नक्षत्र - एक विश्लेषण

22 जनवरी 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (53 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:-

ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब हम चर्चा कर रहे हैं कि किस प्रकार हिन्दी महीनों का विभाजन नक्षत्रों के आधार पर हुआ तथा उन हिन्दी महीनों के वैदिक नाम क्या हैं | इस क्रम में चैत्र और वैशाख माह के विषय में पूर्व में लिख चुके हैं, आज ज्येष्ठ और आषाढ़ माह…

ज्येष्ठ : इस नक्षत्र में ज्येष्ठ और मूल नामक दो नक्षत्र आते हैं, तथा जैसा कि इसके नाम से ही स्पष्ट है – ज्येष्ठ नक्षत्र प्रमुख नक्षत्र होने के कारण इस माह का नाम ज्येष्ठ माह हुआ | इसका वैदिक नाम है शुक्र | शुक्र दैत्याचार्य थे तथा देवासुर संग्राम में जो दैत्य मारे गए थे उन्हें शुक्राचार्य ने फिर से जीवन प्रदान किया था जिसके कारण समस्त देवगण उनके विरोधी हो गए थे और आचार्य शुक्र ने भी दैत्यों के पक्ष में देवों का विरोध करने की प्रतिज्ञा ली थी | अग्नि का दूसरा नाम भी शुक्र है – सम्भवतः ज्येष्ठ माह की अग्नि के समान चिलचिलाती धूप और गर्मी के कारण भी इस माह का नाम शुक्र रखा गया होगा | ज्येष्ठ माह का आरम्भ ही तब होता है जब गर्मी अपने शिखर पर होती है और इसीलिए इस माह में जल का महत्त्व बढ़ जाता है | जिसका प्रतीक है इस माह में मनाया जाने वाला गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी के पर्व | किसी भी वस्तु का सत्व भी शुक्र कहलाता है | इसके अतिरिक्त वीर्य – Sperm, चमकदार वस्तु, श्वेत रंग, शुद्ध, स्त्री और पुरुष की ऊर्जा, जल तथा अस्थियों की मज्जा – Bone-Marrow के लिए भी शुक्र शब्द का प्रयोग होता है |

आषाढ़ : पूर्वाषाढ़ और उत्तराषाढ़ यानी दोनों आषाढ़ इस माह में उदित होते हैं | इसका वैदिक नाम है शुचि – जिसका अर्थ होता है पवित्र, स्वच्छ, मधुर, मनमोहक, आकर्षक, श्वेत | ग्रीष्म ऋतु को भी शुचि कहा जाता है | ज्येष्ठ माह की गर्मी से कुछ राहत प्राप्त होने के संकेत इस माह में देखाई देने लगते हैं | श्रृंगार रस के लिए भी इस शब्द का प्रयोग किया जाता है | सूर्य, चन्द्र तथा अग्नि का भी एक पर्यायवाची शुचि है | निष्ठावान, सत्यवादी, प्रतापी, गुणवान, निष्कलंक तथा भोले स्वभाव वाले व्यक्ति के लिए भी शुचि शब्द का प्रयोग किया जाता है | योगिनी एकादशी, देवशयनी एकादशी और गुरु पूर्णिमा जैसे पर्व इसी माह में आते हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/01/22/constellation-nakshatras-32/

अगला लेख: मकर संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएँ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जनवरी 2019
वर्ष 2019 में पंचकों की सूचीवर्ष 2019 में प्रथम पंचक कल बुधवार 9 जनवरी दोपहर 1:16 से आरम्भ होकर सोमवार14 जनवरी दोपहर 12:52 तक रहेंगे | आज हम प्रस्तुत कर रहे हैं वर्ष 2019 में आने वाले पंचकों की एकतालिका | किन्तु तालिका प्रस्तुत करने से पूर्व आइये जानते हैं कि पंचक वास्तव मेंहोते क्या हैं |पंचकों का
08 जनवरी 2019
12 जनवरी 2019
अर्द्ध कुम्भ प्रयागराज 2019चौदह जनवरी से मकरसंक्रान्ति के स्नान के साथ ही प्रयागराज में अर्द्धकुम्भ मेला आरम्भ होने जा रहाहै | जो चार मार्च को सम्पन्न होगा | कुम्भ मेला हर बारह वर्ष में आता है यह तोसभी जानते हैं | कुम्भ के आयोजन में नवग्रहों में से सूर्य, चन्द्र, गुरु और शनि की भूमिका महत्वपूर्ण मान
12 जनवरी 2019
19 जनवरी 2019
ठिठुराती भीषण ठण्ड में जब प्रकृति नटी ने छिपा लिया हो स्वयं को चमकीली बर्फ की घनी चादर में छाई हो चारों ओर घरों की छत पर और आँगन में खामोशी के साथ “टप टप” बरसती धुँध नहीं दीख पड़ता कि चादर के उस पार दूसरा कौन है और फिर इसी द्विविधा को दूर करने धीरे धीरे मीठी मुस्कान के सूर्यदेव का ऊपरउठाना जो कर दे
19 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
28 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
सूर्य का मकर राशि में संक्रमण 2019पौष शुक्लअष्टमी,सोमवार 14 जनवरी 2019 को सायं सात बजकर बावन मिनट के लगभग उत्तराषाढ़ नक्षत्र मेंरहते हुए राहू केतु के मध्य बव करण और सिद्ध योग में भगवान भास्कर मित्र ग्रह गुरुकी धनु राशि से निकलकर शत्रु गृह शनि की मकर राशि में संचार करेंगे | जिसे “मकर संक्रान्ति” के ना
14 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
पूर्णिमा व्रत 2019कल सोमवार यानी 21 जनवरी को पौषी पूर्णिमा – पौष माह की पूर्णिमा है | जिनप्रदेशों में माह को अमान्त मानकर शुक्ल प्रतिपदा से माह का आरम्भ मानते हैं वहाँपूर्णिमा माह का पन्द्रहवाँ दिन होता है | जिन प्रदेशों में माह को पूर्णिमान्तमानकर कृष्ण प्रतिपदा से माह का आरम्भ माना जाता है वहाँ पू
20 जनवरी 2019
30 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछलिख चुके हैं | अब ह
30 जनवरी 2019
27 जनवरी 2019
28 जनवरी से 3 फरवरी 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोच
27 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x