियों ने एकांत में बैठकर साधना की तो कुछ ने संसार में ही रहकर की स्वयं को साधक बना लिया | साधना का अर्थ केवल एकांतवास या ध्यान नहीं होता | वह स
06 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर जन्म लेकर के मनुष्य जन्म से लेकर मृत्यु तक आने को क्रियाकलाप संपादित करता रहता है एवं अपने क्रियाकलापों के द्वारा समाज में स्थापित होता है | कभी-कभी ऐसा होता है कि मनुष्य जन्म लेने के तुरंत बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता है और कभी कभी युवावस्था में उसकी मृत्यु हो जाती है | ऐसी स्
07 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x