राजपाल यादव जेल में इस तरह से बिता रहे हैं दिन, हर कैदी उन्हें कहता है "रियल हीरो"

22 जनवरी 2019   |  प्राची सिंह   (553 बार पढ़ा जा चुका है)

राजपाल यादव जेल में इस तरह से बिता रहे हैं दिन, हर कैदी उन्हें कहता है "रियल हीरो"

बॉलीवुड की फ़िल्मी दुनिया दूर से जितनी हसीन दिखती है, हकीक़त में उतनी ही उलझी हुई है. यहाँ हर स्टार की स्माइल के पीछे लाखों राज छिपे हुए हैं. उन्ही में से बात अगर राजपाल यादव की करें तो उन्हें इंडियन फिल्मों का कॉमेडी किंग कहा जाता है. अपनी कम हाइट और दमदार एक्टिंग के चलते उन्होंने बहुत कम समय में लोगों के दिलों में अपनी अलग जगह बना ली है. हाल ही में चेक बाउंस होने के कारण कोर्ट द्वारा सज़ा दे दी गई. जिसके बाद उन्हें अपने दिन तिहाड़ जेल में गुजारने पड़ रहे हैं. लेकिन जेल में होने के बाद भी राजपाल यादव ने जीने की हिम्मत नहीं छोड़ी और अपने कैदी साथियों का भरपूर मनोरंजन कर रहे हैं.

हाल ही में मिली एक रिपोर्ट के अनुसार यह जानकारी प्राप्त हुई कि इन दिनों जेल जी सजा काट रहे राजपाल यादव कैदियों के बीच काफी पोपुलर हो गए हैं. उन्होंने बीते दिन जेल के मंच पर कवि सम्मेलन में हिस्सा लिया और अपनी कॉमेडी के जरिये सबको हंसा हंसा के लोट-पोट किया. बता दें कि राजपाल यादव को बॉलीवुड में उनके हास्य किरदारों के रूप में याद किया जाता है. उनकी हर फिल्म में उनकी कॉमेडी ने लोगों को प्रभावित किया. छोटी कद-काठी के कारण जहाँ कुछ लोग जीने का आत्मविश्वास खो बैठते हैं, वहीँ राजपाल यादव ने अपनी हाइट को ही अपनी पहचान बनाया और लोगों को हंसने पर मजबूर किया.

कैदियों के हैं रियल हीरो

इस बात में अधिक जानकारी देते हुए जेल के एक अधिकारी ने बताया कि राजपाल यादव ने कवि सम्मेलन के दौरान अपना एक कॉमेडी शो पेश किया जिसने सभी कैदियों को खूब हंसाया. हर कैदी अपने बीच इतनी बड़ी हंसती को देख कर अवाक हो उठा. जेल अधिकारी के अनुसार उनकी जेल में काफी लंबे समय से कोई बड़ी हस्ती नहीं आई थी. हालाँकि तिहाड़ में सालों से कईं राजनेता, क्रिकेटर, गैंग्स्टर और आतंकवादी आते रहे हैं लेकिन इस दशक में पहली बार कोई कॉमेडियन कैदी बन कर वहां आया है जोकि सभी लोगों से अच्छा बर्ताव कर रहा है. अधिकारी के अनुसार वह जेल नंबर सात में हैं और अपने हंसमुख स्वभाव के चलते काफी मशहूर हो चुके हैं.

प्ले की भी कर रहे हैं तैयारी

जेल के एक अन्य अधिकारी के साथ हमारी न्यूज़ टीम ने जब बात की तो उन्होंने बताया कि राजपाल यादव अक्सर कैदियों को अपने प्ले के बारे में बताते रहते हैं. दरअसल वह एक प्ले की तैयारी कर रहे हैं, जिसे वह कुछ ही दिनों में जेल में परफॉर्म करेंगे. राजपाल यादव ने यह बात साबित कर दिखाई कि इंसान भले कितना भी बड़ा क्यूँ ना हो जाए, लेकिन वह साधारण लोगों के लिए हमेशा साधारण ही रहता है. तभी शायद राजपाल यादव इतनी बड़ी हस्ती होने के बाद भी अन्य कलाकारों की तरह बर्ताव नहीं करते और कैदियों के मनोरंजन के लिए जेल में बढ़ चढ़ कर इवेंट्स में हिस्सा लेते रहते हैं.

आखिर क्यों हुई थी जेल?

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि राजपाल यादव फ़िलहाल 47 वर्ष के हो चुके हैं. उन्हें बीते वर्ष एक दिसंबर को कोर्ट ने 3 महीने की तिहाड़ जेल की सजा सुनाई थी. दरअसल, उन्होंने एक कंपनी से पंच करोड रुपए का लोन लिया था जिसकी वह फिल्म बनाना चाहते थे. लेकिन वह तय किए गए समय पर राशी का भुगतान नहीं कर सके जिसके कारण न्यायधीश राजीव सहाय मूर्ति ने उन्हें हिरासत में लेने के आदेश दे दिए. बता दें कि यह कंपनी दिल्ली की “मुरली प्रोजेक्ट्स” नामक कंपनी थी जिसने राजपाल यादव की कंपनी “श्री नौरंग गोदावरी एंटरटेनमेंट” को पांच करोड रुपए का क़र्ज़ दिया था और क़र्ज़ न चुकाने के आरोप में मामला दर्ज़ करवा दिया था. बता दें कि राजपाल ने यह लोन साल 2010 में फिल्म “अता पता लापता” के निर्देशन के लिए लिया था.

राजपाल यादव जेल में इस तरह से बिता रहे हैं दिन, हर कैदी उन्हें कहता है "रियल हीरो"

https://www.newstrend.news/208344/rajpal-yadav-doing-comedy-within-his-jail/?fbclid=IwAR0O42SY10rkGac0LGdNg-6Ht8AEP0XhprnuXTchkDaLs9D-4hgEucMn-pI

अगला लेख: जब इंदिरा गांधी ने कहा था- प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे और...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जनवरी 2019
बॉलीवुड में कब कौन सी जोड़ी दर्शकों के बीच हिट हो जाए, इस बात का अंदाजा लगा पाना थोड़ा मुश्किल काम है। 80 से 90वे के दशक में पर्दे पर बहुत सारी जोड़िया बनी तो बहुत सारी बिगड़ी भी, लेकिन कुछ जोड़िया पहली फिल्म से सुपरहिट हो गई। सुपरहिट होने के बावजूद ये जोड़िया ज्यादा दिन
10 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
2019 के लोसकभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश का महासचिव बनाया है, जिसको लेकर पूरे राजनीतिक गलियारों में चहलकदमी शुरू हो गई है। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं प्रियंका से जुड़े कुछ इंट्रेस्टिंग फैक्ट्स।13 साल की उम्र में प्रियंका पहली बार रॉबर्ट वाड्रा से मिली थीं। राॅबर्ट को स
23 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
बॉलीवुड इंडस्ट्री में किसी भी फिल्म की शूटिंग से पहले यह कह पाना थोड़ा मुश्किल होता है कि कौन इसमें अहम रोल में है तो कौन नहीं है। बीते दिनों बॉलीवुड इंडस्ट्री से कुछ खबरें ऐसी आ रही हैं कि यहां फिल्म साइन करने के बाद भी कलाकारों को बिना कोई कारण बताए आउट कर दिया जाता है
23 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
ऋषि कपूर अपने ज़माने के सबसे मशहूर रोमांटिक हीरो हुआ करते थे. उन्होंने कई तरह की रोमांटिक फिल्मों में काम किया है. लेकिन दर्शकों को उनकी जोड़ी 70 के दशक में अभिनेत्री नीतू सिंह के साथ सबसे ज्यादा पसंद आई और उन्होंने साल 1980 में नीतू सिंह से शादी कर ली. शादी के इतने सालों ब
08 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
आमतौर पर जब आपको कोई जानलेवा जानवर दिखता है तो आप डर जाते हैं और अपनी जान बचाकर इधर-उधर भागने लगते हैं. ऐसा ही एक जानलेवा जानवर है मगरमच्छ. मगरमच्छ यूं तो शांत रहते हैं और पानी में पाए जाते हैं लेकिन अगर आप गलती से भी उसके हाथ लग गए तो वह आपके चीथड़े उड़ा देगा. इसलिए ऐसे जा
10 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर हमेशा अपनी निजी जिंदगी को लेकर खुले रहे हैं। अपने पिछले रिश्तों से लेकर अरेंज मैरिज तक और अब दो बच्चों मिशा और ज़ैन का पालन-पोषण करते हुए अभिनेता शायद हीं कभी उन सवालों के जवाब देने से कतराते हैं , जिनका वह सामना करते हैं। लेकिन अब उनकी पत्नी म
21 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
नई दिल्ली : बॉलीवुड में बायोपिक का दौर नया नहीं है लेकिन ऐसा लगता है कि खिलाड़ियों के बाद अब राजनीति के कई चेहरों को पर्दे पर देखना मजेदार होगा. पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के बाद अब वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बॉलीवुड स्टाइल में देखना उनके फैंस के लिए किसी ट्रीट स
07 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
बॉलीवुड के अन्ना यानि की सुनील शेट्टी के फिल्मी डॉयलाग्स आज भी लोग याद करते हैं? बता दें कि सुनील शेट्टी ने बॉलीवुड में शुरूआत साल 1992 में फिल्म बलवान से की थी। ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट रही थी और इसी फिल्म ने सुनील को इस इंडस्ट्री में एक एक्शन हीरो की पहचान दिलाई थी। ह
21 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
‘मांझी’ एक आम फिल्म नहीं है, एक हकीकत है।बिहार के एक मामूली मजदूर की प्रेम कहानी अखबार की चंद कतरनों में सिमट कर कहीं खो गई थी। लेकिन रुपहली दुनिया की इस बेहतरीन कोशिश ने दशरथ मांझी की भूली बिसरी कहानी को बिहार के गया जिले में फिर से तलाशने की वजह दे दी है।गया जिले के गहल
23 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x