मोहब्बत के लिए पहाड़ का सीना चीर देने वाले दशरथ मांझी की प्रेम कहानी

23 जनवरी 2019   |  प्राची सिंह   (13 बार पढ़ा जा चुका है)

मोहब्बत के लिए पहाड़ का सीना चीर देने वाले दशरथ मांझी की प्रेम कहानी - शब्द (shabd.in)

‘मांझी’ एक आम फिल्म नहीं है, एक हकीकत है।

बिहार के एक मामूली मजदूर की प्रेम कहानी अखबार की चंद कतरनों में सिमट कर कहीं खो गई थी। लेकिन रुपहली दुनिया की इस बेहतरीन कोशिश ने दशरथ मांझी की भूली बिसरी कहानी को बिहार के गया जिले में फिर से तलाशने की वजह दे दी है।

गया जिले के गहलौर गांव के करीब पहाड़ के बीचों बीच से गुजरता यही रास्ता दशरथ मांझी की पहचान है। ना बड़ी बड़ी मशीनें थीं और ना ही लोगों का साथ – दशरथ मांझी अकेले थे और उनके साथ थे बस ये छेनी, ये हथौड़ा और 22 बरस तक सीने में पलता हुआ एक जुनून। दशरथ का वो जुनून अटारी ब्लाक के गहलौर गांव के लिए एक तोहफे में बदल गया।

दशरथ मांझी का ये काम कितना बड़ा था ये समझने के लिए जरा इस नक्शे पर गौर कीजिए। गहलौर की जरूरत की हर छोटी बड़ी चीज, अस्पताल, स्कूल सब इस वजीरगंज के बाजार में मिला करते थे लेकिन इस पहाड़ ने वजीरगंज और गहलौर के बीच का रास्ता रोक रखा था. लोगों को 80 किलोमीटर लंबा रास्ता तय करके वजीरपुर तक पहुंचना पड़ता था दशरथ मांझी ने इस पहाड़ को अपने हाथों से तोड़ दिया और बना दिया एक ऐसा रास्ता जिसने वजीरपुर और गहलौर के बीच की दूरी को महज 2 किलोमीटर में समेट दिया।

उनकी मोहब्बत की वो कहानी जो उनके इस लंबे चौड़े परिवार में उनकी मौत के बाद भी जिंदा है.

1934 में जन्मे दशरथ मांझी की शादी बचपन में ही हो गई थी लेकिन दशरथ मांझी की मोहब्बत तब परवान चढ़ी जब वो 22 साल की उम्र में यानी 1956 में धनबाद की कोयला खान में काम करने के बाद अपने गांव वापस लौटे और गांव की एक लड़की से उन्हें मोहब्बत हो गई। लेकिन किस्मत देखिए ये वही लड़की थी जिससे दशरथ मांझी की शादी हुई थी।

दशरथ मांझी ने ये पहाड़ तोड़ने का फैसला अपनी उसी मोहब्बत यानी फाल्गुनी के लिए किया था। एबीपी न्यूज से 8 बरस पहले एक साक्षत्कार में दशरथ मांझी ने खुद बताया था कि आखिर उनकी तकदीर में पहाड़ की दुश्मनी कैसे आ जुड़ी थी।

दशरथ मांझी पर बनी इस फिल्म के प्रमोशन में भी दशरथ मांझी की वो जिद नजर आती है. उनकी पत्नी फाल्गुनी का पांव फिसलता है। और फिर दशरथ पहाड़ तोड़ने के लिए निकल पड़ते हैं। जो ख्याल ही हार मान लेने को मजूबर कर देता है वो दशरथ मांझी का जुनून बन गया. दशरथ मांझी अपने जीते जी उस रात को कभी नहीं भूले।

लेकिन दशरथ मांझी को उस पल का इंतजार था जब उनका ख्वाब पूरा होगा और वो वजीरपुर से गहलौर के बीच राह रोक कर खड़े पहाड़ को तोड़ नहीं देंगे। मांझी की ये कोशिश अब कुछ ऐसी दिखती है लेकिन इसने मांझी से बहुत कुछ छीन लिया था।

bollywood-has-made-this-bihari-laborer-love-story

मांझी ने सब कुछ गंवा दिया था। उस दौर का जिक्र भी मांझी फिल्म में नजर आता है जहां मांझी आधी रात को पहाड़ की गोद में नजर आते हैं। शायद ये वही मोड़ था जब मांझी ने मदद की उम्मीद छोड़ी और खुद अपने ख्वाब को पूरा करने में जुट गए।

दशरथ मांझी के हथौड़े ने पहाड़ को दो हिस्सों में बांट दिया. पच्चीस फुट ऊंचा पहाड़ दशरथ मांझी के हौसले के आगे हार गया। मांझी ने 30 फुट चौड़ी और 365 फुट लंबी सड़क पर अपनी विजय गाथा लिख दी।

नीतीश कुमार साल 2007 में बिहार मुख्यमंत्री थे और पहाड़ के बीच पक्की सड़क बनाने की मांग को लेकर नीतीश कुमार से मिलने पहुंचे थे। नीतीश ने उन्हें अपनी ही कुर्सी पर बिठा दिया।

लेकिन दशरथ मांझी के लिए ऐसे सम्मानों की अहमियत कभी नहीं रही। दशरथ मांझी के नसीब में अपने जीतेजी अपने गांव की इस नई जीवनरेखा को पूरा होते देखना नहीं लिखा था।

दशरथ मांझी ने जिस पत्नी के लिए पहाड़ तोड़ने का करिश्मा किया था वो उसे देखने के लिए जीवित नहीं थी। साल 2007 में गॉल ब्लैडर के कैंसर से जूझते हुए दशरथ मांझी ने भी 73 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया लेकिन उनकी कहानी पत्थर पर लिखा इतिहास है जिसे बार बार दोहराया जाता रहेगा।

दशरथ मांझी जी के जीवन से कई सबक मिलते हैं, जैसे सच्चा प्रेम करना और प्रेम के लिए कुछ भी कर जाना। कैसे एक आम-सा दिखने वाला इंसान पहाड़ के आर-पार रास्ता बना सकता है।

Source: Gaya Sight

मोहब्बत के लिए पहाड़ का सीना चीर देने वाले दशरथ मांझी की प्रेम कहानी

http://www.apnabihar.co.in/mountain-man/?fbclid=IwAR1pt2xRkaU66BsiLP7nF-qCJ1FbLcCizbWferYYSekiBf6ORjYExMq5jOs

अगला लेख: जब इंदिरा गांधी ने कहा था- प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे और...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जनवरी 2019
बॉलीवुड की फ़िल्मी दुनिया दूर से जितनी हसीन दिखती है, हकीक़त में उतनी ही उलझी हुई है. यहाँ हर स्टार की स्माइल के पीछे लाखों राज छिपे हुए हैं. उन्ही में से बात अगर राजपाल यादव की करें तो उन्हें इंडियन फिल्मों का कॉमेडी किंग कहा जाता है. अपनी कम हाइट और दमदार एक्टिंग के चलते
22 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ गुरूवार को पत्नी कोविता रामदीन के साथ कुंभ आए हैं। हम आपको उनके कुंभ दर्शन की फोटोज दिखाएंगे। मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवींद्र जुगनाथ ने पत्नी कविता जुग नाथ के साथ त्रिवेणी बांध स्थित बड़े हनुमान मंदिर में पूजन किया। वाराणसी से वह वि
24 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में हर सप्ताह कई सारी नई फिल्में रिलीज होती हैं और ये फिल्में बॉक्स ऑफिस पर करोड़ों का कारोबार करती हैं। क्या आप भी अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और परिवार के साथ फिल्म देखने मल्टीप्लेक्स जाते हैं? अगर आपका जवाब हां है तो आपको ये भी पता होगा कि मल्टीप्ल
21 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
IPS अफसर डीसी सागर अपनी फिटनेस को लेकर पूरे डिपार्टमेंट के लिए मिसाल बने हुए हैं। डीसी सागर मध्य प्रदेश के नक्सली इलाके बालाघाट रेंज के IG पद पर तैनात रहने के बाद वे अभी ADGP ( टेक्निकल सर्विसेस) पुलिस मुख्यालय हैं। बता दें कि डीसी सागर पुलिस डिपार्टमेंट में सबसे फिट अफसर में आते हैं। उनका मानना है
08 जनवरी 2019
11 जनवरी 2019
न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: जीवन में सफल होने के लिए सिर्फ कुछ बातें जरूरी होती हैं जो हैं लगन और जज्बा। अगर आपके मन में ये दोनों चीजें हैं और जीवन में सफल होने के लिए कुछ करने की चाह है तो आप कभी भी असफल नहीं होएंगे। आपकी मेहनत और लगन के बलबूते आप अपने सभी सपनों को पूरा कर स
11 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
बॉलीवुड इंडस्ट्री में किसी भी फिल्म की शूटिंग से पहले यह कह पाना थोड़ा मुश्किल होता है कि कौन इसमें अहम रोल में है तो कौन नहीं है। बीते दिनों बॉलीवुड इंडस्ट्री से कुछ खबरें ऐसी आ रही हैं कि यहां फिल्म साइन करने के बाद भी कलाकारों को बिना कोई कारण बताए आउट कर दिया जाता है
23 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
स्तन कैंसर के मरीजों के लिए एक अच्छी खबर है़ मुंबई स्थित टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने स्तन कैंसर के इलाज के लिए महंगी कीमोथेरैपी का बेहद सस्ता, लेकिन असरदार विकल्प तलाश लिया है़ दरअसल, उन्होंने इस बीमारी के इलाज के लिए एंटी-डायबिटिक और कीमोथेरैपी की दवाओं के मेल से एक नयी थेरैपी विकसित की ह
08 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
बॉलीवुड के अन्ना यानि की सुनील शेट्टी के फिल्मी डॉयलाग्स आज भी लोग याद करते हैं? बता दें कि सुनील शेट्टी ने बॉलीवुड में शुरूआत साल 1992 में फिल्म बलवान से की थी। ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट रही थी और इसी फिल्म ने सुनील को इस इंडस्ट्री में एक एक्शन हीरो की पहचान दिलाई थी। ह
21 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
धमाल फ्रैंचाइज़ की तीसरी किस्त, टोटल धमाल अगले महीने सिनेमाघरों में आने के लिए पूरी तरह से तैयार हो चुकी है। फिल्म 22 फरवरी को रिलीज होगी। इस फिल्म का निर्देशन इंद्र कुमार ने किया है । जिसमें अजय देवगन, माधुरी दीक्षित, अनिल कपूर, अरशद वारसी और रितेश देशमुख प्रमुख भूमिकाओं
22 जनवरी 2019
09 जनवरी 2019
राशियाँ हर किसी की ज़िंदगी में एक विशेष महत्त्व रखती हैं।हर किसी की किस्मत राशियों से जुडी होती है। तो आइये जानते हैं पं. दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है विघ्नहर्ता गणेश जी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेषपुराना रोग उभर सकता है। योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर परिवर
09 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
जब प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे उसको याद करेंगे।ये शब्द इंदिरा गांधी के हैं। कुछ ऐसा भरोसा था उन्हें अपनी लाड़ली प्रियंका पर। वही प्रियंका जो अब आधिकारिक तौर पर कांग्रेस की महासचिव बन चुकी हैं। वो चर्चाओं, सुगबुगाहटों और दबी हुई जुबानों के पर्दों से निकलकर सामने आ खड़ी हुई हैं। और इसी के साथ
23 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
बॉलीवुड के दो प्रमुख कलाकार कार्तिक आर्यन और कृति सेनन पहली बार साथ अभिनय कर दर्शकों के दिलों की धड़कन को बढ़ाने के लिए तैयार हैं, जिसका शीर्षक है: लुका छुपी। लक्ष्मण उतेकर द्वारा निर्देशित, यह रोमांटिक कॉमेडी एक टेलीविजन रिपोर्टर की जिंदगी के इर्द-गिर्द घूमती है, जिसे एक
24 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है भगवान विष्णु की असीम कृपा और साथ ही कैसा
10 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
आमतौर पर जब आपको कोई जानलेवा जानवर दिखता है तो आप डर जाते हैं और अपनी जान बचाकर इधर-उधर भागने लगते हैं. ऐसा ही एक जानलेवा जानवर है मगरमच्छ. मगरमच्छ यूं तो शांत रहते हैं और पानी में पाए जाते हैं लेकिन अगर आप गलती से भी उसके हाथ लग गए तो वह आपके चीथड़े उड़ा देगा. इसलिए ऐसे जा
10 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
90 के दशक में कुछ धारावाहिक बहुत मशहूर हुआ करते थे. शनिवार और रविवार के दिन सभी बच्चे और बड़े टीवी के सामने टकटकी लगा कर बैठ जाया करते थे. उस दौर में मनोरंजन के साधन कम होने के बावजूद लोगों को खुश रहना आता था. उस टाइम में अधिकतर लोगों के घरों में दूरदर्शन ही देखा जाता था.
10 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
भारतीय सेना में जवानों की कोई कमी नहीं है, सब एक से बढ़कर एक जवान हैं। हर किसी की अपनी ख़ासियत है।ऐसा ही एक जवान भारतीय सेना में था जिसकी आत्मा आज भी भारतीय सीमाओं की रक्षा करती है एक ऐसा जवान जिसकी आत्मा भी करती है। इतना ही नहीं उस जवान (Baba Harbhajan Singh) को सैलरी और प
10 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x