मातृभाषा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

मातृभाषा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्न - भिन्न आंचलिक क्षेत्रों में बोली जाने वाली भाषा भी कम महत्वपूर्ण नहीं है | इसे ही मातृभाषा कहा जाता है | जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने परिवार में जो पहली भाषा सीखता है वही उसकी मातृभाषा कहलाती है | मातृभाषा किसी भी व्यक्ति के परिवेश के साथ ही सामाजिक एवं भाषाई पहचान होती है | मातृभाषा मात्र संवाद ही नहीं अपितु संस्कृति और संस्कारों की संवाहिका है | भाषा और संस्कृति केवल भावनात्मक विषय नहीं, अपितु देश की शिक्षा, ज्ञान-विज्ञान और तकनीकी विकास से जुड़ा है | मातृभाषा के द्वारा ही मनुष्य ज्ञान को आत्मसात करता है, नवीन सृष्टि का सृजन करता है तथा मेधा, पौरूष और ऋतम्भरा प्रज्ञा का विकास करता है | किसी भी राष्ट्र की पहचान उसकी भाषा और उसकी संस्कृति से होती है | विचारों एवं भावनाओं की अभिव्यक्ति तो मूलतः मातृभाषा में ही होती है | मातृभाषा सुसम्बद्ध और सुव्यवस्थित योजना की पूर्ति का महत्वपूर्ण घटक है | बच्‍चे को उसी भाषा में प्रारम्भिक शिक्षा दी जाती है जिस भाषा में उसके माता-पिता, दादा-दादी, भाई-बहन व परिवार के सदस्य बातें करते हैं | भाषा भावनाओं और संवेदनाओं को मूर्तरूप दिए जाने का माध्यम है न कि प्रतिष्ठा का प्रतीक | विश्व के अन्य देशों में मातृभाषा की क्या स्थिति है, इसका वैचारिक और व्यावहारिक विश्‍लेषण करते हैं तब ज्ञात होता है कि विविध राष्ट्रों की समृद्धि और स्वाभिमान की जड़ें मातृभाषा से सिंचित हो रही हैं | राष्ट्र की क्षमता और राष्ट्र के वैभव के निर्माण में मातृभाषा का महत्वपूर्ण योगदान है | संस्कार, साहित्य- संस्कृति, सोच, समन्वय, शिक्षा, सभ्यता का निर्माण, विकास और उसका वैशिष्ट मातृभाषा में ही संभव है |* *आज प्रत्येक भारतवासी अपनी मातृभाषा का त्याग करने के लिए उतावला सा प्रतीत होता है | प्राथमिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद छात्र जैसे उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए विद्यालय में प्रवेश लेता है वह अपनी मातृभाषा , राष्ट्रभाषा मैं बात करना अपना अपमान समझने लगता है | अपनी आंचलिक भाषा , पारिवारिक भाषा का त्याग करके वह या तो खड़ी बोली या फिर अंग्रेजी भाषा का प्रयोग बड़ी शान से करता है | ऐसा करके उसे लगता है कि वह विशेष व्यक्ति बन गया है जबकि सच्चाई है वह अपनी मातृभाषा तक का त्याग करके अपनी पहचान तक खोने लगता है | किसी की मातृभाषा को सुनकर उसके परिवेश या उसके समाज का अंदाजा लगाया जा सकता है , परंतु जब मनुष्य अपनी मातृभाषा का त्याग कर देता है तो उसे पहचान पाना मुश्किल हो जाता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सभी भारतवासियों से यही कहना चाहूंगा कि आप अपने कार्यालय में चाहे जिस भाषा का प्रयोग करें परंतु अपने समाज में अपनी मातृभाषा का त्याग करके विशेष बनने का प्रयास न करें नहीं तो कुछ भी शेष नहीं रह जाएगा | अपनी मातृभाषा के विषय में एवं उसके महत्व के विषय में लिखते हुये भारतेंदु हरिश्चंद्र जी ने कहा है :- "निज भाषा उन्नति अहै सब भाषा को मूल" अतः इस मूल को बचाए रखने के लिए समय-समय पर समाज में मातृभाषा पर आधारित कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताएं भी आयोजित करने की आवश्यकता आज आवश्यक दिखाई पड़ रही है |* *जिस प्रकार शेर की खाल को और करते गीदड़ शेर नहीं बन सकता उसी प्रकार हम अपनी मातृभाषा का त्याग करके अंग्रेज बन सकते हैं | इसका ध्यान सबको रखना चाहिए |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 जनवरी 2019
*जब से सृष्टि का सृजन हुआ तब से लेकर आज तक सनातन धर्म के छांव तले सृष्टि चलायमान हुई | परिवर्तन सृष्टि का नियम है | जो कल था वह आज नहीं है जो आज है वह कल नहीं रहेगा , दिन बदलते जाते हैं और एक दिन ऐसा भी आता है जिसे मनुष्य वर्ष का पहला दिन मानकर नववर्ष मनाने में लग जाता है | विचारणीय विषय है कि हम स
01 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया है | इनमें जलचर , थलचर एवं नभचर तीन श्रेणियाँ मुख्य हैं | इन तीनों श्रेणियों में भी सर्वश्रेष्ठ योनि मानव योनि कही गई है | मनुष्य जीवन सृष्टि की सर्वोपरि कलाकृति है , ऐसी सर्वांगपूर्ण रचना किसी और प्राणी की नहीं है | यह असाधारण उपहार हमको मिला
09 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
*सनातन धर्म में यह बताया जाता है कि सृष्टि की रचना करने वाले परम पिता परमात्मा जिन्हें ईश्वर कहा जाता है वे सृष्टि के कण-कण में व्याप्त हैं | कोई भी ऐसा स्थान नहीं है जहां परमात्मा की उपस्थिति न हो | उस परमात्मा का कोई स्वरूप नहीं है | गोस्वामी तुलसीदास जी अपने मानस में लिखते हैं :-- "बिनु पग चलइ सु
09 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य जहाँ समय समय पर दिव्य ज्ञान के सद्गुणों को प्राप्त करता रहता है वहीं उसको काम , क्रोध , मोह , लोभ आदि भी अपने शिकंजे में कसने को प्रतिक्षण तत्पर रहते हैं | मनुष्य का तनिक भी डगमगाना उन्हें इस पथ का पथिक बना देता है | मनुष्य को लोभ ले डूबता है | लोभ क्या है, लोभ लालच को कहते हैं।
06 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य समय-समय पर सुख - दुख , प्रसन्नता एवं कष्ट का अनुभव करता रहता है | संसार में कई प्रकार के कष्टों से मनुष्य घिरा हुआ है परंतु मुख्यतः दो प्रकार के कष्ट होते हैं एक शारीरिक कष्ट और दूसरा मानसिक कष्ट | शारीरिक कष्ट से मनुष्य यदि ग्रसित है तो वह औषधि ले करके अपना कष्ट मिटा सकता है पर
22 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*मनुष्य जब इस धरा धाम पर जन्म लेता है तो उसके जन्म से लेकर की मृत्यु पर्यंत पूरे जीवन काल में सुख एवं दुख समय समय पर आते जाते रहते हैं | प्रायः विद्वानों ने अपनी टीकाओं में यह लिखा है कि जब मनुष्य के विपरीत कोई कार्य होता है तब वह दुखी हो जाता है , और जब अपने अनुकूल सारे कार्य होते रहते हैं तब वह सु
07 जनवरी 2019
30 जनवरी 2019
वि
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *सनातन धर्म आदिकाल से मानवमात्र को एक समान मानते हुए "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष करता रहा है | वैदिककाल में वर्णव्यवस्था बनाकर समाज को संचालित करने का प्रयास किया गया था | इस वर्णव्यवस्था में ब्राह्मण , क्षत्रिय , वैश्य एवं शूद्र मनुष्य अपने कर्मों के आधार पर बनता था
30 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*पूर्वकाल में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसमें मनुष्य के संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी | संस्कार ही मनुष्य को पूर्ण करते हुए पात्रता प्रदान करते हैं और संस्कृति समाज को पूर्ण करती है | संस्कारों से मनुष्य के आचरण कार्य करते हैं | किसी भी मनुष्य के चरित्र निर्माण में धर्म , संस्कार और संस्कृति
06 जनवरी 2019
29 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *किसी भी राष्ट्र , समाज व सभ्यता की पहचान उसकी शिक्षा से होती है | शिक्षा मानव मात्र की आवश्यक आवश्यकता है , इस बात को ध्यान में रखते हुए सनातन के मनीषियों ने समाज को शिक्षित करने का उद्देश्य लेकर स्थान - स्थान पर नि:शुल्क ज्ञान बाँटने का कार्य गुरुकुलों के माध्यम से क
29 जनवरी 2019
01 जनवरी 2019
*संपूर्ण संसार में मनुष्य अपने दिव्य चरित्र एवं बुद्धि विवेक के अनुसार क्रियाकलाप करने के कारण ही सर्वोच्च प्राणी के रूप में स्थापित हुआ | मनुष्य का पहला धर्म होता है मानवता , और मानवता का निर्माण करती है नैतिकता ! क्योंकि नैतिक शिक्षा की मानव को मानव बनाती है | नैतिक गुणों के बल पर ही मनुष्य वंदनी
01 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*मानव जीवन में बहुत से उतार चढ़ाव आते रहते हैं | कभी सुख कभी दुख मिलना साधारण सी बात है | मनुष्य को इन सभी अवस्थाओं में सकारात्मक या नकारात्मक निर्णय लेने के लिए परमात्मा मनुष्य को विवेक दिया है | कभी कभी ऐसी स्थिति हो जाती है कि मनुष्य विवेकशून्य हो जाता है और आवेश में आकर ऐसे निर्णय ले लेता है जो
07 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*पूर्वकाल में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसमें मनुष्य के संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी | संस्कार ही मनुष्य को पूर्ण करते हुए पात्रता प्रदान करते हैं और संस्कृति समाज को पूर्ण करती है | संस्कारों से मनुष्य के आचरण कार्य करते हैं | किसी भी मनुष्य के चरित्र निर्माण में धर्म , संस्कार और संस्कृति
06 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x