नक्षत्र - एक विश्लेषण

24 जनवरी 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (59 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:-

ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब हम चर्चा कर रहे हैं कि किस प्रकार हिन्दी महीनों का विभाजन नक्षत्रों के आधार पर हुआ तथा उन हिन्दी महीनों के वैदिक नाम क्या हैं | इस क्रम में चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ और आषाढ़ माह के विषय में पूर्व में लिख चुके हैं, आज श्रावण और भाद्रपद माह…

श्रावण : इस माह में भी श्रवण और धनिष्ठा ये दो नक्षत्र होते हैं, तथा श्रवण नक्षत्र मुख्य नक्षत्र होने के कारण इसका नाम श्रावण हुआ | इस महीने का वैदिक नाम है नभस | नभस शब्द का अर्थ होता है आकाश, भाप, कोहरा, बादल आदि | किसी को मारना, किसी को चोट पहुँचाना अथवा किसी का वध करना आदि अर्थों में भी नभस शब्द का प्रयोग किया जाता है | इसके अतिरिक्त वर्षा ऋतु को नभस अथवा श्रावण ऋतु कहा जाता है | क्योंकि इस माह में आकाश यानी नभस से गिरती वर्षा की फुहारें समस्त प्रकृति को चिलचिलाती गर्मी से राहत प्रदान करती हैं इसीलिए भी इस माह का नाम नभस पड़ा होगा | रक्षा बन्धन का पावन पर्व इसी माह में आता है अतः उसे भी श्रावणी कहा जाता है | किसी प्रकार की गन्ध तथा कमल की जड़ में जो तन्तु – रेशा - Fiber पाया जाता है उसे भी नभस कहा जाता है | इसे मासोत्तम मास भी कहा जाता है |

भाद्रपद : इस माह में शतभिषज तथा दोनों भाद्रपद – पूर्वा भाद्रपद और उत्तर भाद्रपद – आते हैं तथा प्रमुखता दोनों भाद्रपद नक्षत्रों की रहती है इसलिए इसका नाम भाद्रपद पड़ा | इसका वैदिक नाम है नभस्य – जो नभस अर्थात श्रावण माह के पश्चात आए | नभस्य का अर्थ है नभ अर्थात आकाश से जो सम्बन्धित हो | वाष्प, कोहरा, मेघ आदि जिन अर्थों में नभस शब्द का प्रयोग किया जाता है उन्हों अर्थों में नभस्य शब्द का भी प्रयोग किया जाता है | श्रावण और भाद्रपद दोनों माह वर्षा के माह होते हैं | वर्षा का सम्बन्ध आकाश से होता है, वाष्प और मेघों से होता है | यही कारण है इन दोनों ही महीनों के नामों से – चाहे वह श्रावण हो या नभस, अथवा भाद्रपद हो या नभस्य – वर्षा तथा नभ अर्था आकाश, वाष्प और मेघ का स्वतः ही आभास हो जाता है | यह भी कहा जा सकता है कि ग्रीष्मकालीन वर्षा की रुत – श्रावण और भाद्रपद - जिसमें नभ से रिमझिम कर बरसता हुआ पानी गर्मी से बेहाल प्रकृति की प्यास बुझाता हुआ उसे तृप्त करता है - नभस और नभस्य कहलाती है |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/01/24/constellation-nakshatras-33/

अगला लेख: मकर संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएँ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
22 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
22 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
28 जनवरी 2019
01 फरवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछलिख चुके हैं | अब ह
01 फरवरी 2019
14 जनवरी 2019
सूर्य का मकर राशि में संक्रमण 2019पौष शुक्लअष्टमी,सोमवार 14 जनवरी 2019 को सायं सात बजकर बावन मिनट के लगभग उत्तराषाढ़ नक्षत्र मेंरहते हुए राहू केतु के मध्य बव करण और सिद्ध योग में भगवान भास्कर मित्र ग्रह गुरुकी धनु राशि से निकलकर शत्रु गृह शनि की मकर राशि में संचार करेंगे | जिसे “मकर संक्रान्ति” के ना
14 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
28 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
बुधका मकर में गोचररविवार 20 जनवरी को रात्रि नौ बजकरसात मिनट के लगभग पौष शुक्ल पूर्णिमा को विष्टि करण और विषकुम्भ योग में बुध कागोचर मकर राशि में हो चुका है | बुध इस समय उत्तराषाढ़ नक्षत्र पर है तथा अस्त है |यहाँ से 26 जनवरी को बुध श्रवण नक्षत्र और तीन फरवरी को धनिष्ठा नक्षत्र पर भ्रमणकरता हुआ सात फरव
24 जनवरी 2019
27 जनवरी 2019
28 जनवरी से 3 फरवरी 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोच
27 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x