नक्षत्र - एक विश्लेषण

22 जनवरी 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (75 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:-

ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब हम चर्चा कर रहे हैं कि किस प्रकार हिन्दी महीनों का विभाजन नक्षत्रों के आधार पर हुआ तथा उन हिन्दी महीनों के वैदिक नाम क्या हैं | इस क्रम में चैत्र और वैशाख माह के विषय में पूर्व में लिख चुके हैं, आज ज्येष्ठ और आषाढ़ माह…

ज्येष्ठ : इस नक्षत्र में ज्येष्ठ और मूल नामक दो नक्षत्र आते हैं, तथा जैसा कि इसके नाम से ही स्पष्ट है – ज्येष्ठ नक्षत्र प्रमुख नक्षत्र होने के कारण इस माह का नाम ज्येष्ठ माह हुआ | इसका वैदिक नाम है शुक्र | शुक्र दैत्याचार्य थे तथा देवासुर संग्राम में जो दैत्य मारे गए थे उन्हें शुक्राचार्य ने फिर से जीवन प्रदान किया था जिसके कारण समस्त देवगण उनके विरोधी हो गए थे और आचार्य शुक्र ने भी दैत्यों के पक्ष में देवों का विरोध करने की प्रतिज्ञा ली थी | अग्नि का दूसरा नाम भी शुक्र है – सम्भवतः ज्येष्ठ माह की अग्नि के समान चिलचिलाती धूप और गर्मी के कारण भी इस माह का नाम शुक्र रखा गया होगा | ज्येष्ठ माह का आरम्भ ही तब होता है जब गर्मी अपने शिखर पर होती है और इसीलिए इस माह में जल का महत्त्व बढ़ जाता है | जिसका प्रतीक है इस माह में मनाया जाने वाला गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी के पर्व | किसी भी वस्तु का सत्व भी शुक्र कहलाता है | इसके अतिरिक्त वीर्य – Sperm, चमकदार वस्तु, श्वेत रंग, शुद्ध, स्त्री और पुरुष की ऊर्जा, जल तथा अस्थियों की मज्जा – Bone-Marrow के लिए भी शुक्र शब्द का प्रयोग होता है |

आषाढ़ : पूर्वाषाढ़ और उत्तराषाढ़ यानी दोनों आषाढ़ इस माह में उदित होते हैं | इसका वैदिक नाम है शुचि – जिसका अर्थ होता है पवित्र, स्वच्छ, मधुर, मनमोहक, आकर्षक, श्वेत | ग्रीष्म ऋतु को भी शुचि कहा जाता है | ज्येष्ठ माह की गर्मी से कुछ राहत प्राप्त होने के संकेत इस माह में देखाई देने लगते हैं | श्रृंगार रस के लिए भी इस शब्द का प्रयोग किया जाता है | सूर्य, चन्द्र तथा अग्नि का भी एक पर्यायवाची शुचि है | निष्ठावान, सत्यवादी, प्रतापी, गुणवान, निष्कलंक तथा भोले स्वभाव वाले व्यक्ति के लिए भी शुचि शब्द का प्रयोग किया जाता है | योगिनी एकादशी, देवशयनी एकादशी और गुरु पूर्णिमा जैसे पर्व इसी माह में आते हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/01/22/constellation-nakshatras-32/

अगला लेख: मकर संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएँ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
28 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
पूर्णिमा व्रत 2019कल सोमवार यानी 21 जनवरी को पौषी पूर्णिमा – पौष माह की पूर्णिमा है | जिनप्रदेशों में माह को अमान्त मानकर शुक्ल प्रतिपदा से माह का आरम्भ मानते हैं वहाँपूर्णिमा माह का पन्द्रहवाँ दिन होता है | जिन प्रदेशों में माह को पूर्णिमान्तमानकर कृष्ण प्रतिपदा से माह का आरम्भ माना जाता है वहाँ पू
20 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
18 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
सूर्यके उत्तरायण गमन के पर्व मकर संक्रान्ति की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ…इसशुभावसर पर प्रस्तुत है महाभारत के वनपर्व अध्याय तीन से उद्धृत सूर्यअष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम्… धौम्यउवाचसूर्योSर्यमा भगस्त्वष्टा पूषार्क: सविता रवि: |गभस्तिमानज: कालो मृत्युर्धाता प्रभाकर: ||पृथिव्यापश्च तेजश्च खं वायुश्च परायणम
15 जनवरी 2019
29 जनवरी 2019
कहानी दिवस और निशा की हर भोरउषा की किरणों के साथ शुरूहोती है कोई एक नवीन कहानी…हरनवीन दिवस के गर्भ में छिपेहोते हैं न जाने कितने अनोखे रहस्य जोअनावृत होने लगते हैं चढ़ने के साथ दिन के… दिवसआता है अपने पूर्ण उठान पर तबहोता है भान दिवसके अप्रतिम दिव्य सौन्दर्य का… सौन्दर्यऐसा, जोकरता है नृत्य / रविकरो
29 जनवरी 2019
01 फरवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछलिख चुके हैं | अब ह
01 फरवरी 2019
27 जनवरी 2019
28 जनवरी से 3 फरवरी 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोच
27 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
संक्रान्ति 2019 और मकर संक्रान्तिॐ घृणि: सूर्य आदित्य नम: ॐआज रात्रि सातबजकर पावन मिनट के लगभग भगवान भास्कर गुरुदेव की धनु राशि से निकल कर महाराज शनिकी मकर राशि में गमन करेंगे और इसके साथ उत्तर दिशा की ओर उनका प्रस्थान आरम्भ होजाएगा | और कल यानी 15 जनवरी – मकर संक्रान्ति को सूर्य के मकर राशि में संक
14 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x