तिल चतुर्थी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

24 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (25 बार पढ़ा जा चुका है)

तिल चतुर्थी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *हमारे भारत देश में नित्य प्रति त्यौहार एवं पर्व मनाए जाते हैं | यहाँ कोई ऐसा दिन नहीं है जिस दिन कोई पर्व न हो | वर्ष के बारहों महीने के प्रत्येक दिन कोई ना कोई पर्व अवश्य होता है जिसे हम भारतवासी पूर्ण श्रद्धा से मनाते हैं | इसी क्रम में आज माघ मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को "संकष्टी गणेश चतुर्थी" (तिलवा) भी कहते हैं | आज के दिन तिल चतुर्थी का व्रत करके माताएं घर परिवार की सारी वाधाएं दूर करके असीम सुख की प्राप्ति करने की कामना करती हैं | भगवान गणेश की आराधना करके अपने परिवार में समस्त विघ्नों का विनाश करने के लिए मातायें यह व्रत करती हैं | व्रत इसलिए महत्वपूर्ण क्योंकि आज के ही दिन भगवान गणेश ने संपूर्ण सृष्टि की परिक्रमा ना करके भगवान शिव एवं पार्वती की परिक्रमा करके संपूर्ण सृष्टि माता पिता में ही समाहित होने का संदेश दिया था | उनकी इस बुद्धिमत्ता से प्रसन्न होकर के भगवान शिव ने उनको वरदान दिया था कि माघ की कृष्ण चतुर्थी के दिन जो तुम्हारा पूजन करेगा और चंद्रमा को अर्घ्य देगा उसके त्रिताप (दैहिक , दैविक एवं भौतिक ) दूर हो जाएंगे | इस प्रकार इस व्रत को करने से व्रतधारी के सभी तरह के दुख दूर हो जाते हैं , उसके जीवन सुख की प्राप्ति होती है , चारों तरफ से मनुष्य को सुख - समृद्धि एवं पुत्र - पौत्रादि की मंगल कामना एवं धन - ऐश्वर्य की कमी नहीं रह जाती है | परंतु विचारणीय है कि कोई भी व्रत करने में श्रद्धा एवं भाव का विशेष महत्व होता है श्रद्धा से किया हुआ कोई भी व्रत निष्फल नहीं जाता है |* *आज आधुनिकता के चकाचौंध में सभी व्रतों का स्वरूप भी आधुनिक एवं परिवर्तित हो गया है | आज सभी व्रत माताओं के द्वारा किया तो जाता है परंतु उनमें श्रद्धा एवं भाव का सर्वथा अभाव दिखाई पड़ता है | आज के दिन मातायें अपने परिवार विशेषकर संतान के लिए यह व्रत करती हैं | आज के व्रत को संकष्टी गणेश चतुर्थी , तिल चतुर्थी या आंचलिक क्षेत्रों में तिलवा भी कहा जाता है | पूरे दिन तिल का प्रयोग करके रात्रि काल में भगवान गणेश का पूजन करके तिल के लड्डू का भोग लगाने की विशेष परंपरा रही है | समाज में परिवार एवं समाज को सुखी बनाये रखने के लिए मातृशक्तियों के द्वारा समय - समय पर व्रत एवं अनुष्ठान किये जाते रहते हैं | यह कहा जा सकता है कि समाज को समृद्ध बनाने में नारियों का विशेष योगदान होते हुए भी उन्हें उपेक्षित होना पड़ता है | इसे पुरुष समाज अपनी बहादुरी तो समझ सकता है परंतु यह सम्पूर्ण समाज के लिए लज्जा की बात है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसी माताओं को भी देख रहा हूं जिन की संतानों ने उन्हें उपेक्षित जीवन जीने को मजबूर कर दिया है | परंतु फिर भी इन माताओं के द्वारा इस कठिन व्रत को किया जाता है | यह सत्य है कि पुरुष समाज कभी भी नारियों से उऋण नहीं हो सकता | पुरुषों के लिए नारियों द्वारा समय - समय पर किया जाने वाला व्रत पुरुषों को नित्य ऋणी बनाता रहता है | परंतु दुर्भाग्यपूर्ण है कि अधिकतर पुरुष इसे मानने को तैयार नहीं होते हैं |* *आज गणेश पूजन के साथ ही चन्द्रोदय होने पर चन्द्रमा को अर्घ्य देकर ही व्रत का समापन किया जायेगा | धन्य है भारत देश एवं धन्य हैं हमारी मातृशक्तियाँ |*

अगला लेख: सहनशीलता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जनवरी 2019
*भारत एक कृषि प्रधान देश है | यहां समय-समय पर त्यौहार एवं पर्व मनाए जाते रहे हैं | यह सभी पर्व एवं त्योहार कृषि एवं ऋतुओं पर विशेष रूप से आधारित होते थे | इन त्योहारों में परंपरा के साथ साथ आस्था भी जुड़ी होती थी | हमारे त्योहार हमारी संस्कृति का दर्पण होते थे , जो कि समाज में आपसी मेल मिलाप का आधार
22 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य के अतिरिक्त अनेक जीव हैं , और सब में जीवन है | मक्खी , मच्छर , कीड़े - मकोड़े , मेंढक , मछली आदि में भी जीवन है | एक कछुआ एवं चिड़िया भी अपना जीवन जीते हैं , परंतु उनको हम सभी निम्न स्तर का मानते हैं | क्योंकि उनमें एक ही कमी है कि उनमें ज्ञान नहीं है | इन सभी प्राणियों में सर्
10 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
मकर संक्रांति का पर्व बहुत ही जल्दी आने वाला है पूरे भारतवर्ष में मकर संक्रांति का पर्व विभिन्न प्रकार से बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है ज्योतिष की मानें तो इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है इसी वजह से मकर संक्रांति के दिन सूर्य
10 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है माँ लक्ष्मी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेष (चू,
10 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है भगवान विष्णु की असीम कृपा और साथ ही कैसा
10 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य का एक दिव्य इतिहास रहा है | मनुष्य के भीतर कई गुण होते हैं इन गुणों में मनुष्य की गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को दिव्य बनाती है | मनुष्य को गंभीर होने के साथ सहनशील भी होना पड़ता है यही गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को महामानव बनाती है | मथुरा में जन्म लेकर गोकुल आने के बाद कंस के
22 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*हमारा देश भारत सामाजिक के साथ - साथ धार्मिक देश भी है | प्रत्येक व्यक्ति स्वयं को धार्मिक दिखाना भी चाहता है | परंतु एक धार्मिक को किस तरह होना चाहिए इस पर विचार नहीं करना चाहता है | हमारे महापुरुषों ने बताया है कि धार्मिक ग्रंथों की शिक्षाओं और उसके चरित्रों को केवल उसके शाब्दिक अर्थों में नहीं ले
22 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
*प्राचीन काल से ही सनातन धर्म की मान्यताएं एवं इसके संस्कार स्वयं में एक दिव्य धारणा लिए हुए मानव मात्र के कल्याण के लिए हमारे महापुरुषों के द्वारा प्रतिपादित किए गए हैं | प्रत्येक मनुष्य में संस्कार का होना बहुत आवश्यक है क्योंकि संस्कार के बिना मनुष्य पशुवत् हो जाता है | मीमांसादर्शन में संस्कार क
15 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य के जीवन में समय-समय पर सुख एवं दुख आते जाते रहते हैं | संसार में एक ही समय में कहीं लोग प्रसन्नता में झूमते हैं तो कहीं अपार दुख में रोते हुए देखे जाते हैं | यह मानव प्रवृत्ति है कि यदि मनुष्य को प्रसन्नता मिलती है तो उसकी इच्छा होती है कि समय यूं ही ठहर जाय , वहीं यदि कोई दुख आ जात
14 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
प्रिय मित्रों/पाठकों, यदि आप थोड़ा-बहुत ज्योतिष भी जानते हैं तो खुद देख लीजिए आपकी जन्म कुंडली में धनवान होने के योग, कितना पैसा है आपकी किस्मत में...जानिए ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी से जन्म कुण्डली के कुछ प्रमुख धनवान बनाने वाले योग को --- यदि लग्न से त
10 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
17 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है भगवान विष्णु की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । वो 7 भा
17 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक समारोहों में से एक है कुंभ मेला इस साल प्रयागराज में आयोजित होने वाला है। कुंभ हर छह साल में आयोजित किया जाता है, जबकि प्रयागराज में हर 12 साल में महाकुंभ आयोजित किया जाता है। उत्तर प्रदेश सरकार ने कुंभ को ‘दिव्य कुंभ, भव्य कुंभ’ की संज्ञा दी ह
10 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x