मानसिक कष्ट

22 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (74 बार पढ़ा जा चुका है)

मानसिक कष्ट

*इस संसार में मनुष्य समय-समय पर सुख - दुख , प्रसन्नता एवं कष्ट का अनुभव करता रहता है | संसार में कई प्रकार के कष्टों से मनुष्य घिरा हुआ है परंतु मुख्यतः दो प्रकार के कष्ट होते हैं एक शारीरिक कष्ट और दूसरा मानसिक कष्ट | शारीरिक कष्ट से मनुष्य यदि ग्रसित है तो वह औषधि ले करके अपना कष्ट मिटा सकता है परंतु मानसिक कष्ट यदि किसी को हो जाता है तो उसकी औषधि मिलना असंभव हो जाता है | मनुष्य को अधिकतर शारीरिक कष्ट की अपेक्षा मानसिक ज्यादा होता है , क्योंकि मानसिक कष्ट का कारण हमारे स्वयं के भीतर ही होता है | नित्य मनुष्य अपने लिए मानसिक कष्ट पैदा करता है जिसके कारण नित्य ही मनुष्य में विरोध , ईर्ष्या और असुरक्षा आदि की भावना उत्पन्न होती रहती है | संसार में अधिकतर लोगों के लिए यही पीड़ा का कारण है | मानसिक कष्ट होने का एक कारण मुख्य रूप से और है कि जिसे हम ह्रदय से मानते हैं यदि उसके द्वारा हमारे विपरीत कोई कर्म किया जाता है या कोई ऐसा दोष लगाया जाता है जिसके दोषी हम नहीं होते हैं तो अपार मानसिक कष्ट होता है , जिसकी औषधि इस संसार में नहीं है | मानसिक कष्ट का सबसे बड़ा कारण मनुष्य के अपने विचार होते हैं | मानसिक कष्ट का स्रोत मनुष्य का मन है | हमारे महापुरुषों ने मनुष्य के मन को कूड़ादान की संज्ञा दी है | यह ऐसा कूड़ादान है जिसमें जिसकी जो इच्छा होती है वह कचरा डाल जाता है और हम सब अपने अंदर समाहित करते रहते हैं जबकि यहीं पर विचार करना आवश्यक होता है यह हमें क्या ग्रहण करना है क्या नहीं | अनेक तरह के विचार एवं टिप्पणियों हमें प्राप्त होती रहती हैं जिसे हम अपने मन में रख लेते हैं और उसी पर विचार किया करते हैं और यही विचार बारंबार हमें मानसिक कष्ट पहुंचाते रहते हैं | अतः प्रत्येक मनुष्य को कौन से विचार ग्रहण करने हैं और कौन सा अपने मन से निकाल देना है इस पर विचार करना चाहिए |* *आज संसार में शारीरिक कष्ट से पीड़ित लोग तो मिलते हैं लेकिन उन से कहीं ज्यादा मानसिक कष्ट से पीड़ित लोग समाज में दिखाई पड़ते हैं | यह कहा जा सकता है कि आज पूरी मानवता मानसिक कष्ट से पीड़ित है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यदि इन कारणों पर विचार करता हूं तो यह तथ्य निकलकर सामने आता है कि हमें यदि कोई अनजान व्यक्ति कुछ कह देता है तो हमें उतना मानसिक कष्ट नहीं होता जितना कि उस व्यक्ति के द्वारा कुछ कहने से हो जाता है जिसका स्थान हमारे हृदय में है | ऐसे व्यक्ति के द्वारा यदि हमारे साथ घात किया जाता है या हम को अपमानित करने का प्रयास किया जाता है तो हम मानसिकता से पीड़ित हो जाते हैं | इसका मुख्य कारण उस व्यक्ति के प्रति हमारा मोह है , क्योंकि जिससे मनुष्य को मोंह नहीं होता है उसकी बात को एक झटके में अपने हृदय से निकाल देता है परंतु जहां तनिक भी मोह है वहां पर हम ऐसा नहीं कर पाते हैं , और बार बार उसी विचार को दोहराते रहते हैं कि हमको अमुक व्यक्ति ने ऐसा कैसे कह दिया | यही हमारे मानसिक कष्ट का कारण बन जाता है जिससे हम पीड़ित होते रहते हैं | जिस प्रकार हम अपने शारीरिक कष्ट के लिए चिकित्सक की शरण में जाते हैं उसी प्रकार मानसिक कष्ट से छुटकारा पाने के लिए अपने मन को ही चिकित्सक बनाकर की आत्म मंथन करने की आवश्यकता होती है , क्योंकि आपके मानसिक कष्ट को मन चिकित्सा से ही मिटाया जा सकता है |* *मानसिक कष्ट मनुष्य के जीवन की दिशा परिवर्तित कर देते हैं | अतः प्रत्येक मनुष्य को इस पर गहनता से विचार करने की आवश्यकता है कि हम कहीं मानसिक कष्ट से पीड़ित तो नहीं हो रहे हैं |*

मानसिक कष्ट

अगला लेख: मातृभाषा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*भारत एक कृषि प्रधान देश है | यहां समय-समय पर त्यौहार एवं पर्व मनाए जाते रहे हैं | यह सभी पर्व एवं त्योहार कृषि एवं ऋतुओं पर विशेष रूप से आधारित होते थे | इन त्योहारों में परंपरा के साथ साथ आस्था भी जुड़ी होती थी | हमारे त्योहार हमारी संस्कृति का दर्पण होते थे , जो कि समाज में आपसी मेल मिलाप का आधार
22 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
*भारतीय मनीषियों ने मानवमात्र के जीवन में उमंग , उल्लास एवं उत्साह का अनवरत संचार बनाये रखने के लिए समय समय पर पर्वों एवं त्यौहारों का सृजन किया है | विभिन्न त्यौहारों के मध्य "मकर संक्रान्ति" के साथ मानव मात्र की अनुभूतियां गहराई से जुड़ी हैं | "मकर संक्रान्ति" सम्पूर्ण सृष्टि में जीवन का संचार करन
15 जनवरी 2019
11 जनवरी 2019
*प्राचीन काल के मनुष्य आज की अपेक्षा स्वस्थ तंदरुस्त एवं लंबी आयु वाले होते थे | उनकी लंबी आयु का रहस्य था शारीरिक व्यायाम | शारीरिक श्रम के साथ-साथ उनके सभी कार्य प्राय: टहलते - टहलते हो जाया करते थे | आज की अपेक्षा पहले यात्रा करने के साधन तो नहीं थे परंतु वे पैदल यात्रा करके स्वयं को एवं स्वयं के
11 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
वक़्त का विप्लव सड़क पर प्रसव राजधानी में पथरीला ज़मीर कराहती बेघर नारी झेलती जनवरी की ठण्ड और प्रसव-पीर प्रसवोपराँत जच्चा-बच्चा 18 घँटे तड़पे सड़क पर ज़माने से लड़ने पहुँचाये गये अस्पताल के बिस्तर परहालात प्रतिकूल फिर भी नहीं टूटी साँसेंकरतीं वक़्त से दो-दो हाथ जिजीविषा की फाँसें जब एनजीओ उठाते हैं दीन
16 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*मानव जीवन में बहुत से उतार चढ़ाव आते रहते हैं | कभी सुख कभी दुख मिलना साधारण सी बात है | मनुष्य को इन सभी अवस्थाओं में सकारात्मक या नकारात्मक निर्णय लेने के लिए परमात्मा मनुष्य को विवेक दिया है | कभी कभी ऐसी स्थिति हो जाती है कि मनुष्य विवेकशून्य हो जाता है और आवेश में आकर ऐसे निर्णय ले लेता है जो
07 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
30 जनवरी 2019
वि
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *सनातन धर्म आदिकाल से मानवमात्र को एक समान मानते हुए "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष करता रहा है | वैदिककाल में वर्णव्यवस्था बनाकर समाज को संचालित करने का प्रयास किया गया था | इस वर्णव्यवस्था में ब्राह्मण , क्षत्रिय , वैश्य एवं शूद्र मनुष्य अपने कर्मों के आधार पर बनता था
30 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य का एक दिव्य इतिहास रहा है | मनुष्य के भीतर कई गुण होते हैं इन गुणों में मनुष्य की गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को दिव्य बनाती है | मनुष्य को गंभीर होने के साथ सहनशील भी होना पड़ता है यही गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को महामानव बनाती है | मथुरा में जन्म लेकर गोकुल आने के बाद कंस के
22 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य के अतिरिक्त अनेक जीव हैं , और सब में जीवन है | मक्खी , मच्छर , कीड़े - मकोड़े , मेंढक , मछली आदि में भी जीवन है | एक कछुआ एवं चिड़िया भी अपना जीवन जीते हैं , परंतु उनको हम सभी निम्न स्तर का मानते हैं | क्योंकि उनमें एक ही कमी है कि उनमें ज्ञान नहीं है | इन सभी प्राणियों में सर्
10 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर जन्म लेकर के मनुष्य जन्म से लेकर मृत्यु तक आने को क्रियाकलाप संपादित करता रहता है एवं अपने क्रियाकलापों के द्वारा समाज में स्थापित होता है | कभी-कभी ऐसा होता है कि मनुष्य जन्म लेने के तुरंत बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता है और कभी कभी युवावस्था में उसकी मृत्यु हो जाती है | ऐसी स्
07 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x