मृत्युदंड

17 जनवरी 2019   |   आई बी अरोड़ा   (13 बार पढ़ा जा चुका है)


वह एक निर्मम हत्या करने का दोषी था. पुलिस ने उसके विरुद्ध पक्के सबूत भी इकट्ठे कर लिए थे.

पहले दिन ही जज साहब को इस बात का आभास हो गया था कि अपराधी को मृत्यदंड देने के अतिरिक्त उनके पास कोई दूसरा विकल्प न होगा. लेकिन जिस दिन उन्हें दंड की घोषणा करनी थी वह थोड़ा विचलित हो गये थे. उन्होंने आज तक किसी अपराधी को मृत्युदंड नहीं दिया था. इतने दिन मन ही मन वह कामना कर रहे थे कि मामले में अचानक कोई नया मोड़ आ जाएगा और स्थिति पलट जायेगी. लेकिन ऐसा हुआ. हर नया सबूत उनके विकल्पों को सीमित कर उन्हें उस विकल्प तक ले जा रहा था जिसकी कल्पना भी वह नहीं करना चाहते थे. वह अच्छी तरह समझते थे कि अपराधी को मृत्युदंड दे कर ही इस मामले में उचित न्याय हो पायेगा.

मृत्युदंड की घोषणा करते समय जज भावावेश से कांप रहे थे.

आजतक कभी भी अदालत से एकाएक उठ कर वह नहीं गये थे. लेकिन आज वह इतने उद्वेलित हो गये थे कि कोई और केस सुनने का साहस उन में नहीं रहा था. घर पहुंचे तो वह बिलकुल दयनीय, विकल और निस्तेज दिख रहे थे.

हत्यारे को पुलिस अदालत से बाहर ले आई. उसकी चाल में ज़रा सी भी हिचकिचाहट न थी और उसकी निर्मम आँखें बिलकुल भावनाशून्य थीं.

*************

(सलीम अली की आत्मकथा, ‘दि फॉल ऑफ़ ए स्पैरो’ में लिखी एक घटना से प्रेरित.)

अगला लेख: लघुकथा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
26 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
04 जनवरी 2019
नि
25 जनवरी 2019
12 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
12 जनवरी 2019
04 जनवरी 2019
26 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x