निमंत्रण

25 जनवरी 2019   |   आई बी अरोड़ा   (29 बार पढ़ा जा चुका है)


‘क्या तुम्हें पूरा विश्वास है कि यह निमंत्रण इस ग्रह के निवासियों के लिये है? मुझे तो लगता है कि किसी भी ग्रह के वासी पृथ्वी-वासियों को अपने यहाँ नहीं बुलाना चाहेंगे!’

‘क्यों? क्या खराबी है इन जीवों में?’

‘तुम्हें पूछना चाहिए कि क्या खराबी नहीं है इनमें!’

एलियंस का अन्तरिक्ष-यान अभी भी पृथ्वी से कई लाख मील दूर था लेकिन यान की हर प्रणाली चेतावनी संकेत दे रही थी.

‘चेतावनी! चेतावनी! चेतावनी! इस ग्रह की हर वस्तु दूषित प्रतीत होती है, लोगों के मन और हृदय भी. हम लोगों से अवश्य ही कोई गलती हुई है. इस ग्रह के वासियों को हम अपने ग्रह पर नहीं आने दे सकते, कभी नहीं. यह निमंत्रण तो मैं वापस ले जाऊँगा.........चलो, लौट चलें.’

‘आप ठीक कह रहे हैं. हमें तो अपने अपराधियों को इस ग्रह पर भेज देना चाहिये.......’

‘सच में, उनको नरक भेजने समान होगा ऐसा दंड.’

अगला लेख: आँगन का पेड़



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 फरवरी 2019
लघुकथासारादिन तो वह अपने-आप को किसी न किसी बात में व्यस्त रखता था; पुराने टूटे हुए खिलौनोंमें, पेंसिल के छोटे से टुकड़े में, एक मैले से आधे कंचे में या एक फटी हुई फुटबालमें. लेकिन शाम होते वह अधीर हो जाता था. लगभगहर दिन सूर्यास्त के बाद वह छत पार आ जाता था और घर से थोड़ी दूर आती-जाती रेलगाड़ियोंको देखत
07 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
07 फरवरी 2019
12 जनवरी 2019
मृ
17 जनवरी 2019
26 जनवरी 2019
आँ
03 फरवरी 2019
12 जनवरी 2019
आँ
03 फरवरी 2019
20 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x