सहनशीलता

22 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (61 बार पढ़ा जा चुका है)

सहनशीलता

*इस धराधाम पर मनुष्य का एक दिव्य इतिहास रहा है | मनुष्य के भीतर कई गुण होते हैं इन गुणों में मनुष्य की गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को दिव्य बनाती है | मनुष्य को गंभीर होने के साथ सहनशील भी होना पड़ता है यही गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को महामानव बनाती है | मथुरा में जन्म लेकर गोकुल आने के बाद कंस के भेजे हुए अनेकानेक राक्षसों का अनाचार सहते हुए बालकृष्ण गंभीर ही बने रहे एवं अपनी गंभीरता दिखाते हुए वे अपने कला कौशल से सभी दैत्यों का संहार करते रहे | भगवान कृष्ण की बात गोकुल में सभी मानते थे यदि वे कहते तो सभी लोग गोकुल / वृंदावन का त्याग करके अन्यत्र कहीं भी जा सकते थे | परंतु उन्होंने "न दैन्यं न पलायनं" की विधा को आधार मानकर वहीं रहते हुए इन दैत्यों का डटकर सामना तो करते ही रहे साथ गम्भीरता से उचित समय की प्रतीक्षा करते रहे | आगे क्या हुआ यह सभी जानते हैं | मनुष्य के जीवन में कई ऐसे पात्र , घटनायें उसको असहज करने वाले होते हैं परंतु मनुष्य को ऐसे समय में स्वयं की गम्भीरता एवं सहनशीलता की परीक्षा लेनी चाहिए | प्रत्येक मनुष्य की दृष्टि में यह कुसमय होता है | इसी कुसमय में जो क्रोध मोहादि पर विजय प्राप्त करके स्वयं को सम्हाल ले लगा वही महामानव कहलाता है | प्रत्येक मनुष्य के जीवन में अच्छा व बुरा समय आता रहता है | अच्छा समय तो बहुत जल्दी व्यतीत हो जाता है , परंतु बुरा समय काटना कठिन हो जाता है | जिसे मनुष्य बुरा समय समझता है वास्तव में वही उसके परीक्षा की घड़ी होती है और इसमें प्रत्येक मनुष्य को गम्भीर एवं सहनशील होकर इस परीक्षा को उत्तीर्ण करना चाहिए |* *आज हम जिस युग में जीवन यापन कर रहे हैं उसे आधुनिक युग कहा जाता है | आज के आधुनिक युग को यदि दम्भी युग कहा जाय तो अतिशयोक्ति ना होगी | आज प्रत्येक मनुष्य अपने दम्भ में छोटों को प्रेम एवं बड़ों को सम्मान देना भूलता चला जा रहा है , परंतु ऐसे में गंभीर व्यक्ति को अपनी गंभीरता बनाए रखना चाहिए | जिस प्रकार घर में सर्प घुस जाने पर लोग अपना घर ना छोड़ करके उस सर्प के निकलने की प्रतीक्षा करते हैं उसी प्रकार यदि किसी के जीवन में ऐसा समय आ जाता है तो उस समय व्यक्ति को गंभीरता का परिचय देते हुए उस समय को व्यतीत हो जाने की प्रतीक्षा करनी चाहिए | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देखता हूं कि जब गांव से कोई हाथी निकल पड़ता है तो अनेक ग्रामसिंह (कुत्ते) उसके विरोध स्वरूप इकट्ठे होकर की उसके पीछे पीछे बहुत दूर तक भौंकते चले जाते हैं , परंतु वह मदमस्त हाथी अपनी चाल में चलता चला जाता है | यदि वह हाथी एक बार घूम जाय तो उन ग्रामसिंहों का पता ना चले परंतु गम्भीरती बनाए रखते हुए वह हाथी अपने लक्ष्य की ओर बढ़ता चला जाता है | अपने चारों तरफ उठ रही आवाजों का ध्यान न देकर प्रत्येक मनुष्य को उस हाथी की भांति सहनशील एवं गंभीर होकर के अपने लक्ष्य पर ही ध्यान केंद्रित करना चाहिए | मैं मानता हूं कि ऐसा कर पाना संभव नहीं हो पाता है क्योंकि कभी-कभी मनुष्य को ऐसे लोग असहज कर देते हैं जिनका स्थान उनके हृदय में होता है | ऐसी स्थिति मैं व्यक्ति उद्विग्न हो जाता है और कभी-कभी वह अपनी गंभीरता और सहनशीलता का त्याग भी करता हुआ देखा जाता है | जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए क्योंकि यही मनुष्य के गंभीरता एवं सहनशीलता की परीक्षा होती है |* *मैं मानता हूं कि ऐसी स्थिति किसी का भी सहज हो पाना संभव नहीं है , परंतु महापुरुषों वही होते हैं जो ऐसी घटनाओं को धूल की तरह झटक देते हैं |*

अगला लेख: मातृभाषा :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जनवरी 2019
*सनातन धर्म के नियम व सिद्धांत समस्त मानवजाति के लिए प्रेरणास्रोत होने के साथ ही जीवन को दिव्य बनाने वाले रहे हैं | एक मनुष्य का जीवन पापरहित रहते हुए कैसे दिव्य बन सकता है इन रहस्यों के दर्शन यदि कहीं प्राप्त हो सकता है तो वह है सनातन धर्म | सनातन धर्म ने मनुष्यों को अपने ज्ञान , विद्या व धन का अहं
13 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य के जीवन में समय-समय पर सुख एवं दुख आते जाते रहते हैं | संसार में एक ही समय में कहीं लोग प्रसन्नता में झूमते हैं तो कहीं अपार दुख में रोते हुए देखे जाते हैं | यह मानव प्रवृत्ति है कि यदि मनुष्य को प्रसन्नता मिलती है तो उसकी इच्छा होती है कि समय यूं ही ठहर जाय , वहीं यदि कोई दुख आ जात
14 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य के अतिरिक्त अनेक जीव हैं , और सब में जीवन है | मक्खी , मच्छर , कीड़े - मकोड़े , मेंढक , मछली आदि में भी जीवन है | एक कछुआ एवं चिड़िया भी अपना जीवन जीते हैं , परंतु उनको हम सभी निम्न स्तर का मानते हैं | क्योंकि उनमें एक ही कमी है कि उनमें ज्ञान नहीं है | इन सभी प्राणियों में सर्
10 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया है | इनमें जलचर , थलचर एवं नभचर तीन श्रेणियाँ मुख्य हैं | इन तीनों श्रेणियों में भी सर्वश्रेष्ठ योनि मानव योनि कही गई है | मनुष्य जीवन सृष्टि की सर्वोपरि कलाकृति है , ऐसी सर्वांगपूर्ण रचना किसी और प्राणी की नहीं है | यह असाधारण उपहार हमको मिला
09 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य समय-समय पर सुख - दुख , प्रसन्नता एवं कष्ट का अनुभव करता रहता है | संसार में कई प्रकार के कष्टों से मनुष्य घिरा हुआ है परंतु मुख्यतः दो प्रकार के कष्ट होते हैं एक शारीरिक कष्ट और दूसरा मानसिक कष्ट | शारीरिक कष्ट से मनुष्य यदि ग्रसित है तो वह औषधि ले करके अपना कष्ट मिटा सकता है पर
22 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
*इस धरती पर इतने प्राणी है कि उनकी गिनती कर पाना संभव नहीं है | इन प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य माना जाता है | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी इसलिए माना जाता है क्योंकि उसमें जो विशेषतायें हैं वह अन्य प्राणियों में नहीं पायी जाती हैं | वैसे तो ईश्वर ने मनुष्य में विशेषताओं का भण्डार भर दिया ह
13 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
*इस धरती पर इतने प्राणी है कि उनकी गिनती कर पाना संभव नहीं है | इन प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य माना जाता है | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी इसलिए माना जाता है क्योंकि उसमें जो विशेषतायें हैं वह अन्य प्राणियों में नहीं पायी जाती हैं | वैसे तो ईश्वर ने मनुष्य में विशेषताओं का भण्डार भर दिया ह
13 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
*आदिकाल में मानवमात्र को शिक्षित करने के लिए हमारे ऋषियों / महर्षियों ने स्थान - स्थान पर निशुल्क शिक्षा देने के लिए आश्रमों का निर्माण किया था | जिसमें दूर दूर के छात्र आ करके शिक्षा ग्रहण करते थे , जिससे उनका चरित्र निर्माण होता था | परोपकार की भावना से आश्रम का निर्माण होता था , एवं बिना भेदभाव क
13 जनवरी 2019
07 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर जन्म लेकर के मनुष्य जन्म से लेकर मृत्यु तक आने को क्रियाकलाप संपादित करता रहता है एवं अपने क्रियाकलापों के द्वारा समाज में स्थापित होता है | कभी-कभी ऐसा होता है कि मनुष्य जन्म लेने के तुरंत बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता है और कभी कभी युवावस्था में उसकी मृत्यु हो जाती है | ऐसी स्
07 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x