जब एक नागा साधु ने तोड़ दिया महान सिकंदर का घमंड…बाद में साधु के पैरों में गिरकर रोया सिकंदर

24 जनवरी 2019   |  प्राची सिंह   (348 बार पढ़ा जा चुका है)

जब एक नागा साधु ने तोड़ दिया महान सिकंदर का घमंड…बाद में साधु के पैरों में गिरकर रोया सिकंदर - शब्द (shabd.in)

एलेक्जेंडर जब भारत आया तो वह कई इलाकों को जीतने और साम्राज्य को विस्तार देने के बाद भी संतुष्ट नहीं था। उसे एक ज्ञानी व्यक्ति की तलाश थी। वह चाहता था कि वह भारत से किसी ज्ञानी व्यक्ति को अपने साथ ले जाए। कुछ लोगों के बताने पर वह एक संत की खोज में अपनी फौज के साथ एक नगर में पहुंचा। वहां उसने देखा कि एक संत बिना कपड़ों के पेड़ के नीचे ध्यान कर रहा है।


एलेक्जेंडर और उसकी फौज ने संत के ध्यान से बाहर आने तक इंतजार किया जैसे ही संत ध्यान टूटा, पूरी फौज एक स्वर में नारे लगाने लगी-एलेक्टजेंडर द गे्रट एलेक्जेंडर द ग्रेट संत उन्हें देखकर मुस्कराया। एलेक्जेंडर ने संत को बताया कि वह उन्हें अपने साथ अपने देश लेकर जाना चाहता है। संत ने बेहद धीमे स्वर में जवाब दिया, तुम्हारे पास ऐसा कुछ नहीं है, जो तुम मुझे दे सको। जो मेरे पास न हो। मैं जहां-जैसा हूं, खुश हूं। मुझे यहीं रहना है। मैं तुम्हारे साथ नहीं आ रहा। एलेक्जेंडर की फौज को इस बात से गुस्सा आ गया। उनके राजा की इच्छा को एक मामूली संत ने खारिज जो कर दिया था।


एलेक्जेंडर ने अपनी फौज को शांत किया और संत से बोला मुझे जवाब में नहीं सुनने की आदत नहीं है। उसने जोर देकर कहा- आपको आनाही होगा। इस पर संत ने जवाब दिया, तुम मेरी जिंदगी के फैसले नहीं ले सकते। मैंने फैसला किया है कि मैं यहीं रहूंगा तो यहीं रहूंगा। तुम जा सकते हो। इतना सुनकर एलेक्जेंडर गुस्से से आगबबूला हो गया। उसने अपनी तलवार निकाली। संत की गर्दन पर रखकर बोला अब मुझे बताओ जिंदगी चाहिए या मौ’त, संत अपनी बात पर अड़े हुए थे। उन्होंने एलेक्जेंडर से कहा मैं नहीं आ रहा। हालांकि यदि तुम मुझे मार दो तो अपने आपको फिर कभी एलेक्जेंडर द ग्रेट मत कहना। क्योंकि तुम्हारे में महान जैसी कोई बात नहीं है।


Image result for alexander the great


तुम तो मेरे गुलाम के गुलाम हो। एलेक्जेंडर को यह सुनकर झटका लगा। यहां एक ऐसा व्यक्ति है जिसने पूरी दुनिया को जीता और एक नंगा व्यक्ति उसे अपने दास का दास बता रहा है। एलेक्जेंडर ने पूछा, तुम कहना क्या चाहते हो? संत ने जवाब दिया, मैं जब तक नहीं चाहता, तब तक मुझे गुस्सा नहीं आता। गुस्सा मेरा गुलाम है। जबकि गुस्से को जब लगता है, वह तुम पर हावी हो जाता है। तुम अपने गुस्से के गुलाम हो। भले ही तुमने पूरी दुनिया को जीता हो, लेकिन रहोगे तो मेरे दास। यह सुनकर एलेक्जेंडर दंग रह गया। उसे अपनी गलती का अहसास हुआ और वो साधु के पैरों में गिरकर रोने लगा।


हममें से कितने ही लोग गुस्से के गुलाम हैं? गुस्से की वजह से हमने कितने रिश्ते और अवसर गुस्से की वजह से गंवाएं हैं? गुस्से की वजह से हमने अपने आपको कितनी बार परेशानी में डाला है? कितनी बार चिंता में डाला है? हमारे कितने ही करीबियों ने हमारे गुस्से की वजह से शांतिपूर्वक बिताए जा सकने वाले पल गंवाएं हैं? लोगों को इस बात का बहुत गर्व होता है कि उन्हें कितना गुस्सा आता है और उनके गुस्से से लोग कितना डरते हैं। मुण्े नहीं पता कि लोगों को गुस्से से डराने में गर्व महसूस करने जैसा क्या है। आखिरकार लोग तो कुत्ते के गुस्से भी डर जाते हैं।


जो लोग हमारे गुस्से का शिकार होते हैं, वे हमसे डरने लगते हैं। दूर रहने लगते हैं। डर और प्यार कभी एक साथ नहीं रहता। लोग हमसे दूर होते हैं तो हम सिर्फ उन्हें ही नहीं बल्कि उनके प्यार को भी खोते हैं। भले ही दूसरों पर गुस्सा करके हमारे ईगो को तात्कालिक जीत मीती हो, लेकिन हकीकत तो यह है कि इस प्रक्रिया में हमारी हार सबसे बड़ी होती है।


Input:Live Bavaal

जब एक नागा साधु ने तोड़ दिया महान सिकंदर का घमंड…बाद में साधु के पैरों में गिरकर रोया सिकंदर

https://muzaffarpurnow.in/%E0%A4%9C%E0%A4%AC-%E0%A4%8F%E0%A4%95-%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%97%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%A7%E0%A5%81-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%A4%E0%A5%8B%E0%A4%A1%E0%A4%BC-%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%AF/?fbclid=IwAR22P6BG-74XoYw801OlrpgmhZFUuOqF4wCF-xfeHyzjsg76ZRQyi5w2g2E

अगला लेख: पिता ने बच्चों के पढ़ाई के लिए बेच दी जमीन तो बच्चों ने ऐसे किया सपना साकार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जनवरी 2019
‘मांझी’ एक आम फिल्म नहीं है, एक हकीकत है।बिहार के एक मामूली मजदूर की प्रेम कहानी अखबार की चंद कतरनों में सिमट कर कहीं खो गई थी। लेकिन रुपहली दुनिया की इस बेहतरीन कोशिश ने दशरथ मांझी की भूली बिसरी कहानी को बिहार के गया जिले में फिर से तलाशने की वजह दे दी है।गया जिले के गहल
23 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है माँ लक्ष्मी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेष किसी
18 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
बॉलीवुड इंडस्ट्री में किसी भी फिल्म की शूटिंग से पहले यह कह पाना थोड़ा मुश्किल होता है कि कौन इसमें अहम रोल में है तो कौन नहीं है। बीते दिनों बॉलीवुड इंडस्ट्री से कुछ खबरें ऐसी आ रही हैं कि यहां फिल्म साइन करने के बाद भी कलाकारों को बिना कोई कारण बताए आउट कर दिया जाता है
23 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
प्रिय मित्रों/पाठकों, विघ्नविनाशक सिद्घिविनायक भगवान गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है। गणेश जी जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरह मुड़ी होती है, वे सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं। कहते हैं कि सिद्धि विनायक की महिमा अपरंपार है, वे भक
10 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
जब प्रियंका आएगी तो लोग मुझे भूल जाएंगे उसको याद करेंगे।ये शब्द इंदिरा गांधी के हैं। कुछ ऐसा भरोसा था उन्हें अपनी लाड़ली प्रियंका पर। वही प्रियंका जो अब आधिकारिक तौर पर कांग्रेस की महासचिव बन चुकी हैं। वो चर्चाओं, सुगबुगाहटों और दबी हुई जुबानों के पर्दों से निकलकर सामने आ खड़ी हुई हैं। और इसी के साथ
23 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
हमारा भारत वर्ष बहुत ही धार्मिक देश है यहां पर भिन्न भिन्न प्रकार की जातियों के लोग मौजूद हैं परंतु यह सभी भाई चारे से एक साथ रहते हैं और यह अपने अपने धर्म के अनुसार अपने-अपने देवताओं की पूजा करते हैं वैसे देखा जाए तो जब हम मंदिरों में भगवान की पूजा करने जाते हैं तब हम अप
23 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x