बिहार में जन्मीं देश की ये बेटी बनीं अमेरिकी सीनेटर, कहा- मुझे अपने देश पर गर्व है

24 जनवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (122 बार पढ़ा जा चुका है)

बिहार में जन्मीं देश की ये बेटी बनीं अमेरिकी सीनेटर, कहा- मुझे अपने देश पर गर्व है

दुनियाभर में भारतीय प्रतिभा अपना लोहा मनवा रही है। बड़ी कंपनियों के महत्वपूर्ण पदों से लेकर कई देशों की सरकारों में भी यहां के लोग शामिल हैं। ज़ाहिर है किसी और देश में जाकर चुनौतियों का सामना करते हुए ख़ास मुकाम बनाना बेहद कठिन होता है। खासकर बात जब महिलाओं की हो तो उनके लिए रास्ते और भी मुश्किल भरे होते हैं। ऐसे में देश की बेटियां भी आज खुद को साबित करने में पीछे नहीं हैं।


मोना दास ने लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा है, जो अमेरिका के वाशिंगटन राज्य की सीनेटर बनी हैं।


मोना ने पहली बार में ही ये बड़ी कामयाबी हासिल की है। डेमोक्रेटिक पार्टी की सदस्य मोना ने दो बार के रिपब्लिकन सीनेटर रहे जो फ़ैन को हराया है।


अमेरिका में पली-बढीं मोना को अपने देश और संस्कृति से बेहद लगाव है। उन्होंने मकर संक्रांति के पावन दिन को अपने शपथ के लिए चुना। इतना ही नहीं, मोना ने गीता को हाथ में लेकर पद की शपथ ली और ‘जय हिंद’ के नारे लगाए।

बिहार के दरभंगा कॉलेज अस्पताल में जन्मीं मोना दास (1971) ने अपने संदेश में बेटी की शिक्षा का मसला उठाया। उन्होंने कहा एक लड़की को शिक्षित करने से पूरा परिवार तथा आने वाली पीढ़ियों को भी शिक्षित किया जा सकता है। निर्वाचित सदस्य के रूप में दास लड़कियों को आगे बढ़ाने में अपनी भूमिका निभाएंगी।


मोना दास ने सिनसिनाटी यूनिवर्सिटी से मनोविज्ञान में स्नातक तथा पिंचोट विश्वविद्यालय से प्रबंधन में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की है। कॉलेज में ही उनका रुझान राजनीति की ओर हो गया था। सीनेटर मोना दास कहती हैं-

“मुझे अपने पैतृक गांव जाने की बहुत इच्छा है और मैं बिहार के साथ-साथ देश के सभी हिस्सों में घूमना चाहती हूं। भारत मेरा मूल देश है और मुझे अपने देश पर गर्व है।”



मोना मूल रूप से बिहार के मुंगेर जिले की हैं, जो महज़ आठ माह की उम्र में अमेरिका चली गई थीं। उनके पिता सुबोध दास इंजीनियर हैं और उनका परिवार अमेरिका में रहते हुए आज भी अपने गांव दरियापुर से जुड़ा हुआ है।

मोना दास के दादा मुंगेर के पूर्व सिविल सर्जन डॉ. गिरिश्वर नारायण दास हैं। मोना की सफ़लता से उनके गांव में खुशी की लहर देखी जा रही है।

बताते चलें मोना को सीनेट हाउसिंग स्टेबिलिटी एंड अफोर्डेबिलिटी कमेटी की वाइस चेयरमैन का कार्यभार दिया जाएगा। देश की इस बिटिया पर पूरे देश को नाज़ है।


अगला लेख: इन 6 नामों के व्यक्ति होते हैं बेहद भाग्यशाली, करते हैं माता-पिता का नाम रोशन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *आज भारत अपना गणतंत्र दिवस मना रहा है | आज के ही दिन आजाद भारत में भारत के विद्वानों द्वारा निर्मित संविधान धरातल पर आया | भारत गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था तब भारत के वीर सपूतों ने अपनी जान की बाजी लगाकर अपने प्राण निछावर करके देश को आजादी दिलाई | गणतंत्र का अर्
26 जनवरी 2019
01 फरवरी 2019
आज हम आज़ादी का मजा लेते हुए अपने घरों में बड़े-बड़े मुद्दों को बड़ी आसानी से बहस में उड़ा देते है, लेकिन कभी सोचा है कि जिन्होंने अपनी जान की परवाह ना करते हुए देश को आज़ाद कराया, उनमें से जो जिंदा हैं, वो किस हाल में हैं ?ये हैं झाँसी के रहने वाले श्रीपत जी, 93 साल से भी ज्यादा की उम्र पार कर चुके श्रीप
01 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
कभी किसी से बिछड़ने का दुख, कभी कुछ हारने के दुख, कभी किसी की याद का दुख, कुछ ना कुछ दुख हम हमेशा झेल रहे होते हैं। इसीलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे ही सैड शायरी इन हिन्दी (girls sad shayri in hindi|) लेकर आये है, जिससे कि आप अपने दुखों को भी लोगो को समझा सकें।Girls Sad Shayari in hindi #1 उतरे जो ज़िन्द
07 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
“कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली” ये कहावत तो आपने कई बार सुनी होगी, कभी किसी पर तंज कसते हुए, तो कभी गोविंदा के गाने में. साफ़ शब्दों में कहा जाए तो हज़ारों बार आप ये कहावत आम बोलचाल में सुन चुके होंगे. कई बार इसका इस्तेमाल किसी छोटे व्यक्ति की बड़े व्यक्ति से तुलना के लिए किया जाता है. भले ही ये कहावत म
07 फरवरी 2019
21 जनवरी 2019
मै
इंसानियत की बस्ती जल रही थी, चारों तरफ आग लगी थी... जहा तक नजर जाती थी, सिर्फ खून में सनी लाशें दिख रही थी, लोग जो जिंदा थे वो खौफ मै यहा से वहां भाग रहे थे, काले रास्तों पर खून की धारे बह रही थी, हर तरफ आग से उठता धुंआ.. चारों और शोर, बच्चे, बूढ़े, औरत... किसी मै फर्क नही किया जा रहा, सबको काट रहे ह
21 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
हर कोई व्यक्ति चाहता है कि वह अपने माता-पिता का नाम रौशन करें जिसके बारे में वह काफी सोचता है उसका ऐसा मानना होता है कि हमारे माता-पिता ने बहुत ही दुख और कष्ट झेल कर हमको इतना बड़ा किया है उसके बदले में हमारा भी यह कर्तव्य होता है कि हम अपने माता-पिता के लिए कुछ करें
21 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
ऐसा कहा जाता है कि व्यक्ति अपनी किस्मत खुद बनाता है क्योंकि व्यक्ति द्वारा किए गए कर्म के अनुसार वह अपनी किस्मत बदल सकता है लेकिन इस दुनिया में बहुत से व्यक्ति ऐसे हैं जो कड़ी मेहनत करते हैं और अच्छे कर्म भी करते हैं इसके बावजूद भी उनकी किस्मत नहीं बदल पाती है। आम भाषा में ये भी कहा जाता हैं कि हर
28 जनवरी 2019
05 फरवरी 2019
हिंदू धर्म में किसी की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार किया जाता है, शव को मुखाग्नि दी जाती है औऱ फिर उसकी अस्थियों को गंगा जी में प्रवाहित किया जाता हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से मृतक की आत्मा को शांति मिलती है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिनक
05 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x