Basic Shiksha News: भारत में साक्षरता दर का पूर्ण विवरण

29 जनवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (113 बार पढ़ा जा चुका है)

Basic Shiksha News: भारत में साक्षरता दर का पूर्ण विवरण

साक्षरता और शिक्षा को सामान्यतः सामाजिक विकास के संकेतकों के तौर पर देखा जाता है। साक्षरता का विस्तार औद्योगिकीकरण, शहरीकरण, बेहतर संचार, वाणिज्य विस्तार और आधुनिकीकरण के साथ भी सम्बद्ध किया जाता है। संशोधित साक्षरता स्तर जागरूकता और सामाजिक कौशल बढ़ाने तथा आर्थिक दशा सुधारने में सहायक होता है। साक्षरता जीवन की गुणवत्ता-आयु प्रत्याशा, बच्चों का पोषण स्तर और निम्न शिशु मृत्यु-दर को सुधारने में योगदान करती है। आइये जानते हैं basic shiksha news : भारत में साक्षरता दर का पूर्ण विवरण


Basic Shiksha News : साक्षरता क्या होती है ?

साक्षरता का सीधा सीधा अर्थ होता है साक्षर होना अर्थात पढ़े लिखा होना। बता दें कि अलग अलग देशों में साक्षरता के अलग अलग मानक हैं। बात अगर भारत की की जाये तो भारत में राष्ट्रीय साक्षरता मिशन के अनुसार अगर कोई व्यक्ति अपना नाम लिखने और पढने की योग्यता हासिल कर लेता है तो उसे साक्षर माना जाता है।


बता दें कि किसी देश अथवा राज्य की साक्षरता दर वहाँ के कुल लोगों की जनसँख्या व पढ़े लिखे लोगों के अनुपात को साक्षरता दर कहा जाता है। साक्षरता दर ज्यादातर प्रतिशत में ही दर्शाया जाता है।


साक्षरता दर प्रतिशत = शिक्षित जनसंख्या/कुल जनसंख्या{\displaystyle *100} सूत्र द्वारा साक्षरता की दर को निकला जाता है।

Basic Shiksha News : भारत में पुरुषों और महिलाओं के बीच साक्षरता दर में अंतर




देश में देश की आजादी के समय राष्ट्रीय स्तर पर महिला साक्षरता दर बेहद कम महज 8.6 प्रतिशत ही थी, लेकिन राहत की बात यह है कि 2011 की जनगणना के अनुसार 65.46 दर्ज की गई। लड़कियों के लिए स्कूलों मे सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) प्राथमिक स्तरपर 24.8 प्रतिशत था, जबकि उच्च प्राथमिक स्तर (11-14 वर्ष के आयु वर्ग में) पर यह महज 4.6 प्रतिशत ही था।

निश्चित तौर पर ये पिछले दशक महिला साक्षरता के लिये अच्छे रहे जिससे न केवल समाज मे उनकी स्थति मजबूत हुई, वे अपने अधिकारों के प्रति सजग हुई बल्कि इससे उनके स्वास्थ्य, जच्चा बच्चा मृत्यु दर में कमी आयी और जनसंख्या सीमित करने मे मदद मिली लेकिन हालत अब भी संतोषजनक ठीक नही है यानि अभी लंबा सफर बाकी है पचास के दशक के बाद महिलाओं की शिक्षा पर शनै:-शनै: ध्यान दिया जाने लगा। आँकडो के जरिये अगर देखे तो इस यात्रा में महिला साक्षरता दर पुरूष दर 46.32 प्रतिशत के मुकाबले महिलाओं की 49.69 प्रतिशत रही। आजादी के तीन दशक बाद महिला साक्षरता पुरूषों के मुकाबले तेजी से वृद्धि हुई। वर्ष 1971 मे यह 22 प्रतिशत थी यानि पिछले समय के मुकाबले वृद्धि दर 11.72 प्रतिशत रही। अच्छी बात यह रही कि वर्ष 2000 से लेकर वर्ष 2005 तक की अवधि के दौरान लड़कियों द्वारा बीच में ही अपनी पढ़ाई छोड़ देने की दर में 16.5 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई वैसे महिला पुरूषों की तुलना के अलावा शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों मे भी महिला साक्षरता मे बड़ा अंतर है।

‘सर्व शिक्षा अभियान’ और ‘महिला साक्षरता के लिए साक्षर भारत मिशन’ जैसे कार्यक्रमों की बदौलत देश में महिला साक्षरता दर जो आजादी के फौरन बाद पहले 10 प्रतिशत से भी कम थी वह आज बढ़कर लगभग 66 प्रतिशत हो गई है। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, जहां एक ओर पुरुष साक्षरता दर 82.14 प्रतिशत आंकी गई, वहीं दूसरी ओर महिला साक्षरता दर 65.46 प्रतिशत रही, यानि महिला साक्षरता का सफर अभी काफी लंबा है।

आँकड़ो के अनुसार हमारे देश में वर्ष 1990 में 61.6 फीसदी पुरुष शिक्षित थे तो सिर्फ 33.7 फीसदी महिलाएं ही शिक्षित थीं। उधर, वर्ष 2000 में 74 फीसदी पुरुष शिक्षित थे तो वहीं 47.8 फीसदी महिलाएं ही शिक्षित थीं। इसका मतलब यही है कि देश में साक्षर महिलाओं की संख्या बढ़ रही है, लेकिन गरीबी समाजिक सोच के चलते अब भी महिला साक्षरता की स्थिति पर सवालिया निशान है हालांकि समाज, बड़ी संख्या में लोगों की बदलते सोच एवं विभिन्नि सरकारों की सकारात्मक सोच काम आ गई कि ‘एक व्यक्ति को पढ़ाने से केवल एक आदमी पढ़ता है, जबकि एक महिला को पढ़ाने से पूरा परिवार पढ़ता है। यहां तक कि इस पढ़े-लिखे परिवार के आसपास का समाज भी जागृत होता है। यही नहीं, इसका लाभ आगे चलकर राष्ट्र निर्माण में भी मिलता है।’

बता दें कि वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, केरल में सबसे ज्यादा महिला साक्षरता दर 92% है, जबकि राजस्थान में महिला साक्षरता दर महज 52.7% है, जो भारत में सबसे कम है। वहीं, दूसरी ओर घनी आबादी वाले राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश में महिला साक्षरता दर 59.3% और बिहार में महिला साक्षरता दर 53.3% है। लक्षद्वीप, मिजोरम, त्रिपुरा और गोवा में महिला साक्षरता की स्थिति बड़ी अच्छी है।

रीड मोरे : Basic shiksha news

Basic Shiksha News : भारत में राज्यों के आधार पर साक्षरता दर


स्थान

राज्य

साक्षरता दर (%)

1

मिज़ोरम

91.1

2

केरल

89.9

3

गोआ

83.3

4

हिमाचल प्रदेश

81.3

5

त्रिपुरा

80.2

6

महाराष्ट्र

77.6

7

सिक्किम

76.6

8

मणिपुर

76.5

9

असम

76.3

10

उत्तराखंड

75.7

11

तमिल नाडु

74.2

12

पंजाब

74.0

13

नागालैंड

72.5

14

गुजरात

72.1

15

मेघालय

72.1

16

पश्चिम बंगाल

71.6

17

हरियाणा

71.4

18

कर्णाटक

69.3

19

उडी़सा

68.8


पूर्ण भारत

67.3

20

जम्मू और कश्मीर

66.7

21

आंध्र प्रदेश

63.7

22

छत्तीसगढ़

63.6

23

अरुणाचल प्रदेश

62.8

24

उत्तर प्रदेश

61.6

25

मध्य प्रदेश

60.9

26

झारखंड

58.6

27

राजस्थान

57.4

28

बिहार

54.9


बता दें की भारत में सर्वाधिक साक्षरता दर वाला राज्य मिजोरम (91.1)हैं और सबसे काम साक्षरता वाला राज्य (54.9) है।


अगला लेख: ऐसे लक्षण वाले व्यक्ति होते हैं जन्म से ही अमीर, मिट्टी भी छूने पर बन जाती है सोना



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जनवरी 2019
दुनियाभर में भारतीय प्रतिभा अपना लोहा मनवा रही है। बड़ी कंपनियों के महत्वपूर्ण पदों से लेकर कई देशों की सरकारों में भी यहां के लोग शामिल हैं। ज़ाहिर है किसी और देश में जाकर चुनौतियों का सामना करते हुए ख़ास मुकाम बनाना बेहद कठिन होता है। खासकर बात जब महिलाओं की हो तो उनके लिए रास्ते और भी मुश्किल भरे हो
24 जनवरी 2019
25 जनवरी 2019
भले ही शेक्सपीयर ने ये बात कही हो की दुनिया में किसी व्यक्ति का नाम कोई मायने नहीं रखता है। लेकिन, ज्योतिष की दुनिया में किसी व्यक्ति नाम का काफी महत्वपूर्ण होता है। ज्योतिष शास्त्र में नाम के पहले अक्षर से किसी व्यक्ति के स्वभाव के बारे में जानने का तरीका बताया गया है। आज हम आप को बताने जा रहे हैं
25 जनवरी 2019
06 फरवरी 2019
भविष्य जानने के लिए कभी कभी इतिहास में झांकना पड़ता है और वर्तमान को समझना पड़ता है। इस प्रश्न का उत्तर तो एक ही लाइन में है लेकिन इसे सभी पक्ष को ध्यान में रखते हुए समझते हैं। मोदी जी के विषय में अंत में बात करेंगे क्योकि पहले बुरा भाग ही देखना हम पसंद करते हैं।महागठबंधन में सभी दलों में कुछ बातें एक
06 फरवरी 2019
24 जनवरी 2019
भारत आबादी के मामले में दूसरे नंबर पर आता है. एक रिपोर्ट के अनुसार, 2024 में भारत की आबादी चीन से भी अधिक होगी. आज़ादी के बाद से अलग-अलग सरकारों ने आबादी पर नियंत्रण लाने के लिए कई कदम उठाए. समझा-बुझाकर काम नहीं चला, तो इमरजेंसी के दौरान जबरन नसबंदी भी करवाई गई. कोई भी उपाय आबादी पर नियंत्रण नहीं लग
24 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
कहते हैं कि कलयुग हैं हर कोई यहां सिर्फ खुद के बारे में और खुद के लिए हो सोचता है। लेकिन आज के समय में भी दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जो अपने से ज्यादा दूसरों के बारे में सोचते हैं और उनकी खुशियों का ध्यान रखते हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी बताने जा रहे हैं जिसे जानने के
21 जनवरी 2019
01 फरवरी 2019
भारत के इतिहास में कई महान संत हुए हैं जिन्होंने अपने जीवन में कविताओं के जरिए लोगों के दिलों में जगह बनाई। मगर संत कबीरदास की रचनाओं का कोई जोड़ नहीं था। वे एक आध्यात्मिक कवि थे जिन्होंने अपनी रचनाओं से हिंदी साहित्य को बदल दिया था और
01 फरवरी 2019
21 जनवरी 2019
फिल्मी दुनिया अब तक देशभक्ति पर कई फिल्में बन चुकी हैं, जिसमें हाल ही में उरी बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचा रही है। देशभक्ति पर आधारित फिल्म उरी दर्शकों के बीच खूब पसंद हो रही है। उरी का जोश अभी लोगों के बीच खत्म नहीं हुआ कि एक और देशभक्त पर आधारित फिल्म रिलीज हो चुकी है। जी हा
21 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x