जब एक नागा साधु ने तोड़ दिया महान सिकंदर का घमंड…बाद में साधु के पैरों में गिरकर रोया सिकंदर

24 जनवरी 2019   |  प्राची सिंह   (358 बार पढ़ा जा चुका है)

जब एक नागा साधु ने तोड़ दिया महान सिकंदर का घमंड…बाद में साधु के पैरों में गिरकर रोया सिकंदर - शब्द (shabd.in)

एलेक्जेंडर जब भारत आया तो वह कई इलाकों को जीतने और साम्राज्य को विस्तार देने के बाद भी संतुष्ट नहीं था। उसे एक ज्ञानी व्यक्ति की तलाश थी। वह चाहता था कि वह भारत से किसी ज्ञानी व्यक्ति को अपने साथ ले जाए। कुछ लोगों के बताने पर वह एक संत की खोज में अपनी फौज के साथ एक नगर में पहुंचा। वहां उसने देखा कि एक संत बिना कपड़ों के पेड़ के नीचे ध्यान कर रहा है।


एलेक्जेंडर और उसकी फौज ने संत के ध्यान से बाहर आने तक इंतजार किया जैसे ही संत ध्यान टूटा, पूरी फौज एक स्वर में नारे लगाने लगी-एलेक्टजेंडर द गे्रट एलेक्जेंडर द ग्रेट संत उन्हें देखकर मुस्कराया। एलेक्जेंडर ने संत को बताया कि वह उन्हें अपने साथ अपने देश लेकर जाना चाहता है। संत ने बेहद धीमे स्वर में जवाब दिया, तुम्हारे पास ऐसा कुछ नहीं है, जो तुम मुझे दे सको। जो मेरे पास न हो। मैं जहां-जैसा हूं, खुश हूं। मुझे यहीं रहना है। मैं तुम्हारे साथ नहीं आ रहा। एलेक्जेंडर की फौज को इस बात से गुस्सा आ गया। उनके राजा की इच्छा को एक मामूली संत ने खारिज जो कर दिया था।


एलेक्जेंडर ने अपनी फौज को शांत किया और संत से बोला मुझे जवाब में नहीं सुनने की आदत नहीं है। उसने जोर देकर कहा- आपको आनाही होगा। इस पर संत ने जवाब दिया, तुम मेरी जिंदगी के फैसले नहीं ले सकते। मैंने फैसला किया है कि मैं यहीं रहूंगा तो यहीं रहूंगा। तुम जा सकते हो। इतना सुनकर एलेक्जेंडर गुस्से से आगबबूला हो गया। उसने अपनी तलवार निकाली। संत की गर्दन पर रखकर बोला अब मुझे बताओ जिंदगी चाहिए या मौ’त, संत अपनी बात पर अड़े हुए थे। उन्होंने एलेक्जेंडर से कहा मैं नहीं आ रहा। हालांकि यदि तुम मुझे मार दो तो अपने आपको फिर कभी एलेक्जेंडर द ग्रेट मत कहना। क्योंकि तुम्हारे में महान जैसी कोई बात नहीं है।


Image result for alexander the great


तुम तो मेरे गुलाम के गुलाम हो। एलेक्जेंडर को यह सुनकर झटका लगा। यहां एक ऐसा व्यक्ति है जिसने पूरी दुनिया को जीता और एक नंगा व्यक्ति उसे अपने दास का दास बता रहा है। एलेक्जेंडर ने पूछा, तुम कहना क्या चाहते हो? संत ने जवाब दिया, मैं जब तक नहीं चाहता, तब तक मुझे गुस्सा नहीं आता। गुस्सा मेरा गुलाम है। जबकि गुस्से को जब लगता है, वह तुम पर हावी हो जाता है। तुम अपने गुस्से के गुलाम हो। भले ही तुमने पूरी दुनिया को जीता हो, लेकिन रहोगे तो मेरे दास। यह सुनकर एलेक्जेंडर दंग रह गया। उसे अपनी गलती का अहसास हुआ और वो साधु के पैरों में गिरकर रोने लगा।


हममें से कितने ही लोग गुस्से के गुलाम हैं? गुस्से की वजह से हमने कितने रिश्ते और अवसर गुस्से की वजह से गंवाएं हैं? गुस्से की वजह से हमने अपने आपको कितनी बार परेशानी में डाला है? कितनी बार चिंता में डाला है? हमारे कितने ही करीबियों ने हमारे गुस्से की वजह से शांतिपूर्वक बिताए जा सकने वाले पल गंवाएं हैं? लोगों को इस बात का बहुत गर्व होता है कि उन्हें कितना गुस्सा आता है और उनके गुस्से से लोग कितना डरते हैं। मुण्े नहीं पता कि लोगों को गुस्से से डराने में गर्व महसूस करने जैसा क्या है। आखिरकार लोग तो कुत्ते के गुस्से भी डर जाते हैं।


जो लोग हमारे गुस्से का शिकार होते हैं, वे हमसे डरने लगते हैं। दूर रहने लगते हैं। डर और प्यार कभी एक साथ नहीं रहता। लोग हमसे दूर होते हैं तो हम सिर्फ उन्हें ही नहीं बल्कि उनके प्यार को भी खोते हैं। भले ही दूसरों पर गुस्सा करके हमारे ईगो को तात्कालिक जीत मीती हो, लेकिन हकीकत तो यह है कि इस प्रक्रिया में हमारी हार सबसे बड़ी होती है।


Input:Live Bavaal

जब एक नागा साधु ने तोड़ दिया महान सिकंदर का घमंड…बाद में साधु के पैरों में गिरकर रोया सिकंदर

https://muzaffarpurnow.in/%E0%A4%9C%E0%A4%AC-%E0%A4%8F%E0%A4%95-%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%97%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%A7%E0%A5%81-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%A4%E0%A5%8B%E0%A4%A1%E0%A4%BC-%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%AF/?fbclid=IwAR22P6BG-74XoYw801OlrpgmhZFUuOqF4wCF-xfeHyzjsg76ZRQyi5w2g2E

अगला लेख: पिता ने बच्चों के पढ़ाई के लिए बेच दी जमीन तो बच्चों ने ऐसे किया सपना साकार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जनवरी 2019
2019 के लोसकभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश का महासचिव बनाया है, जिसको लेकर पूरे राजनीतिक गलियारों में चहलकदमी शुरू हो गई है। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं प्रियंका से जुड़े कुछ इंट्रेस्टिंग फैक्ट्स।13 साल की उम्र में प्रियंका पहली बार रॉबर्ट वाड्रा से मिली थीं। राॅबर्ट को स
23 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
बॉलीवुड की फ़िल्मी दुनिया दूर से जितनी हसीन दिखती है, हकीक़त में उतनी ही उलझी हुई है. यहाँ हर स्टार की स्माइल के पीछे लाखों राज छिपे हुए हैं. उन्ही में से बात अगर राजपाल यादव की करें तो उन्हें इंडियन फिल्मों का कॉमेडी किंग कहा जाता है. अपनी कम हाइट और दमदार एक्टिंग के चलते
22 जनवरी 2019
11 जनवरी 2019
प्रिय मित्रों/पाठकों, आज के प्रतिस्पर्धा के इस दौर में हर कोई सफलता पाना चाहता है, लेकिन मेहनत के बाद भी सफल नहीं हो पाता है। इसका ये अर्थ नहीं होता है कि उस व्यक्ति की मेहनत में किसी तरह की कमी है।जीवन में सफलता हासिल करने के लिए सबसे जरूरी होता है इंसान को ऊर्जावान होना. स्वस्थ होना।अगर आप ऊर्जा स
11 जनवरी 2019
25 जनवरी 2019
यूं ही नहीं मिलती राही को मंजिल एक जूनून सा दिल में जगाना होता है। अगर कोई सपना देखा है तो उसे पूरा करने के लिए मेहनत और लगन करनी होती है और फिर राहें आसान होती है और मंजिल मिल जाती है। इन बातों को सच कर दिखाया है एक किसान की बेटी ने जिसने जज बनकर सिर्फ अपने पिता की ही ना
25 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है माँ लक्ष्मी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेष किसी
18 जनवरी 2019
17 जनवरी 2019
आपने भगवान विष्णु के पुत्रों के नाम पढ़े होंगे। नहीं पढ़ें तो अब पढ़ लें- आनंद, कर्दम, श्रीद और चिक्लीत। विष्णु ने ब्रह्मा के पुत्र भृगु की पुत्री लक्ष्मी से विवाह किया था। शिव ने ब्रह्मा के पुत्र दक्ष की कन्या सती से विवाह किया था, लेकिन सती तो दक्ष के यज्ञ की आग में कूदकर भस्म हो गई थी। उनका तो को
17 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x