हमारा गणतंत्र :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

26 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (40 बार पढ़ा जा चुका है)

हमारा गणतंत्र :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *आज भारत अपना गणतंत्र दिवस मना रहा है | आज के ही दिन आजाद भारत में भारत के विद्वानों द्वारा निर्मित संविधान धरातल पर आया | भारत गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था तब भारत के वीर सपूतों ने अपनी जान की बाजी लगाकर अपने प्राण निछावर करके देश को आजादी दिलाई | गणतंत्र का अर्थ होता है जनता का राज्य | जहां जनता के द्वारा चुना हुआ प्रतिनिधि राजा की तरह राज्य करता है | परंतु आज के परिदृश्य में गणतंत्र का अर्थ बदल सा गया है कहने को तो यह जनता का राज है परंतु जनता का क्या हाल है यह कोई नहीं देखना चाहता है | आज के गणतंत्र में भगवान शिव के गण कुछ ज्यादा ही तंत्र को चलाते देखे जा रहे हैं | आज के दिन लगभग सभी भारतवासियों के हृदय में देशभक्ति हिलोरें मारने लगती है | अपने पूर्वजों के बलिदानों को याद करके प्रत्येक भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है | आज प्रत्येक हाथ में तिरंगा देखा जा सकता है | तिरंगे के तीन रंगों का अर्थ हम जानें या न जानें परंतु तिरंगा हमारी शान है , उसकी रक्षा के लिए हम अपने प्राण तक देने को तैयार हो जाते हैं | परंतु आज का परिदृश्य बहुत ही चिंतनीय होता जा रहा है | कहने को तो हम आजाद देश के निवासी हैं परंतु विचार कीजिए कि क्या हम आजाद हैं ?? आज हम आजाद हुए भी अपने ही देश में उत्पन्न हुई विकृत मानसिकता के गुलाम ही हैं |* *आज के दिन ही देश को सुचारु रूप से चलाने के लिए हमारे देश के विद्वानों ने दिन रात मेहनत करके अपना संविधान बनाया था | जिससे कि जनता को कोई कष्ट न हो | गणतंत्र जहाँ जनता द्वारा चुने गये प्रतिनिधि के ऊपर जनता की सेवा एवं उनकी सुख - सुविधा का ध्यान रखने की नैतिक जिम्मेदारी होनी चाहिए | समान अधिकार एवं कानून सभी भारतीयों के लिए बनाया गया | परंतु आज का परिदृश्य बदल सा गया है | समान कानून होने पर भी आज आम आदमी कराह रहा है , और धनबली , जनबली ऐश कर रहे हैं | आज गरीब - असहाय और निर्बल कोई आधार न होने पर जेल की कोठरियों में कराह रहे हैं ! तो अत्याचारी , व्यभिचारी , बलात्कारी , भ्रष्टाचारी अपने धन एवं प्रभुत्व के बल पर देश में खुलेआम घूम रहे हैं | और तो और ऐसे कई लोग तो संसद की शोभा भी बढा रहे हैं | यह कैसा गणतंत्र है ?? देश का संविधान चंद लोगों की चौखट तक ही सीमित होता देखा जा सकता है | जनता द्वारा चुने गये प्रतिनिधि के रूप में प्रधानमंत्री व राष्ट्रपति को सर्वोच्च अधिकार प्राप्त होता है | ऋग्वेद के अनुसार राजा को दुष्टों को दंड देने का पूरा अधिकार होता है | परंतु आज के भारतीय संविधान में राजा (राष्ट्रपति) किसी को दंड नहीं दे सकता | यद्यपि वह जानता है कि अमुक व्यक्ति व्यभिचारी है परंतु दंड देने का अधिकार उसके पास नहीं हैं |* *आज भापतीय गणतंत्र के अवसर मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समस्त देशवासियों को शुभकामनायें देते हुए यह कहना चाहूँगा कि अब पुन: आत्ममंथन करने का समय आ गया है कि क्या हम सही मायने में गणतंत्री हैं ??*

अगला लेख: अपमान एवं सम्मान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जनवरी 2019
*इस धरती पर इतने प्राणी है कि उनकी गिनती कर पाना संभव नहीं है | इन प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य माना जाता है | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी इसलिए माना जाता है क्योंकि उसमें जो विशेषतायें हैं वह अन्य प्राणियों में नहीं पायी जाती हैं | वैसे तो ईश्वर ने मनुष्य में विशेषताओं का भण्डार भर दिया ह
13 जनवरी 2019
26 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *हमारे देश में समय समय पर जहाँ धार्मिक पर्व / त्यौहार मनाये जाते हैं वहीं राष्ट्रीय पर्व मनाने की परम्परा भी रही है | राष्ट्रीय पर्व हमारे स्वाभिमान का प्रतीक हैं | सैकड़ों वर्षों की गुलामी के बाद अनगिनत बलिदान देकर हमने आजादी प्राप्त की | हमें आजादी तो मिली परंतु हमार
26 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य के जीवन में समय-समय पर सुख एवं दुख आते जाते रहते हैं | संसार में एक ही समय में कहीं लोग प्रसन्नता में झूमते हैं तो कहीं अपार दुख में रोते हुए देखे जाते हैं | यह मानव प्रवृत्ति है कि यदि मनुष्य को प्रसन्नता मिलती है तो उसकी इच्छा होती है कि समय यूं ही ठहर जाय , वहीं यदि कोई दुख आ जात
14 जनवरी 2019
05 फरवरी 2019
हिंदू धर्म में किसी की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार किया जाता है, शव को मुखाग्नि दी जाती है औऱ फिर उसकी अस्थियों को गंगा जी में प्रवाहित किया जाता हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से मृतक की आत्मा को शांति मिलती है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिनक
05 फरवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य समय-समय पर सुख - दुख , प्रसन्नता एवं कष्ट का अनुभव करता रहता है | संसार में कई प्रकार के कष्टों से मनुष्य घिरा हुआ है परंतु मुख्यतः दो प्रकार के कष्ट होते हैं एक शारीरिक कष्ट और दूसरा मानसिक कष्ट | शारीरिक कष्ट से मनुष्य यदि ग्रसित है तो वह औषधि ले करके अपना कष्ट मिटा सकता है पर
22 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *मानव जीवन में कई पड़ाव आते हैं | सम्पूर्ण जीवनकाल कभी एक समान नहीं रहता है | यहाँ यदि मनुष्य की प्रशंसा होती है तो उसकी बुराई भी लोग करते रहते हैं | हालांकि संसार के लगभग सभी धर्म किसी की बुराई करना अनुचित मानते हैं परंतु मनुष्य अपनी आदत से मजबूर होकर ऐसा करता रहता है
24 जनवरी 2019
13 जनवरी 2019
*सनातन धर्म के नियम व सिद्धांत समस्त मानवजाति के लिए प्रेरणास्रोत होने के साथ ही जीवन को दिव्य बनाने वाले रहे हैं | एक मनुष्य का जीवन पापरहित रहते हुए कैसे दिव्य बन सकता है इन रहस्यों के दर्शन यदि कहीं प्राप्त हो सकता है तो वह है सनातन धर्म | सनातन धर्म ने मनुष्यों को अपने ज्ञान , विद्या व धन का अहं
13 जनवरी 2019
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
15 जनवरी 2019
*प्राचीन काल से ही सनातन धर्म की मान्यताएं एवं इसके संस्कार स्वयं में एक दिव्य धारणा लिए हुए मानव मात्र के कल्याण के लिए हमारे महापुरुषों के द्वारा प्रतिपादित किए गए हैं | प्रत्येक मनुष्य में संस्कार का होना बहुत आवश्यक है क्योंकि संस्कार के बिना मनुष्य पशुवत् हो जाता है | मीमांसादर्शन में संस्कार क
15 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य का एक दिव्य इतिहास रहा है | मनुष्य के भीतर कई गुण होते हैं इन गुणों में मनुष्य की गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को दिव्य बनाती है | मनुष्य को गंभीर होने के साथ सहनशील भी होना पड़ता है यही गंभीरता एवं सहनशीलता मनुष्य को महामानव बनाती है | मथुरा में जन्म लेकर गोकुल आने के बाद कंस के
22 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x