ना तेरा रहा ना मेरा रहा

17 जनवरी 2019   |  मंजू गीत   (29 बार पढ़ा जा चुका है)

ना तेरा रहा ना मेरा रहा। प्रेम में हिसाब-किताब रखने का ना बहिखाता तेरा रहा, ना मेरा रहा। दौर जिंदगानी का बितता रहा, ना ईष्र्या रही ना द्वेष रहा। अपनेपन का अहसास कुछ तुझमें बाकी रहा, कुछ मुझमें बाकी रहा। चंद सांसें एक दूजे में उलझ जाये, रिश्ता ये उल्फत का सितम बन कर जहने सहर से टकराता रहा। थाम ले जो डोर जमीं की गहराई से,आसमां की ऊंचाई तक, ना वो डोर तेरी रही, ना वो शोर मुझमें रहा। बहुत धीरे धीरे से छुआ, बस वो नज़रों से नज़रों में भरने का अहसास बाकी रहा, जो ख्वाबों की बगिया में कहानी कहता रहा। ना तेरा रहा, ना मेरा रहा।

अगला लेख: सफर



murari metha
17 जनवरी 2019

कापी कर सकता हूँ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x