जब इंदिरा गांधी ने कहा था- प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे और...

23 जनवरी 2019   |  प्राची सिंह   (581 बार पढ़ा जा चुका है)

जब इंदिरा गांधी ने कहा था- प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे और...

जब प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे उसको याद करेंगे।

ये शब्द इंदिरा गांधी के हैं। कुछ ऐसा भरोसा था उन्हें अपनी लाड़ली प्रियंका पर। वही प्रियंका जो अब आधिकारिक तौर पर कांग्रेस की महासचिव बन चुकी हैं। वो चर्चाओं, सुगबुगाहटों और दबी हुई जुबानों के पर्दों से निकलकर सामने आ खड़ी हुई हैं। और इसी के साथ प्रियंका को राजनीति में लाने की 10 साल पुरानी मांग भी खत्म होती है। प्रियंका के लिए इंदिरा ने जो कुछ कहा उसे जानना और समझना बेहद दिलचस्प है। कांग्रेस के चाणक्य और इंदिरा गांधी के सबसे भरोसेमंद नेता माखनलाल फोतेदार ने साल 2015 में ये पूरा किस्सा सुनाया।


फोतेदार बताते हैं,

"उस वक्त इंदिराजी ने मुझे कहा कि मेरे यहां एक लड़की है जिसका नाम प्रियंका है। उसका भविष्य बहुत अच्छा है। जब वो बड़ी हो जाएगी। थोड़ा-बहुत सोचने लगेगी। लोग मुझे भूल जाएंगे, उसको याद करेंगे।"

इंदिरा यहीं नहीं रुकतीं। वो एक कदम और आगे जाती हैं। उनके मन ने प्रियंका के लिए कई ख्वाब बुन रखे थे। शायद यही वजह है कि वो प्रियंका गांधी के प्रधानमंत्री तक की कुर्सी पर काबिज होने का सपना देखती थीं। कम से कम फोतेदार तो यही बताते हैं।

"इंदिरा जी ने कहा कि देश के भविष्य के लिए जो मैं हूं, वो भी बन सकती है। उनके हाथ में जिस वक्त देश की कमान रहेगी, वो बहुत मजबूत रहेगी।"


विरोधी और आलोचक फोतेदार के बयान पर सवाल भी उठा सकते हैं लेकिन इंदिरा को करीब से जानने वाले ये भी जानते हैं कि प्रियंका और राहुल में उनकी जान बसती थी। सियासी परिवेश में नई पीढ़ी के लिए ऐसे ख्यालात आसानी से समझ आते हैं।


प्रियंका में इंदिरा की छवि भी नजर आती है। याद कीजिए साल 2014 का चुनावी प्रचार। अमेठी और रायबरेली में प्रियंका ने ग्रामीणों के बीच इतना सहज अभियान चलाया कि लोग उनके मुरीद हो गए। हैंडलूम की साड़ी में, एसपीजी से बेपरवाह, लोगों के बीच हिलती-मिलती प्रियंका अक्सर इंदिरा गांधी की याद दिलाती हैं। वो अपनी सौम्य मुस्कुराहट से जनता को कायल करना जानती हैं।

जब लोगों ने कहा- प्रियंका इज इंदिरा

ये बेवजह नहीं है कि 2016 के दौरान उनकी तुलना इंदिरा से करते हुए कई पोस्टर पहले राजस्थान और फिर उत्तर प्रदेश में भी नजर आए।

प्रियंका बेबाक हैं, बेलौस हैं। उनकी जुबान बेहद साफ है। भाषणों का तेवर भी, जहां जरूरत हो वहां नरम और जहां जरूरत हो वहां भरपूर हमलावर। वो अपने भाषणों में इंदिरा गांधी को याद करना नहीं भूलतीं। 2014 में चुनाव प्रचार के दौरान रायबरेली में प्रियंका ने कहा था,

"मैंने इंदिराजी से सीखा था कि जब सच्चाई दिल में होती है, जब दिल का इरादा सही होता है तो एक कवच बन जाता है छाती के अंदर...जितना जलील करते हैं, उतना मजबूत बनता है।"

बतौर महासचिव, प्रियंका अपनी नई जिम्मेदारी को तैयार हैं। उन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी दी गई है। नहीं भूलना चाहिए कि ये योगी आदित्यनाथ का गढ़ है तो प्रधानमंत्री मोदी का चुनाव क्षेत्र बनारस भी यहीं है। प्रियंका के सामने सबसे बड़ी चुनौती इन दिग्गजों निपटने की होगी।

https://www.amarujala.com/india-news/priyanka-gandhi-joins-congress-as-indira-gandhi-forecast-her-as-prime-minister?fbclid=IwAR1WtSNzv0GwLucpjn_2TbpQF971y_tbG3LTuKjteY6eaQvSnLC8WVPH0go

अगला लेख: प्रियंका को बहू बनाने को तैयार नहीं थे रॉबर्ट के पिता, फिल्मी कहानी से कम नहीं दोनों की लवस्टोरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जनवरी 2019
बॉलीवुड की फ़िल्मी दुनिया दूर से जितनी हसीन दिखती है, हकीक़त में उतनी ही उलझी हुई है. यहाँ हर स्टार की स्माइल के पीछे लाखों राज छिपे हुए हैं. उन्ही में से बात अगर राजपाल यादव की करें तो उन्हें इंडियन फिल्मों का कॉमेडी किंग कहा जाता है. अपनी कम हाइट और दमदार एक्टिंग के चलते
22 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ने एक बड़ा दांव खेला है। जी हां, कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को मैदान में उतार दिया है। बुधवार को प्रियंका गांधी को यूपी का कांग्रेस की महासचिव बनाया गया है। ऐसे में हर कोई प्रियंका गांधी से जुड़ी छोटी छोटी चीज़ों के बारे में जानने के लिए
24 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
हमारा भारत वर्ष बहुत ही धार्मिक देश है यहां पर भिन्न भिन्न प्रकार की जातियों के लोग मौजूद हैं परंतु यह सभी भाई चारे से एक साथ रहते हैं और यह अपने अपने धर्म के अनुसार अपने-अपने देवताओं की पूजा करते हैं वैसे देखा जाए तो जब हम मंदिरों में भगवान की पूजा करने जाते हैं तब हम अप
23 जनवरी 2019
25 जनवरी 2019
यूं ही नहीं मिलती राही को मंजिल एक जूनून सा दिल में जगाना होता है। अगर कोई सपना देखा है तो उसे पूरा करने के लिए मेहनत और लगन करनी होती है और फिर राहें आसान होती है और मंजिल मिल जाती है। इन बातों को सच कर दिखाया है एक किसान की बेटी ने जिसने जज बनकर सिर्फ अपने पिता की ही ना
25 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
राजनीति काजल की वो काली कोठरी है जहाँ घुसते ही हाथ काले होते ही हैं। राजनीति को हमेशा ही एक गंदा खेल माना गया है।जिसका मूल आधार अपराध और भ्रष्टाचार ही है। आज हम देश के ऐसे ही 11 बड़े नेताओं के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जो कि कई जघन्
24 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x