लौट चले दिल्ली शहर से रोजगार।

20 जनवरी 2019   |  जानू नागर   (35 बार पढ़ा जा चुका है)

लौट चले दिल्ली शहर से रोजगार।

अब सील ने हर हुनर वाले की जुबान बंद कर दी हैं। सील कंपनी मे नहीं हुनर वाले के पैरो मे बेड़ियाँ पड़ी हैं। इससे अच्छा तो तिहाड़ की जेल मे बंद करके सबके हुनर को कैद कर लेते। कम से कम अंग्रेज़ो वाले दिन तो याद आते। इन्होने तो उस लायक भी नहीं छोड़ा। मजदूर कल भी आजाद था आजा भी आजाद हैं। काम मिला तो कमाया वरन किसी भी सड़क के किनारे पन्नी चादर ओढ़ कर सोया। नई कलम नई सोच ने हुनर वालों को भटकाया नोएडा चलो, गुड़गाँव चलो, राई सोनीपत, चलो... हम तो कहते हैं अपने गाँव लौट चलो। इस वक्त भोजपुरी मे एक गाना बहुत बज रहा हैं दिल्ली शहर मे, "नून रोटी खाएँगे" गाँव मे ही रहेंगे माँ बाबू और बीबी बच्चो के साथ जीवन गुजारेंगे।

अगला लेख: छोड़ेंगे न साथ।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x