आध्यात्मिक ज्ञान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

आध्यात्मिक ज्ञान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *इस संसार में आदिकाल से लेकर आज तक अनेक ज्ञानी - विज्ञानी एवं महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने ज्ञानप्रकाश से समस्त विश्व को आलोकित किया है | हमारे ज्ञानग्रंथों के अनुसार इन ज्ञानियों को तीन श्रेणियों में रखा गया है :- १- भौतिक ज्ञानी , २- मानसिक ज्ञानी एवं ३- आध्यात्मिक ज्ञानी | बाहरी विषयों को आत्मसात करने को ही ज्ञान कहा गया है | ज्ञान ही मनुष्य को स्थूलता से सूक्ष्मता की ओर अग्रसर करता है | भौतिक ज्ञान का आधार मन है तो आध्यात्मिक ज्ञान का आधार आत्मा होती है | ज्ञान ही वह तत्व है जो मन को आत्मा से संयुक्त करता है | जो भी ज्ञान मन को आत्मा से नहीं मिला पाता वह ज्ञान नहीं बल्कि ज्ञान का भ्रम मात्र है | प्राय: यह देखने को मिलका है कि जिसको दो चार ग्रंथों का अनुभव या कुछ सामाजिकता का ज्ञान हो जाता है वह स्वयं को ज्ञानी समझने लगता है और उसमें अहंकार का प्राकट्य हो जाता है | ऐसे ज्ञानी को ज्ञानी न कहकर यह कहा जा सकता है कि इन तथाकथित ज्ञानियों को स्वयं के ज्ञानी होने का भ्रम मात्र है | मनुष्य के जन्म लेने के बाद प्रथम स्तर पर मन ही ज्ञान का आधार होता है | अविकसित मन भौतिक शासन द्वारा शासित होता है | सांसारिक ज्ञान सर्वप्रथम भौतिक मानसिक , फिर मानसिक तथा भोतिक जगत में कार्यान्वित होने के बाद मानसिक भौतिक हो जाता है | इन सबसे अलग हटकर स्वयं के विषय में जानने का प्रयास करते हुए उस परमसत्ता के विषय में ज्ञानार्जन करना आध्यात्मिक ज्ञान कहा गया है | भौतिक एवं मानसिक ज्ञानी चूंकि अहंकार के वश में रहते हैं अत: उन्हें दुर्योधन की तरह बातचीत से नहीं समझाया जा सकता बल्कि उन्हें समझाने के लिए अर्जुन के गांडीव की टंकार की आवश्यकता होती है |* *आज समाज में जबसे ज्ञानियों की बाढ़ सी आ गयी है | इन ज्ञानियों में सौम्यता की अपेक्षा अहंकार का पुट अधिक ही दिखाई पड़ता है क्योंकि इनके ज्ञान का आधार हमारे धर्मग्रंथों की अपेक्षा आज के आधुनिक युग में ज्ञान का स्रोत कहा जाने वाला इंटरनेट का गूगल ही है | आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करके स्वयं में आत्मसात करने वाले कहीं सौ में एकाध मिल सकते हैं , क्योंकि आध्यात्मिक ज्ञानी कभी स्वयं को ज्ञानी दिखाने का प्रयास ही नहीं करता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यदि यह कहूँ कि आज के तथाकथित ज्ञानियों को ज्ञान नहीं बल्कि स्वयं के ज्ञानी होने का भ्रम मात्र है तो अतिशयोक्ति न होगी | क्योंकि आध्यात्मिक ज्ञानी यह जानता है कि इस जगत में सभी कुछ सकारण है , अर्थात् कार्य कारण का परिणाम होता है और कारण का परिणाम कार्य होता है | यह इसी तरह चलता रहा है | जहां कार्य-कारण तत्व काम करता है, वहां अपूर्णता रहती है. इस ज्ञान से अथवा इस ज्ञान के आनेवाले स्त्रोतों पर कोई अहंकार नहीं कर सकता | भौतिक ज्ञान को अपने चरम पर पहुँचाकर आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करना ही जीवन का लक्ष्य होना चाहिए | स्वयं या उस परमसत्ता के विषय में जानना एक विशेष मानसिक धारा प्रवाह है | परमसत्ता देश, काल और व्यक्ति के परे है | यह अपरिवर्तनीय होने के कारण यदि कोई व्यक्ति आध्यात्मिक-मानसिक ज्ञान अर्जित करने की चेष्टा करता है अपेक्षाकृत भौतिक-मानसिक ज्ञान के, अर्थात् यदि उसके ज्ञान का स्त्रोत बाह्य भौतिकता नहीं है, बल्कि आंतरिक आध्यात्मिकता है, तब उस अवस्था में वह ज्ञान यथार्थ ज्ञान होगा |* *जिस आध्यात्मिक मानसिक ज्ञान का अंतिम बिंदु आध्यात्मिक ज्ञान हो, वही एकमात्र ज्ञान है | इसी ज्ञान के माध्यम से मनुष्य अहंकार रहित होकर अपने लक्ष्य तक पहुंच सकता है |*

अगला लेख: विनाश एवं सृजन :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *आज भारत अपना गणतंत्र दिवस मना रहा है | आज के ही दिन आजाद भारत में भारत के विद्वानों द्वारा निर्मित संविधान धरातल पर आया | भारत गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था तब भारत के वीर सपूतों ने अपनी जान की बाजी लगाकर अपने प्राण निछावर करके देश को आजादी दिलाई | गणतंत्र का अर्
26 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *हमारे भारत देश में नित्य प्रति त्यौहार एवं पर्व मनाए जाते हैं | यहाँ कोई ऐसा दिन नहीं है जिस दिन कोई पर्व न हो | वर्ष के बारहों महीने के प्रत्येक दिन कोई ना कोई पर्व अवश्य होता है जिसे हम भारतवासी पूर्ण श्रद्धा से मनाते हैं | इसी क्रम में आज माघ मास की कृष्ण पक्ष की च
24 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य समय-समय पर सुख - दुख , प्रसन्नता एवं कष्ट का अनुभव करता रहता है | संसार में कई प्रकार के कष्टों से मनुष्य घिरा हुआ है परंतु मुख्यतः दो प्रकार के कष्ट होते हैं एक शारीरिक कष्ट और दूसरा मानसिक कष्ट | शारीरिक कष्ट से मनुष्य यदि ग्रसित है तो वह औषधि ले करके अपना कष्ट मिटा सकता है पर
22 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x