यज्ञ

22 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (62 बार पढ़ा जा चुका है)

यज्ञ

*सनातन धर्म इतना विस्तृत है , उसकी मान्यताएं इतनी विशाल हैं जिन्हें एक साथ समझ पाना मुश्किल ही नहीं बल्कि असंभव है | हां यह कहा जा सकता है यदि प्राचीन सनातन संस्कृति को एक ही शब्द में समेटना हो तो वह है यज्ञ | हमारी भारतीय संस्कृति में यज्ञ का बहुत व्यापक अर्थ है | यज्ञ मात्र अग्निहोत्र ना होकर के यह परमार्थ परायण कारी भी कहा जाता है | यज्ञ मात्र स्वयं के लिए नहीं बल्कि संपूर्ण विश्व के कल्याण के लिए किया जाता है | जिस प्रकार मिट्टी में मिला हुआ अन्नकण सौ गुना हो जाता है उसी प्रकार अग्नि से मिला पदार्थ लाखों गुना हो जाता है | अग्नि के संपर्क में कोई भी द्रव्य आ जाने पर वह सूक्ष्मीभूत होकर के पूरे वातावरण में फैल जाता है , और अपने गुण से लोगों को प्रभावित करता है | जब स्वास्थ्यवर्धक औषधियां यज्ञ के संपर्क में आती हैं तब वह अपना प्रभाव स्थूल और सूक्ष्म शरीर पर दिखाती हैं और व्यक्ति स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करता है | यज्ञ से आयु , आरोग्यता , तेजस्विता , विद्या , यश , पराक्रम , वंशवृद्धि , धन धान्यादि सभी प्रकार के राज - भोग ऐश्वर्य , लौकिक एवं पारलौकिक वस्तुओं की प्राप्ति होती है | वैदिक काल में रूद्रयज्ञ , सूर्ययज्ञ , लक्ष्मीयज्ञ , अश्वमेधयज्ञ , गोमेधयज्ञ , नरमेधयज्ञ एवं दैनिक यज्ञ का भी विधान रहा है | इसके साथ ही पुत्रेष्टियज्ञ , राजसूययज्ञ , सोमयज्ञ वर्षायज्ञ इत्यादि अनेक प्रकार की कामनाओं के लिए होते चले आ रहे हैं | हमारा शास्त्र इतिहास यज्ञ के अनेक चमत्कारों से भरा पड़ा है | हमें आवश्यकता इनकी सूक्ष्मता एवं दिव्यता को समझने की |* *आज हम जिस युग में जीवन यापन कर रहे हैं यहां चारों तरफ से सनातन का विरोध करने वाले आपको दिखाई पड़ेंगे | हमारे धर्म ग्रंथों के साथ मध्यकाल में छेड़छाड़ करके उनके अर्थ को अनर्थ बनाने का कार्य विधर्मियों के द्वारा किया गया था | सनातन विरोधियों के कहने का तात्पर्य है कि हमारे वेदों में अश्वमेधयज्ञ का अर्थ हुआ अश्व की बलि देना एवं गोमेध यज्ञ का अर्थ हुआ गाय की बलि देना | जबकि ऐसा कुछ नहीं है | ऐसे सभी भ्रम फैलाने वाले विधर्मियों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यही कहना चाहूंगा कि हमारे प्राचीनतम "शतपथ ब्राह्मण" में लिखा हुआ है कि अश्वमेध शब्द का अर्थ यज्ञ में अश्व कि बलि देना नहीं है, अपितु राष्ट्र के गौरव, कल्याण और विकास के लिए किये जाने वाले सभी कार्य अश्वमेध हैं | इसी प्रकार गौमेध का अर्थ यज्ञ में गौ की बलि देना नहीं है, अपितु अन्न को दूषित होने से बचाना, अपनी इन्द्रियों को वश में रखना, सूर्य की किरणों से उचित उपयोग लेना, धरती को पवित्रा या साफ़ रखना है | ‘ गौ’ शब्द का एक और अर्थ हैं पृथ्वी | पृथ्वी और उसके पर्यावरण को स्वच्छ रखना भी ‘गौमेध’ कहलाता है |नरमेध का अर्थ मनुष्य की बलि देना नहीं हैं अपितु मनुष्य की मृत्यु के बाद उसके शरीर का वैदिक रीति से दाह संस्कार करना नरमेध यज्ञ है | मनुष्यों को उत्तम कार्यों के लिए प्रशिक्षित एवं संगठित करना भी नरमेध या पुरुषमेध या नृमेध यज्ञ कहलाता है | अजमेध का अर्थ बकरी आदि की यज्ञ में बलि देना नहीं है, अपितु अज कहते हैं बीज, अनाज या धान आदि को | इसलिए अजमेध का सही अर्थ कृषि की पैदावार बढ़ाना हैं | अजमेध का सीमित अर्थ अग्निहोत्रा में धान आदि की आहुति देना है | इन सूक्ष्म तत्वों को आज हमें समझना होगा अन्यथा हम व हमारी आने वाली पीढ़ियाँ यही समझती रहेंगी कि हमारा सनातन धर्म हिंसक एवं बलि को मान्यता देने वाला ही था | जबकि सच्चाई इससे बिल्कुल उलट है |* *सनातन धर्म में कहीं भी हिंसा या बलि को समर्थन नहीं दिया गया है | हमें विधर्मियों द्वारा फैलाये जा रहे कुप्रचारों से भ्रमित नहीं होना चाहिए |*

अगला लेख: मातृभाषा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य के जीवन में समय-समय पर सुख एवं दुख आते जाते रहते हैं | संसार में एक ही समय में कहीं लोग प्रसन्नता में झूमते हैं तो कहीं अपार दुख में रोते हुए देखे जाते हैं | यह मानव प्रवृत्ति है कि यदि मनुष्य को प्रसन्नता मिलती है तो उसकी इच्छा होती है कि समय यूं ही ठहर जाय , वहीं यदि कोई दुख आ जात
14 जनवरी 2019
11 जनवरी 2019
प्रिय मित्रों/पाठकों, आज के प्रतिस्पर्धा के इस दौर में हर कोई सफलता पाना चाहता है, लेकिन मेहनत के बाद भी सफल नहीं हो पाता है। इसका ये अर्थ नहीं होता है कि उस व्यक्ति की मेहनत में किसी तरह की कमी है।जीवन में सफलता हासिल करने के लिए सबसे जरूरी होता है इंसान को ऊर्जावान होना. स्वस्थ होना।अगर आप ऊर्जा स
11 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
*सनातन धर्म के नियम व सिद्धांत समस्त मानवजाति के लिए प्रेरणास्रोत होने के साथ ही जीवन को दिव्य बनाने वाले रहे हैं | एक मनुष्य का जीवन पापरहित रहते हुए कैसे दिव्य बन सकता है इन रहस्यों के दर्शन यदि कहीं प्राप्त हो सकता है तो वह है सनातन धर्म | सनातन धर्म ने मनुष्यों को अपने ज्ञान , विद्या व धन का अहं
13 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर जन्म लेकर के मनुष्य जन्म से लेकर मृत्यु तक आने को क्रियाकलाप संपादित करता रहता है एवं अपने क्रियाकलापों के द्वारा समाज में स्थापित होता है | कभी-कभी ऐसा होता है कि मनुष्य जन्म लेने के तुरंत बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता है और कभी कभी युवावस्था में उसकी मृत्यु हो जाती है | ऐसी स्
07 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
*इस धरती पर इतने प्राणी है कि उनकी गिनती कर पाना संभव नहीं है | इन प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य माना जाता है | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी इसलिए माना जाता है क्योंकि उसमें जो विशेषतायें हैं वह अन्य प्राणियों में नहीं पायी जाती हैं | वैसे तो ईश्वर ने मनुष्य में विशेषताओं का भण्डार भर दिया ह
13 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
*सनातन धर्म में यह बताया जाता है कि सृष्टि की रचना करने वाले परम पिता परमात्मा जिन्हें ईश्वर कहा जाता है वे सृष्टि के कण-कण में व्याप्त हैं | कोई भी ऐसा स्थान नहीं है जहां परमात्मा की उपस्थिति न हो | उस परमात्मा का कोई स्वरूप नहीं है | गोस्वामी तुलसीदास जी अपने मानस में लिखते हैं :-- "बिनु पग चलइ सु
09 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*मनुष्य जब इस धरा धाम पर जन्म लेता है तो उसके जन्म से लेकर की मृत्यु पर्यंत पूरे जीवन काल में सुख एवं दुख समय समय पर आते जाते रहते हैं | प्रायः विद्वानों ने अपनी टीकाओं में यह लिखा है कि जब मनुष्य के विपरीत कोई कार्य होता है तब वह दुखी हो जाता है , और जब अपने अनुकूल सारे कार्य होते रहते हैं तब वह सु
07 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*आदिकाल से इस धरा धाम सनातन धर्म अपनी दिव्यता एवं स्थिरता के कारण समस्त विश्व में अग्रगण्य एवं पूज्य रहा है | सनातन धर्म की मान्यतायें एवं इसके विधान का पालन करके मनुष्य ने समस्त विश्व में सनातन धर्म की धर्म ध्वजा फहरायी | सनातन के सारे सिद्धांत सनातन धर्म के धर्मग्रंथों में उद्धृत हुए हैं , जिनका
07 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
राशियाँ हर किसी की ज़िंदगी में एक विशेष महत्त्व रखती हैं।हर किसी की किस्मत राशियों से जुडी होती है। तो आइये जानते हैं पं. दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है विघ्नहर्ता गणेश जी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेषपुराना रोग उभर सकता है। योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर परिवर
09 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
प्रिय मित्रों/पाठकों, यदि आप थोड़ा-बहुत ज्योतिष भी जानते हैं तो खुद देख लीजिए आपकी जन्म कुंडली में धनवान होने के योग, कितना पैसा है आपकी किस्मत में...जानिए ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी से जन्म कुण्डली के कुछ प्रमुख धनवान बनाने वाले योग को --- यदि लग्न से त
10 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
*भारतीय मनीषियों ने मानवमात्र के जीवन में उमंग , उल्लास एवं उत्साह का अनवरत संचार बनाये रखने के लिए समय समय पर पर्वों एवं त्यौहारों का सृजन किया है | विभिन्न त्यौहारों के मध्य "मकर संक्रान्ति" के साथ मानव मात्र की अनुभूतियां गहराई से जुड़ी हैं | "मकर संक्रान्ति" सम्पूर्ण सृष्टि में जीवन का संचार करन
15 जनवरी 2019
17 जनवरी 2019
आपने भगवान विष्णु के पुत्रों के नाम पढ़े होंगे। नहीं पढ़ें तो अब पढ़ लें- आनंद, कर्दम, श्रीद और चिक्लीत। विष्णु ने ब्रह्मा के पुत्र भृगु की पुत्री लक्ष्मी से विवाह किया था। शिव ने ब्रह्मा के पुत्र दक्ष की कन्या सती से विवाह किया था, लेकिन सती तो दक्ष के यज्ञ की आग में कूदकर भस्म हो गई थी। उनका तो को
17 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x